क्या हमारे देश में एक सरकारी अफ़सर के जीवन को भी ख़तरा हो सकता है?...


user
0:26
Play

Likes  144  Dislikes    views  1297
WhatsApp_icon
18 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sashank Agarwal

Director - TOPPERS CLASSES (flying brains edu. inst. pvt. ltd)

0:29
Play

Likes  92  Dislikes    views  703
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  737  Dislikes    views  8212
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

0:22
Play

Likes  617  Dislikes    views  7709
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

0:48
Play

Likes  542  Dislikes    views  6031
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:41
Play

Likes  158  Dislikes    views  2458
WhatsApp_icon
user
4:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई के लिए खड़े होकर देखिए झूठ की खिलाफत करके देखिए पाखंड के खिलाफत करके देखिए धर्म में पहले पाखंड के खिलाफ करके दे समाज में फैली कुरीतियों के खिलाफत करके देखें आप फिर अब सर्वोच्च आप सर से ऊपर हो हिंदुस्तान के अंदर आपका जीवन खतरे में पड़ जाएगा आपका जीवन तो क्या आपके परिवार का जीवन खतरे में पड़ जाएगा साथ में हिंदुस्तान में मैं आपको बोल रही हूं कि सच बोलने वाले का जीवन सबसे ज्यादा खतरे में है चाहे वह पाखंड के खिलाफ बोले धर्म में फैली कुरीतियों के खिलाफ बोले या सच्चाई का साथ दें बुराई की खिलाफत करें या फिर जो हमारे माहौल में सबसे ज्यादा फैलाए रेप उसके खिलाफ अति क्यों ना करना होगा उसका जीवन खतरे में पड़ जाएगा और तो और अगर आप कह दे कि हमारे समाज में दंगे ज्यादा हो रहे हैं इसलिए हम हिंदुस्तान के अंदर सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं तब तो आपको और अच्छे से पकड़ लिया जाएगा लोग आप को घेर लेंगे क्या देंगे कि अगर आप सुरक्षित निकेतन के अंदर छोड़कर चले जाओ आपकी बात पर कोई तर्क वितर्क नहीं करेगा तो उसके खिलाफ आप बोल रहे हो तो कहीं ना कहीं लोगों का ध्यान आप उसकी तरफ ले जा रहे हो कि भैया कुरीति फैली है उसके लिए और कुछ गलत फैसला कोई दंगा हो रहा है तो उसको उसको उस पर काम करो उसको खत्म करो उसको खत्म किया जाए वह नहीं सोचेंगे इसलिए बोल रहे हो आप यह सोच के बता अपने बोल कैसे दिया कि मैं हिंदुस्तान के अंदर सुरक्षित नहीं हूं बस अब निकलो निकल जाओ दुस्तान मैं सुरक्षित नहीं हो तो निकल जाओ हिंदुस्तान में सबसे दलों को पता क्या लगता है सबसे ज्यादा लोगों को हिंदुस्तान में लगता है बुरा लोगों को बुरा बहुत लगता है यहां पर 8:00 नॉट फॉर ऑल एक चीज और बता दूं धर्म के खिलाफ बोलिए धर्म के मैथिली पाखंड के खिलाफ बोलिए आपका जीवन अच्छा खासा होगा खतरे में पड़ जाएगा ऐसे लोग जो दोगली बातें करते हैं डबल मीनिंग बातें करते हैं जो कहते हैं कि धर्म को मैंने बोलते सुना इन कानों से ऐसे वीडियो से मेरे पास नेशनल टीवी पर औरों क्या बोलते हैं दिए गए साक्षात्कार हैं लोगों के जो कहते हैं हां धर्म को सुरक्षित रखने के लिए धन की जरूरत होती है बताओ आप जब कहते हो कि धर्म हमारी जागीर है हमारा धर्म है हमारा हम हम इसके चलते ठेकेदार हैं हमारे घर से धर्म निकला है तो धर्म को सुरक्षित रखने के लिए धन भी अपना लगा चढ़ावा कहेगा लेते हो लेते हो फिर बोलते हो किधर हमारे मंदिरों में हमारे भगवान को यह नहीं सकता हो नहीं सकता और चढ़ाव ऐसा क्यों नहीं करते आप लोग एक पत्र आप एक बात बताइए कि मंदिर के पहले गेट पर सबसे बाहर वाले गेट पर क्यों नहीं लिखते हो क्यों नहीं लिखते हो कि मंदिर के अंदर सिर्फ जनेऊधारी प्रवेश करेंगे इंटर करेंगे वरना कोई नहीं करेगा तू ही लिखते हो सकता है उसका पानी नहीं पिएंगे हम उसके हाथ का खाना नहीं खाने के लिए आपको पता होता कि मंदिर के अंदर घुसता कौन-कौन है अब तो नहीं देखते हो तब तो कोई भी एक क्यों तब तो वह तो तुम्हारी उसके बाद आ जाती है ना रोजी रोटी की रोटी की बात आ जाते ना इतना ज्यादा क्लियर बोल दोगे अगर तुम जिस धर्म के ठेकेदार हो ना उस धर्म के लोग मिलकर धन भी खर्च करोगे ना तो खाओगे कहां से आ रही बताओ कहां से खाओगे इधर क्लियर बोलोगे उतना सच बोल दोगे तो अपना ही ठेका चलाओगे कैसे तो इनके खिलाफ करके देखें और मैं भी शिव के भक्त हूं ठीक है लेकिन स्टेन की बहुत बड़ी बात होने के बाद भी मेरे कहने पाखंड को नहीं लेती हूं मैं बीच में पाखंड के खिलाफ बहुत अच्छे से करती हूं पाखंड जनवाई नहीं हूं पाखंड की पेपर नहीं कर सकती मैं क्योंकि भक्ति और इस पर कुछ और होता है वहां से पाखंड नहीं छोड़ता

