प्याज़ के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कितना असर होता है और किसानो को कितना मुनाफ़ा होता है?...


user

pervs

Tutor

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो एवरीवन प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कितना असर होता है और किसानों को कितना मुनाफा होता है तो कस्टमर मैं आपको बता दूं इसमें किसान का कोई मुनाफा नहीं होता है और दाम भरना मतलब यह है कि प्याज का प्रोडक्शन काम हो रहा है जब भी कोई भी किसी भी चीज का दाम बढ़ता है या उसकी कोई कमी हो जाती है तो और मार्केट में कमी होने के कारण उसका प्रोडक्ट का जो फेल है भूख कम हो जाती है और उसकी रेट प्रोडक्ट है वह ज्यादा हो जाता है तो उसमें किसान को तो कोई माफ होगा आम आदमी पर क्या असर पड़ता है जो गरीब लोग हैं वह तो थोड़ा सा जो क्या लेना बंद कर देते हैं कि प्याज और सब्जी में ना डालें और जो होटल से रेस्टोरेंट चल रहे हैं ढाबे चल रही हैं दो वहां पर थोड़ा सा और जो लोगों बाघों के लिए जो लिखने वाली जो खाना खाते हैं उनके लिए ज्यादा कॉस्टली पड़ जाता है तो ज्यादा महंगा हो जाता है जिससे छोटे लोगों को आम लोगों को ज्यादा परेशानी होती बजाय जो बड़े-बड़े रेस्टोरेंट में खाना खाने जाते हैं और मैं तो ज्यादा पैसे आए तो बड़े रेस्टोरेंट पर अगर 10 की जगह 20 सेटिंग तुम पर कोई फर्क पड़ेगा छोटे लोगों पर पड़ेगा जैसे कि जो छोटी-छोटी कपड़े कि नहीं खाना बना रहे हैं इसे वालों के लिए है या किसी स्कूल के लिए वहां पर ज्यादा परेशानी होती है और इसमें किसान को कोई मना को केवल उस लोग को होगा जो होलसेल में खरीदेगा और उसकी आज को सस्ते दाम पर ले कर के और और प्रोडक्ट प्रोडक्ट को प्याज को ओनियन को भेजेगा तो बेचने वाले को ज्यादा फायदा होगा बजाए किसान के तो इसी सवाल को वैसे ही सवाल पूछते रहे आपका धन्यवाद हो गूगल पर फॉलो करना ना भूलें और लाइक एंड कमेंट शेयर जरूर करें

hello everyone pyaaz ke daam badhne se aam aadmi par kitna asar hota hai aur kisano ko kitna munafa hota hai toh customer main aapko bata doon isme kisan ka koi munafa nahi hota hai aur daam bharna matlab yah hai ki pyaaz ka production kaam ho raha hai jab bhi koi bhi kisi bhi cheez ka daam badhta hai ya uski koi kami ho jaati hai toh aur market mein kami hone ke karan uska product ka jo fail hai bhukh kam ho jaati hai aur uski rate product hai vaah zyada ho jata hai toh usmein kisan ko toh koi maaf hoga aam aadmi par kya asar padta hai jo garib log hain vaah toh thoda sa jo kya lena band kar dete hain ki pyaaz aur sabzi mein na Daalein aur jo hotel se restaurant chal rahe hain dhabe chal rahi hain do wahan par thoda sa aur jo logon badhon ke liye jo likhne waali jo khana khate hain unke liye zyada costly pad jata hai toh zyada mehnga ho jata hai jisse chhote logon ko aam logon ko zyada pareshani hoti bajay jo bade bade restaurant mein khana khane jaate hain aur main toh zyada paise aaye toh bade restaurant par agar 10 ki jagah 20 setting tum par koi fark padega chhote logon par padega jaise ki jo choti choti kapde ki nahi khana bana rahe hain ise walon ke liye hai ya kisi school ke liye wahan par zyada pareshani hoti hai aur isme kisan ko koi mana ko keval us log ko hoga jo wholesale mein kharidega aur uski aaj ko saste daam par le kar ke aur aur product product ko pyaaz ko oniyan ko bhejega toh bechne waale ko zyada fayda hoga bajaye kisan ke toh isi sawaal ko waise hi sawaal poochhte rahe aapka dhanyavad ho google par follow karna na bhoolein aur like and comment share zaroor karen

