रेटायअर होने के बाद एक पूर्व IAS अफ़सर का जीवन कैसा होता है?...


user

B San

Entrepreneur | Management | Consultant | Advisor

3:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेके प्रश्न है रिटायर्ड होने के बाद एक पूर्व आईएएस ऑफिसर का जीवन कैसा होता है लेकिन रिटायर होने के बाद कोई भी ऑफिसर हो एम्पलाई हो गवर्नमेंट या प्राइवेट सेक्टर का उसका जीवन कैसा हो वह उसके व्यक्तिगत निर्णय पर आधारित है अखिलेश तो रिटायर्ड सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी की बात की जाए तो उनके सेवाकाल में उनका अनुभव उनके कार्य प्रणाली का प्रयोग राष्ट्रीय स्तर के संस्थाएं डेवलपमेंट क्षेत्र में कार्य कर रही है शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करें इंटरनेशनल लेवल की संस्थाएं उनको अपनी आर्गेनाइजेशन में अपने इंस्टिट्यूट में कार्य करने के लिए आमंत्रित करते हैं क्योंकि आईएएस ऑफिसर अपने सेवाकाल में अलग-अलग सिचुएशन में कार्य करने में निपुण और महारत हासिल कर चुके होते हैं तो नेशनल और इंटरनेशनल की डेवलपमेंट एजेंसी ट्यूशन ऑर्गेनाइजेशन आईएस ऑफिसर्स को अपने वहां नियुक्ति प्रदान करते हैं उनके अनुभवों को देश विदेश की तरक्की के लिए प्राप्त करते हैं और रिटायर्ड आईएएस का यह व्यक्तिगत निर्णय है कि वह अपने अनुभव को अग्रसारित करना चाहता है या साझा करना चाहते हैं या बाधा नहीं यहां आईएस टाइड ऑफिसर के पास विकल्प रहते हैं कि वह डर के बाद कार्य करना चाहेंगे या स्वयं का कार्य करेंगे स्वयं के एजेंसी बनाएंगे स्वयं का कोई डेवलपमेंट प्रोजेक्ट शुरू करें हम तो रिटायरमेंट के बाद भी एक आईएएस ऑफिस शिवा काल के समय की महत्ता के संकट से ही महत्त्व रखता है उन्हें सही आफ्टर रिटायरमेंट आईएएस ऑफिसर गवर्नमेंट का ऑफिसर नहीं होगा केंद्र सरकार राज्य सरकार का ऑपरेशन नहीं चलाएगा पर अपने अनुभव अपनी दक्षता को सेवानिवृत्ति के बाद भी प्रदान कर सकता है वह आईएएस ऑफिसर का प्रैक्टिकल होता है

leke prashna hai retired hone ke baad ek purv IAS officer ka jeevan kaisa hota hai lekin retire hone ke baad koi bhi officer ho employee ho government ya private sector ka uska jeevan kaisa ho vaah uske vyaktigat nirnay par aadharit hai akhilesh toh retired sevanivritt IAS adhikari ki baat ki jaaye toh unke sevakal me unka anubhav unke karya pranali ka prayog rashtriya sthar ke sansthayen development kshetra me karya kar rahi hai shiksha ke kshetra me karya kare international level ki sansthayen unko apni organisation me apne institute me karya karne ke liye aamantrit karte hain kyonki IAS officer apne sevakal me alag alag situation me karya karne me nipun aur maharat hasil kar chuke hote hain toh national aur international ki development agency tuition organization ias officers ko apne wahan niyukti pradan karte hain unke anubhavon ko desh videsh ki tarakki ke liye prapt karte hain aur retired IAS ka yah vyaktigat nirnay hai ki vaah apne anubhav ko agrasarit karna chahta hai ya sajha karna chahte hain ya badha nahi yahan ias tide officer ke paas vikalp rehte hain ki vaah dar ke baad karya karna chahenge ya swayam ka karya karenge swayam ke agency banayenge swayam ka koi development project shuru kare hum toh retirement ke baad bhi ek IAS office shiva kaal ke samay ki mahatta ke sankat se hi mahatva rakhta hai unhe sahi after retirement IAS officer government ka officer nahi hoga kendra sarkar rajya sarkar ka operation nahi chalayega par apne anubhav apni dakshata ko seva nivriti ke baad bhi pradan kar sakta hai vaah IAS officer ka practical hota hai

लेके प्रश्न है रिटायर्ड होने के बाद एक पूर्व आईएएस ऑफिसर का जीवन कैसा होता है लेकिन रिटायर

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  457
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!