sacchai ke liye khade hokar dekhiye jhuth ki khilafat karke dekhiye pakhand ke khilafat karke dekhiye dharm me pehle pakhand ke khilaf karke de samaj me faili kuritiyon ke khilafat karke dekhen aap phir ab sarvoch aap sir se upar ho Hindustan ke andar aapka jeevan khatre me pad jaega aapka jeevan toh kya aapke parivar ka jeevan khatre me pad jaega saath me Hindustan me main aapko bol rahi hoon ki sach bolne waale ka jeevan sabse zyada khatre me hai chahen vaah pakhand ke khilaf bole dharm me faili kuritiyon ke khilaf bole ya sacchai ka saath de burayi ki khilafat kare ya phir jo hamare maahaul me sabse zyada failayen rape uske khilaf ati kyon na karna hoga uska jeevan khatre me pad jaega aur toh aur agar aap keh de ki hamare samaj me dange zyada ho rahe hain isliye hum Hindustan ke andar surakshit mehsus nahi kar rahe hain tab toh aapko aur acche se pakad liya jaega log aap ko gher lenge kya denge ki agar aap surakshit niketan ke andar chhodkar chale jao aapki baat par koi tark vitark nahi karega toh uske khilaf aap bol rahe ho toh kahin na kahin logo ka dhyan aap uski taraf le ja rahe ho ki bhaiya kuriti faili hai uske liye aur kuch galat faisla koi danga ho raha hai toh usko usko us par kaam karo usko khatam karo usko khatam kiya jaaye vaah nahi sochenge isliye bol rahe ho aap yah soch ke bata apne bol kaise diya ki main Hindustan ke andar surakshit nahi hoon bus ab niklo nikal jao dustan main surakshit nahi ho toh nikal jao Hindustan me sabse dalon ko pata kya lagta hai sabse zyada logo ko Hindustan me lagta hai bura logo ko bura bahut lagta hai yahan par 8 00 not for all ek cheez aur bata doon dharm ke khilaf bolie dharm ke maithali pakhand ke khilaf bolie aapka jeevan accha khasa hoga khatre me pad jaega aise log jo dogli batein karte hain double meaning batein karte hain jo kehte hain ki dharm ko maine bolte suna in kanon se aise video se mere paas national TV par auron kya bolte hain diye gaye sakshatkar hain logo ke jo kehte hain haan dharm ko surakshit rakhne ke liye dhan ki zarurat hoti hai batao aap jab kehte ho ki dharm hamari jagir hai hamara dharm hai hamara hum hum iske chalte thekedaar hain hamare ghar se dharm nikala hai toh dharm ko surakshit rakhne ke liye dhan bhi apna laga chadhava kahega lete ho lete ho phir bolte ho kidhar hamare mandiro me hamare bhagwan ko yah nahi sakta ho nahi sakta aur chadhav aisa kyon nahi karte aap log ek patra aap ek baat bataiye ki mandir ke pehle gate par sabse bahar waale gate par kyon nahi likhte ho kyon nahi likhte ho ki mandir ke andar sirf janeudhari pravesh karenge inter karenge varna koi nahi karega tu hi likhte ho sakta hai uska paani nahi piyenge hum uske hath ka khana nahi khane ke liye aapko pata hota ki mandir ke andar ghuste kaun kaun hai ab toh nahi dekhte ho tab toh koi bhi ek kyon tab toh vaah toh tumhari uske baad aa jaati hai na rozi roti ki roti ki baat aa jaate na itna zyada clear bol doge agar tum jis dharm ke thekedaar ho na us dharm ke log milkar dhan bhi kharch karoge na toh khaoge kaha se aa rahi batao kaha se khaoge idhar clear bologe utana sach bol doge toh apna hi theka chalaoge kaise toh inke khilaf karke dekhen aur main bhi shiv ke bhakt hoon theek hai lekin stain ki bahut badi baat hone ke baad bhi mere kehne pakhand ko nahi leti hoon main beech me pakhand ke khilaf bahut acche se karti hoon pakhand janvai nahi hoon pakhand ki paper nahi kar sakti main kyonki bhakti aur is par kuch aur hota hai wahan se pakhand nahi chodta