हेलो एवरीवन प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कितना असर होता है और किसानों को कितना मुनाफा

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  537
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्याज के भाव बढ़ने से इसका असर खरीदारों पर तो पड़ेगा लेकिन किसानों को इससे कोई मुनाफा होगा ऐसा नहीं कहा जा सकता है क्योंकि अभी जो प्यार आ रहा है वह आयातित प्याज है और कुछ बफर स्टॉक में से जो थोड़ा बहुत बचा हुआ है जो कि 1 दिन का भी प्यास नहीं है वह प्याज बचा हुआ है जिसे कि भारत सरकार बांट रही है और उसके लिए कीमत बढ़ाकर इसलिए रखा गया है क्योंकि कम लोग उसका उपयोग करें तो अभी इसी में बेहतरी है कि आप ज्यादा प्यास नहीं खाएं और उसे कम ही प्रयोग में लाएं प्याज के बिना भी सब्जी बनती है और इससे किसानों का किसी प्रकार का फायदा नहीं होने जा रहा है इसलिए इसे आप यह नहीं सोचते कि इससे किसानों को फायदा होगा धन्यवाद

pyaaz ke bhav badhne se iska asar kharidaron par toh padega lekin kisano ko isse koi munafa hoga aisa nahi kaha ja sakta hai kyonki abhi jo pyar aa raha hai vaah ayatit pyaaz hai aur kuch before stock mein se jo thoda bahut bacha hua hai jo ki 1 din ka bhi pyaas nahi hai vaah pyaaz bacha hua hai jise ki bharat sarkar baant rahi hai aur uske liye kimat badhakar isliye rakha gaya hai kyonki kam log uska upyog karen toh abhi isi mein behatari hai ki aap zyada pyaas nahi khayen aur use kam hi prayog mein layen pyaaz ke bina bhi sabzi banti hai aur isse kisano ka kisi prakar ka fayda nahi hone ja raha hai isliye ise aap yah nahi sochte ki isse kisano ko fayda hoga dhanyavad

प्याज के भाव बढ़ने से इसका असर खरीदारों पर तो पड़ेगा लेकिन किसानों को इससे कोई मुनाफा होगा

