हम दूसरों को पसंद क्यों करते हैं?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि दूसरों को सम्मान देना की भारती कब तक का एक मूलाधारा है कहते हैं आप लोगों के सूर्या पश्यति सपन समझदार आदमी दूसरों को पसंद करते हैं उनको सम्मान देते हैं लेकिन मैं एक बात यह स्पष्ट रूप से इतना चाहूंगा क्यों कहते हैं बुझी ना बोलकर किंतु एकांत में नहीं बैठना पड़ता है क्योंकि दरअसल आपने आप को जान लेना एक बात बड़ी खूबी है जो इंसान अपने आप को नहीं जान सका वह किसी को नहीं जा सकता इसलिए अपने आप को जानना भी यह बहुत अच्छी बात है अपने आप की अपनी कमियों को व्यक्तिगत कमियों को व्यक्तिगत किए हुए कार्यों को विश्लेषण करने का समय उसको एकांत में अकेले में ही प्राप्त होता है जबकि हम दो ब्रीड के साथ रहते हैं तो मीडिया के सामने वाले को ही व्यक्तित्व निर्दोषों को बनाता है तो उस पर आदमी चढ़ने लगता ओखला टो तीव्रता है लड़ने लगता है जबकि रियलिटी है कि आप तो डिस्टलेशन के लिए के एक आदमी के लक्कड़ आदमी करता है तो निश्चित रूप से उसे अपनी गलतियों का एहसास होता है और आज का इंसान अकेले में बैठने से घबराता है वीर को पसंद करता है तो हमें दूसरों को सम्मान देना चाहिए यही कहते वाली भारतीय संस्कृति यही कहती है हमें दूसरों को पसंद करना चाहिए उनके विशेष तौर से पॉजिटिव रखते हुए उनके गुणों को सीखना चाहिए सराहना करनी चाहिए मुक्त मुक्त कंठ के साथ में हमें दूसरों को आदर देना चाहिए और उसे आदमी को सीखने का अवसर प्राप्त होता है हम जयंती असली बनाते हैं किन महापुरुषों के चरणों से हम सीख सकें हम कुछ गुण विकसित अपने आप में कर सकें इसलिए हमें दूसरों को आदर देना चाहिए

kyonki dusro ko sammaan dena ki bharati kab tak ka ek muladhara hai kehte hain aap logo ke shurya pashyati sapan samajhdar aadmi dusro ko pasand karte hain unko sammaan dete hain lekin main ek baat yah spasht roop se itna chahunga kyon kehte hain bujhi na bolkar kintu ekant mein nahi baithana padta hai kyonki darasal aapne aap ko jaan lena ek baat badi khoobi hai jo insaan apne aap ko nahi jaan saka vaah kisi ko nahi ja sakta isliye apne aap ko janana bhi yah bahut achi baat hai apne aap ki apni kamiyon ko vyaktigat kamiyon ko vyaktigat kiye hue karyo ko vishleshan karne ka samay usko ekant mein akele mein hi prapt hota hai jabki hum do breed ke saath rehte hain toh media ke saamne waale ko hi vyaktitva nirdoshon ko banata hai toh us par aadmi chadhne lagta okhala toe teevrata hai ladane lagta hai jabki reality hai ki aap toh distaleshan ke liye ke ek aadmi ke lakkad aadmi karta hai toh nishchit roop se use apni galatiyon ka ehsaas hota hai aur aaj ka insaan akele mein baithne se ghabrata hai veer ko pasand karta hai toh hamein dusro ko sammaan dena chahiye yahi kehte wali bharatiya sanskriti yahi kehti hai hamein dusro ko pasand karna chahiye unke vishesh taur se positive rakhte hue unke gunon ko sikhna chahiye sarahana karni chahiye mukt mukt kanth ke saath mein hamein dusro ko aadar dena chahiye aur use aadmi ko sikhne ka avsar prapt hota hai hum jayanti asli banate hain kin mahapurushon ke charno se hum seekh sake hum kuch gun viksit apne aap mein kar sake isliye hamein dusro ko aadar dena chahiye

क्योंकि दूसरों को सम्मान देना की भारती कब तक का एक मूलाधारा है कहते हैं आप लोगों के सूर्या

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  337
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!