क्या हमारे देश के सिवल सेवकों में सच मच इतनी ताक़त है की वो किसी का जीवन सुधार सकते हैं?...


user
0:30
Play

Likes  139  Dislikes    views  1210
WhatsApp_icon
15 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
3:15
Play

Likes  185  Dislikes    views  1831
WhatsApp_icon
user

Vinod uttrakhand Tiwari

Author,You Tuber(Thoght Of सक्सेस)

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर वास्तविक तौर पर सिविल सेवकों की ताकत की बात की जाए तो संवैधानिक तौर पर वे शक्तिशाली तो है परंतु राजनेताओं के चंगुल में एक भगत सिंह बहुत महान क्रांतिकारी हुआ करते थे जिसके लिए उन्होंने प्राण की आहुति दे दी तो उन्होंने एक पुस्तक थी उनकी वाइफ आई एम एन ए टेस्ट मैच यू एक नास्तिक हूं और उस पुस्तक में उन्होंने कहा था कि अगर पिंजरा सोने का भी हो तो वह सुख का संसाधन नहीं हो सकता तो भारत में सिविल सेवकों की स्थिति सोने के पिंजरे में कैद जैसे उस पक्षी की है जो राजनेताओं के इशारों पर ही काम कर सकते हैं सिविल सेवक अपनी बुद्धिमता का उपयोग करने शमी नहीं है भले यूपीएससी कितना कठिन परीक्षा ले करके उनको चयनित कर रही है लेकिन चलना उन्हें उन्हीं 8 पास 10 पास 12 पास राजनेताओं के आधार पर है तो इसीलिए राष्ट्र उन्नति के पथ पर तरक्की नहीं कर सकता क्योंकि शक्तिहीन पद होता है सिविल सेवकों का और जिस पद में शक्ति नहीं है तो कैसे सुधार करेगा

agar vastavik taur par civil sevakon ki takat ki baat ki jaaye toh samvaidhanik taur par ve shaktishali toh hai parantu rajnetao ke changul me ek bhagat Singh bahut mahaan krantikari hua karte the jiske liye unhone praan ki aahutee de di toh unhone ek pustak thi unki wife I M N a test match you ek nastik hoon aur us pustak me unhone kaha tha ki agar pinjara sone ka bhi ho toh vaah sukh ka sansadhan nahi ho sakta toh bharat me civil sevakon ki sthiti sone ke pinjare me kaid jaise us pakshi ki hai jo rajnetao ke ishaaron par hi kaam kar sakte hain civil sevak apni buddhimata ka upyog karne shami nahi hai bhale upsc kitna kathin pariksha le karke unko chayanit kar rahi hai lekin chalna unhe unhi 8 paas 10 paas 12 paas rajnetao ke aadhar par hai toh isliye rashtra unnati ke path par tarakki nahi kar sakta kyonki shaktihin pad hota hai civil sevakon ka aur jis pad me shakti nahi hai toh kaise sudhaar karega

अगर वास्तविक तौर पर सिविल सेवकों की ताकत की बात की जाए तो संवैधानिक तौर पर वे शक्तिशाली तो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:20
Play

Likes  112  Dislikes    views  1916
WhatsApp_icon
play
user

Dr Jayadev Sarangi

Worked at Indian Administrative Service (AGMUT), Formerly SECRETARY,GOVERNMENT OF NCT OF DELHI/Goa Government .Formerly Expert UNODC

