नोटबंदी से क्या क्या नुकसान हुए?...


user

Pankaj Vasuja

Cinematographer

3:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी से क्या-क्या नुकसान नोटबंदी नोटबंदी से नुकसान तो हुए कितना भी जवाब कि वह गांधी जी का जन्म तक आपने हर किताब के शुरू में होता है कि जब आप दुखी होते हो तो आप अपने से ज्यादा दुखी इंसान को देख लो तो आपको अपना दुख महसूस नहीं होगा उसी प्रकार से एक करोड़ ना वायरस ऐसा आया है अभी यह उससे बड़ी प्रॉब्लम होगी तो नोटबंदी बहुत छोटी सी प्रॉब्लम आती हां यह बात अभी नोटबंदी से नुकसान हुआ क्या नुकसान हुआ नोट बंदी से हमारी सरकार का यह नतीजा था अभी नोटबंदी से ना हम बहुत सारी चीजों को कंट्रोल में कर लेंगे लेकिन हुआ उसका बिल्कुल उल्टा अमीर और अमीर हो गए उन्होंने अपने पैर रगड़ के चिराग की तरह और ज्यादा कर लिया और गरीब विचारों का जैसा आजाद करो ना में हो रहा है वैसा ही हाल नोटबंदी में हुआ था गरीब आदमी को गरीब व्यक्ति को कभी भी किसी भी सरकारी नीति से फायदा ने पूछा यह बात है और नोटबंदी की गरीबों के लिए थी इन्होंने और समझ नहीं आई गरीबों के लिए की थी अमीरों के लिए की थी यह आज तक समझ नहीं आई क्योंकि जो पैसा था ना क्या हुआ पैसे का भी हर क्षेत्र में डिस्ट्रिक्ट जिले होते हैं गांव होते हैं कृषि फार्म पर कोई टैक्स नहीं लग रहा था पुराने नोट कृषि विभाग के एग्रीकल्चर लोगों के लिए जा रहे थे तो वह पुराने लोगों के जो बड़े-बड़े मंडी के सेट देना वह वहां से लेकर और बड़े लोगों का पैसा ट्रांसफर करके और बैंकों की मिलीभगत से सब कुछ ऐसी तैसी कर के रख दी नोटबंदी की प्रशासन है ना जो हमारे देश का वह प्रशासन इतना इतना इतना पुलिस ले लो बैंगन ले लो हर क्षेत्र का एक आर्मी कह सकते हैं जो वफादार है पर ठीक है सब की मिली भगत से ना ऊपर वाले लोगों ने तो सही सोचा भी हां हो जाएगा वैसा हो जाएगा ऐसा उस कृषि डिपार्टमेंट में छोटे तबके वालों के अमीर लोगों से संपर्क करके इधर से उधर 10 परसेंट 20 परसेंट पर नए नोटों की हेराफेरी पुराने नोटों की खड़ी हो गई यह बात सत्य है तो नोटबंदी के नुकसान और भी हुए गरीब आदमी बेचारा बहुत परेशान हुआ लाइन में लग लग के और भी चलो कोई बात नहीं अब बड़ी समस्या आ गई है करो ना अभी वह छोटी सी लग रही है क्योंकि उस टाइम घूम फिर तो सकते थे इधर उधर जा तो सकते थे भगवान के रहा है अभी कश्मीर ने इतने साल लोग डाउन सहन किया है तो थोड़ा सा इधर उधर के लोग भी देखें भी उन पर क्या बीती है इतने सालों में ठीक है उन लोगों में है आतंकवादी बनते हैं उनके बच्चे कुछ लोगों में भी सही है 29 साल से भुगत रहे फील करो फिर तभी पता लगेगा विदेश में क्या चलता है राम-राम सभी को

