नोटबंदी से क्या क्या नुकसान हुए?...


user

Pankaj Vasuja

Cinematographer

3:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी से क्या-क्या नुकसान नोटबंदी नोटबंदी से नुकसान तो हुए कितना भी जवाब कि वह गांधी जी का जन्म तक आपने हर किताब के शुरू में होता है कि जब आप दुखी होते हो तो आप अपने से ज्यादा दुखी इंसान को देख लो तो आपको अपना दुख महसूस नहीं होगा उसी प्रकार से एक करोड़ ना वायरस ऐसा आया है अभी यह उससे बड़ी प्रॉब्लम होगी तो नोटबंदी बहुत छोटी सी प्रॉब्लम आती हां यह बात अभी नोटबंदी से नुकसान हुआ क्या नुकसान हुआ नोट बंदी से हमारी सरकार का यह नतीजा था अभी नोटबंदी से ना हम बहुत सारी चीजों को कंट्रोल में कर लेंगे लेकिन हुआ उसका बिल्कुल उल्टा अमीर और अमीर हो गए उन्होंने अपने पैर रगड़ के चिराग की तरह और ज्यादा कर लिया और गरीब विचारों का जैसा आजाद करो ना में हो रहा है वैसा ही हाल नोटबंदी में हुआ था गरीब आदमी को गरीब व्यक्ति को कभी भी किसी भी सरकारी नीति से फायदा ने पूछा यह बात है और नोटबंदी की गरीबों के लिए थी इन्होंने और समझ नहीं आई गरीबों के लिए की थी अमीरों के लिए की थी यह आज तक समझ नहीं आई क्योंकि जो पैसा था ना क्या हुआ पैसे का भी हर क्षेत्र में डिस्ट्रिक्ट जिले होते हैं गांव होते हैं कृषि फार्म पर कोई टैक्स नहीं लग रहा था पुराने नोट कृषि विभाग के एग्रीकल्चर लोगों के लिए जा रहे थे तो वह पुराने लोगों के जो बड़े-बड़े मंडी के सेट देना वह वहां से लेकर और बड़े लोगों का पैसा ट्रांसफर करके और बैंकों की मिलीभगत से सब कुछ ऐसी तैसी कर के रख दी नोटबंदी की प्रशासन है ना जो हमारे देश का वह प्रशासन इतना इतना इतना पुलिस ले लो बैंगन ले लो हर क्षेत्र का एक आर्मी कह सकते हैं जो वफादार है पर ठीक है सब की मिली भगत से ना ऊपर वाले लोगों ने तो सही सोचा भी हां हो जाएगा वैसा हो जाएगा ऐसा उस कृषि डिपार्टमेंट में छोटे तबके वालों के अमीर लोगों से संपर्क करके इधर से उधर 10 परसेंट 20 परसेंट पर नए नोटों की हेराफेरी पुराने नोटों की खड़ी हो गई यह बात सत्य है तो नोटबंदी के नुकसान और भी हुए गरीब आदमी बेचारा बहुत परेशान हुआ लाइन में लग लग के और भी चलो कोई बात नहीं अब बड़ी समस्या आ गई है करो ना अभी वह छोटी सी लग रही है क्योंकि उस टाइम घूम फिर तो सकते थे इधर उधर जा तो सकते थे भगवान के रहा है अभी कश्मीर ने इतने साल लोग डाउन सहन किया है तो थोड़ा सा इधर उधर के लोग भी देखें भी उन पर क्या बीती है इतने सालों में ठीक है उन लोगों में है आतंकवादी बनते हैं उनके बच्चे कुछ लोगों में भी सही है 29 साल से भुगत रहे फील करो फिर तभी पता लगेगा विदेश में क्या चलता है राम-राम सभी को

notebandi se kya kya nuksan notebandi notebandi se nuksan toh hue kitna bhi jawab ki vaah gandhi ji ka janam tak aapne har kitab ke shuru me hota hai ki jab aap dukhi hote ho toh aap apne se zyada dukhi insaan ko dekh lo toh aapko apna dukh mehsus nahi hoga usi prakar se ek crore na virus aisa aaya hai abhi yah usse badi problem hogi toh notebandi bahut choti si problem aati haan yah baat abhi notebandi se nuksan hua kya nuksan hua note bandi se hamari sarkar ka yah natija tha abhi notebandi se na hum bahut saari chijon ko control me kar lenge lekin hua uska bilkul ulta amir aur amir ho gaye unhone apne pair ragad ke chirag ki tarah aur zyada kar liya aur garib vicharon ka jaisa azad karo na me ho raha hai waisa hi haal notebandi me hua tha garib aadmi ko garib vyakti ko kabhi bhi kisi bhi sarkari niti se fayda ne poocha yah baat hai aur notebandi ki garibon ke liye thi inhone aur samajh nahi I garibon ke liye ki thi amiron ke liye ki thi yah aaj tak samajh nahi I kyonki jo paisa tha na kya hua paise ka bhi har kshetra me district jile hote hain gaon hote hain krishi form par koi tax nahi lag raha tha purane note krishi vibhag ke agriculture logo ke liye ja rahe the toh vaah purane logo ke jo bade bade mandi ke set dena vaah wahan se lekar aur bade logo ka paisa transfer karke aur bankon ki milibhagat se sab kuch aisi taisi kar ke rakh di notebandi ki prashasan hai na jo hamare desh ka vaah prashasan itna itna itna police le lo baingan le lo har kshetra ka ek army keh sakte hain jo vafaadar hai par theek hai sab ki mili bhagat se na upar waale logo ne toh sahi socha bhi haan ho jaega waisa ho jaega aisa us krishi department me chote tabke walon ke amir logo se sampark karke idhar se udhar 10 percent 20 percent par naye noton ki heraferi purane noton ki khadi ho gayi yah baat satya hai toh notebandi ke nuksan aur bhi hue garib aadmi bechaara bahut pareshan hua line me lag lag ke aur bhi chalo koi baat nahi ab badi samasya aa gayi hai karo na abhi vaah choti si lag rahi hai kyonki us time ghum phir toh sakte the idhar udhar ja toh sakte the bhagwan ke raha hai abhi kashmir ne itne saal log down sahan kiya hai toh thoda sa idhar udhar ke log bhi dekhen bhi un par kya biti hai itne salon me theek hai un logo me hai aatankwadi bante hain unke bacche kuch logo me bhi sahi hai 29 saal se bhugat rahe feel karo phir tabhi pata lagega videsh me kya chalta hai ram ram sabhi ko

नोटबंदी से क्या-क्या नुकसान नोटबंदी नोटबंदी से नुकसान तो हुए कितना भी जवाब कि वह गांधी जी

Romanized Version
Likes  256  Dislikes    views  2859
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!