सच्चाई के लिए खड़े होकर देखिए झूठ की खिलाफत करके देखिए पाखंड के खिलाफत करके देखिए धर्म में

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:19
Play

Likes  130  Dislikes    views  2175
WhatsApp_icon
user

PRAMOD KUMAR

Retired IFS Officer | Advisor to TRIFED

2:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा कि हमारे देश में सरकारी अफसर के जीवन को खतरा हो सकता है ड्यूटी के टाइम में तो स्कॉर्पीन कारी नहीं कर सकते ऐसे बहुत सारे इंसीडेंट हुए जैसे फॉरेस्ट सर्विस कि मैं बताऊंगा आपको जो वीरप्पन का चल रहा था काफी दिनों से आपका चंदन तस्कर के साथ माफ किया जाता है कितने सालों से होकर लाइट एरिया में उनका स्मगलिंग कर रहे थे उसमें आपका बहुत सारे पुलिस ऑफिसर फर्स्ट अनुष्का जानकी एक आईएफएस अफसर भी उनको गए थे उनका करने के लिए उनको मार दिया गया था और जो पुलिस के अनुसार ऑफिसर फॉरेस्ट ऑफिसर्स बहुत सारे रेंजर्स वगैरह उनको शहीद हुए इस काम में अभी हाल में अपने न्यूज़पेपर में रहोगे तहसीलदार को आपके साउथ में उसको पैसे जमा कराया गया और यह खान माइंस माता के साथ लड़ते हुए पुलिस एपिसोड फर्स्ट और कभी ऐसी का शिकार हुए थे बिहार में पुलिस ऑफिसर तो होते रहते हैं अभी-अभी आपने देखे होंगे दिल्ली का जो एक्सीडेंट हुआ कोर्ट के सामने जो कि आप सब वीडियो और यूट्यूब में अभी चल रहा है वार का एक परी होती है और उसमें आपने जॉब ऑल रुलिक आउट को यावल सिविलाइज ब्राउज़र हो जाता है जो गुरु ठोकून सोती है जमा किया होती है उनके साथ जब आप लड़के हो तो खतरा तो रहते तो आपका डिजिटल स्टेट अकबर की मुंबई में अमर कितने सीनियर आईपीएस अफसर का जान चली गई थी वो तो मैं बताऊंगा कोई बड़ी बात नहीं हो सकता है नौकरी के टाइम में सभी का लाइव पर होता है जो कि पब्लिक लाइफ साइकिल करके कल कभी मां को कंट्रोल करना पड़ता है मैप के साथ लड़ना पड़ता है उसी टाइम में है कभी ऐसा ना खतरा आने का चांस रहता है आप नौकरी करोगे सरकारी नौकरियां जनता का सेवा करोगे उस टाइम से 24 गांव का सामना करना ही पड़ेगा करते हो तो वीडियो सेवा के लिए कभी भी शहीद होना पड़ता है धन्यवाद

aapne poocha ki hamare desh mein sarkari officer ke jeevan ko khatra ho sakta hai duty ke time mein toh skarpin kaari nahi kar sakte aise bahut saare insident hue jaise forest service ki main bataunga aapko jo virappan ka chal raha tha kaafi dino se aapka chandan taskar ke saath maaf kiya jata hai kitne salon se hokar light area mein unka smuggling kar rahe the usme aapka bahut saare police officer first anushka janki ek IFS officer bhi unko gaye the unka karne ke liye unko maar diya gaya tha aur jo police ke anusaar officer forest officers bahut saare rangers vagera unko shaheed hue is kaam mein abhi haal mein apne Newspaper mein rahoge tahseeldar ko aapke south mein usko paise jama karaya gaya aur yah khan mines mata ke saath ladte hue police episode first aur kabhi aisi ka shikaar hue the bihar mein police officer toh hote rehte hai abhi abhi aapne dekhe honge delhi ka jo accident hua court ke saamne jo ki aap sab video aur youtube mein abhi chal raha hai war ka ek pari hoti hai aur usme aapne job all rulik out ko yawal civilize browser ho jata hai jo guru thokun soti hai jama kiya hoti hai unke saath jab aap ladke ho toh khatra toh rehte toh aapka digital state akbar ki mumbai mein amar kitne senior ips officer ka jaan chali gayi thi vo toh main bataunga koi baadi baat nahi ho sakta hai naukri ke time mein sabhi ka live par hota hai jo ki public life cycle karke kal kabhi maa ko control karna padta hai map ke saath ladna padta hai usi time mein hai kabhi aisa na khatra aane ka chance rehta hai aap naukri karoge sarkari naukriyan janta ka seva karoge us time se 24 gaon ka samana karna hi padega karte ho toh video seva ke liye kabhi bhi shaheed hona padta hai dhanyavad

आपने पूछा कि हमारे देश में सरकारी अफसर के जीवन को खतरा हो सकता है ड्यूटी के टाइम में तो स्