notebandi se kya kya nuksan notebandi notebandi se nuksan toh hue kitna bhi jawab ki vaah gandhi ji ka janam tak aapne har kitab ke shuru me hota hai ki jab aap dukhi hote ho toh aap apne se zyada dukhi insaan ko dekh lo toh aapko apna dukh mehsus nahi hoga usi prakar se ek crore na virus aisa aaya hai abhi yah usse badi problem hogi toh notebandi bahut choti si problem aati haan yah baat abhi notebandi se nuksan hua kya nuksan hua note bandi se hamari sarkar ka yah natija tha abhi notebandi se na hum bahut saari chijon ko control me kar lenge lekin hua uska bilkul ulta amir aur amir ho gaye unhone apne pair ragad ke chirag ki tarah aur zyada kar liya aur garib vicharon ka jaisa azad karo na me ho raha hai waisa hi haal notebandi me hua tha garib aadmi ko garib vyakti ko kabhi bhi kisi bhi sarkari niti se fayda ne poocha yah baat hai aur notebandi ki garibon ke liye thi inhone aur samajh nahi I garibon ke liye ki thi amiron ke liye ki thi yah aaj tak samajh nahi I kyonki jo paisa tha na kya hua paise ka bhi har kshetra me district jile hote hain gaon hote hain krishi form par koi tax nahi lag raha tha purane note krishi vibhag ke agriculture logo ke liye ja rahe the toh vaah purane logo ke jo bade bade mandi ke set dena vaah wahan se lekar aur bade logo ka paisa transfer karke aur bankon ki milibhagat se sab kuch aisi taisi kar ke rakh di notebandi ki prashasan hai na jo hamare desh ka vaah prashasan itna itna itna police le lo baingan le lo har kshetra ka ek army keh sakte hain jo vafaadar hai par theek hai sab ki mili bhagat se na upar waale logo ne toh sahi socha bhi haan ho jaega waisa ho jaega aisa us krishi department me chote tabke walon ke amir logo se sampark karke idhar se udhar 10 percent 20 percent par naye noton ki heraferi purane noton ki khadi ho gayi yah baat satya hai toh notebandi ke nuksan aur bhi hue garib aadmi bechaara bahut pareshan hua line me lag lag ke aur bhi chalo koi baat nahi ab badi samasya aa gayi hai karo na abhi vaah choti si lag rahi hai kyonki us time ghum phir toh sakte the idhar udhar ja toh sakte the bhagwan ke raha hai abhi kashmir ne itne saal log down sahan kiya hai toh thoda sa idhar udhar ke log bhi dekhen bhi un par kya biti hai itne salon me theek hai un logo me hai aatankwadi bante hain unke bacche kuch logo me bhi sahi hai 29 saal se bhugat rahe feel karo phir tabhi pata lagega videsh me kya chalta hai ram ram sabhi ko

नोटबंदी से क्या-क्या नुकसान नोटबंदी नोटबंदी से नुकसान तो हुए कितना भी जवाब कि वह गांधी जी

Romanized Version
Likes  256  Dislikes    views  2858
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज की नोटबंदी जो है वह आम आदमी को जो थोड़ा बहुत नुकसान हुआ है क्योंकि आम आदमी ने बहुत कल चलें क्योंकि जो अमीर आदमी थे बड़े-बड़े लोग थे उन्होंने तो अपना के अगल-बगल करके मैनेजर को घूस लेकर जा अपना काम करवा लिया लेकिन जो आम आदमी है वह दिनभर लाइन में लगते बैंक के बाहर जो है अपना जो कुछ हजार रुपए हैं उनको एक चेंज किया उनको अकाउंट में डलवाए तो वह मुझे आम आदमी को जो है बहुत सफल हुआ है और नुकसान बताओ कुछ नहीं हुआ नोटबंदी जो हमारे देश के फायदे जो है आतंकवादी कश्मीर में जो पत्थर बातें आतंकवादी देओल की फंडिंग में जो है उस समय बहुत देर तक रुक गई थी और बहुत दिनों तक जहां पर टैक्स नहीं होते तो ब्लैक मनी से बहुत बार आया तो मैं WhatsApp के नुकसान कम है हां लेकिन जितने भी वह मैं समझता हूं कि भारत की जनता जो है हमारे भारत की उन्नति के लिए जो है अगर थोड़ा बहुत कष्ट झेलना पड़े तो जरूर चलेगी बंदे का फायदा जो है वह हुआ है और वह दिखाई देना

aaj ki notebandi jo hai vaah aam aadmi ko jo thoda bahut nuksan hua hai kyonki aam aadmi ne bahut kal chalen kyonki jo amir aadmi the bade bade log the unhone toh apna ke agal bagal karke manager ko ghus lekar ja apna kaam karva liya lekin jo aam aadmi hai vaah dinbhar line mein lagte bank ke bahar jo hai apna jo kuch hazaar rupaye hain unko ek change kiya unko account mein dalvaye toh vaah mujhe aam aadmi ko jo hai bahut safal hua hai aur nuksan batao kuch nahi hua notebandi jo hamare desh ke fayde jo hai aatankwadi kashmir mein jo patthar batein aatankwadi deol ki funding mein jo hai us samay bahut der tak ruk gayi thi aur bahut dino tak jaha par tax nahi hote toh black money se bahut baar aaya toh main WhatsApp ke nuksan kam hai haan lekin jitne bhi vaah main samajhata hoon ki bharat ki janta jo hai hamare bharat ki unnati ke liye jo hai agar thoda bahut kasht jhelna pade toh zaroor chalegi bande ka fayda jo hai vaah hua hai aur vaah dikhai dena