3:07

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सबसे बड़ी बात है कि आज तो तू किसी सिविल सर्विस की पार्टी में ताकत होता है कि किसी छोटी-छोटी चीजें हैं अब तिहाड़ जेल में मैं जब आया था इसी बीच में मैच हुआ था जब मैं d335 में आईडी बंद कराया और लाखों लोगों की जिंदगी में परिवर्तन देखे आपको खुशी में उसका कोई भी कोई इंसान जो काफी सारे ग्रहण करने के बाद जेल में आ गया और आप जो भी प्रोग्राम इन टू यूज करते हो उसको क्या हमसे कोई मदद उसको मिल गया और उसके घर वाले आकर कहते मुसीबत संपर्क में आयात करने की योजना थी कैसी लगी श्याम हमारे जिंदगी बदल गई राशि के बताइए बरौनी जंक्शन मॉडर्न भारत सरकार ने मंत्रालय ने सभी राज्यों को भेजा था कि बात है और चना और उसके बाद उसके ऊपर से जल्दी फोन में कुछ अज्ञात लोगों को पता भी नहीं होगा कि 25 साल की शुरुआत हुई थी अब आपको लगता है अगर आपने कोई छोटी चीज की थी और छोटी सी चीज से चैट 5MB कभी आपको शायरी पर वरदान दिया कि आपकी कमजोरी के लोग या जैसे पुलिस में आते हैं जो बाकी सब लोग जिंदगी में काफी बदलाव लाते हैं और अब रूटीन की नौकरी कर रहे हो तो चकरी चकरी क्या मतलब है कि आपको दीदी ने तुझको

yah sabse badi baat hai ki aaj toh tu kisi civil service ki party mein takat hota hai ki kisi choti choti cheezen hain ab tihad jail mein main jab aaya tha isi beech mein match hua tha jab main d335 mein id band karaya aur laakhon logo ki zindagi mein parivartan dekhe aapko khushi mein uska koi bhi koi insaan jo kaafi saare grahan karne ke baad jail mein aa gaya aur aap jo bhi program in to use karte ho usko kya humse koi madad usko mil gaya aur uske ghar waale aakar kehte musibat sampark mein ayat karne ki yojana thi kaisi lagi shyam hamare zindagi badal gayi rashi ke bataye barauni junction modern bharat sarkar ne mantralay ne sabhi rajyo ko bheja tha ki baat hai aur chana aur uske baad uske upar se jaldi phone mein kuch agyaat logo ko pata bhi nahi hoga ki 25 saal ki shuruat hui thi ab aapko lagta hai agar aapne koi choti cheez ki thi aur choti si cheez se chat 5MB kabhi aapko shaayari par vardaan diya ki aapki kamzori ke log ya jaise police mein aate hain jo baki sab log zindagi mein kaafi badlav laate hain aur ab routine ki naukri kar rahe ho toh chakri chakri kya matlab hai ki aapko didi ne tujhko

यह सबसे बड़ी बात है कि आज तो तू किसी सिविल सर्विस की पार्टी में ताकत होता है कि किसी छोटी-

Romanized Version
Likes  134  Dislikes    views  2168
WhatsApp_icon
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाज में बहुत से समाज सुधारक होते हैं धार्मिक सौहार्द होते हैं क्रिटिकल भी होते हैं वह अगर उनका जीवन जो है संतुलित है और उदाहरण नहीं है तो वह समाज के अंदर और जीवन के अंदर बदलाव लाने की क्षमता रखते हैं इसलिए समाज सुधारक ऐसे बहुत कम होते हैं लेकिन अगर होते हैं तो समाज के अंदर बहुत सुंदर प्रभाव होता है और दूसरों का जीवन सुबह सकते हैं

samaaj mein bahut se samaj sudharak hote hain dharmik sauhaard hote hain critical bhi hote hain vaah agar unka jeevan jo hai santulit hai aur udaharan nahi hai toh vaah samaj ke andar aur jeevan ke andar badlav lane ki kshamta rakhte hain isliye samaj sudharak aise bahut kam hote hain lekin agar hote hain toh samaj ke andar bahut sundar prabhav hota hai aur dusro ka jeevan subah sakte hain

समाज में बहुत से समाज सुधारक होते हैं धार्मिक सौहार्द होते हैं क्रिटिकल भी होते हैं वह अगर