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  738
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कितना असर होता है और किसानों को कितना मुनाफा होता है इसी प्याज के दाम जो बरसे किसान को कोई फायदा विशेष नहीं हो रहा शाम को तो 19 से ₹20 किलो तक का ही धान मिल रहा है और जो जुलाई में पैदा होता है और ट्रांसपोर्टेशन कुल मिलाकर उनको बाजार में 40 से ₹50 में प्याज मिक्सिंग बाबू होना चाहिए लेकिन बाजार में 80 से ₹100 तक का त्याग दिख रहा है इतिहास के बढ़ते दाम जो है वह बिचौलियों की वजह से ऐसा टीवी न्यूज़ चैनलों में कल के स्थान समाचार में दिखाया था कि प्याज के दाम 50 से 60 तक के अंदर होना चाहिए लेकिन प्याज के दाम 80 से 100 तक अब जयपुर में ₹80 और दिल्ली में भी 80 से 90 तक ने व्यापारियों का यह कहना है कि जो प्याज थोक में आता है तो उसमें से कुछ प्रतिशत सड़े हुए निकलते हैं से प्याज की कीमत में बढ़ोतरी हो जाती लेकिन एक कटे बस हो जाता है ऐसा कोई भी मानने के लिए तैयार नहीं होगा और गणित के बजट में भी घर के बजट में काफी फर्क पड़ सकता है प्याज की कचौड़ी खाने में करने के लिए सामान्य वर्ग मध्यमवर्ग कर सकता है इसके अलावा होटलों में भी रेडी रेकनर बनाने के लिए बहुत बड़े पैमाने पर प्याज की खपत होती है होटल में तो प्याज की रवि बनाने में चेक करते हैं टोटल वाले तो अपने भाव बढ़ा कर और उसे कुछ कर सकते हैं लेकिन आम जनता पर इसका पूरा जरूर मुनाफा की बात आई है तो बनाता किसानों को नहीं होता होलसेल मार्केट किधर है उनको मनासा किसान को मुनाफा नहीं होता विनोथा बिजोलिया का जाते हैं जितनी मेहनत किसान करता है और जो फसल पैदा करता है ताकि उसको उसका बहुत तमन्ना चाहिए वह भी नहीं मिलता है चाहे कोई भी फसल उसने एक प्याज भी आ गया क्योंकि लंबे समय तक स्टोरी नहीं किया जा सकता क्योंकि हमारे यहां स्टोरेज की सुविधा भी इतनी अच्छी नहीं बांग्लादेश प्याज जो क्या पता है एक्सपोर्ट किया जाता था उसे भी सरकार ने रोक लगा दी ताकि प्याज के भाव को कम किया जा सके पाकिस्तान रुपया जाता था पाकिस्तान से प्यार आता दिखा पूरी सब बंद है ट्रांसपोर्टेशन के जो भी होता है उसमें लेकिन इतना कीमत किसी के भी गले नहीं उतरता और किसानों को इसका कोई फायदा नहीं अगर हमारे किसानों को इसका फायदा हो तो ज्यादा अच्छा है इसलिए जो मार्केटिंग की जो पी ली है प्याज की उसे सरकार को कंट्रोल करने की जरूरत है वरना प्राइस कई सरकारों को इसलिए जितनी जल्दी प्रकार जाकर घी और प्याज की कीमतों में बनाते हो चालू करके और मुनाफाखोरी जो हो रही है

pyaaz ke daam badhne se aam aadmi par kitna asar hota hai aur kisano ko kitna munafa hota hai isi pyaaz ke daam jo barase kisan ko koi fayda vishesh nahi ho raha shaam ko toh 19 se Rs kilo tak ka hi dhaan mil raha hai aur jo july mein paida hota hai aur transportation kul milakar unko bazaar mein 40 se Rs mein pyaaz mixing babu hona chahiye lekin bazaar mein 80 se Rs tak ka tyag dikh raha hai itihas ke badhte daam jo hai vaah bichauliyon ki wajah se aisa TV news channelon mein kal ke sthan samachar mein dikhaya tha ki pyaaz ke daam 50 se 60 tak ke andar hona chahiye lekin pyaaz ke daam 80 se 100 tak ab jaipur mein Rs aur delhi mein bhi 80 se 90 tak ne vyapariyon ka yah kehna hai ki jo pyaaz thoka mein aata hai toh usmein se kuch pratishat sade hue nikalte hain se pyaaz ki kimat mein badhotari ho jaati lekin ek kate bus ho jata hai aisa koi bhi manane ke liye taiyar nahi hoga aur ganit ke budget mein bhi ghar ke budget mein kafi fark pad sakta hai pyaaz ki kachaudi khane mein karne ke liye samanya varg madhyamavarg kar sakta hai iske alava hotelon mein bhi ready rekanar banaane ke liye bahut bade paimane par pyaaz ki khapat hoti hai hotel mein toh pyaaz ki ravi banaane mein check karte hain total waale toh apne bhav badha kar aur use kuch kar sakte hain lekin aam janta par iska pura zaroor munafa ki baat I hai toh banata kisano ko nahi hota wholesale market kidhar hai unko manasa kisan ko munafa nahi hota vinotha bijoliya ka jaate hain jitni mehnat kisan karta hai aur jo fasal paida karta hai taki usko uska bahut tamanna chahiye vaah bhi nahi milta hai chahen koi bhi fasal usne ek pyaaz bhi aa gaya kyonki lambe samay tak story nahi kiya ja sakta kyonki hamare yahan storage ki suvidha bhi itni achi nahi bangladesh pyaaz jo kya pata hai export kiya jata tha use bhi sarkar ne rok laga di taki pyaaz ke bhav ko kam kiya ja sake pakistan rupya jata tha pakistan se pyar aata dikha puri sab band hai transportation ke jo bhi hota hai usmein lekin itna kimat kisi ke bhi gale nahi utarata aur kisano ko iska koi fayda nahi agar hamare kisano ko iska fayda ho toh zyada accha hai isliye jo marketing ki jo p li hai pyaaz ki use sarkar ko control karne ki zaroorat hai varana price kai sarkaro ko isliye jitni jaldi prakar jaakar ghee aur pyaaz ki kimton mein banate ho chaalu karke aur munafakhori jo ho rahi hai

