अयोध्या पर नेहरू ने कहा था- हम गलत नजीर पेश कर रहे हैं. इसका सीधा असर पूरे भारत और खासकर कश्मीर पर पड़ेगा। क्या ये बात सच हो गयी है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नेहरू जी का झुकाव तो स्वाभाविक मुसलमानों की ओर था एक ऐसे विरुद्ध थे जिन्होंने कभी भी यदि उन्होंने अपनी महत्वाकांक्षा को त्याग दिया होता और स्वयं प्रधानमंत्री ने बंद करके सरदार बल्लभ भाई पटेल को प्रधानमंत्री बना दिया होता तो आज ही कश्मीर की समस्या ही भारत के समक्ष में युवती ने पाकिस्तान भारत से अलग हुआ था पाकिस्तान और भारत एक संयुक्त भारत होता और सरदार बल्लभ भाई पटेल का एकीकरण विक्रांत और एक अच्छे भारत की टीम डालते अच्छा भारत बनाते दुर्भाग्य का विषय है कि नेहरू जी समय में पीएम बने उनकी महत्वाकांक्षा कुछ ज्यादा नहीं और तुष्टिकरण की नीति को अपनाया जिसका परिणाम आज तक देश कश्मीर समस्या के रूप में बहुत रहा है यह तो भला हो नरेंद्र मोदी जी का नरेंद्र मोदी जी ने हमेशा को सॉल्व किया है धारा 370 हटा कर और पहनती भी हटा करके आज पूरे भारत को कश्मीर से जुड़ा है कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बना दिया है इसके लिए भारतीय उनका हमेशा हृदय से आभार मानते रहेंगे

nehru ji ka jhukaav toh swabhavik musalmanon ki aur tha ek aise viruddh the jinhone kabhi bhi yadi unhone apni mahatwakanksha ko tyag diya hota aur swayam pradhanmantri ne band karke sardar ballabh bhai patel ko pradhanmantri bana diya hota toh aaj hi kashmir ki samasya hi bharat ke samaksh mein yuvati ne pakistan bharat se alag hua tha pakistan aur bharat ek sanyukt bharat hota aur sardar ballabh bhai patel ka ekikaran vikrant aur ek acche bharat ki team daalte accha bharat banate durbhagya ka vishay hai ki nehru ji samay mein pm bane unki mahatwakanksha kuch zyada nahi aur Tustikaran ki niti ko apnaya jiska parinam aaj tak desh kashmir samasya ke roop mein bahut raha hai yah toh bhala ho narendra modi ji ka narendra modi ji ne hamesha ko solve kiya hai dhara 370 hata kar aur pahanti bhi hata karke aaj poore bharat ko kashmir se juda hai kashmir ko bharat ka abhinn ang bana diya hai iske liye bharatiya unka hamesha hriday se abhar maante rahenge

नेहरू जी का झुकाव तो स्वाभाविक मुसलमानों की ओर था एक ऐसे विरुद्ध थे जिन्होंने कभी भी यदि उ

Romanized Version
Likes  67  Dislikes    views  1298
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अयोध्या पर नेहरू ने कहा था गलत नजीर पेश कर रहे हैं इसका सीधा असर पूरे भारत और खासकर कहां पर पड़ेगा विक्की नेहरू जी की जो कश्मीर के बारे में जो वह कुछ अलग ही तरह के थी उसका काम है अभी तक 70 साल तक पूरा भारत देश में अब जाकर 370 के बाद इसलिए जैसे कश्मीर समस्या तो देखते थे वैसे ही उनके गलत तरीके का नजरिया था कि आज के समय में लोगों को महसूस हो रहा है कि अगर कश्मीर की समस्या और प्रज्ञा की समस्या नेहरू जी उसी से अगर हल कर लेते तो आज तक हमें यह सब समस्याओं से जूझने की नौबत ही नहीं आती लेकिन वह समस्या तो निकल नहीं कर पाई इसलिए नेहरू जी का इस बारे में इस तरह का करना सही नहीं लगता है आज के नजरों का काम होता है हम को पहचान हीरो कहते हैं और चाचा नेहरू अगर इसी तरह की समस्या छोड़ दे तो चाचा नेहरू ठीक है लेकिन उनको उसी समय यह समस्या का निदान करके जाना चाहिए था 1965 के बाद हालत कितनी खराब होती तो बासठ के युद्ध के साथ के संबंध के बारे में भी वही हिंदी चीनी भाई-भाई करके और चीन में जो हमारे स्वागत किया और उसी औकात में नेहरू जी को काफी जॉब सामना करना पड़ा और इस तरह से कश्मीर चीन और अयोध्या के मसले पर नेहरू जी के चरणों का सब लोग आदि खंडन करेंगे और नेहरू जी के सोच पर सवालिया निशान पैदा होते हैं

