#AyodhyaHearing: क्या आपकोलगता है की फ़ैसला सुनाने वाले पाँच जज के जीवन को ख़तरा हो सकता है?...


user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:51
Play

Likes  73  Dislikes    views  2436
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

7:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा कि आपको लगता कि फैसला सुनाने वाले पांच जिसकी जीवन को खतरा हो सकता है देखिए जस्ट आपका काम था अपनी न्याय पर अपने कानून पर अपनी बुद्धि और विवेक से उन्होंने फैसला सुनाया और यह फैसला नीचे कठोर नेक आऊंगा इसको मन में इस पक्षी कहूंगा कि जब भी इंसान जिंदगी में कोई फैसला लेता है उसको अपनी आत्मा से अपने आप से हजार बार जूझना पड़ता है तब जाकर एक फैसला होता है आंखों से ऐसे ही नहीं सकते मनुष्य खुशी ऐसे ही नहीं फूट जी और इंसान की मन के अंदर भाव ऐसे नहीं होते इनका बहुत गहरा संबंध होता है हमारी भावनाओं से हमारे रिश्ते नातों से हमारे विचारों से वादी दृष्टिकोण से हमारी संस्कृति और सभ्यता और हमारी इतिहास जो इतिहास पूरी जीवन टीवी दर पीढ़ी संघर्ष को जन्म देता हूं मैं समझता हूं उस इतिहास को बदलना एक दिन अनिवार्य होता है रो होना चाहिए जो आज हुआ और इस फैसले के साथ साथ कोई नियम कुछ व्यक्ति कोई बुद्धिहीन कोई मानवता से परे रहने वाला विचार ही संकीर्ण विचारधारा वाला व्यक्ति ही इस तरह की विचारधारा मन में ना सकता है कि उन्होंने जो फैसला सुनाया वह सही नहीं सुनाया और वह फैसला कैलाश और उनकी जीवन पर किसी तरह की खत्री की बात लेकर अगर कोई लोग अच्छी है उठाना रखते हैं तो यह उनकी संकीर्ण विचारधारा है उनको इस विचारधारा के ऊपर उठना चाहिए क्या बच्चे गलती करते हैं तो मां-बाप को छोड़ फैसला नहीं लेते बच्चों को सुधारने के लिए मां-बाप जीवन में संयम नहीं भरते और बच्चों की जिंदगी में बदलाव लाने के लिए क्या वह नहीं करते तो यह फैसला फैसला जजों की जीवन पर खतरे पर से संबंधित नहीं है उन्होंने अपना कट किया है और सरकार को सचिव इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि न्यायालय द्वारा जो भी फैसला है उसकी पूर्ण सुरक्षा की व्यवस्था सरकार को करनी चाहिए लेकिन जैसा भी देखा गया कि दुर्भाग्यवश कुछ विशिष्ट व्यक्तियों की रक्षा का सरकार ने हटाने का फैसला किया किस भावना चकिया यह सरकार जानती है और सरकार की बुद्धि और विवेक जानती है कभी भी आज अगर हम सत्ता में कमी नहीं बोलना चाहिए कनम विपक्ष में होंगे पक्ष के साथ वही व्यवहार करना चाहिए जॉन सत्ता में रहते हुए उम्मीद करते हैं जो इंसान सट्टा में अंधा हो जाता है वह विपक्ष को चूहा समझने लगता है और अपने आप को