क्या आपको लगता है कि हर अंधविश्वास के पीछे कुछ विज्ञान है?...


play
user

Sanju junier

EDUCATER

0:34

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मर्जी है जैसा कि आपने पूछा है कि किसी भी अंधविश्वास के पीछे कुछ विज्ञान होता है लेकिन मेरा तो यह मानना है कि कोई भी अंधविश्वास है उसके पीछे को विज्ञान नहीं खा लिया ज्ञान होता है अज्ञानी कोई भी है तो उनको अंधविश्वास के चित्रों में फंसाना बहुत आसान होता है वही असली भूत प्रेत देव देवी देवता बाधा है इस टाइप की जो चीजें हैं उनको मार लेते हैं और फॉलो करने लगते हैं तो बिल्कुल भी अंधविश्वास के पीछे कोई भी ज्ञान नहीं होता खाली अज्ञान होता है

marji hai jaisa ki aapne poocha hai ki kisi bhi andhavishvas ke peeche kuch vigyan hota hai lekin mera toh yah manana hai ki koi bhi andhavishvas hai uske peeche ko vigyan nahi kha liya gyaan hota hai agyani koi bhi hai toh unko andhavishvas ke chitron mein phansana bahut aasaan hota hai wahi asli bhoot pret dev devi devta badha hai is type ki jo cheezen hain unko maar lete hain aur follow karne lagte hain toh bilkul bhi andhavishvas ke peeche koi bhi gyaan nahi hota khaali agyan hota hai

मर्जी है जैसा कि आपने पूछा है कि किसी भी अंधविश्वास के पीछे कुछ विज्ञान होता है लेकिन मेरा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

GB मुझे लगता कि यह बिल्कुल भी अंधेरी 78747 नहीं होता है कुछ बातें ऐसी होती है जो 50 महीने लग जाते हैं और जब से अपॉइंटमेंट वह परंपरा बन चुकी है और आज भी डालते हैं तो हम इसे नहीं कर सकता है

GB mujhe lagta ki yah bilkul bhi andheri 78747 nahi hota hai kuch batein aisi hoti hai jo 50 mahine lag jaate hain aur jab se appointment vaah parampara ban chuki hai aur aaj bhi daalte hain toh hum ise nahi kar sakta hai

GB मुझे लगता कि यह बिल्कुल भी अंधेरी 78747 नहीं होता है कुछ बातें ऐसी होती है जो 50 महीने

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  189
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जबरदस्त बिल्कुल नहीं लगता मुझे लगता है अंधविश्वास के पीछे कोई भी विज्ञान नहीं होता चाहे वह किसी भी तरीके का अंधविश्वास से कुछ ऐसी चीज होती जिनसे हो सकती हैं इसके अलावा जिससे बहुत दुखी जूते की चौराहे पर से मान जाओ या फिर शाम को झाड़ू मत लगाओ तो यह सब चीजों के पीछे या फिर जिस दिन अमावस्या पता नहीं 1130 दिन चावल मत खाओ

jabardast bilkul nahi lagta mujhe lagta hai andhavishvas ke peeche koi bhi vigyan nahi hota chahen vaah kisi bhi tarike ka andhavishvas se kuch aisi cheez hoti jinse ho sakti hain iske alava jisse bahut dukhi joote ki chauraahe par se maan jao ya phir shaam ko jhadu mat lagao toh yah sab chijon ke peeche ya phir jis din amavasya pata nahi 1130 din chawal mat khao

जबरदस्त बिल्कुल नहीं लगता मुझे लगता है अंधविश्वास के पीछे कोई भी विज्ञान नहीं होता चाहे वह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखने चलते ही कुछ अंधविश्वास चीजों के पीछे कुछ ना कुछ विज्ञान शुरू होता है जैसे कि बोलते हैं कि जब काली बिल्ली रास्ता काटती है तो आपको पीछे नहीं जाना चाहिए तो मुझे साफ होने के लिए ऐसा लगता की काली बिल्ली जब रास्ता काटती है तो उसके पीछे नहीं जाना चाहिए क्योंकि थोड़ा सीट मिल सकता हमें नहीं दिखता कि वह बिल्ली क्लोज करें या नहीं करें अंधेरे में तो गर्म एकदम से चले जाएंगे तो उतार इसकी हो सकता है बिल्ली की जान के लिए ऐसी 2 3 और भी दिल किसी की हमें न्यूज़ रात को नहीं काटने चाहिए तो रात को का न्यूज़ काटेंगे तो किसी को चुभ सकते हैं अगर वह नीचे गिर जाते हैं सब कुछ कुछ कुछ कुछ कुछ होगी हम देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि भारत में बहुत ज्यादा गलत था पहले तो उसमें ऐसा दिखाते की रात है जो हवा में उड़ते थे या एक तीर कमान से 1015 तीर कमान बन जाते थे तो इसके पीछे की साइड + तक जान नहीं पाया तो कह सकते तो आंध्र

dekhne chalte hi kuch andhavishvas chijon ke peeche kuch na kuch vigyan shuru hota hai jaise ki bolte hain ki jab kali billi rasta katatee hai toh aapko peeche nahi jana chahiye toh mujhe saaf hone ke liye aisa lagta ki kali billi jab rasta katatee hai toh uske peeche nahi jana chahiye kyonki thoda seat mil sakta hamein nahi dikhta ki vaah billi close kare ya nahi kare andhere mein toh garam ekdam se chale jaenge toh utar iski ho sakta hai billi ki jaan ke liye aisi 2 3 aur bhi dil kisi ki hamein news raat ko nahi katne chahiye toh raat ko ka news katenge toh kisi ko chubh sakte hain agar vaah niche gir jaate hain sab kuch kuch kuch kuch kuch hogi hum dekhenge toh aapko pata chalega ki bharat mein bahut zyada galat tha pehle toh usme aisa dikhate ki raat hai jo hawa mein udte the ya ek teer kamaan se 1015 teer kamaan ban jaate the toh iske peeche ki side tak jaan nahi paya toh keh sakte toh andhra

देखने चलते ही कुछ अंधविश्वास चीजों के पीछे कुछ ना कुछ विज्ञान शुरू होता है जैसे कि बोलते ह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!