Romanized Version
Likes  265  Dislikes    views  6103
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में शिक्षक इतनी ताकत है तो किसी को भी जोड़ सकते हैं नीच अंडे अगर वह इमानदार वफादार सच्चे सेवक की शपथ लेते हैं तो वह हिंदुस्तान की काया पलट सकते हैं सचमुच निश्चित है क्योंकि कुछ तपस्या करके पढ़ाई करके ज्ञान प्राप्त करके टच करके स्वभाविक पढ़ाई पढ़ के दोनों ने योग्यता हासिल की इस पद को कैसे कमाते हैं दोस्तों का या रोकर ऐसी स्थिति में वह नए नए नए नए एप्स ठाट नई नई योजनाएं और नए नए कार्य करते हैं जिससे कि देश की आर्थिक समाजिक और राजनीतिक हटाने की अवस्था पर प्रभाव पड़ता है हनुमान के चरणों दुनिया में सुधार करने वाले दो ही प्रमुख व्यक्तियों के एक अध्यापक जीवन अनुसार समाज कर शिविर से होते हैं उनको इन दोनों के माध्यम से दुनिया बदल सकती है

kya hamare desh ke civil sevakon mein shikshak itni takat hai toh kisi ko bhi jod sakte hain neech ande agar vaah imaandaar vafaadar sacche sevak ki shapath lete hain toh vaah Hindustan ki kaaya palat sakte hain sachmuch nishchit hai kyonki kuch tapasya karke padhai karke gyaan prapt karke touch karke swabhavik padhai padh ke dono ne yogyata hasil ki is pad ko kaise kamate hain doston ka ya rokar aisi sthiti mein vaah naye naye naye naye apps thaat nayi nayi yojanaye aur naye naye karya karte hain jisse ki desh ki aarthik samajik aur raajnitik hatane ki avastha par prabhav padta hai hanuman ke charno duniya mein sudhaar karne waale do hi pramukh vyaktiyon ke ek adhyapak jeevan anusaar samaj kar shivir se hote hain unko in dono ke madhyam se duniya badal sakti hai

क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में शिक्षक इतनी ताकत है तो किसी को भी जोड़ सकते हैं नीच अंड

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1324
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

3:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में सचमुच कितनी ताकत है कि वह किसी का जीवन सुधार सकते हैं निश्चित रूप से जो सिविल सर्वेंट है जो आईएएस ऑफिसर है जो आईपीएस ऑफिसर है वह अपने ट्रेनिंग से लेकर अपने रिटायरमेंट की एज तक ऑफिस में काम करें या सचिवालय में काम करें क्योंकि वह व्यवस्था का अंग होते हैं वह व्यवस्था देने और नीति निर्धारक जो तत्व है उसका अंग होते हैं इसलिए उनके अधिकारों में काफी क्षमता अंतर नहीं है जिससे उस समाज के लिए और राष्ट्र के लिए कुछ कर सकते हैं लेकिन इसमें भी करता वही सिविल सेवक है जिसके अंदर जलवा और भाव होता है वक्त में आईएएस और आईपीएस जो नौकरी है या जो पद है यह प्रोटीन नौकरी का पद नहीं है कि आप जाते हैं ऑफिस चले आते हैं वास्तव में आपके जो समाज है आपका जोजिला है आपको जो क्षेत्र है उस क्षेत्र में चुनौतियां क्या हैं उस क्षेत्र में समस्याएं क्या है सर्वांगीण समस्याएं बहुआयामी समझते हैं उनका चिंतन करके उनकी योजना बनाकर उनका निराकरण करना और निराकरण किस तरीके से हो सकता है इसकी सरकार को सलाह देना यह उनका काम है अगर हम सेवा के भाव से अगर हम इस पद पर हैं तब तो उसकी सार्थकता और प्रासंगिकता अगर हम एक भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा सेंटेंस आपके पुलिस ऑफिसर को और आपके भी लोकेसियो चेस्ट सचिवालय की हो या कलेक्ट्रेट की हो सबसे बड़ा भ्रष्टाचार का केंद्र भी यही है अगर ऐसे भ्रष्ट अगर सिविल सर्वेंट हमें मिलते हैं यह देश के लिए बहुत बड़ी त्रासदी और मैं तो यह कहूंगा कि जहां तक जीवन सुधारने की बात है तो जीवन सुधारने का अवसर संकल्प न केवल सिविल सर्वेंट को बल्कि उस व्यक्ति के पास होता है जिसके अंदर लोगों को सुधारने का जज्बा और सुधारने के लिए छुट्टी आप जीवन के किसी भी क्षेत्र में आप ग्रस्त आप शिक्षक आप बिजनेस में अगर लोगों को सुधारने का लोगों के लिए कुछ करने का जज्बा तो नॉट नेसेसरीली कि आप आईएएस यू तभी लोग के अंदर सुधार आप पैदा कर सकें महात्मा गांधी कौन से सिरसागंज थे लेकिन कितने लोगों का जीवन बदल दिया दयानंद सरस्वती कौन से आईएस थे लोगों के जीवन को रूपांतरित कर दिया स्वामी विवेकानंद कौन से आईएस थे या लोगों का भाव उदारता करुणा अगर यह व्यक्ति के अंदर अंतर्निहित है वह जीवन के समाज के किसी भी क्षेत्र में है वह लोगों को रूपांतरित करने की क्षमता रखता है और ऐसा कर सकता है