बहुत शक्तिशाली बस यही बोल हमारे हजारों लाखों साल से इतिहास में होती रही है और इसलिए इतिहास ऐसे लोगों का नाम मिटा तारा है कि जिसने अपने आपको सर प्रतिमान मानकर विपक्ष को कमजोर आंका और विपक्ष को यह सोचकर उसके साथ भेदभाव किया उसके साथ क्योंकि गलतियां किससे नहीं होती हैं दुर्भावना की हाउस लिए गए फैसले हमेशा नुकसान का कारण होते हैं क्या मालूम एक विपक्ष में बैठा हुआ व्यक्ति इतना गुनी इतना महान हो कि जो हमारी देश की जिंदगी बदल सकता हो या जिसने देश की जिंदगी बदल सकता में बैंक उसको क्यों दुश्मन समझ रहे तो हमारी यह बुद्धि विवेक नहीं है हमें उच्च विपक्ष के व्यक्ति को भले ही आज वह सत्ता में नहीं है यह स्वीकार करना चाहिए कि कल वो फिर से सत्ता में आए तो हमारी साथ गाय का आचरण करेंगे इसलिए सदैव विपक्ष को अपना एक हिस्सा मानते मजबूत विपक्ष होते हुए एक अच्छी सरकार का फैसला लेना चाहिए और मैं मान के चलता हूं यह चीजें यह फैसले यह निर्णय सरकार के कि वह किस प्रकार की सुरक्षा के इंतजाम करते हैं कल मैं टीवी चैनल पर देख रहा था एबीपी कि हमने 5 मंगा ली बल्ली मंगा ली उनकी रक्षा का यह इंतजाम कर दिया मुक्तागचा का वह इंतजाम कर दिया सुप्रीम कोर्ट में बड़ी सावधानी बरती जा रही है पूरे देश के अंदर बड़ी सावधानी बरती जा रही है धारा 144 लगा दी गई आखिरकार सब कुछ ठीक है प्रिंटर की जरूरत क्या है सब कुछ देश में शांति अमन चैन है इस बवंडर को और इसका प्रचार करने की जरूरत क्या है मां-बाप क्या प्रचार करते अपने बच्चों के लिए मीडिया पर यह समाज में या देश में कम अपने बच्चों को एमबीबीएस डॉक्टर बनाएं इंजीनियर बना रहे हैं आइए टॉप टीचर मनाने एक गरीब एक वालों में पॉलिश करने वाला एक टीचर अपने बच्चों के लिए कितनी कुर्बानी करता है क्या करूं प्रचार करता है और उनके बच्चे भविष्य में होनहार बनते हैं लेकिन इस सरकार को इस तरह के प्रति घंटा करने की मीडिया में प्रचार करने की जो उसने अपने नाम में प्रसिद्धि प्राप्त करने का सिलसिला बना रखा है यह उचित नहीं है जनता के अंदर आतंक भय संशय उत्पन्न होता है और बजाएं अच्छी होने के एक बुरी दुर्भावना का मन में होता है और मैं नहीं समझता हूं कैमरे जज महोदय की निश्चित रक्षा होनी चाहिए लेकिन उनके प्रति किसी के मन में दुर्भावना होगी हमारा देश हमारे देश में हिंदू मुस्लिम सिख इसाई सब पढ़ते हैं किताबें आपस में भाई-भाई और अगर एक परिवार में इस संतान गलत फैसले दिए तो मां-बाप उसके साथ कठोर निर्णय लेते हैं उन सभी लोगों का सहयोग होता है तो यह एक बहुत ही अच्छा निर्णय और किसी भी धर्म या जाति के व्यक्ति को दुर्भावना की विचार मन में कतई नहीं लाना चाहिए