प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कितना असर होता है और किसानों को कितना मुनाफा होता है इसी

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1163
WhatsApp_icon
user

Dr. Radha kant Singh

किसान

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप ने प्रश्न किया कि प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कितना असर होता है और किसान को कितना मुनाफा होता है देखे आम आदमी की अगर मैं बात करूं तो प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कोई विशेष फर्क ही नहीं पड़ता क्योंकि यह लग्जरी के फूल है आम आदमी अगर उसको नहीं खाएगा तो विशेष असर नहीं पड़ता है 5 लोग 5 किलो जो लोग खरीदते हैं वह लोग भी 1 किलो खरीदने लगते हैं जो 1 लोग खरीदते हैं वह ढाई सौ ग्राम खरीदने लगते हैं वह अपने बजट के हिसाब से उसे घटा बढ़ा देते हैं तो जो आमजन हैं उनके व्यक्तिगत आय पर इसका कोई विशेष फर्क नहीं पड़ता क्योंकि मैंने यह देखा है कि बहुत से घरों में प्याज नहीं खाया जाता है तो यह महंगाई बढ़ती है तो प्याज की बिक्री भी बहुत कम हो जाती है ना के बराबर होने लगती है आम जनता की नजर में इससे बहुत ज्यादा विशेष प्रभाव नहीं पड़ता लेकिन इसका जो विशेष प्रभाव है तो मध्यम वर्गीय परिवार पर पड़ता है जो उच्च श्रेणी में तो नहीं है लेकिन निम्न श्रेणी में रहना नहीं चाहता खर्ची उसकी उच्च श्रेणी के जीवन स्तर उसका निम्न श्रेणी का ऐसे व्यक्ति को मध्यम से घड़ी कैसे उसको इस बात का थोड़ा सा फर्क पड़ता है और रही बात किसानों की किताब लिखी जिसमें जो प्यार जो चल रहा है वह आया हुआ प्याज अफगानिस्तान से और इस पर किसानों को तो विशेष लाभ नहीं मिलेगा लेकिन हां अगर यह प्याज किसान कोई ऐसा किसान हो जिसके पास प्याज बचा हुआ हो तो उसे बेशक लाभ मिल सकता है और ऐसा नहीं है कि हंड्रेड परसेंट बाहर का क्या जा रहा है 20 परसेंट पच्चीस परसेंट हम किसानों का भी प्याज है इसमें तो उन 20 25 पर सेंट किसानों को 15 से 20 पर्सेंट का लाभ मिलना है

aap ne prashna kiya ki pyaaz ke daam badhne se aam aadmi par kitna asar hota hai aur kisan ko kitna munafa hota hai dekhe aam aadmi ki agar main baat karun toh pyaaz ke daam badhne se aam aadmi par koi vishesh fark hi nahi padta kyonki yah luxury ke fool hai aam aadmi agar usko nahi khaega toh vishesh asar nahi padta hai 5 log 5 kilo jo log kharidte hain vaah log bhi 1 kilo kharidne lagte hain jo 1 log kharidte hain vaah dhai sau gram kharidne lagte hain vaah apne budget ke hisab se use ghata badha dete hain toh jo aamjan hain unke vyaktigat aay par iska koi vishesh fark nahi padta kyonki maine yah dekha hai ki bahut se gharon mein pyaaz nahi khaya jata hai toh yah mahangai badhti hai toh pyaaz ki bikri bhi bahut kam ho jaati hai na ke barabar hone lagti hai aam janta ki nazar mein isse bahut zyada vishesh prabhav nahi padta lekin iska jo vishesh prabhav hai toh madhyam vargiya parivar par padta hai jo ucch shreni mein toh nahi hai lekin nimn shreni mein rehna nahi chahta kharchi uski ucch shreni ke jeevan sthar uska nimn shreni ka aise vyakti ko madhyam se ghadi kaise usko is baat ka thoda sa fark padta hai aur rahi baat kisano ki kitab likhi jisme jo pyar jo chal raha hai vaah aaya hua pyaaz afghanistan se aur is par kisano ko toh vishesh labh nahi milega lekin haan agar yah pyaaz kisan koi aisa kisan ho jiske paas pyaaz bacha hua ho toh use beshak labh mil sakta hai aur aisa nahi hai ki hundred percent bahar ka kya ja raha hai 20 percent pachchis percent hum kisano ka bhi pyaaz hai isme toh un 20 25 par sent kisano ko 15 se 20 percent ka labh milna hai

