दिल्ली में प्रदूषण क्यों बढ़ रहा है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली में प्रदूषण बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण बढ़ रहा है दिल्लीवासी लालच स्वार्थ की साक्षात मूर्ति हैं तब तक दिल्लीवासी स्वयं उठकर खुद खड़े होंगे प्रदूषण मुक्त करने के लिए तब तक दिल्ली से प्रदूषण इतना मुश्किल है आप सोचें कि दिल्ली की सरकार प्रक्रिया प्रदूषण हटा सके दिल की सरकार आप लोगों ने चुनी है ऐसी है जो खुदगर्ज स्वार्थी लालची सरकार है उसका जो लीडर है मैं वहीं खुद तुष्टिकरण की नीति के पोषण करने वाले वोटों की राजनीति करने वाले लालची नेता है इसलिए दिल्ली का प्रदूषण जनता ही स्वयं सजग हो जाएगी तभी हट सकता है क्योंकि बिना जनता के शिक्षित हुए समझदार हुए खुद एक हुए यह प्रदूषण घटना मुश्किल है सरकारों के बल से या प्रतिबंधों के बल से कभी प्रमोशन नहीं कटा करते हैं क्योंकि जनता खुश एवं स्वच्छ ना चाहिए जनता ने पहली गलती तो उस समय की दिल्ली की जनता ने तो लोग इनके दिए हुए टुकड़ों लालच में आप और आप ने दिल्ली में ऐसी सरकार को कैद जिम्मेदार सरकार को चंदू स्वार्थी खुदगर्ज वशीकरण के नीचे करने वाली एक तरफा विचार रखने वाली सरकार को चुना है उसके दुष्परिणाम भी दिल्लीवासियों को भोगनी

delhi me pradushan badhti hui jansankhya ke karan badh raha hai dillivasi lalach swarth ki sakshat murti hain tab tak dillivasi swayam uthakar khud khade honge pradushan mukt karne ke liye tab tak delhi se pradushan itna mushkil hai aap sochen ki delhi ki sarkar prakriya pradushan hata sake dil ki sarkar aap logo ne chuni hai aisi hai jo khudagarj swaarthi lalchi sarkar hai uska jo leader hai main wahi khud Tustikaran ki niti ke poshan karne waale voton ki raajneeti karne waale lalchi neta hai isliye delhi ka pradushan janta hi swayam sajag ho jayegi tabhi hut sakta hai kyonki bina janta ke shikshit hue samajhdar hue khud ek hue yah pradushan ghatna mushkil hai sarkaro ke bal se ya pratibandho ke bal se kabhi promotion nahi kata karte hain kyonki janta khush evam swachh na chahiye janta ne pehli galti toh us samay ki delhi ki janta ne toh log inke diye hue tukadon lalach me aap aur aap ne delhi me aisi sarkar ko kaid zimmedar sarkar ko chandu swaarthi khudagarj vashikaran ke niche karne wali ek tarfa vichar rakhne wali sarkar ko chuna hai uske dushparinaam bhi dillivasiyon ko bhogni

दिल्ली में प्रदूषण बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण बढ़ रहा है दिल्लीवासी लालच स्वार्थ की साक्षा

Romanized Version
Likes  356  Dislikes    views  4128
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!