भारत और अमेरिका की रिलेशनशिप से चीन को फ़ायदा हुआ या नुकसान?...


play
user

Rahul Bharat

राजनैतिक विश्लेषक

1:60

Likes  2  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजा तक मुझे पता है भारत और अमेरिका के जो रिलेशनशिप अगर अच्छे होते हैं और आगे चलकर जितनी भी अच्छे हो पाएंगे राजनीतिक रिलेशनशिप में कौन भी रिलेशनशिप तो उससे और चीन को बहुत ही नुकसान झेलना पड़ेगा और क्योंकि अमेरिका एक बहुत बड़ी कमी है देश की और बहुत ही पावरफुल नेशन है तो अगर किसी भी यह देश के अमेरिका के साथ संबंध होते रिलेशनशिप रहता है तो वह भी है देश काफी सिक्योर और पावरफुल फील करता है और हमें अमेरिका हमेशा उसको सपोर्ट करने के लिए तैयार रहता है और जहां कि हम सभी जानते हैं कि डोकलाम के बाद चाइना और हमारे देश के बीच में थोड़ी का अनबन चल रही है और काफी बार ऐसी कोशिश भी की गई है चना द्वार चाइना द्वारा किए हमारे देश पर लड़ाई करने की और चीजों की तो इसी वजह से अगर हमारे रिलेशनशिप अमेरिका के साथ अच्छे रहते हैं तो कहीं ना कभी कहीं ना कहीं हम एक दाग सपोर्ट मिलता रहेगा अगर चाइना आगे कुछ भी करने की सोचता है और इसी की वजह से चाइना को बहुत ज्यादा नुकसान होगा क्योंकि वह अपने जो भी मंदसौर

aajad tak mujhe pata hai bharat aur america ke jo Relationship agar acche hote hain aur aage chalkar jitni bhi acche ho payenge raajnitik Relationship mein kaun bhi Relationship toh usse aur china ko bahut hi nuksan jhelna padega aur kyonki america ek bahut badi kami hai desh ki aur bahut hi powerful nation hai toh agar kisi bhi yah desh ke america ke saath sambandh hote Relationship rehta hai toh vaah bhi hai desh kaafi secure aur powerful feel karta hai aur hamein america hamesha usko support karne ke liye taiyar rehta hai aur jaha ki hum sabhi jante hain ki Doklam ke baad china aur hamare desh ke beech mein thodi ka anban chal rahi hai aur kaafi baar aisi koshish bhi ki gayi hai chana dwar china dwara kiye hamare desh par ladai karne ki aur chijon ki toh isi wajah se agar hamare Relationship america ke saath acche rehte hain toh kahin na kabhi kahin na kahin hum ek daag support milta rahega agar china aage kuch bhi karne ki sochta hai aur isi ki wajah se china ko bahut zyada nuksan hoga kyonki vaah apne jo bhi mandsaur

आजा तक मुझे पता है भारत और अमेरिका के जो रिलेशनशिप अगर अच्छे होते हैं और आगे चलकर जितनी भी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  43
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!