आप ने प्रश्न किया कि प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर कितना असर होता है और किसान को कितना

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  746
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्याज के दाम बढ़ने और किसानों को कितना मुनाफा होता है तो देखी प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी की जेब पर तो सब पड़ता है जो प्याज 15 से ₹20 किलो बाजार में आसानी से बताया कि उनके भाव 80 से ₹100 किलो तक चले जाते हैं तो असर पड़ता है क्योंकि प्यार जो है वह किसी भी प्रकार सब्जी उसने काम आता है तो वह आवश्यकता उसको रोजाना सही नहीं करती है तो जैसे इसके भाव बढ़ते हैं तो आम आदमी पर इसका जरूर असर होता है लेकिन इसमें कितना मुनाफा होता है किसानों के इसमें मेरे ख्याल से मुनाफे क्यों भेजती हैं यदि वह अपने खेतों से बाहर भेजने के लिए भेजते हैं तो उनको मिलता 10 से ₹15 से अधिक मिलती है होते के व्यापारी लोग होते जमाखोरी करते हैं मैं से क्या होता है उसके बाद तो को वापस बार लेते व्यापारियों क्यों निकाल दिया तो किसानों की स्थिति ज्यादा फायदा होता है लेकिन आम आदमी की जेब पर इसका विपरीत रो पड़ते हैं उनको सबसे ज्यादा ही फायदा नहीं होता है क्योंकि उनको तो आज निकालना पड़ता है तो भेज नहीं बाद में 10:00 ₹15 किलो बिकती हैं लेकिन आम आदमी को इसमें क्या उसका

pyaaz ke daam badhne aur kisano ko kitna munafa hota hai toh dekhi pyaaz ke daam badhne se aam aadmi ki jeb par toh sab padta hai jo pyaaz 15 se Rs kilo bazaar mein aasani se bataya ki unke bhav 80 se Rs kilo tak chale jaate hain toh asar padta hai kyonki pyar jo hai vaah kisi bhi prakar sabzi usne kaam aata hai toh vaah avashyakta usko rojana sahi nahi karti hai toh jaise iske bhav badhte hain toh aam aadmi par iska zaroor asar hota hai lekin isme kitna munafa hota hai kisano ke isme mere khayal se munafe kyon bhejti hain yadi vaah apne kheton se bahar bhejne ke liye bhejate hain toh unko milta 10 se Rs se adhik milti hai hote ke vyapaari log hote jamakhori karte hain main se kya hota hai uske baad toh ko wapas baar lete vyapariyon kyon nikaal diya toh kisano ki sthiti zyada fayda hota hai lekin aam aadmi ki jeb par iska viprit ro padate hain unko sabse zyada hi fayda nahi hota hai kyonki unko toh aaj nikalna padta hai toh bhej nahi baad mein 10 00 Rs kilo bikti hain lekin aam aadmi ko isme kya uska

प्याज के दाम बढ़ने और किसानों को कितना मुनाफा होता है तो देखी प्याज के दाम बढ़ने से आम आदम