Romanized Version
Likes  242  Dislikes    views  5063
WhatsApp_icon
play
user

Dr Jayadev Sarangi

Worked at Indian Administrative Service (AGMUT), Formerly SECRETARY,GOVERNMENT OF NCT OF DELHI/Goa Government .Formerly Expert UNODC

1:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी दूसरे काम कर करते समय हमारे हम लोगों के साथ मूवी का मम्मी की है इस दौरान सरकारी प्रदान की गई थी पिक्चर चाहिए एचडी अगर किसी लड़की को किसी स्टूडेंट को अगर कहते हो कि ऐसे गलत कर रहे हो तो आपसे खुश नहीं होता अब आप भी इंसान को खुश होते हैं तो उसको लगता है कि यह गलत चल रहा है उसमें आगे से किसी त्रिभुज अंको को कहते हो कि गूगल प्ले से सजा देते हो तो या किसी में टॉपिक चैलेंजिंग काम करने पड़े तो काफी सारे लोगों के खिलाफ होते हैं तो सरकार की पर्याप्त व्यवस्था करती है यह बात तो है कि आप जब भी हो पब्लिक की बॉर्डर की काम करते हो तो थोड़ा बताइए

kisi dusre kaam kar karte samay hamare hum logo ke saath movie ka mummy ki hai is dauran sarkari pradan ki gayi thi picture chahiye hd agar kisi ladki ko kisi student ko agar kehte ho ki aise galat kar rahe ho toh aapse khush nahi hota ab aap bhi insaan ko khush hote hain toh usko lagta hai ki yah galat chal raha hai usme aage se kisi tribhuj anko ko kehte ho ki google play se saza dete ho toh ya kisi mein topic chailenjing kaam karne pade toh kaafi saare logo ke khilaf hote hain toh sarkar ki paryapt vyavastha karti hai yah baat toh hai ki aap jab bhi ho public ki border ki kaam karte ho toh thoda bataiye

किसी दूसरे काम कर करते समय हमारे हम लोगों के साथ मूवी का मम्मी की है इस दौरान सरकारी प्रदा

Romanized Version
Likes  167  Dislikes    views  1791
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

5:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में सरकारी अफसर की जीवन को भी खतरा हो सकता है सच तो यही है कि सरकारी अधिकारी के नियम को सदैव टोटल का खतरा होता है एकता जो है वह उन लोगों से होता है जिनके 4 अधिकारी अपना निर्वाह करता है उनकी सेवा के लिए उनकी सुरक्षा के लिए उनके भविष्य के लिए उनके विकास के लिए उनके परिवार के लिए अपने करतब का निर्माण करता है परिणाम स्वरूप लोग गलतफहमी के कारण अपना गुस्सा अपना क्रोध सरकार की नफरत सरकार की बदला लेने की भावना सरकार को पहचानने की भावना सरकार को नीचा दिखाने की भावना कुमार अधिकारियों के पड़ता है और अधिकारी बेवजह उन लोगों के शिकार हो हैप्पी अधिकारियों की सुरक्षा के लिए लेकिन ध्यान किया गलतफहमी अपोहा इन सब चीजों के बीच अधिकारियों को अपनी जान गंवानी पड़ती है और दूसरा सबसे बड़ा जो करता है खुद सरकार से क्योंकि जो भी अधिकारी सरकार की नीतियों के खिलाफ चलता है या सरकार की नीतियों का साथ नहीं देता है या सरकार की कूट नीतियों के खिलाफ जाता है निश्चित माननीय उच्च अधिकारी का को खतरा ही खतरा उसके जीवन में नजर आएगा और कब उसके जीवन से काजोल का अंत हो जाए कोई नहीं जानता ऐसी मानसिक दबाव में रहता है बताइएगा कैसी वह अपनी बेस्ट परफॉर्मेंस जी पाएगा कैसी वह समाज की सेवा कर पाएगा अभी प्रश्न उत्तर इन राजनेताओं की सुरक्षा के लिए विभिन्न प्रकार के तंत्र लगे होते हैं और यह राजनेता ही हर तरह की डेट में डालो सत्ता हथियाने के लिए किस हद तक जा सकते हैं यह कहने की जरूरत नहीं कौन सा नाटक किस मंच पर कब खेल सकते हैं कभी सपने में नहीं सोच सकते कौन सा जुमला कब अपना तक आप समझ भी नहीं सकते और सिर्फ क्योंकि यह नाटक यह फिल्म एक जुमला यह सारी चीजें वेस्टइंडीज टूर से हासिल करते हैं उनको करोड़ों रुपए देते हैं कि आप हमारे लिए नीतियां बनाए जैसे कि हम लोकतंत्र के नाम पर राष्ट्र के नाम पर राजभोग भूखे गरीब जनता इस चीजें आज की जो हालात ट्रेंस के लिए कौन जिम्मेदार है हम यह कहें कि सरकार जिम्मेदार हैं और अधिकारी इस्तीफा दे रहे अधिकारी जान गवा रहे हैं सरकारी नौकरियां खत्म हो रही है जब रोजगार ही नहीं रहेगा तो देश का विकास कहां से होगा संसार में ज्योति कारी है वह अपने कर्तव्य से हजारों लोगों को अनंत प्रकार से रोजगार उपलब्ध कराते हैं यह बात हर किसी के समझ में नहीं आ सकते कि अधिकारी कैसे कराते हैं कि मैं जानता हूं और मैं समझता हूं हां मैं अपने इंकार नहीं है मैंने हमारा अनुभव है कर्तव्य शांत माहौल होता है जहां संपन्न चाहती है तो स्वाभाविक है कि अधिकारी की जिंदगी को भी खतरा होता है पोस्ट रखता नहीं है होता है