aapka prashna hai kya hamare desh ke civil sevakon mein sachmuch kitni takat hai ki vaah kisi ka jeevan sudhaar sakte hain nishchit roop se jo civil servant hai jo IAS officer hai jo ips officer hai vaah apne training se lekar apne retirement ki age tak office mein kaam kare ya sachivalaya mein kaam kare kyonki vaah vyavastha ka ang hote hain vaah vyavastha dene aur niti nirdharak jo tatva hai uska ang hote hain isliye unke adhikaaro mein kaafi kshamta antar nahi hai jisse us samaj ke liye aur rashtra ke liye kuch kar sakte hain lekin isme bhi karta wahi civil sevak hai jiske andar jalwa aur bhav hota hai waqt mein IAS aur ips jo naukri hai ya jo pad hai yah protein naukri ka pad nahi hai ki aap jaate hain office chale aate hain vaastav mein aapke jo samaj hai aapka jojila hai aapko jo kshetra hai us kshetra mein chunautiyaan kya hain us kshetra mein samasyaen kya hai Sarvangiṇa samasyaen bahuayami samajhte hain unka chintan karke unki yojana banakar unka nirakaran karna aur nirakaran kis tarike se ho sakta hai iski sarkar ko salah dena yah unka kaam hai agar hum seva ke bhav se agar hum is pad par hain tab toh uski sarthakta aur parasangikta agar hum ek bhrashtachar ka sabse bada sentence aapke police officer ko aur aapke bhi lokesiyo chest sachivalaya ki ho ya kalektret ki ho sabse bada bhrashtachar ka kendra bhi yahi hai agar aise bhrasht agar civil servant hamein milte hain yah desh ke liye bahut badi trasadi aur main toh yah kahunga ki jaha tak jeevan sudhaarne ki baat hai toh jeevan sudhaarne ka avsar sankalp na keval civil servant ko balki us vyakti ke paas hota hai jiske andar logo ko sudhaarne ka jajba aur sudhaarne ke liye chhutti aap jeevan ke kisi bhi kshetra mein aap grast aap shikshak aap business mein agar logo ko sudhaarne ka logo ke liye kuch karne ka jajba toh not necessarily ki aap IAS you tabhi log ke andar sudhaar aap paida kar sake mahatma gandhi kaunsi sirsaganj the lekin kitne logo ka jeevan badal diya dayanand saraswati kaunsi ias the logo ke jeevan ko rupantarit kar diya swami vivekananda kaunsi ias the ya logo ka bhav udarata karuna agar yah vyakti ke andar antarnihit hai vaah jeevan ke samaj ke kisi bhi kshetra mein hai vaah logo ko rupantarit karne ki kshamta rakhta hai aur aisa kar sakta hai

आपका प्रश्न है क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में सचमुच कितनी ताकत है कि वह किसी का जीवन स