ayodhya par nehru ne kaha tha galat nazeer pesh kar rahe hain iska seedha asar poore bharat aur khaskar kahaan par padega vicky nehru ji ki jo kashmir ke bare mein jo vaah kuch alag hi tarah ke thi uska hai abhi tak 70 saal tak pura bharat desh mein ab jaakar 370 ke baad isliye jaise kashmir samasya toh dekhte the waise hi unke galat tarike ka najariya tha ki aaj ke samay mein logo ko mehsus ho raha hai ki agar kashmir ki samasya aur pragya ki samasya nehru ji usi se agar hal kar lete toh aaj tak hamein yah sab samasyaon se jujhne ki naubat hi nahi aati lekin vaah samasya toh nikal nahi kar payi isliye nehru ji ka is bare mein is tarah ka karna sahi nahi lagta hai aaj ke nazro ka kaam hota hai hum ko pehchaan hero kehte hain aur chacha nehru agar isi tarah ki samasya chod de toh chacha nehru theek hai lekin unko usi samay yah samasya ka nidan karke jana chahiye tha 1965 ke baad halat kitni kharab hoti toh basath ke yudh ke saath ke sambandh ke bare mein bhi wahi hindi chini bhai bhai karke aur china mein jo hamare swaagat kiya aur usi aukat mein nehru ji ko kaafi job samana karna pada aur is tarah se kashmir china aur ayodhya ke masle par nehru ji ke charno ka sab log aadi khandan karenge aur nehru ji ke soch par savaliya nishaan paida hote hain

अयोध्या पर नेहरू ने कहा था गलत नजीर पेश कर रहे हैं इसका सीधा असर पूरे भारत और खासकर कहां प

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  1086
WhatsApp_icon
user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नेहरू को संपूर्ण रूप से भूल जाना ही बेहतर होगा क्योंकि नेहरु के द्वारा जो कुछ भी किया गया है उसको याद कर कर के मन में बहुत गुस्सा क्रोध आता है जिससे हमारे देश को कुछ फायदा नहीं होने वाला है इसलिए नेहरू को पूर्ण रूप से भूल जाना बेहतर है और आज वर्तमान में जो समस्याएं हैं हम उनसे लड़ना चाहिए उनको दूर करने के लिए प्रयास करने चाहिए तन मन धन से यह देश हमारा है और यह देश सामान्य देश नहीं है यह ज्ञान की भूमि है इसलिए उस ज्ञान का सहारा लेकर हमें आगे बढ़ना है और जितने भी नेगेटिव लोग इसमें विशेष रूप से 2 लोगों का नाम याद आता है मुझे नेहरू-गांधी इनको भूलना ही बेहतर है

nehru ko sampurna roop se bhool jana hi behtar hoga kyonki nehru ke dwara jo kuch bhi kiya gaya hai usko yaad kar kar ke man mein bahut gussa krodh aata hai jisse hamare desh ko kuch fayda nahi hone vala hai isliye nehru ko purn roop se bhool jana behtar hai aur aaj vartaman mein jo samasyaen hain hum unse ladna chahiye unko dur karne ke liye prayas karne chahiye tan man dhan se yah desh hamara hai aur yah desh samanya desh nahi hai yah gyaan ki bhoomi hai isliye us gyaan ka sahara lekar hamein aage badhana hai aur jitne bhi Negative log isme vishesh roop se 2 logo ka naam yaad aata hai mujhe nehru gandhi inko bhoolna hi behtar hai

नेहरू को संपूर्ण रूप से भूल जाना ही बेहतर होगा क्योंकि नेहरु के द्वारा जो कुछ भी किया गया

