अध्यात्म कि दृस्टि से विश्व का धनि आदमी कौन है?...


user

Anil Kumar Tiwari

Yoga, Meditation & Astrologer

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आध्यात्मिक दृष्टि से विश्व का धनी आदमी कौन है आध्यात्मिक दृष्टि से बुरी विश्व का सबसे धनी आदमी एक मात्र एक आचार्य चंद्र मोहन रजनीश आचार्य रजनीश ओशो

aadhyatmik drishti se vishwa ka dhani aadmi kaun hai aadhyatmik drishti se buri vishwa ka sabse dhani aadmi ek matra ek aacharya chandra mohan rajnish aacharya rajnish osho

आध्यात्मिक दृष्टि से विश्व का धनी आदमी कौन है आध्यात्मिक दृष्टि से बुरी विश्व का सबसे धनी

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  536
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अज्ञात की धनी आदमी कौन होती है वह सोचने की समझने और उसके कर्मों में भगवान को एक शक्ति के रूप में वह देखता है और अपने साथ तो भगवान को अपने विचारों के साथ जोड़ देते अज्ञात लोग कहते हैं और धनी व्यक्ति वही होता है कि जो आध्यात्मिक से जुड़ा हो और अपने आपको संतोषी माता और संतोषी हो बहुत ज्यादा लोगों से अपेक्षा ना करता हो और उसके पास जो है उसी में वह पर्याप्त संतोष मानले और संतोष उपाध्याय वही सनी

agyaat ki dhani aadmi kaun hoti hai vaah sochne ki samjhne aur uske karmon mein bhagwan ko ek shakti ke roop mein vaah dekhta hai aur apne saath toh bhagwan ko apne vicharon ke saath jod dete agyaat log kehte hain aur dhani vyakti wahi hota hai ki jo aadhyatmik se juda ho aur apne aapko santosh mata aur santosh ho bahut zyada logo se apeksha na karta ho aur uske paas jo hai usi mein vaah paryapt santosh manle aur santosh upadhyay wahi sunny

अज्ञात की धनी आदमी कौन होती है वह सोचने की समझने और उसके कर्मों में भगवान को एक शक्ति के र

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1249
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अध्यात्म की दृष्टि से सबसे विश्व का धनी आदमी वही है जिसने आत्मा को पहचान लिया की आत्मा मरने के बाद कहां जाएगी इस आत्मा का क्या स्वरूप है पूरी आत्मा किस में विलीन हो जाती है वही सबसे धनी आदमी है आत्मा को पहचान लेता है क्योंकि आत्मा को पहचानने के बाद ही रहता है

adhyaatm ki drishti se sabse vishwa ka dhani aadmi wahi hai jisne aatma ko pehchaan liya ki aatma marne ke baad kahaan jayegi is aatma ka kya swaroop hai puri aatma kis mein vileen ho jaati hai wahi sabse dhani aadmi hai aatma ko pehchaan leta hai kyonki aatma ko pahachanne ke baad hi rehta hai

अध्यात्म की दृष्टि से सबसे विश्व का धनी आदमी वही है जिसने आत्मा को पहचान लिया की आत्मा मरन

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  1143
WhatsApp_icon
user
1:27
Play

Likes  48  Dislikes    views  987
WhatsApp_icon
user
1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अध्यात्म की दृष्टि से विश्व का धनी आदमी कौन है आध्यात्मिक दृष्टि से अगर देखा जाए तो विश्व का सबसे धनी इंसान वही है जिसके पास शक्ति है और वह शक्ति प्राप्त करने के बाद वह साधना कर रहा है चाहे वह इंसान पैसे से कितना ही गरीब क्यों नहीं है पर अगर अध्यात्म की दृष्टि से देखा जाए तो वह इंसान सबसे धनी है इसको पूर्ण परमात्मा के बारे में जानकारी प्राप्त है उसकी कैसे भक्ति करनी है और कैसे मोक्ष की प्राप्ति होगी बल्कि भी यह नहीं कि कोई भी मनमाना आचरण करने से इंसान धनी में उतार सकती हमारे शास्त्रों के अनुसार भक्ति करने से ही इंसान धनी होगा सच्चा धनी इंसान उसी को माना जाएगा और किसी की और अध्यात्म की दृष्टि से और किसी इंसान को हम नहीं मान सकते हैं अगर आप भी अध्यात्म की दृष्टि से सच में धनवान होना चाहते हैं सांसारिक धनवान धनी होने को छोड़कर इसके लिए आप जरूर पढ़ें निशुल्क पवित्र पुस्तक ज्ञानगंगा यह पुस्तक बिल्कुल निशुल्क प्राप्त होगी जिसके लिए आप अपना पूरा पता यह पुस्तक आपको भेज दी जाएगी

adhyaatm ki drishti se vishwa ka dhani aadmi kaun hai aadhyatmik drishti se agar dekha jaaye toh vishwa ka sabse dhani insaan wahi hai jiske paas shakti hai aur vaah shakti prapt karne ke baad vaah sadhna kar raha hai chahen vaah insaan paise se kitna hi garib kyon nahi hai par agar adhyaatm ki drishti se dekha jaaye toh vaah insaan sabse dhani hai isko purn paramatma ke bare mein jaankari prapt hai uski kaise bhakti karni hai aur kaise moksha ki prapti hogi balki bhi yah nahi ki koi bhi manmana aacharan karne se insaan dhani mein utar sakti hamare shastron ke anusaar bhakti karne se hi insaan dhani hoga saccha dhani insaan usi ko mana jaega aur kisi ki aur adhyaatm ki drishti se aur kisi insaan ko hum nahi maan sakte hain agar aap bhi adhyaatm ki drishti se sach mein dhanwan hona chahte hain sansarik dhanwan dhani hone ko chhodkar iske liye aap zaroor padhen nishulk pavitra pustak gyanaganga yah pustak bilkul nishulk prapt hogi jiske liye aap apna pura pata yah pustak aapko bhej di jayegi