hamare desh mein sarkari officer ki jeevan ko bhi khatra ho sakta hai sach toh yahi hai ki sarkari adhikari ke niyam ko sadaiv total ka khatra hota hai ekta jo hai vaah un logo se hota hai jinke 4 adhikari apna nirvah karta hai unki seva ke liye unki suraksha ke liye unke bhavishya ke liye unke vikas ke liye unke parivar ke liye apne kartab ka nirmaan karta hai parinam swaroop log galatfahamee ke karan apna gussa apna krodh sarkar ki nafrat sarkar ki badla lene ki bhavna sarkar ko pahachanne ki bhavna sarkar ko nicha dikhane ki bhavna kumar adhikaariyo ke padta hai aur adhikari bewajah un logo ke shikaar ho happy adhikaariyo ki suraksha ke liye lekin dhyan kiya galatfahamee apoha in sab chijon ke beech adhikaariyo ko apni jaan ganvani padti hai aur doosra sabse bada jo karta hai khud sarkar se kyonki jo bhi adhikari sarkar ki nitiyon ke khilaf chalta hai ya sarkar ki nitiyon ka saath nahi deta hai ya sarkar ki kut nitiyon ke khilaf jata hai nishchit mananiya ucch adhikari ka ko khatra hi khatra uske jeevan mein nazar aayega aur kab uske jeevan se kajol ka ant ho jaaye koi nahi jaanta aisi mansik dabaav mein rehta hai bataiega kaisi vaah apni best performance ji payega kaisi vaah samaj ki seva kar payega abhi prashna uttar in rajnetao ki suraksha ke liye vibhinn prakar ke tantra lage hote hain aur yah raajneta hi har tarah ki date mein dalo satta hathiyane ke liye kis had tak ja sakte hain yah kehne ki zarurat nahi kaun sa natak kis manch par kab khel sakte hain kabhi sapne mein nahi soch sakte kaun sa jumla kab apna tak aap samajh bhi nahi sakte aur sirf kyonki yah natak yah film ek jumla yah saree cheezen WestIndies tour se hasil karte hain unko karodo rupaye dete hain ki aap hamare liye nitiyan banaye jaise ki hum loktantra ke naam par rashtra ke naam par rajbhog bhukhe garib janta is cheezen aaj ki jo haalaat trens ke liye kaun zimmedar hai hum yah kahein ki sarkar zimmedar hain aur adhikari istifa de rahe adhikari jaan gawa rahe hain sarkari naukriyan khatam ho rahi hai jab rojgar hi nahi rahega toh desh ka vikas kahaan se hoga sansar mein jyoti kaari hai vaah apne kartavya se hazaro logo ko anant prakar se rojgar uplabdh karate hain yah baat har kisi ke samajh mein nahi aa sakte ki adhikari kaise karate hain ki main jaanta hoon aur main samajhata hoon haan main apne inkar nahi hai maine hamara anubhav hai kartavya shaant maahaul hota hai jaha sampann chahti hai toh swabhavik hai ki adhikari ki zindagi ko bhi khatra hota hai post rakhta nahi hai hota hai

हमारे देश में सरकारी अफसर की जीवन को भी खतरा हो सकता है सच तो यही है कि सरकारी अधिकारी के

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1208
WhatsApp_icon
user

guddu das

You Tuber

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या हमारे देश में एक सरकारी अफसर की जीवन को खतरा हो सकता है यह कई कारण हो सकते हैं यहां तक कि जैसे हम अपने स्वार्थ के लिए घूस लेना दूसरे को सताना ना समझ पाना उसकी दिल की बातों को यहां तक अभी यह सिम किसी को एक अध्यापक होता है तो वह एक शिक्षक जो पढ़ने वाला होता वह गुरु जान लेता है कि यह पड़ने वाला है कि नहीं एक बार दो बार तीन बार उसको दोबारा टॉर्चर ही नहीं करता और उसे लिखकर पर होता है उसे वहीं पर छोड़ दिया जाता है तो हमें वहां पर खत्म नहीं हो सकता क्योंकि एक गुरुजी जानकार होता है तो वह जानकर उसे छोड़ देता है कि बच्चा कल मुझे खतरा कर सकता है इसकी बात इतनी साथ ही है क्या है कुछ मगर एक खतरा जो भयानक होता है हम किसी को ना जानकर घूस लेते हैं किसी को दिक्कत करते हैं अपने स्वार्थ देखते हुए दूसरों के साथ आते तो आकर हमारे जीवन को एक खतरा होता है क्या और सरकारी अफसरों से साधारण हो चाहे कोई भी तुम्हारे जीवन में जब हम सही तरीके पर सही मार्ग पर अपने जीवन को लगाते मानव को मानव जानकर और चाहे वह किसी भी तरीका का आदमी हो तो मुसलमानों को समझ कर के उसके अपने जैसा समझते तो वही हमारा मित्र बन जाता है हमारे जीवन में चयन सरकारी हो जाए किसी भी हालत में हमें कोई कदर नहीं पहुंचा सकता धन्यवाद