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
user
1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्याज के दाम बढ़ने से ग्राहक को तो ऐसे भी लाभ डाउन में जब पैदा खर्च हो रहे हैं आमदनी हो रही दुकानें सब बंद पड़ी है और इसलिए अगर भाव बढ़ जाएंगे तो हम आदमी को नुकसान होगा और कई भाव कम भाव बेचेगा किसान तो उसका नुकसान होगा क्योंकि मुलाकात पहले लगा सकता किसान मजदूरी पानी छोड़ना ठंडा पानी खन्ना छेड़खानी और बहुत खर्च आता है किसान का नाता तोड़ कभी कम भाव में दिखा दो कि हालत खराब हो जाती है सामने भाव होना जरूरी है कम से कम ₹12 किलो तो किसान दे सकता है और ग्राहक 15 पर कि लोग खरीद सकता है पहले से ज्यादा बेचेंगे तो ग्राहकों पर लौट रहेगा और कम भावाचा का किसान संगठन जाएगा किसान

pyaaz ke daam badhne se grahak ko toh aise bhi labh down me jab paida kharch ho rahe hain aamdani ho rahi dukanein sab band padi hai aur isliye agar bhav badh jaenge toh hum aadmi ko nuksan hoga aur kai bhav kam bhav bechega kisan toh uska nuksan hoga kyonki mulakat pehle laga sakta kisan mazdoori paani chhodna thanda paani khanna chedkhani aur bahut kharch aata hai kisan ka nataa tod kabhi kam bhav me dikha do ki halat kharab ho jaati hai saamne bhav hona zaroori hai kam se kam Rs kilo toh kisan de sakta hai aur grahak 15 par ki log kharid sakta hai pehle se zyada bechenge toh grahakon par lot rahega aur kam bhavacha ka kisan sangathan jaega kisan

प्याज के दाम बढ़ने से ग्राहक को तो ऐसे भी लाभ डाउन में जब पैदा खर्च हो रहे हैं आमदनी हो रह

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user
0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए प्याज के दाम बढ़ने पर एक आम आदमी को तो परेशानी होती है आप ही समझो कुछ कीजिए पर तो बाहर पड़ेगा ही को तो महंगाई का सामना करना पड़ेगा लेकिन किसानों को इसका फायदा होता है कि नहीं होता शायद मैं कहूंगा नहीं होता ज्यादा क्योंकि यह ज्यादा फायदा होता है जमाखोरों को वह क्या करते हैं कि प्याज को एकता कर लेते हैं उनको लगता है कि सीजन में आकर यहां से आकर इसको ऐसा करेंगे तो करेंगे फिर भेजेंगे तो भाव निकलेगा तो किसानों को ज्यादा फायदा ना हो करिए स्टोर खोलो ज्यादा फायदा

dekhiye pyaaz ke daam badhne par ek aam aadmi ko toh pareshani hoti hai aap hi samjho kuch kijiye par toh bahar padega hi ko toh mahangai ka samana karna padega lekin kisano ko iska fayda hota hai ki nahi hota shayad main kahunga nahi hota zyada kyonki yah zyada fayda hota hai jamakhoron ko vaah kya karte hain ki pyaaz ko ekta kar lete hain unko lagta hai ki season mein aakar yahan se aakar isko aisa karenge toh karenge phir bhejenge toh bhav niklega toh kisano ko zyada fayda na ho kariye store kholo zyada fayda

देखिए प्याज के दाम बढ़ने पर एक आम आदमी को तो परेशानी होती है आप ही समझो कुछ कीजिए पर तो बा