aapne kaha ki aapko lagta ki faisla sunaane waale paanch jiski jeevan ko khatra ho sakta hai dekhiye just aapka kaam tha apni nyay par apne kanoon par apni buddhi aur vivek se unhone faisla sunaya aur yah faisla niche kathor neck aaunga isko man mein is pakshi kahunga ki jab bhi insaan zindagi mein koi faisla leta hai usko apni aatma se apne aap se hazaar baar jujhna padta hai tab jaakar ek faisla hota hai aankho se aise hi nahi sakte manushya khushi aise hi nahi feet ji aur insaan ki man ke andar bhav aise nahi hote inka bahut gehra sambandh hota hai hamari bhavnao se hamare rishte naton se hamare vicharon se wadi drishtikon se hamari sanskriti aur sabhyata aur hamari itihas jo itihas puri jeevan TV dar peedhi sangharsh ko janam deta hoon main samajhata hoon us itihas ko badalna ek din anivarya hota hai ro hona chahiye jo aaj hua aur is faisle ke saath saath koi niyam kuch vyakti koi buddhihin koi manavta se pare rehne vala vichar hi sankirn vichardhara vala vyakti hi is tarah ki vichardhara man mein na sakta hai ki unhone jo faisla sunaya vaah sahi nahi sunaya aur vaah faisla kailash aur unki jeevan par kisi tarah ki khatri ki baat lekar agar koi log achi hai uthna rakhte hai toh yah unki sankirn vichardhara hai unko is vichardhara ke upar uthna chahiye kya bacche galti karte hai toh maa baap ko chod faisla nahi lete baccho ko sudhaarne ke liye maa baap jeevan mein sanyam nahi bharte aur baccho ki zindagi mein badlav lane ke liye kya vaah nahi karte toh yah faisla faisla judgon ki jeevan par khatre par se sambandhit nahi hai unhone apna cut kiya hai aur sarkar ko sachiv is baat par dhyan dena chahiye ki nyayalaya dwara jo bhi faisla hai uski purn suraksha ki vyavastha sarkar ko karni chahiye lekin jaisa bhi dekha gaya ki durbhaagyavash kuch vishisht vyaktiyon ki raksha ka sarkar ne hatane ka faisla kiya kis bhavna chakkiyan yah sarkar jaanti hai aur sarkar ki buddhi aur vivek jaanti hai kabhi bhi aaj agar hum satta mein kami nahi bolna chahiye kanam vipaksh mein honge paksh ke saath wahi vyavhar karna chahiye john satta mein rehte hue ummid karte hai jo insaan satta mein andha ho jata hai vaah vipaksh ko chuha samjhne lagta hai aur apne aap ko bahut shaktishali bus yahi bol hamare hazaro laakhon saal se itihas mein hoti rahi hai aur isliye itihas aise logo ka naam mita tara hai ki jisne apne aapko sir pratiman maankar vipaksh ko kamjor aanka aur vipaksh ko yah sochkar uske saath bhedbhav kiya uske saath kyonki galtiya kisse nahi hoti hai durbhavana ki house liye gaye faisle hamesha nuksan ka karan hote hai kya maloom ek vipaksh mein baitha hua vyakti itna guni itna mahaan ho ki jo hamari desh ki zindagi badal sakta ho ya jisne desh ki zindagi badal sakta mein bank usko kyon dushman samajh rahe toh hamari yah buddhi vivek nahi hai hamein ucch vipaksh ke vyakti ko bhale hi aaj vaah satta mein nahi hai yah sweekar karna chahiye ki kal vo phir se satta mein aaye toh hamari saath gaay ka aacharan karenge isliye sadaiv vipaksh ko apna ek hissa maante majboot vipaksh hote hue ek achi sarkar ka faisla lena chahiye aur main maan ke chalta hoon yah cheezen yah faisle yah nirnay sarkar ke ki vaah kis prakar ki suraksha ke intajam karte hai kal main TV channel par dekh raha tha ABP ki humne 5 Manga li balli Manga li unki raksha ka yah intajam kar diya muktagacha ka vaah intajam kar diya supreme court mein baadi savdhani barti ja rahi hai poore desh ke andar baadi savdhani barti ja rahi hai dhara 144 laga di gayi aakhirkaar sab kuch theek hai printer ki zarurat kya hai sab kuch desh mein shanti aman chain hai is bavandar ko aur iska prachar karne ki zarurat kya hai maa baap kya prachar karte apne baccho ke liye media par yah samaj mein ya desh mein kam apne baccho ko MBBS doctor banaye engineer bana rahe hai aaiye top teacher manne ek garib ek walon mein polish karne vala ek teacher apne baccho ke liye kitni kurbani karta hai kya karu prachar karta hai aur unke bacche bhavishya mein honhar bante hai lekin is sarkar ko is tarah ke prati ghanta karne ki media mein prachar karne ki jo usne apne naam mein prasiddhi prapt karne ka silsila bana rakha hai yah uchit nahi hai janta ke andar aatank bhay sanshay utpann hota hai aur bajaye achi hone ke ek buri durbhavana ka man mein hota hai aur main nahi samajhata hoon camera judge mahoday ki nishchit raksha honi chahiye lekin unke prati kisi ke man mein durbhavana hogi hamara desh hamare desh mein hindu muslim sikh isai sab padhte hai kitaben aapas mein bhai bhai aur agar ek parivar mein is santan galat faisle diye toh maa baap uske saath kathor nirnay lete hai un sabhi logo ka sahyog hota hai toh yah ek bahut hi accha nirnay aur kisi bhi dharm ya jati ke vyakti ko durbhavana ki vichar man mein katai nahi lana chahiye