Romanized Version
Likes  109  Dislikes    views  1561
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री राम दोस्तों आपका प्रश्न है अयोध्या पर नेहरू ने कहा था कि हम गलत नजीर पेश करते हैं जिसका देश और खासकर कश्मीर पर प्रभाव पड़ेगा क्या यह बात सच हो दोस्तों आपको पहले तो यह जानना चाहिए कि अयोध्या पर इस कांग्रेस और कांग्रेस के जितने भी ना मिले डर रहे हैं उनके विचार कैसे थे दोस्तों आपको पता होना चाहिए कि इस कांग्रेस में हालिया प्रेग्नेंट से पूर्व प्रेजिडेंट श्रीमती सोनिया गांधी जी जिन्होंने स्वयं श्री राम को एक काल्पनिक पात्र बताया था दोस्तों आप बताओ मुझे किसी को एक विदेशी बार बाला हमारी ईश्वर पर प्रश्नवाचक चिन्ह लगा सकती है दोस्तों राम एक काल्पनिक पात्र थे दोस्तों आपको पता होना चाहिए इस राष्ट्र का बच्चा-बच्चा और बच्चे से लेकर बुड्ढा राम के प्रत्येक किससे और कहानियों को जानता है दोस्तों आपको पता होना चाहिए कि मृत्यु के बाद भी इस राष्ट्र में एक नारा लगता है लोगों का शौक दूर करने के लिए संसार की सच्चाई बताने के लिए और वह नारा है राम नाम सत्य है और सत्य बोलने से गत है अर्थात श्री राम नाम स्वयं सत्य है और सत्य बोलने से गत होती है यह नारा हमारे पूर्वजों से लेकर आज तक चलाया है इस घोर कलयुग में भी आग नाराज सुनाई देता यह कोई छोटी बात नहीं है दोस्तों आज तक लोग श्रीराम के लिए संघर्ष करने कोई मूर्ख थोड़ी है आपको शायद पता नहीं और आप जानते नहीं होंगे परंतु विदुर नीति कहती है कि जिस मुद्दे में आवाज हो सकता ही हो उस मुद्दे के पक्ष में लोग हमेशा खड़ी होंगी यह विदुर नीति है अर्थात जिस बात की में सच्चाई होगी और लोग उसका पक्ष लेंगे वह आवाज स्वयं ईश्वर की आवाज होगी दोस्तों क्या राम मुद्दा आजादी के समय नहीं था क्या राम मुद्दा उससे पहले के समय नहीं था क्या उस दुष्ट भयंकर आता था यों ने जिस ने राम मंदिर को तोड़ने के लिए बार-बार संघर्ष की और श्री राम मंदिर को बनाने के लिए और वहां से तुर्कों का अधिपत्य हटाने के लिए क्या बार-बार भारत के युवाओं ने अपनी शीश का बलिदान दिया है दोस्तों जिया है क्यों क्योंकि उसमें कुछ सच्चाई है और दूसरी बात दोस्तों मैं तो यह करना चाहता कि जो लोग इस राष्ट्र के राष्ट्राध्यक्ष होकर श्रीराम के ऊपर प्रश्नवाचक चिन्ह उठाते हैं श्रीराम के बारे में अपनी एक व्यंग्यात्मक वाणी रखते हैं वह तो कुछ जानते ही नहीं देश के बारे में मैं कहता हूं जो बच्चा बच्चा राम के बारे में जो राजनीति के बारे में नहीं जानता जो भारत के प्रधानमंत्री के बारे में नहीं जानता वह बच्चा जिसके जिसने पूरा सुरा अपने परिवार के अलावा किसी को जाना नहीं है वह बच्चा भी राम को जानता है दोस्तों जो राष्ट्र के प्रधानमंत्री को नहीं जानता इस इस देश की स्थिति रही है और है आज तक क्यों क्योंकि श्रीराम में कुछ न कुछ सच्चाई है इस मामले में बहुत ज्यादा सच्चाई है और नेहरू जी इस प्रश्न के माध्यम जो आप प्रश्न 30 किया है उसमें क्या करना चाह रहे थे यह आपको पता है आपको शायद यह भी पता होगा कि राजीव गांधी एक बार जब जम्मू कश्मीर में गए थे एक रैली में तब उन्होंने राजीव गांधी को उनका मुस्लिम नेताओं ने यह कहा था कि राजीव जी जो की हिंदू है तब उन्होंने बात काटते हुए का नहीं नहीं मैं हिंदू नहीं हूं ऐसा उन्होंने कहा था और आज इसके लिए सोशल मीडिया पर भी बहुत सी बातें होती रहती है तो दोस्तों से पता चलता है कि उनका मंशा क्या थी उनके विचार क्या थे और आज भी इस पार्टी के विचार क्या है दोस्तों में तो यह कहना चाहता हूं जो लोग श्रीराम को काल्पनिक समझते हैं वह आज भी कल्पना में है और आने वाले समय में भी कल्पनाओं में रह जाएंगे परंतु राम शाश्वत थी सास्वत है और शासित रहेंगे जय श्री राम दोस्त

