किताब क्या है क्या किताबों से ही ज्ञान मिलता है?...


user

Gyandeep Kkr

Social Activist

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी का किसी भी विषय में अनुभव को किताब में वर्णित होता है किताबें बहुत सी होती है किताबों में ज्ञान मिलता है अगर सही किताब हो तो हमें सही ज्ञान मिलता है किताबों का ज्ञान ऐसा होता है कि हम किसी भी समय को पढ़ सकते हैं केवल किताबों से ही ज्ञान नहीं मिलता ज्ञान हम यांची जो पढ़ाई चैनल और भी काफी दिनों से आजकल प्राप्त कर पाते हैं जैसे यूट्यूब पर और अब फोन में हम सच करें

kisi ka kisi bhi vishay me anubhav ko kitab me varnit hota hai kitaben bahut si hoti hai kitabon me gyaan milta hai agar sahi kitab ho toh hamein sahi gyaan milta hai kitabon ka gyaan aisa hota hai ki hum kisi bhi samay ko padh sakte hain keval kitabon se hi gyaan nahi milta gyaan hum yanchi jo padhai channel aur bhi kaafi dino se aajkal prapt kar paate hain jaise youtube par aur ab phone me hum sach kare

किसी का किसी भी विषय में अनुभव को किताब में वर्णित होता है किताबें बहुत सी होती है किताबों

Romanized Version
Likes  207  Dislikes    views  1621
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

RAM KUMAR GUPTA

Lecturer Mathematics Cum Etymon

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा की किताब क्या है क्या किताबों से ही ज्ञान मिलता है अच्छा मासूमियत भरा प्रतिज्ञा सभी किताब हमारे जो ज्ञान हैं जो अर्जित है अनुभव आधारित है उसका लिखित संस्कार धाम किताबों से नहीं मिलता जो ज्ञान हम अनुभव के आधार पर देखकर सुनकर महसूस करके या प्रयोग करके जो हम ज्ञान अर्जित करते हैं और जिसको हम दूसरे तक पहुंचाना चाहते उसका लिखित पुस्तक पुस्तक में हम लिख करके ताकि उस से दूसरे ही लाभान्वित हो सके तो ज्ञान किताबों से नहीं मिलता बल्कि ज्ञान अर्जित करने के बाद पुस्तकों में लिखा जाता है ताकि वह अधिक लोग उसका लाभ उठा सकें किसी एक व्यक्ति के पास हो गया ना रहे तो जब हम कोई एक्सपरमेंट नहीं करते हैं प्रयोग नहीं करते हैं अनुभव नहीं करते तो हम पुस्तकों से उनके बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं तो पुस्तकों से भी ज्ञान मिलता है और वैसे ज्ञान के प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष बहुत सारे तरीके जान प्राप्त करने के तो आपको जिस विधि से या जिस अवस्था में है काला इंसान हिसाब से आप जान प्राप्त कर सकते हैं आप बेसिक लेवल पर पुस्तकों से हम क्या प्राप्त कर

aapne poocha ki kitab kya hai kya kitabon se hi gyaan milta hai accha masumiyat bhara pratigya sabhi kitab hamare jo gyaan hain jo arjit hai anubhav aadharit hai uska likhit sanskar dhaam kitabon se nahi milta jo gyaan hum anubhav ke aadhaar par dekhkar sunkar mehsus karke ya prayog karke jo hum gyaan arjit karte hain aur jisko hum dusre tak pahunchana chahte uska likhit pustak pustak mein hum likh karke taki us se dusre hi labhanvit ho sake toh gyaan kitabon se nahi milta balki gyaan arjit karne ke baad pustakon mein likha jata hai taki vaah adhik log uska labh utha sake kisi ek vyakti ke paas ho gaya na rahe toh jab hum koi eksaparament nahi karte hain prayog nahi karte hain anubhav nahi karte toh hum pustakon se unke bare mein jaankari prapt karte hain toh pustakon se bhi gyaan milta hai aur waise gyaan ke pratyaksh apratyaksh bahut saare tarike jaan prapt karne ke toh aapko jis vidhi se ya jis avastha mein hai kaala insaan hisab se aap jaan prapt kar sakte hain aap basic level par pustakon se hum kya prapt kar

आपने पूछा की किताब क्या है क्या किताबों से ही ज्ञान मिलता है अच्छा मासूमियत भरा प्रतिज्ञा

