ट्रम्प ने बढ़ा दी H-1B वीजा एप्लीकेशन फीस। क्या अब विदेश में जा करना नौकरी करना मुश्किल होगा?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

संत ने बढ़ा दी h1b विजा एप्लीकेशन क्या विदेश में जाकर नौकरी करना मुश्किल होगा न्यूटन सरकार है उन्होंने h1b वीजा की कोशिश भलाई है क्योंकि वह चाहते हैं कि जो मेरे पास वह उनको बहुत ज्यादा मौके मिलने चाहिए अपने देश में और जो इंडियंस जो एशियन वह h1b विजा के तहत अगर उनके देश में जाकर एनिमल जून को सैलरी मिलती है $130000 वह उनको ना मिलने पर को मिनिमम किशोर पुलिया भी चाहिए और कल फ्री में अमेरिकन कंपनी में कम से कम 25 दिन पूरे होने चाहिए इस तरह से दोनों तरफ से पश्चिम दिशा की फीस बढ़ा दी है और रोकना चाहते हैं अपने देश में जो बाहर के देश से बुद्धिज्म जाता है उसको रोकना चाहते हैं और अपने देश के मुद्दे करने को आगे बढ़ाना चाहते हैं यही उनके विशेष बनता है वह अमेरिकन फर्स्ट है उसकी अमेरिका फर्स्ट अमेरिका का दुर्गेश अमेरिका भी होना चाहिए और भारती जो है हमारे देश की बूटी धन योग 64902 मास्टर से अमेरिका में जाकर अपना फीचर्स बनाना चाहते हैं और उनको रोकने के लिए यह फीस बढ़ाई गई है धन्यवाद

sant ne badha di h1b vija application kya videsh mein jaakar naukri karna mushkil hoga newton sarkar hai unhone h1b visa ki koshish bhalai hai kyonki vaah chahte hain ki jo mere paas vaah unko bahut zyada mauke milne chahiye apne desh mein aur jo indians jo asian vaah h1b vija ke tahat agar unke desh mein jaakar animal june ko salary milti hai 130000 vaah unko na milne par ko minimum kishore puliya bhi chahiye aur kal free mein american company mein kam se kam 25 din poore hone chahiye is tarah se dono taraf se paschim disha ki fees badha di hai aur rokna chahte hain apne desh mein jo bahar ke desh se buddhijm jata hai usko rokna chahte hain aur apne desh ke mudde karne ko aage badhana chahte hain yahi unke vishesh banta hai vaah american first hai uski america first america ka Durgesh america bhi hona chahiye aur bharati jo hai hamare desh ki buti dhan yog 64902 master se america mein jaakar apna features banana chahte hain aur unko rokne ke liye yah fees badhai gayi hai dhanyavad

संत ने बढ़ा दी h1b विजा एप्लीकेशन क्या विदेश में जाकर नौकरी करना मुश्किल होगा न्यूटन सरकार

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  1212
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

2:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि ट्रंप ने बढ़ा दी है फोन भी वीजा एप्लीकेशन फीस क्या विदेश में जाकर नौकरी करना मुश्किल होगा नहीं आ देखें आपको मैं जी समझाऊं h1 बीज है एक ऐसा विवाह है क्योंकि वीजा की अलग-अलग कैटेगरी होती है h1b हाईली स्किल्ड वीजा को कहते हैं जो उन्हें दिया जाता है जो अमेरिकन स्टैंडर्ड के हिसाब से काफी कन्हैया ने उन्हें बेहद कंप्यूटर मसीहा बलिया तोर एबिलिटीज है और उनका एक कैटिगरी है उसके लेबर के लिए अनस्किल्ड लेबर के लिए सेमी स्किल्ड लेबर के लिए तो h1b में एक चीज यह भी है कि जिससे यह वीजा मिलता है इसमें काफी सारी फैसिलिटी भी आती है और बहुत हद तक लोग अपने परिवार को भी लेकर जा सकते हैं और भी काफी इसमें आपको सफलता मिलती हैं तो जानकर कम ने अपने नई पॉलिसी के तहत इसका पीवीसी लिए बढ़ा दी है क्योंकि बहुत से लोग जो कई पूरी दुनिया भर से जमा रकम में h1b के लिए अप्लाई कर वह यह चाहते हैं उनका मेन इसके पीछे इंटेंशन यह है कि सिर्फ हाईली स्क्रीन लॉक और ज्यादातर वह लोग यूएस में आने की क्षमता रखें या फिर है सुमन होल्ड करें जिनके पास ढेर सारा पैसा ठीक हो ना कि वह लोग के जो पहले ग्रीन कार्ड पर या विजिट वीजा पर जाएं या फिर किसी एल्बम वीजा भी एक होता है b1b है उस पर जाए फिर इस कोष में कन्वर्ट कर ले तो h1 की क्योंकि सहुलत में ज्यादा है इसलिए इसकी जानकारी पढ़ाई गई है क्योंकि वह शायद बाहर से आकर इमीग्रेंट स्मारिका में काम करना है उस पर कुछ रोकथाम लगाना चाहते हैं इससे यह नतीजा होता है कि दिल तो आपके पास है ही लेकिन क्योंकि यह रिश्ता कि कॉलेज है इसकी फीस उन्होंने चार गुना ज्यादा कर दी जिससे एक विद्यार्थी में सारे लैंड तो है परंतु पित्त के कारण शायद वह एडमिशन ना लें इसके करने के पीछे ट्रम का यही मेन इंटेंशन है यही उनकी नियत है और और इसे ऐसा नहीं है कि आपको विदेश में काम करने में परेशानी होगी बस यह हुआ कि पैसा ज्यादा लगेगा अमेरिका में अप्लाई करने के लिए और उसी पैसे में जब लोग कंपेयर करेंगे के बजाय यूएस के ऑस्ट्रेलिया या फिर यूएई में दुबई वगैरह जाकर काम किया जाए तो वहां से कम है उसकी भी तो हो सकता है बहुत से लोग इस कैटिगरी में रिप्लाई ना करें तो यह उनकी मेन इंटरनेशनल

aapka sawaal hai ki trump ne badha di hai phone bhi visa application fees kya videsh mein jaakar naukri karna mushkil hoga nahi aa dekhen aapko main ji samjhau h1 beej hai ek aisa vivah hai kyonki visa ki alag alag category hoti hai h1b highly Skilled visa ko kehte hai jo unhe diya jata hai jo american standard ke hisab se kaafi kanhaiya ne unhe behad computer masiha baliya tor ebilitij hai aur unka ek category hai uske labour ke liye anaskild labour ke liye semi Skilled labour ke liye toh h1b mein ek cheez yah bhi hai ki jisse yah visa milta hai isme kaafi saree facility bhi aati hai aur bahut had tak log apne parivar ko bhi lekar ja sakte hai aur bhi kaafi isme aapko safalta milti hai toh jaankar kam ne apne nayi policy ke tahat iska pvc liye badha di hai kyonki bahut se log jo kai puri duniya bhar se jama rakam mein h1b ke liye apply kar vaah yah chahte hai unka main iske peeche intention yah hai ki sirf highly screen lock aur jyadatar vaah log US mein aane ki kshamta rakhen ya phir hai suman hold kare jinke paas dher saara paisa theek ho na ki vaah log ke jo pehle green card par ya visit visa par jayen ya phir kisi album visa bhi ek hota hai b1b hai us par jaaye phir is kosh mein convert kar le toh h1 ki kyonki sahulat mein zyada hai isliye iski jaankari padhai gayi hai kyonki vaah shayad bahar se aakar imigrent smarika mein kaam karna hai us par kuch roktham lagana chahte hai isse yah natija hota hai ki dil toh aapke paas hai hi lekin kyonki yah rishta ki college hai iski fees unhone char guna zyada kar di jisse ek vidyarthi mein saare land toh hai parantu pitt ke karan shayad vaah admission na le iske karne ke peeche tram ka yahi main intention hai yahi unki niyat hai aur aur ise aisa nahi hai ki aapko videsh mein kaam karne mein pareshani hogi bus yah hua ki paisa zyada lagega america mein apply karne ke liye aur usi paise mein jab log compare karenge ke bajay US ke austrailia ya phir UAE mein dubai vagera jaakar kaam kiya jaaye toh wahan se kam hai uski bhi toh ho sakta hai bahut se log is category mein reply na kare toh yah unki main international

आपका सवाल है कि ट्रंप ने बढ़ा दी है फोन भी वीजा एप्लीकेशन फीस क्या विदेश में जाकर नौकरी कर

Romanized Version
Likes  481  Dislikes    views  3550
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!