kya hamare desh me ek sarkari officer ki jeevan ko khatra ho sakta hai yah kai karan ho sakte hain yahan tak ki jaise hum apne swarth ke liye ghus lena dusre ko sataana na samajh paana uski dil ki baaton ko yahan tak abhi yah sim kisi ko ek adhyapak hota hai toh vaah ek shikshak jo padhne vala hota vaah guru jaan leta hai ki yah padane vala hai ki nahi ek baar do baar teen baar usko dobara torture hi nahi karta aur use likhkar par hota hai use wahi par chhod diya jata hai toh hamein wahan par khatam nahi ho sakta kyonki ek guruji janakar hota hai toh vaah jaankar use chhod deta hai ki baccha kal mujhe khatra kar sakta hai iski baat itni saath hi hai kya hai kuch magar ek khatra jo bhayanak hota hai hum kisi ko na jaankar ghus lete hain kisi ko dikkat karte hain apne swarth dekhte hue dusro ke saath aate toh aakar hamare jeevan ko ek khatra hota hai kya aur sarkari afsaron se sadhaaran ho chahen koi bhi tumhare jeevan me jab hum sahi tarike par sahi marg par apne jeevan ko lagate manav ko manav jaankar aur chahen vaah kisi bhi tarika ka aadmi ho toh musalmanon ko samajh kar ke uske apne jaisa samajhte toh wahi hamara mitra ban jata hai hamare jeevan me chayan sarkari ho jaaye kisi bhi halat me hamein koi kadar nahi pohcha sakta dhanyavad

क्या हमारे देश में एक सरकारी अफसर की जीवन को खतरा हो सकता है यह कई कारण हो सकते हैं यहां

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  72
WhatsApp_icon
user

Neeraj Shukla

Philosopher || Avid Reader.

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आए दिन कई ऐसे होते हैं जो बताते हैं कि सरकार के जीवन में भी कुछ ऐसे लोग गुंडे टाइप

aaye din kai aise hote hain jo batatey hain ki sarkar ke jeevan mein bhi kuch aise log gunde type

आए दिन कई ऐसे होते हैं जो बताते हैं कि सरकार के जीवन में भी कुछ ऐसे लोग गुंडे टाइप

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  600
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या मर देश में सरकारी अफसर के जीवन को भी खतरा हो सकता है दोस्तों मित्रों का तो खेली है यह जीवन क्योंकि जीवन में संघर्ष नहीं होता है तब तक जीवन का महत्व नीरस होता है इसलिए दोस्तों जीवन में हमेशा संघर्ष होना चाहिए जिससे हमें एक अच्छा ज्ञान होगा अनुभव होगा और हम अपने जीवन से कुछ महत्वपूर्ण चीजें हैं वह अपनाएंगे आशा करता हूं मेरे द्वारा दी गई जानकारी से संतुष्ट ओके धन्यवाद दोस्तों जय हिंद जय मां

kya mar desh mein sarkari officer ke jeevan ko bhi khatra ho sakta hai doston mitron ka toh kheli hai yah jeevan kyonki jeevan mein sangharsh nahi hota hai tab tak jeevan ka mahatva niras hota hai isliye doston jeevan mein hamesha sangharsh hona chahiye jisse hamein ek accha gyaan hoga anubhav hoga aur hum apne jeevan se kuch mahatvapurna cheezen hain vaah apanaenge asha karta hoon mere dwara di gayi jaankari se santusht ok dhanyavad doston jai hind jai maa

क्या मर देश में सरकारी अफसर के जीवन को भी खतरा हो सकता है दोस्तों मित्रों का तो खेली है यह

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  375
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छात्राओं ने होता है ना जो गंदे रास्ते पर चलते हैं जिसका जुर्म होता है उसका आईपीएस अतुल महाराष्ट्र कितना अच्छा काम करेगा किससे खतरा मतलब कोटेशन रहता है सब ठीक है

chhatraon ne hota hai na jo gande raste par chalte hain jiska jurm hota hai uska ips atul maharashtra kitna accha kaam karega kisse khatra matlab quotation rehta hai sab theek hai

