आज के समय में लोग इतने मतलबी क्यों होते जा र है हैं?...


user

S.R.PARDESHI

History spoken specialist | Motivational Speaker

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के समय में लोग इतने मतलबी क्यों होती है प्रश्न बहुत अच्छा है लेकिन इसके कारण वजह वजह बहुत ही अलग अलग हो जाए हर राजा की आप आप के लोग मतलबी क्यों है इसके लिए ना और आज की जो आने वाली पीढ़ियों वह बहुत मतलबी रहेंगे क्योंकि उनमें समाज में मतलब लोगों में मिलनसार ही नहीं है क्योंकि आजकल मोबाइल आ गया है लैपटॉप में टीवी है यह जब बहुत सी चीजें आ चुकी है आज सोशल मीडिया हो गया मतलब आप वह आदमी को पहचानते भी नहीं और हम उससे दिन रात बातें करते रहते हैं जिसे हमने देखा भी ना हो ऐसा समा गए आजकल दो दोस्त मिलते हैं लेकिन उनके हाथ में गैजेट होता है अब मोबाइल को उस महिला के होते हैं वह आस-पास खड़े हैं लेकिन बात भी नहीं करती आजू-बाजू होकर आस-पास हो करो दिल से नहीं मिलते हाय हेलो बस इसलिए आजकल के लोग मतलबी होते कि दिन के दूसरे के मैं सोचती नहीं है दूसरे के अंदर फीलिंग ही नहीं आती कि वह से गैजेट विद्न्यान मतलब आधुनिक करण के वजह से बहुत कुछ लोग मतलबी है अभी किसी को लगी नहीं पीछे भी सोचे वैसा नहीं है भैया जो है वह है आजकल लोग उसमें ज्यादा एंटरटेनमेंट टीवी हंसने के लिए मैंने जो लगते आजकल ऐसी बात हो गई जो मिलते नहीं हो चाय के कटे हो कटे आजकल गायब होती है जिसके लिए मतलबी होती जा रही है दूसरों से मिलेंगे उतना कम मिलनसार बढ़ता है ठीक है

aaj ke samay mein log itne matlabi kyon hoti hai prashna bahut accha hai lekin iske karan wajah wajah bahut hi alag alag ho jaaye har raja ki aap aap ke log matlabi kyon hai iske liye na aur aaj ki jo aane wali peedhiyon vaah bahut matlabi rahenge kyonki unmen samaj mein matlab logo mein milansaar hi nahi hai kyonki aajkal mobile aa gaya hai laptop mein TV hai yah jab bahut si cheezen aa chuki hai aaj social media ho gaya matlab aap vaah aadmi ko pehchante bhi nahi aur hum usse din raat batein karte rehte hain jise humne dekha bhi na ho aisa sama gaye aajkal do dost milte hain lekin unke hath mein gadget hota hai ab mobile ko us mahila ke hote hain vaah aas paas khade hain lekin baat bhi nahi karti aju baju hokar aas paas ho karo dil se nahi milte hi hello bus isliye aajkal ke log matlabi hote ki din ke dusre ke main sochti nahi hai dusre ke andar feeling hi nahi aati ki vaah se gadget vidnyan matlab aadhunik karan ke wajah se bahut kuch log matlabi hai abhi kisi ko lagi nahi peeche bhi soche waisa nahi hai bhaiya jo hai vaah hai aajkal log usme zyada Entertainment TV hasne ke liye maine jo lagte aajkal aisi baat ho gayi jo milte nahi ho chai ke kate ho kate aajkal gayab hoti hai jiske liye matlabi hoti ja rahi hai dusro se milenge utana kam milansaar badhta hai theek hai

आज के समय में लोग इतने मतलबी क्यों होती है प्रश्न बहुत अच्छा है लेकिन इसके कारण वजह वजह बह

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  270
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
log matlabi kyu hote hai ; matalabi log ; kyu ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!