Romanized Version
Likes  165  Dislikes    views  1110
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां हमारे सिविल सेवकों में सच में इतनी ताकत है क्यों किसी की जिंदगी में सुधार सकते हैं क्योंकि उन्हें इतनी अथॉरिटी मिल चुकी हुई होती है इसका उत्सव प्रयोग कर किसी की जिंदगी को बनावे सकते हैं

haan hamare civil sevakon me sach me itni takat hai kyon kisi ki zindagi me sudhaar sakte hain kyonki unhe itni authority mil chuki hui hoti hai iska utsav prayog kar kisi ki zindagi ko banave sakte hain

हां हमारे सिविल सेवकों में सच में इतनी ताकत है क्यों किसी की जिंदगी में सुधार सकते हैं क्य

Romanized Version
Likes  277  Dislikes    views  3082
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम बिल्कुल आपका सवाल यह है कि क्या सिविल सेवकों में सचमुच अपनी ताकत होती है कि वह किसी के जिंदगी को सुधार सकते हैं मेरा मानना यह है कि हां बिल्कुल अगर कोई व्यक्ति जानबूझकर कि अगर अपने जीवन में सुधार नहीं लाना चाहता है तो सिविल सर्वेंट कोई भगवान नहीं है कि वह शक्ति से आप को सुधार देगा लेकिन सिविल सर्वेंट की मात्र जबकि यह है कि पहले नंबर जनता को कुछ बुराई कर रहा है उससे उसको अवगत कराया जाए जो भी वह गलती कर रहा है उस गलतियों की बुरा और अच्छा दोनों के बारे में एक्सप्लेन करके उस व्यक्ति को बताएं जिसका जीवन खराब है यद्यपि उस व्यक्ति को महसूस हो जाता है कि हम अपने जीवन में गलत कर रहे हैं तो वह सिविल एवं को भूल सकता है कि हां सर मैं अपने जीवन में अच्छा करना चाहता हूं अगर हमें मौका दिया जाएगा तो हम अच्छा करेंगे ऐसे में सिविल सर्विस उस व्यक्ति को मौका देता है जिससे कि वह अपने जीवन को बेहतर कर लेता है महीने के दो कि सिविल सर्वेंट के पास वह ताकत है कि वह खुद से किसी की जिंदगी को बना देगा लेकिन मैं यह कहता हूं कि यह बात सच है कि सिविल सर्वेंट के पास इतना ताकत है कि अच्छाई व बुराई को किसी के सामने अवगत करा सकता है उसे याद दिला सकता है यद्यपि उस से व्यक्ति के जीवन में प्रभाव पड़ता है तो वह बदलता है और हां अगर उसके बाद भी अगर व्यक्ति नहीं मानता है और सिविल सर्वेंट को लगता है कि हां इससे देश को खतरा है समाज को खतरा है तो फिर उस व्यक्ति के जीवन को दुरुस्त कर देता है और ऐसा करना मात्र एक मजबूरी भी होती कानून का ऐसा होना भी चाहिए धन्यवाद

aam bilkul aapka sawaal yah hai ki kya civil sevakon mein sachmuch apni takat hoti hai ki vaah kisi ke zindagi ko sudhaar sakte hain mera manana yah hai ki haan bilkul agar koi vyakti janbujhkar ki agar apne jeevan mein sudhaar nahi lana chahta hai toh civil servant koi bhagwan nahi hai ki vaah shakti se aap ko sudhaar dega lekin civil servant ki matra jabki yah hai ki pehle number janta ko kuch burayi kar raha hai usse usko avgat karaya jaaye jo bhi vaah galti kar raha hai us galatiyon ki bura aur accha dono ke bare mein explain karke us vyakti ko bataye jiska jeevan kharab hai yadyapi us vyakti ko mehsus ho jata hai ki hum apne jeevan mein galat kar rahe hain toh vaah civil evam ko bhool sakta hai ki haan sir main apne jeevan mein accha karna chahta hoon agar hamein mauka diya jaega toh hum accha karenge aise mein civil service us vyakti ko mauka deta hai jisse ki vaah apne jeevan ko behtar kar leta hai mahine ke do ki civil servant ke paas vaah takat hai ki vaah khud se kisi ki zindagi ko bana dega lekin main yah kahata hoon ki yah baat sach hai ki civil servant ke paas itna takat hai ki acchai va burayi ko kisi ke saamne avgat kara sakta hai use yaad dila sakta hai yadyapi us se vyakti ke jeevan mein prabhav padta hai toh vaah badalta hai aur haan agar uske baad bhi agar vyakti nahi manata hai aur civil servant ko lagta hai ki haan isse desh ko khatra hai samaj ko khatra hai toh phir us vyakti ke jeevan ko durast kar deta hai aur aisa karna matra ek majburi bhi hoti kanoon ka aisa hona bhi chahiye dhanyavad