छात्राओं ने होता है ना जो गंदे रास्ते पर चलते हैं जिसका जुर्म होता है उसका आईपीएस अतुल महा

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
user
1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आप का सवाल है क्या हमारे देश में सरकारी अफसर को जीवन के जीवन को खतरा हो सकता है तो बिल्कुल हो सकता है क्योंकि अब बहुत कुछ अभी देख रहे हैं जो हालत जो है भारत का वह बहुत ही खराब हो चुका है क्योंकि लगातार जेएनयू में पितरों और है तो बहुत सारे वामपंथी हिंदूवादी संगठन के सामने उभर के आ रहे हैं बहुत सारे इनके नेता भी समझो घर क्या है जिनका कुछ काम नहीं हो सिर्फ अपनी राजनीतिक रोटी सेकते हैं इनके कारण अभी आप सुने होंगे कि जेएनयू के बगल में एक पुलिस वाले की मौत हो गई तो क्या आपको क्या लगता है कि यह जो हो रहा है इससे सरकारी लोगों को आती नहीं हो रहा है उनके जीवन को खतरा नहीं हो रहा है अगर आप मान लो कि आप एक इंस्पेक्टर हो और आपको भेजा गया क्या आप सही हो दंगा को शांत करवाई तू इतना आप याद रखिए कि अगर आप भीड़ में फंस जाते हैं तब इनके विरोध में काम करोगे तो आपको अपने चपेट में ले लेंगे ठीक है और दूसरी बात राखी आपस में जो झगड़ा हुआ ठीक है अभी पुलिस वाले को उसके बच्चे को सरकारी अस्पताल में जाते हैं या अस्पताल में जाते हैं तो अगर किसी मरीज को हो गया तो उसे फिर पुलिस और फिर डॉक्टर वालों पर हमला कर देंगे तो इस प्रकार है

jaisa ki aap ka sawaal hai kya hamare desh me sarkari officer ko jeevan ke jeevan ko khatra ho sakta hai toh bilkul ho sakta hai kyonki ab bahut kuch abhi dekh rahe hain jo halat jo hai bharat ka vaah bahut hi kharab ho chuka hai kyonki lagatar jnu me pitaron aur hai toh bahut saare vampanthi hinduvaadi sangathan ke saamne ubhar ke aa rahe hain bahut saare inke neta bhi samjho ghar kya hai jinka kuch kaam nahi ho sirf apni raajnitik roti sekte hain inke karan abhi aap sune honge ki jnu ke bagal me ek police waale ki maut ho gayi toh kya aapko kya lagta hai ki yah jo ho raha hai isse sarkari logo ko aati nahi ho raha hai unke jeevan ko khatra nahi ho raha hai agar aap maan lo ki aap ek inspector ho aur aapko bheja gaya kya aap sahi ho danga ko shaant karwai tu itna aap yaad rakhiye ki agar aap bheed me fans jaate hain tab inke virodh me kaam karoge toh aapko apne chapet me le lenge theek hai aur dusri baat rakhi aapas me jo jhagda hua theek hai abhi police waale ko uske bacche ko sarkari aspatal me jaate hain ya aspatal me jaate hain toh agar kisi marij ko ho gaya toh use phir police aur phir doctor walon par hamla kar denge toh is prakar hai

जैसा कि आप का सवाल है क्या हमारे देश में सरकारी अफसर को जीवन के जीवन को खतरा हो सकता है तो

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  70
WhatsApp_icon
user

Anirudh Sharma (AK Pathshala)

Working As A Faculty Of Reasoning And Math At My Own YouTube Channel ---ak Pathshala.

2:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो डियर फ्रेंड मैं हूं अनिल शर्मा मैं अभी यूट्यूब पर अपने यूट्यूब चैनल ए के पाठशाला में कंप्यूटर के एग्जाम की तैयारी करवाता हूं जिसमें मैं आपको मैं थोड़ी देर इन दोस्तों यह तो थी मेरी सूचना अब आते हैं आपके क्वेश्चन के ऊपर आपने पूछा है कि क्या हमारे देश में सरकारी अफसर अफसर के जीवन को भी खतरा हो सकता है लेकिन मेरे फादर डिप्टी सुप्रिडेंट एजुकेशन डिपार्टमेंट में कार्य करते हैं जो अक्सर लाइन होती है ऑफिसर लाइन होती है उसमें क्या होता है कि वह निर्णायक पोस्ट होती है आपको निर्णय करना पड़ता है जवाब देना पड़ता है तो जो आपको निर्णय करना पड़ता है वह दो पार्टी के बीच में करना होता है अगर मान के चलिए किसी के फेर में आप करते हैं क्योंकि डिसीजन तो एक साइड लेना पड़ेगा तो अगर वह दूसरी साइड के ऊपर निर्भर है क्या पता आपको आपके साथ कुछ गलत कर सकता है वह देवा हमला करवा सकते हैं जो यह आपका क्वेश्चन है सरकारी अफसर के जीवन में भी खतरा हो सकता भी खतरा हो सकता है क्या तो देखिए उनको भी बहुत ज्यादा खतरा सकता है क्योंकि जितने भी वह निर्णायक पोस्ट पर जितनी बड़ी नालायक पोस्ट पर वो होते हैं उतने ही उनके जीवन में खतरे बढ़ते रहते हैं तो यह तो आप उनसे निकाल दीजिए कि सरकारी जो ऑफिसर होते हैं गवर्नमेंट ऑफिसर होते हैं कि उनके जीवन में कोई खतरा नहीं है क्योंकि जब निर्णय किया जाता है तो दूसरी जो पार्टी है जिसके विपक्ष में विरोध में निर्णय हुआ है हम उसके बारे में कुछ नहीं कर सकते क्योंकि जो सच है वह निर्णय निष्पक्ष होकर करता है लेकिन जो आप की पार्टी है जो पार्टी होती है दो पार्टी के बीच में जो डिसीजन लिया जाता है वह तो अपने आप में ही जो उनके पक्ष में होता है जो भी वह पक्ष में चाहते हैं उनके अच्छा चलते हैं लेकिन ऑफिसर का ऑफिसर का क्या फर्ज होता है वह निष्पक्ष रुप से डिसीजन ले तो उसका कार्य सिर्फ निष्पक्ष डिसीजन लेना है आगे जो उनके जो दो पार्टी थी उनमें से किसी के साथ मतभेद भी हो सकता है जरूरी नहीं है कि जो दूसरी पार्टी है जो जिसके विरुद्ध आपने फैसला किया है वह आपको आपके डिसीजन को स्वीकार करें स्वीकार तो करना पड़ेगा लेकिन एक होता है कि हां मैं आपका समर्थन करता हूं जो भी आपने किया आपने जो भी डिसीजन लिया तो मैं भी उसके साथ चलूंगा लेकिन अगर वह मनमुटाव करता है वह बांध ले आपके साथ तो आपके जीवन में खतरे खतरे की सूचना आपको अच्छी लगी है तो मेरे यूट्यूब चैनल के पाठशाला को सब्सक्राइब कीजिए गा थैंक यू

hello dear friend main hoon anil sharma main abhi youtube par apne youtube channel a ke pathashala me computer ke exam ki taiyari karwata hoon jisme main aapko main thodi der in doston yah toh thi meri soochna ab aate hain aapke question ke upar aapne poocha hai ki kya hamare desh me sarkari officer officer ke jeevan ko bhi khatra ho sakta hai lekin mere father deputy suprident education department me karya karte hain jo aksar line hoti hai officer line hoti hai usme kya hota hai ki vaah niranayak post hoti hai aapko nirnay karna padta hai jawab dena padta hai toh jo aapko nirnay karna padta hai vaah do party ke beech me karna hota hai agar maan ke chaliye kisi ke pher me aap karte hain kyonki decision toh ek side lena padega toh agar vaah dusri side ke upar nirbhar hai kya pata aapko aapke saath kuch galat kar sakta hai vaah deva hamla karva sakte hain jo yah aapka question hai sarkari officer ke jeevan me bhi khatra ho sakta bhi khatra ho sakta hai kya toh dekhiye unko bhi bahut zyada khatra sakta hai kyonki jitne bhi vaah niranayak post par jitni badi nalayak post par vo hote hain utne hi unke jeevan me khatre badhte rehte hain toh yah toh aap unse nikaal dijiye ki sarkari jo officer hote hain government officer hote hain ki unke jeevan me koi khatra nahi hai kyonki jab nirnay kiya jata hai toh dusri jo party hai jiske vipaksh me virodh me nirnay hua hai hum uske bare me kuch nahi kar sakte kyonki jo sach hai vaah nirnay nishpaksh hokar karta hai lekin jo aap ki party hai jo party hoti hai do party ke beech me jo decision liya jata hai vaah toh apne aap me hi jo unke paksh me hota hai jo bhi vaah paksh me chahte hain unke accha chalte hain lekin officer ka officer ka kya farz hota hai vaah nishpaksh roop se decision le toh uska karya sirf nishpaksh decision lena hai aage jo unke jo do party thi unmen se kisi ke saath matbhed bhi ho sakta hai zaroori nahi hai ki jo dusri party hai jo jiske viruddh aapne faisla kiya hai vaah aapko aapke decision ko sweekar kare sweekar toh karna padega lekin ek hota hai ki haan main aapka samarthan karta hoon jo bhi aapne kiya aapne jo bhi decision liya toh main bhi uske saath chalunga lekin agar vaah manmutaav karta hai vaah bandh le aapke saath toh aapke jeevan me khatre khatre ki soochna aapko achi lagi hai toh mere youtube channel ke pathashala ko subscribe kijiye jaayega thank you

हेलो डियर फ्रेंड मैं हूं अनिल शर्मा मैं अभी यूट्यूब पर अपने यूट्यूब चैनल ए के पाठशाला में

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  78
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां हो सकता है

haan ho sakta hai

हां हो सकता है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!