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वह कल मैं आपका आज का सवाल है कि प्याज का दाम नहीं बढ़े तो इससे आम आदमी को कितना फायदा होगा या कितना असर हुआ या किसानों को कितना मुनाफा होगा देखिए अगर प्याज का भाव में यदि वृद्धि होती है तो इससे कुछ लोग ऐसे होते हैं जो ज्यादातर किसान है जो वह ब्याज नहीं लगा पाते हैं या मानो तो आम आदमी भी इसकी शिकंजे में आते हैं एवं कुछ किसान भी प्यास ना कर नहीं करते हैं इसलिए इससे प्यास से आम आदमी के लिए तो इससे असर होगा इसके साथ ही प्याज का भाव में वृद्धि होने से किसानों पर भी इसका असर होता है क्योंकि कुछ लोग गांव में रहते हुए भी प्याज नहीं बोलते हैं ऐसा थी किसान सभी लोग हैं तो सभी लोग के आ जाएंगे कुछ लोग क्या बोलते हैं और कुछ ख्वाब कुछ लोग प्यार नहीं होती हैं किसान का भाव प्याज का भाव इसलिए तो बढ़ता है क्योंकि यदि सभी लोग प्याज बोने लगे किसान सभी लोग प्याज के भाव में वृद्धि नहीं होगी धन्यवाद

vaah kal main aapka aaj ka sawaal hai ki pyaaz ka daam nahi badhe toh isse aam aadmi ko kitna fayda hoga ya kitna asar hua ya kisano ko kitna munafa hoga dekhiye agar pyaaz ka bhav mein yadi vriddhi hoti hai toh isse kuch log aise hote hain jo jyadatar kisan hai jo vaah byaj nahi laga paate hain ya maano toh aam aadmi bhi iski shikanje mein aate hain evam kuch kisan bhi pyaas na kar nahi karte hain isliye isse pyaas se aam aadmi ke liye toh isse asar hoga iske saath hi pyaaz ka bhav mein vriddhi hone se kisano par bhi iska asar hota hai kyonki kuch log gaon mein rehte hue bhi pyaaz nahi bolte hain aisa thi kisan sabhi log hain toh sabhi log ke aa jaenge kuch log kya bolte hain aur kuch khwaab kuch log pyar nahi hoti hain kisan ka bhav pyaaz ka bhav isliye toh badhta hai kyonki yadi sabhi log pyaaz bone lage kisan sabhi log pyaaz ke bhav mein vriddhi nahi hogi dhanyavad

वह कल मैं आपका आज का सवाल है कि प्याज का दाम नहीं बढ़े तो इससे आम आदमी को कितना फायदा होगा

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज का मेरा प्रश्न है कि प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी कितना असर पड़ सकता है और किसानों को कितना मुनाफा हो सकता है जैसा कि और भी लोगों ने आंसर दिया है वह अपनी जगह पर ठीक है उसमें थोड़ा संशोधन होना चाहिए क्योंकि संशोधन होने से किसानों को सलाम नहीं पड़ता है पर अगर किसान जिस समय प्याज के दाम बढ़ते हैं उसमें अपना प्रोडक्शन देगा तो उसको लाभ हो सकता है अर्थात की बारिश के मौसम में क्या आज हमारे तरीकों में नहीं हुआ है उसके द्वारा किसान उड़ाता है तो उसको भारी मुनाफा भारी मुनाफा जिस समय आपके पास स्टॉक नहीं है उस समय का नया प्रोडक्ट मार्केट में अवेलेबल करा कर हैं तो कहते हैं मौसमी खेती हमारा किसान लाभान्वित लोकल नेटवर्क से मिलेगी उसे ज्यादा उस समय का मूल्य में मिल पाएगी कोई मुनाफा सकता हमारी नोट्स में बारिश होती है जलभराव वे सफल नहीं हो पाती शिकारी रहता है मार्केट में टमाटर प्याज दोनों ही रहता है कमेंट में जरूर बताएं कि आपको मेरा जवाब कैसा लगा क्योंकि खरीफ के सीजन में जो प्याज है उसको लगाने का तरीका वह गांठ हीरो लगता है आपको फरवरी में चैटिंग करना है याद आने के बाद और बहुत कम टाइम में बहुत कम लागत में कोई भी पॉली हाउस हाउस हाउस बनाने की जरूरत भी नहीं

