इतिहास में क्या महत्व है?...


user

Amit Kumar

Career counselor

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महुआ का इतिहास महत्त्व तथा गतिशील बने रहने के लिए इतिहास का अध्ययन इतिहास में हमें मानव प्रकृति के विभिन्न आयामों एवं पक्षों से अवगत कराता है इसमें इसके अध्ययन से हम इस सभ्यता के क्रमिक विकास का ज्ञान होता है वर्तमान समाज को समझने के लिए आवश्यक है कि इस विकास के उन विभिन्न स्थानों को जान सकें जिसमें जिनमें से गुजरकर यह समाज वर्तमान स्थिति में आया है जिस प्रकार चलचित्र में भूतकाल की घटना का संपूर्ण चित्र हमारी आंखों के सामने आ जाते हैं उसी प्रकार इतिहास किसी तत्कालीन समाज के आचार विचार धार्मिक जीवन आर्थिक जीवन सांस्कृतिक जीवन राजनीतिक व्यवस्था शासन पद्धति आदि सभी जाता विवादों का एक सुंदर चित्र हमारे पद्धति चित्र अंतर्दृष्टि के सामने अस्पष्ट रख देता है इतिहास के अध्ययन द्वारा ही किसी राष्ट्र के उत्थान के साथ-साथ उसके पतन की परिस्थितियों का ज्ञान होता है प्राप्त होता है एडमंड वर्क का कथन है कि इतिहास उदाहरणों के साथ साथ तत्वज्ञान का शिक्षण है उन्नति अनुभव पर निर्भर करती है तथा उन्नति के लिए हमें उसके तत्वों का ज्ञान आवश्यक उनकी तत्वों का ज्ञान उनके पूर्व परिणामों पर निर्भर करता है और उनके जानने का एकमात्र साधन इतिहास ही है वर्तमान युग की परिस्थिति को समझने तथा सुधारने के लिए यह आवश्यक है कि हम उसकी आजादी के प्राचीन इतिहास से परिचित हो तथा उसके उत्थान एवं पतन के कारणों का परिस्थिति से अवगत हो इतिहास विभिन्न परिस्थितियों में मानक के कार्यों की झांकी है इस हार के द्वारा विभिन्न विभिन्न चित्रों के चरित्रों से परिचय का अवश्य मिलता है उनके अभी प्रेरकों के विश्लेषण के लिए पर्याप्त सामग्री मिलता है तथा चरित्र मैं संयम की भावना का विकास होता है ताकि हम इतिहास के सुंदर चरित्रों को इशारा इशारा न कर सके उन से शिक्षा ले सके तथा बुरे बुरे चरित्रों से दूसरी दूरी स्थापित कर सकें जीवन के संपादन के लिए दोनों प्रकार के चरित्र का ज्ञान आवश्यक है आलू भाव का क्षेत्र माना जाता है राजस्थान के विभिन्न स्थलों के उत्खनन से प्राप्त हुए अवशेषों के इस धारणा को और अधिक पोस्ट कर दिया किया है मध्यकालीन राजस्थान का भी भारतीय इतिहास में सर्वोपरि स्थान है क्योंकि इस काल में राजस्थान के ने इतिहास निर्माण के साथ-साथ भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति को सुरक्षित रखने के लिए बड़ा बलिदान

mahua ka itihas mahatva tatha gatisheel bane rehne ke liye itihas ka adhyayan itihas me hamein manav prakriti ke vibhinn aayamon evam pakshon se avgat karata hai isme iske adhyayan se hum is sabhyata ke kramik vikas ka gyaan hota hai vartaman samaj ko samjhne ke liye aavashyak hai ki is vikas ke un vibhinn sthano ko jaan sake jisme jinmein se gujarakar yah samaj vartaman sthiti me aaya hai jis prakar chalchitra me bhootkaal ki ghatna ka sampurna chitra hamari aakhon ke saamne aa jaate hain usi prakar itihas kisi tatkalin samaj ke aachar vichar dharmik jeevan aarthik jeevan sanskritik jeevan raajnitik vyavastha shasan paddhatee aadi sabhi jata vivadon ka ek sundar chitra hamare paddhatee chitra antardrishti ke saamne aspast rakh deta hai itihas ke adhyayan dwara hi kisi rashtra ke utthan ke saath saath uske patan ki paristhitiyon ka gyaan hota hai prapt hota hai edmund work ka kathan hai ki itihas udaharanon ke saath saath tatwagyan ka shikshan hai unnati anubhav par nirbhar karti hai tatha unnati ke liye hamein uske tatvon ka gyaan aavashyak unki tatvon ka gyaan unke purv parinamon par nirbhar karta hai aur unke jaanne ka ekmatra sadhan itihas hi hai vartaman yug ki paristhiti ko samjhne tatha sudhaarne ke liye yah aavashyak hai ki hum uski azadi ke prachin itihas se parichit ho tatha uske utthan evam patan ke karanon ka paristhiti se avgat ho itihas vibhinn paristhitiyon me maanak ke karyo ki jhanki hai is haar ke dwara vibhinn vibhinn chitron ke charitron se parichay ka avashya milta hai unke abhi prerakon ke vishleshan ke liye paryapt samagri milta hai tatha charitra main sanyam ki bhavna ka vikas hota hai taki hum itihas ke sundar charitron ko ishara ishara na kar sake un se shiksha le sake tatha bure bure charitron se dusri doori sthapit kar sake jeevan ke sampadan ke liye dono prakar ke charitra ka gyaan aavashyak hai aalu bhav ka kshetra mana jata hai rajasthan ke vibhinn sthalon ke utkhanan se prapt hue avshesho ke is dharana ko aur adhik post kar diya kiya hai madhyakalin rajasthan ka bhi bharatiya itihas me sarvopari sthan hai kyonki is kaal me rajasthan ke ne itihas nirmaan ke saath saath bharatiya sabhyata evam sanskriti ko surakshit rakhne ke liye bada balidaan

महुआ का इतिहास महत्त्व तथा गतिशील बने रहने के लिए इतिहास का अध्ययन इतिहास में हमें मानव प्

Romanized Version
Likes  130  Dislikes    views  1327
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!