आम बिल्कुल आपका सवाल यह है कि क्या सिविल सेवकों में सचमुच अपनी ताकत होती है कि वह किसी के

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  288
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह समय देश के सिविल सेवकों में इतनी ताकत है कि वह सही निर्णय पर सही काम करो तो किसी को भी सुधार सकते हैं उन पर कैप्सिटी जाता है उनके शरीर में उनकी व्यक्ति को जानते हैं वह किसी को भी सुधार सकते हैं बशर्ते हम बहुत सारे हैं जैसे आईएएस दीपक रावत आईएएस दीपक रावत आईएएस दीपक रावत सर बहुत ही अच्छा काम करते हैं वह हरिद्वार के डीएम बहुत ही चाहे किसी को सुधार सकते हैं वह बहुत ही अच्छे डीजे में

yah samay desh ke civil sevakon me itni takat hai ki vaah sahi nirnay par sahi kaam karo toh kisi ko bhi sudhaar sakte hain un par kaipsiti jata hai unke sharir me unki vyakti ko jante hain vaah kisi ko bhi sudhaar sakte hain basharte hum bahut saare hain jaise IAS deepak rawat IAS deepak rawat IAS deepak rawat sir bahut hi accha kaam karte hain vaah haridwar ke dm bahut hi chahen kisi ko sudhaar sakte hain vaah bahut hi acche DJ me

यह समय देश के सिविल सेवकों में इतनी ताकत है कि वह सही निर्णय पर सही काम करो तो किसी को भी

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  145
WhatsApp_icon
user

Pragti Tripathi

UPSC Aspirant

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इसमें ताकत की बात नहीं है हमारे देश के 10 सिविल सेवक है ठीक है उनकी जिम्मेदारी है कि वह सरकार की जो योजनाएं हैं जो उनके द्वारा दिए गए काम है लोगों तक पहुंचाए ठीक करें देखरेख करेंगे लोगों तक उनकी ऊंचाई योजनाएं जा रही है अभी से ही घर में ठीक है तुम लोगों तक प्रधानमंत्री द्वारा दी गई योजनाएं जब लोगों तक पहुंचेंगे ठीक है तो अपने आप उनकी जिंदगी में सुधार होगा ठीक है तुम मेन काम कौन कर रहा है हमारे सिविल सेवा कर रहे हैं इसमें यह चीजें कह सकते हैं कि हां बिल्कुल उनके इस अच्छे काम करने इस काम के एकाग्रता को देख कर कह सकते हैं कि वह लोगों के जीवन में सुधार करते हैं

dekhiye isme takat ki baat nahi hai hamare desh ke 10 civil sevak hai theek hai unki jimmedari hai ki vaah sarkar ki jo yojanaye hain jo unke dwara diye gaye kaam hai logo tak pahunchaye theek kare dekhrekh karenge logo tak unki unchai yojanaye ja rahi hai abhi se hi ghar me theek hai tum logo tak pradhanmantri dwara di gayi yojanaye jab logo tak pahunchenge theek hai toh apne aap unki zindagi me sudhaar hoga theek hai tum main kaam kaun kar raha hai hamare civil seva kar rahe hain isme yah cheezen keh sakte hain ki haan bilkul unke is acche kaam karne is kaam ke ekagrata ko dekh kar keh sakte hain ki vaah logo ke jeevan me sudhaar karte hain