aaj ka mera prashna hai ki pyaaz ke daam badhne se aam aadmi kitna asar pad sakta hai aur kisano ko kitna munafa ho sakta hai jaisa ki aur bhi logo ne answer diya hai vaah apni jagah par theek hai usme thoda sanshodhan hona chahiye kyonki sanshodhan hone se kisano ko salaam nahi padta hai par agar kisan jis samay pyaaz ke daam badhte hain usme apna production dega toh usko labh ho sakta hai arthat ki barish ke mausam mein kya aaj hamare trikon mein nahi hua hai uske dwara kisan udata hai toh usko bhari munafa bhari munafa jis samay aapke paas stock nahi hai us samay ka naya product market mein available kara kar hain toh kehte hain mausamee kheti hamara kisan labhanvit local network se milegi use zyada us samay ka mulya mein mil payegi koi munafa sakta hamari notes mein barish hoti hai jalabhrao ve safal nahi ho pati shikaaree rehta hai market mein tamatar pyaaz dono hi rehta hai comment mein zaroor batayen ki aapko mera jawab kaisa laga kyonki kharif ke season mein jo pyaaz hai usko lagane ka tarika vaah ganth hero lagta hai aapko february mein chatting karna hai yaad aane ke baad aur bahut kam time mein bahut kam laagat mein koi bhi poly house house house banane ki zaroorat bhi nahi

आज का मेरा प्रश्न है कि प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी कितना असर पड़ सकता है और किसानों को

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  85
WhatsApp_icon
user

Abhishek

Farmer

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो बड़े किसान हैं उन्होंने कृपया की खेती की है तो इस बार उन्हें बहुत मुनाफा मिला है और यह तो खेती कितने क्षेत्रफल पर है और कितना बड़ा किसान है उसे बेचने का साधन तो इस पर निर्भर करता है यह कोई बिल्कुल व्यक्ति कितना मुनाफा होगा लेकिन क्षेत्रफल के अनुसार आप समझ सकते हैं कि जो प्याज का नाम है वह बहुत ही बड़ा था तो उसके अनुसार अंदाजा लगाया जा सकता है फायदा हुआ होगा

jo bade kisan hain unhone kripya ki kheti ki hai toh is baar unhe bahut munafa mila hai aur yah toh kheti kitne kshetrafal par hai aur kitna bada kisan hai use bechne ka sadhan toh is par nirbhar karta hai yah koi bilkul vyakti kitna munafa hoga lekin kshetrafal ke anusaar aap samajh sakte hain ki jo pyaaz ka naam hai vaah bahut hi bada tha toh uske anusaar andaja lagaya ja sakta hai fayda hua hoga

जो बड़े किसान हैं उन्होंने कृपया की खेती की है तो इस बार उन्हें बहुत मुनाफा मिला है और यह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर देखिए एवरी जी असर होता है क्योंकि आप जैसे कि अगर ताक पर मिलेगा तो आप उसको आधा किलो खरीदेंगे ₹30 मिलेगा तो 1 किलो खरीदेंगे आम आदमी पर असर होता है उससे कहीं ज्यादा घाटा किसानों को होता है भले ही ₹60 मार्केट में मिल रही हो प्यार लेकिन किसानों को भी ₹25 से ज्यादा प्याज के भाव नहीं मिलते हैं तो कितना रुपया दाम बढ़ गए किसानों की स्थिति बोल सकते हैं 10 परसेंट ही अच्छी होती है उसमें आम आदमी पर इतना ज्यादा असर नहीं पड़ता आम आदमी का बजट के हिसाब से अपना जिसका लेते हैं

pyaaz ke daam badhne se aam aadmi par dekhiye every ji asar hota hai kyonki aap jaise ki agar tak par milega toh aap usko aadha kilo khareedenge Rs milega toh 1 kilo khareedenge aam aadmi par asar hota hai usse kahin zyada ghata kisano ko hota hai bhale hi Rs market mein mil rahi ho pyar lekin kisano ko bhi Rs se zyada pyaaz ke bhav nahi milte hain toh kitna rupya daam badh gaye kisano ki sthiti bol sakte hain 10 percent hi achi hoti hai usmein aam aadmi par itna zyada asar nahi padta aam aadmi ka budget ke hisab se apna jiska lete hain

प्याज के दाम बढ़ने से आम आदमी पर देखिए एवरी जी असर होता है क्योंकि आप जैसे कि अगर ताक पर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!