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  210
WhatsApp_icon
user

Prabhat Kumar

Teacher at Oxford English High School 7 year experience

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किताब जो है वह ज्ञान प्राप्ति का सबसे सुगम साधन है और अपनी प्रश्न क्या है कि किताबों से ही ज्ञान मिलता दिखे आजकल किताब तो ज्ञान का सबसे प्रमुख साधन है ही है आजकल इंटरनेट और बहुत सारे ऐसे चीज आ गए हैं जिससे आप जानकारी प्राप्त कर सकते हैं

kitab jo hai vaah gyaan prapti ka sabse sugam sadhan hai aur apni prashna kya hai ki kitabon se hi gyaan milta dikhe aajkal kitab toh gyaan ka sabse pramukh sadhan hai hi hai aajkal internet aur bahut saare aise cheez aa gaye hain jisse aap jaankari prapt kar sakte hain

किताब जो है वह ज्ञान प्राप्ति का सबसे सुगम साधन है और अपनी प्रश्न क्या है कि किताबों से ही

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  5
WhatsApp_icon
user
0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किताबें हमारी मित्र हैं और किताबों से

kitaben hamari mitra hain aur kitabon se

किताबें हमारी मित्र हैं और किताबों से

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किताबे हमारे किताबें हमारी जीवन का भोजन है एक तरह से कैसे हम भूख लगने पर भोजन खाते हैं उसी तरह अगर हमें अपनी फैमिली और अपने परिवार की अपने परिजनों को सुधारना होगा तो मैं सबसे पहले ज्ञान प्राप्त करना होगा जिससे कि हम अपनी फैमिली को अच्छी दिशा दे सकते हैं और अपनी फैमिली को अच्छी अच्छी अच्छी फैसिलिटी दे सकते हैं उसे अपनी फैमिली को बचाने को बता दी सकते हैं शादी में आने ना दें ऐसे हमें किताबे सिखाती हैं किताबों से हमें ज्ञानी नहीं किताबों से हमें सब कुछ पता चलता है किताबों से हमें ऊंची नीची की ऊंच-नीच की ऊंच-नीच की बातें भी पता चलती है अच्छे बुरा भी पता चलता है और क्या हमारे लिए ठीक है क्या हमारे लिए बेकार है यह सब कुछ हमें किताबों से ही पता चलता है कि हमारे जीवन का भोजन भोजन को हम खाकर भूख मिटा सकते हैं बट किताबों से ज्ञान प्राप्त करके हम अपनी भूख नहीं मिटा सकते और सीखने की जिज्ञासा ही हमें किताबों से रहती है ताकि अगर किसी इंसान को अपनी लाइफ में कुछ अच्छा बनना होगा तो वह सबसे पहले किताबों से ज्ञान प्राप्त करेगा किताबों से ज्ञान इतना प्राप्त करने के बाद वह अपनी फैमिली को अच्छी दिशा देगा अपनी फैमिली को हाथ प्रॉब्लम से बचा सकेगा किताबें हमारी जीवन का आसरा है किताबों के बिना हमारा जीवन अधूरा है

kitabe hamare kitaben hamari jeevan ka bhojan hai ek tarah se kaise hum bhukh lagne par bhojan khate hain usi tarah agar hamein apni family aur apne parivar ki apne parijanon ko sudharna hoga toh main sabse pehle gyaan prapt karna hoga jisse ki hum apni family ko achi disha de sakte hain aur apni family ko achi achi achi facility de sakte hain use apni family ko bachane ko bata di sakte hain shaadi me aane na de aise hamein kitabe sikhati hain kitabon se hamein gyani nahi kitabon se hamein sab kuch pata chalta hai kitabon se hamein unchi nichi ki unch neech ki unch neech ki batein bhi pata chalti hai acche bura bhi pata chalta hai aur kya hamare liye theek hai kya hamare liye bekar hai yah sab kuch hamein kitabon se hi pata chalta hai ki hamare jeevan ka bhojan bhojan ko hum khakar bhukh mita sakte hain but kitabon se gyaan prapt karke hum apni bhukh nahi mita sakte aur sikhne ki jigyasa hi hamein kitabon se rehti hai taki agar kisi insaan ko apni life me kuch accha banna hoga toh vaah sabse pehle kitabon se gyaan prapt karega kitabon se gyaan itna prapt karne ke baad vaah apni family ko achi disha dega apni family ko hath problem se bacha sakega kitaben hamari jeevan ka aasra hai kitabon ke bina hamara jeevan adhura hai

किताबे हमारे किताबें हमारी जीवन का भोजन है एक तरह से कैसे हम भूख लगने पर भोजन खाते हैं उसी

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  64
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!