अध्यात्म की दृष्टि से विश्व का धनी आदमी कौन है आध्यात्मिक दृष्टि से अगर देखा जाए तो विश्व

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user

Madari Awareness

Social Worker

2:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा सर किया था तुम की दृष्टि से विश्व का सबसे धनी आदमी कौन है अब आप धनु को किस अर्थ में देख रहे हैं यह मैं नहीं समझ पा रहा था ना पुर के पास एक दृष्टि से देख रहे हैं तो फिर मैं आपको इसमें कोई सहायता नहीं कर सकता परावास्तु में धातुओं की दृष्टि से इसको देख रहे हैं तो मैं हूं कि अध्यात्म की दृष्टि से सबसे अधिक शपथ सबसे धनी आदमी की मीरा जीसस राबिया मंदसौर मोहम्मद कबीर कृष्ण राम अश्लोक सिद्धार्थ दृष्टि से जो सबसे धनी थे कबीर का एक दुआ है कि कबीरा वह धन संचय सो आगे को एक ऐसा तो संसार में नहीं इन संसार में तो काम आता ही आता है जो आगे भी काम आते हैं जो इस लोक में तो काम आते ही आता है जरा प्ले लोक में भी काम आता है जो आप को मुक्त बताओ जो आपको जो आप आदमी एक सरकने पोज रखें लेता अपने सर पर एक थाने पहुंचकर सा जीता है उसको स्कीम निकाल के पल में जीने की कला जो कई लोगों के पास थी तो मेरे हिसाब से तो यही है और वास्तव में जिगोलो कर चुकी सुल्तानी थे बस ध्यान के ऐसे कम पर एक ऐसी शक्ति सिंह के पास धन की असीम कृपा से विरासत थी जो कई लोगों को तो हार गई इसने कई लोगों को लाभ पहुंचाया जिसके वजह से लोग जाकर जिसकी वजह से लोगों के जीवन को समझ पाए जिसके वजह से हमारा होना है जिसके उज्जैन में लोगों की शांति उतरे करुणा उतरा उतरा प्रेम उतरा उतरा कृष्ण की बांसुरी उतरी पद का मोहन उतरा मेरा गाना चला कि वह लोग जो वास्तव में होने को समझ पाए एक जीवन का अंतिम लक्ष्य तो यही है ना कि को खुद को समझ लेना मेरे सबसे अच्छा तुम की दृष्टि से ही सब आदमी थे जो तूने थे उनके दिखाए मार्ग पर चलकर आप उठा नहीं हो सकते हो और ऐसे खजाने को पास क्यों से कोई पुरानी सकता को लूटने सकता और वह खो नहीं सकता धन्यवाद ऐसे ही और जवाब के लिए कृपया में फॉलो करें आपका शुभ शुभ दिन हो

aapne poocha sir kiya tha tum ki drishti se vishwa ka sabse dhani aadmi kaun hai ab aap dhanu ko kis arth me dekh rahe hain yah main nahi samajh paa raha tha na pur ke paas ek drishti se dekh rahe hain toh phir main aapko isme koi sahayta nahi kar sakta parawastu me dhatuon ki drishti se isko dekh rahe hain toh main hoon ki adhyaatm ki drishti se sabse adhik shapath sabse dhani aadmi ki meera jesus rabiya mandsaur muhammad kabir krishna ram ashlok siddharth drishti se jo sabse dhani the kabir ka ek dua hai ki kabira vaah dhan sanchaya so aage ko ek aisa toh sansar me nahi in sansar me toh kaam aata hi aata hai jo aage bhi kaam aate hain jo is lok me toh kaam aate hi aata hai zara play lok me bhi kaam aata hai jo aap ko mukt batao jo aapko jo aap aadmi ek sarkane pawege rakhen leta apne sir par ek thane pahuchkar sa jita hai usko scheme nikaal ke pal me jeene ki kala jo kai logo ke paas thi toh mere hisab se toh yahi hai aur vaastav me gigolo kar chuki sultani the bus dhyan ke aise kam par ek aisi shakti Singh ke paas dhan ki asim kripa se virasat thi jo kai logo ko toh haar gayi isne kai logo ko labh pahunchaya jiske wajah se log jaakar jiski wajah se logo ke jeevan ko samajh paye jiske wajah se hamara hona hai jiske ujjain me logo ki shanti utare corona utara utara prem utara utara krishna ki bansuri utari pad ka mohan utara mera gaana chala ki vaah log jo vaastav me hone ko samajh paye ek jeevan ka antim lakshya toh yahi hai na ki ko khud ko samajh lena mere sabse accha tum ki drishti se hi sab aadmi the jo tune the unke dekhiye marg par chalkar aap utha nahi ho sakte ho aur aise khajaane ko paas kyon se koi purani sakta ko lutane sakta aur vaah kho nahi sakta dhanyavad aise hi aur jawab ke liye kripya me follow kare aapka shubha shubha din ho

आपने पूछा सर किया था तुम की दृष्टि से विश्व का सबसे धनी आदमी कौन है अब आप धनु को किस अर्थ

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  95
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!