jai shri ram doston aapka prashna hai ayodhya par nehru ne kaha tha ki hum galat nazeer pesh karte hain jiska desh aur khaskar kashmir par prabhav padega kya yah baat sach ho doston aapko pehle toh yah janana chahiye ki ayodhya par is congress aur congress ke jitne bhi na mile dar rahe hain unke vichar kaise the doston aapko pata hona chahiye ki is congress mein haliya pregnant se purv president shrimati sonia gandhi ji jinhone swayam shri ram ko ek kalpnik patra bataya tha doston aap batao mujhe kisi ko ek videshi baar bala hamari ishwar par prashnvaachak chinh laga sakti hai doston ram ek kalpnik patra the doston aapko pata hona chahiye is rashtra ka baccha baccha aur bacche se lekar Buddha ram ke pratyek kisse aur kahaniya ko jaanta hai doston aapko pata hona chahiye ki mrityu ke baad bhi is rashtra mein ek naara lagta hai logo ka shauk dur karne ke liye sansar ki sacchai batane ke liye aur vaah naara hai ram naam satya hai aur satya bolne se gat hai arthat shri ram naam swayam satya hai aur satya bolne se gat hoti hai yah naara hamare purvajon se lekar aaj tak chalaya hai is ghor kalyug mein bhi aag naaraj sunayi deta yah koi choti baat nahi hai doston aaj tak log shriram ke liye sangharsh karne koi murkh thodi hai aapko shayad pata nahi aur aap jante nahi honge parantu vidur niti kehti hai ki jis mudde mein awaaz ho sakta hi ho us mudde ke paksh mein log hamesha khadi hongi yah vidur niti hai arthat jis baat ki mein sacchai hogi aur log uska paksh lenge vaah awaaz swayam ishwar ki awaaz hogi doston kya ram mudda azadi ke samay nahi tha kya ram mudda usse pehle ke samay nahi tha kya us dusht bhayankar aata tha yo ne jis ne ram mandir ko todne ke liye baar baar sangharsh ki aur shri ram mandir ko banane ke liye aur wahan se turkon ka adhipatya hatane ke liye kya baar baar bharat ke yuvaon ne apni sheesh ka balidaan diya hai doston jiya hai kyon kyonki usme kuch sacchai hai aur dusri baat doston main toh yah karna chahta ki jo log is rashtra ke rashtradhyaksh hokar shriram ke upar prashnvaachak chinh uthate hain shriram ke bare mein apni ek vyangyatmak vani rakhte hain vaah toh kuch jante hi nahi desh ke bare mein main kahata hoon jo baccha baccha ram ke bare mein jo raajneeti ke bare mein nahi jaanta jo bharat ke pradhanmantri ke bare mein nahi jaanta vaah baccha jiske jisne pura sura apne parivar ke alava kisi ko jana nahi hai vaah baccha bhi ram ko jaanta hai doston jo rashtra ke pradhanmantri ko nahi jaanta is is desh ki sthiti rahi hai aur hai aaj tak kyon kyonki shriram mein kuch na kuch sacchai hai is mamle mein bahut zyada sacchai hai aur nehru ji is prashna ke madhyam jo aap prashna 30 kiya hai usme kya karna chah rahe the yah aapko pata hai aapko shayad yah bhi pata hoga ki rajeev gandhi ek baar jab jammu kashmir mein gaye the ek rally mein tab unhone rajeev gandhi ko unka muslim netaon ne yah kaha tha ki rajeev ji jo ki hindu hai tab unhone baat katatey hue ka nahi nahi main hindu nahi hoon aisa unhone kaha tha aur aaj iske liye social media par bhi bahut si batein hoti rehti hai toh doston se pata chalta hai ki unka mansha kya thi unke vichar kya the aur aaj bhi is party ke vichar kya hai doston mein toh yah kehna chahta hoon jo log shriram ko kalpnik samajhte hain vaah aaj bhi kalpana mein hai aur aane waale samay mein bhi kalpanaaon mein reh jaenge parantu ram shashvat thi saswat hai aur shasit rahenge jai shri ram dost

जय श्री राम दोस्तों आपका प्रश्न है अयोध्या पर नेहरू ने कहा था कि हम गलत नजीर पेश करते हैं

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  324
WhatsApp_icon
user

Ajay Pratap Singh

Agriculturist

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश का बंटवारा ही धर्म के आधार पर हुआ था और 370 35a लगाना सबसे ज्यादा दिन हमारी जीत ली थी जीती जा रही थी उन्होंने नेहरू जी के तौर पर पड़ेगा दूसरों पर असर पड़े तो क्या हम अपने हितों को त्याग दें हमारी कोई वजूद नहीं सब कुछ न्यौछावर करके चले गए अध्याय काशी और मथुरा की है सोमनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार पंडित और सारी उन्होंने लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल ने कराया कराया

desh ka batwara hi dharm ke aadhaar par hua tha aur 370 35a lagana sabse zyada din hamari jeet li thi jeeti ja rahi thi unhone nehru ji ke taur par padega dusro par asar pade toh kya hum apne hiton ko tyag de hamari koi wajood nahi sab kuch nyauchavar karke chale gaye adhyay kashi aur mathura ki hai somnath mandir ka jirnoddhar pandit aur saree unhone loha purush sardar vallabhbhai patel ne karaya karaya

देश का बंटवारा ही धर्म के आधार पर हुआ था और 370 35a लगाना सबसे ज्यादा दिन हमारी जीत ली थी

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  130
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!