आपको कैसे पता है कि भगवान है?...


user

Manoj Kumar

पासटर

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिसे हम देखना नहीं जिसे हम जानना नहीं हम उसको नहीं मान सकते लेकिन जब हम से जगत को देखते ही अद्भुत चीजें देखते हैं कि जिसे इंसान करो बनाना मुश्किल है तो हम आचार्य चकित होते हैं लेकिन अगर आप चर्चों में जाकर देखें तो वहां पर लोगों के अंदर से शैतान निकलता लोगों की बीमारियां और रोग जंगी होते हैं और लंगड़े चलने लगते तो यही साबित करता है कि को कोई अदृश्य शक्ति है जिसे हम परमेश्वर कहते हैं कि जो अपने कामों से प्रगट होता है वह मेरे सामने नहीं आता लेकिन उसके काम हमारे सामने प्रगट होते हैं जिससे हम विश्वास करते हैं कि वह और अपने ढूंढने वालों को प्रति फल देता है परमेश्वर है वह अपने ढूंढने वालों को प्रतिफल देता है

jise hum dekhna nahi jise hum janana nahi hum usko nahi maan sakte lekin jab hum se jagat ko dekhte hi adbhut cheezen dekhte hain ki jise insaan karo banana mushkil hai toh hum aacharya chakit hote hain lekin agar aap charchon me jaakar dekhen toh wahan par logo ke andar se shaitaan nikalta logo ki bimariyan aur rog jangi hote hain aur langade chalne lagte toh yahi saabit karta hai ki ko koi adrishya shakti hai jise hum parmeshwar kehte hain ki jo apne kaamo se pragat hota hai vaah mere saamne nahi aata lekin uske kaam hamare saamne pragat hote hain jisse hum vishwas karte hain ki vaah aur apne dhundhne walon ko prati fal deta hai parmeshwar hai vaah apne dhundhne walon ko pratiphal deta hai

जिसे हम देखना नहीं जिसे हम जानना नहीं हम उसको नहीं मान सकते लेकिन जब हम से जगत को देखते ही

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  76
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rasbihari Pandey

लेखन / कविता पाठ

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको कैसे पता कि भगवान हैं यह एक क्लॉथ बहुत हैं गलत सवाल है क्योंकि अगर बच्चा यह पूछे कि मैं यह कैसे मान लूं कि यह मेरी मां है या यह मेरे पिताजी हैं या यह मेरे दादाजी हैं परंपरा से हमें जो ज्ञान मिलता है हम उसी को सच मानते हैं प्राचीन काल से ऋषि मुनियों ने साहित्य को ने जो ग्रंथ लिखे हैं उसके अनुसार हम देवों को मानते हैं कि तैंतीस कोटि देवता इस भूमंडल पर हैं और

aapko kaise pata ki bhagwan hain yah ek cloth bahut hain galat sawaal hai kyonki agar baccha yah pooche ki main yah kaise maan loon ki yah meri maa hai ya yah mere pitaji hain ya yah mere dadaji hain parampara se hamein jo gyaan milta hai hum usi ko sach maante hain prachin kaal se rishi muniyon ne sahitya ko ne jo granth likhe hain uske anusaar hum Devon ko maante hain ki taintis koti devta is bhumandal par hain aur

आपको कैसे पता कि भगवान हैं यह एक क्लॉथ बहुत हैं गलत सवाल है क्योंकि अगर बच्चा यह पूछे कि म

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  296
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समस्त सृष्टि का रचना चुनरी है भगवान कौन थे

samast shrishti ka rachna chunari hai bhagwan kaun the

समस्त सृष्टि का रचना चुनरी है भगवान कौन थे

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  1286
WhatsApp_icon
user
0:31
Play

Likes  62  Dislikes    views  1358
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!