अपनी लिखाई में सुधार कैसे लाया जा सकता है?...


user

डाॅ. देवेन्द्र जोशी उज्जैन म प्र

पत्रकार, साहित्यकार शिक्षाविद

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी लिखावट में सुधार करने के लिए आपको लेखन का अधिक से अधिक अभ्यास करना चाहिए पहले चार लाइन की कॉपी आती थी उसमें लिख लिख कर आप अपने लिखावट को सुधार सकते हैं अभी भी आपने छोटी कक्षाओं में कर्फ्यू लाइन देखी होगी जो हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं के बच्चों को दी जाती है कई कक्षाओं के विद्यार्थियों को गर्मी की छुट्टियों में कर्फ्यू लाइन की कॉपियां भरने के लिए अभ्यास कराया जाता है इस सप्ताह उद्देश्य होता है कि लिखावट में सुधार आए अगर आपको जीवन में यह अवसर नहीं मिला है और आप अपनी लिखावट से संतुष्ट नहीं है तो अभी भी आपको चार लाइन की कॉपी पर अपनी कलम से लिख लिख कर और कर्फ्यू लाइन की कॉपियां भर भर अपनी लिखावट को सुधार सकते हैं इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है प्रैक्टिस करने से ही व्यक्ति में पूर्णता आती है आप बार-बार लिखावट कीजिए आपकी लिखावट सुधर जाएगी एक समय ऐसा आएगा कि आपके अक्षर भी मोतियों की भांति सुंदर नजर आने लगेंगे

apni likhavat me sudhaar karne ke liye aapko lekhan ka adhik se adhik abhyas karna chahiye pehle char line ki copy aati thi usme likh likh kar aap apne likhavat ko sudhaar sakte hain abhi bhi aapne choti kakshaon me curfew line dekhi hogi jo hindi aur angrezi dono bhashaon ke baccho ko di jaati hai kai kakshaon ke vidyarthiyon ko garmi ki chhuttiyon me curfew line ki copiyan bharne ke liye abhyas karaya jata hai is saptah uddeshya hota hai ki likhavat me sudhaar aaye agar aapko jeevan me yah avsar nahi mila hai aur aap apni likhavat se santusht nahi hai toh abhi bhi aapko char line ki copy par apni kalam se likh likh kar aur curfew line ki copiyan bhar bhar apni likhavat ko sudhaar sakte hain iske alava koi doosra rasta nahi hai practice karne se hi vyakti me purnata aati hai aap baar baar likhavat kijiye aapki likhavat sudhar jayegi ek samay aisa aayega ki aapke akshar bhi motiyon ki bhanti sundar nazar aane lagenge

अपनी लिखावट में सुधार करने के लिए आपको लेखन का अधिक से अधिक अभ्यास करना चाहिए पहले चार लाइ

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  151
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!