देखिए इसमें ताकत की बात नहीं है हमारे देश के 10 सिविल सेवक है ठीक है उनकी जिम्मेदारी है कि

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में सच में इतनी ताकत है कि वह किसी का जीवन सुधार सकते हैं हां तो उसको बताइए तो अच्छी योजना लागू करके और बेरोजगारों को रोजगार प्रदान कर सकते हैं आर्थिक स्थिति सुधार सकते हैं अन्य कार्य करके अपने आप को और अपने करते हुए पर रहते हुए भरपूर अगर करते हुए का फायदा उठा सकते हैं क्योंकि सब कुछ उन्हीं के हाथों में रहता है क्योंकि योजना बनाना और योजनाओं को क्रियान्वित करना उन्हीं के अनुसार होता है एक चैनल के माध्यम से पूर्व योजना चलाते हैं आशा करता हूं मेरे द्वारा दी गई जानकारी

kya hamare desh ke civil sevakon mein sach mein itni takat hai ki vaah kisi ka jeevan sudhaar sakte hain haan toh usko bataiye toh achi yojana laagu karke aur berozgaron ko rojgar pradan kar sakte hain aarthik sthiti sudhaar sakte hain anya karya karke apne aap ko aur apne karte hue par rehte hue bharpur agar karte hue ka fayda utha sakte hain kyonki sab kuch unhi ke hathon mein rehta hai kyonki yojana banana aur yojnao ko kriyanwit karna unhi ke anusaar hota hai ek channel ke madhyam se purv yojana chalte hain asha karta hoon mere dwara di gayi jaankari

क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में सच में इतनी ताकत है कि वह किसी का जीवन सुधार सकते हैं ह

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  330
WhatsApp_icon
user

riya Singh

As Student

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो हेलो आई एम हियर क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में सच सच में इतनी ताकत है कि वह किसी का जीवन सुधार सकते हैं आई एग्री दिस स्टेटमेंट स्टेटमेंट कि हां सुधार सकते हैं ओके थैंक यू सो मच

hello hello I M hear kya hamare desh ke civil sevakon me sach sach me itni takat hai ki vaah kisi ka jeevan sudhaar sakte hain I agree this statement statement ki haan sudhaar sakte hain ok thank you so match

हेलो हेलो आई एम हियर क्या हमारे देश के सिविल सेवकों में सच सच में इतनी ताकत है कि वह किसी

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user

Murli

Student

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आंखों में इतनी ताकत है कि वह दूसरे के जीवन जीवन सुधार सकते हैं वह कैसे तो वह आपको मोटिवेशन के तू ही वकील के जीवन को सुधार सकते हैं और इससे अच्छा मौका है कि कुछ भी सर्विस आम आदमी को मोटिवेट कर रहा है जो गलत रास्ते पर गए हैं उनको सुधार रहे हैं इसमें सिम सेवकों की सबसे बड़ी अहम भूमिका मारा जाए या उनकी ताकत मान गए एक बिगड़े हुए सुधारना सबसे बड़ा लक्ष्य होता है

aakhon me itni takat hai ki vaah dusre ke jeevan jeevan sudhaar sakte hain vaah kaise toh vaah aapko motivation ke tu hi vakil ke jeevan ko sudhaar sakte hain aur isse accha mauka hai ki kuch bhi service aam aadmi ko motivate kar raha hai jo galat raste par gaye hain unko sudhaar rahe hain isme sim sevakon ki sabse badi aham bhumika mara jaaye ya unki takat maan gaye ek bigade hue sudharna sabse bada lakshya hota hai

आंखों में इतनी ताकत है कि वह दूसरे के जीवन जीवन सुधार सकते हैं वह कैसे तो वह आपको मोटिवेशन

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!