आपने कहा कि आपको लगता कि फैसला सुनाने वाले पांच जिसकी जीवन को खतरा हो सकता है देखिए जस्ट

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  1376
WhatsApp_icon
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आपको लगता है कि फैसला सुनाने वाले पांच देश के जीवन को खतरा हो सकता है जो होते हैं वह फैसला सुनाते हैं एविडेंस के ऊपर 55 जज ने 5 देशों में तीन चीजों सहमति होगी वहीं किसी को यह मालूम नहीं पड़ेगा कि कौन से जल में कौन सा फैसला सुना है इसलिए 5:00 पर इस तरह की बातें जीवन को खतरा होने वाली बातें नहीं लेकिन अगर कोई अच्छी बात होती है तो उस समय के भीतर ही कुछ लोग भी एकता नगर बैंक को संभवत अपने हाथ में साफ हो जाए व्हाट इस चुनाव का चुनाव के लिए यह फैसला नहीं लिया गया है यह 70 साल से चले आ गए विवाद को सुलझाया गया है और मेरे ख्याल से जो फैसला सुप्रीम कोर्ट ने किया है वह दोनों पक्षों को बहुत ही संपूर्ण उन्होंने दिया है सब लोग संपूर्ण सहमत होंगे और आशा करता हूं कि यह सब का स्वागत किया जाना चाहिए

kya aapko lagta hai ki faisla sunaane waale paanch desh ke jeevan ko khatra ho sakta hai jo hote hai vaah faisla sunaate hai evidence ke upar 55 judge ne 5 deshon mein teen chijon sahmati hogi wahi kisi ko yah maloom nahi padega ki kaunsi jal mein kaun sa faisla suna hai isliye 5 00 par is tarah ki batein jeevan ko khatra hone wali batein nahi lekin agar koi achi baat hoti hai toh us samay ke bheetar hi kuch log bhi ekta nagar bank ko sambhavat apne hath mein saaf ho jaaye what is chunav ka chunav ke liye yah faisla nahi liya gaya hai yah 70 saal se chale aa gaye vivaad ko sulajhaya gaya hai aur mere khayal se jo faisla supreme court ne kiya hai vaah dono pakshon ko bahut hi sampurna unhone diya hai sab log sampurna sahmat honge aur asha karta hoon ki yah sab ka swaagat kiya jana chahiye

क्या आपको लगता है कि फैसला सुनाने वाले पांच देश के जीवन को खतरा हो सकता है जो होते हैं वह

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1219
WhatsApp_icon
user

Ajay Pratap Singh

Agriculturist

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें भारत वर्ष के किसी भी व्यक्ति से जजों को कोई खतरा नहीं है अगर खतरा है यह बाहरी लोगों से और पिछले 70 सालों में कश्मीर में पाकिस्तान से आए लोगों ने शादी की नाटक मेरा ख्याल है क्या नीति के तत्व और जो भी आतंकी शरणम हीरिए और धीरे-धीरे भारत के चित्र में आ गए तो कुछ जयचंद्र मर गया इससे इनकार नहीं किया जा सकता है निश्चित तौर पर कहा जा सकता है जिसके ऊपर खतरा

dekhen bharat varsh ke kisi bhi vyakti se judgon ko koi khatra nahi hai agar khatra hai yah bahri logo se aur pichle 70 salon mein kashmir mein pakistan se aaye logo ne shadi ki natak mera khayal hai kya niti ke tatva aur jo bhi aatanki sharnam hiriye aur dhire dhire bharat ke chitra mein aa gaye toh kuch jaychandra mar gaya isse inkar nahi kiya ja sakta hai nishchit taur par kaha ja sakta hai jiske upar khatra

देखें भारत वर्ष के किसी भी व्यक्ति से जजों को कोई खतरा नहीं है अगर खतरा है यह बाहरी लोगों

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
user

jitendar Porwal

Indian army

0:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शायद हो भी सकता है और सरकार के प्रोटेक्शन के खिलाफ जाने के बाद को खतरा हो सकता है

shayad ho bhi sakta hai aur sarkar ke protection ke khilaf jaane ke baad ko khatra ho sakta hai

शायद हो भी सकता है और सरकार के प्रोटेक्शन के खिलाफ जाने के बाद को खतरा हो सकता है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!