आज की नोटबंदी जो है वह आम आदमी को जो थोड़ा बहुत नुकसान हुआ है क्योंकि आम आदमी ने बहुत कल च

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  201
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे जो नवंबर 2016 में नोटबंदी लागू की थी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसका मुख्य एम था कि भ्रष्टाचार को कम करना जो भी जनों का काला धन जमा है उसको खत्म करना जाली नोट छपते हैं बंद करना यह सब चीजें थी नोटबंदी हुई जनता को लाइन में लगना पड़ा दो-तीन महीने तक उसके बाद जितना पैसा पहले जमा था जितना पुराना नोट था उतना ही नए नोट की नई करेंसी में आगे उतना ही बैंक में आ गए कुल मिलाकर जो कम होनी चाहिए थी संख्या नोट की पहली दूसरी चीज लोगों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ा जहां तक नुकसान का सवाल है बहुत लाइनें पढ़ चुका है उसकी जो कमाई ही कुछ 500 1000 2000 के नोट ों में के रूप में होती है वही जब उसके अवैध हो गए तो उसके लिए बहुत दिक्कत 2 का सामना करना पड़ा लघु उद्योग जिनके थे उनका उद्योग में काफी गिरावट हुई थी उद्योग बंद होगा ताले लगे उनकी फैक्ट्रियों पता नहीं था नोटबंदी पर सारा रूपया हवेली नोटबंदी हो चुकी है काला धन स्विस बैंक में जो अभी तक नहीं आया जो नोटबंदी के दौरान पकड़े गए तो नहीं हुए नुकसान उल्टी और हो गए

dekhe jo november 2016 mein notebandi laagu ki thi pradhanmantri narendra modi ne uska mukhya M tha ki bhrashtachar ko kam karna jo bhi jano ka kaala dhan jama hai usko khatam karna jaali note chupte hai band karna yah sab cheezen thi notebandi hui janta ko line mein lagna pada do teen mahine tak uske baad jitna paisa pehle jama tha jitna purana note tha utana hi naye note ki nayi currency mein aage utana hi bank mein aa gaye kul milakar jo kam honi chahiye thi sankhya note ki pehli dusri cheez logo ko bahut dikkaton ka samana karna pada jaha tak nuksan ka sawaal hai bahut linen padh chuka hai uski jo kamai hi kuch 500 1000 2000 ke note on mein ke roop mein hoti hai wahi jab uske awaidh ho gaye toh uske liye bahut dikkat 2 ka samana karna pada laghu udyog jinke the unka udyog mein kaafi giraavat hui thi udyog band hoga tale lage unki faiktriyon pata nahi tha notebandi par saara rupya haweli notebandi ho chuki hai kaala dhan swiss bank mein jo abhi tak nahi aaya jo notebandi ke dauran pakde gaye toh nahi hue nuksan ulti aur ho gaye

देखे जो नवंबर 2016 में नोटबंदी लागू की थी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसका मुख्य एम था कि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो नुकसान में हुए कुछ लाभ भी हुए यह पर डिपेंड करता है कि आपके लिए नुकसान हो कि नहीं आपको क्या अगर देश देश के पास तो पूजा नहीं है इस समय तो भोजन वह दे रहा है लोगों को दे रहे हैं भारत खिला रहा है भारत की जनता खेलना भारत की जनता को खिलाया जा रहा है भोजन को पहुंचाया जा रहा है तो आप अपनी भोजन कर रहे हैं तो यह सोच रहे हैं क्या ठीक है अगर आप यह सोच रहे हैं कि हम भोजन कर रहे मां कोई भूखा है अभी सोच रहे महीना तो आप यह सोचिए कि आप के लिए वह नुकसान हुआ कि नहीं तो वह आपको लगे कि हां यह नुकसान हुआ अगर आपके लिए ऐसा नहीं हुआ तो वह वह आपको नहीं लगा कि वो नुकसान है

yah toh nuksan me hue kuch labh bhi hue yah par depend karta hai ki aapke liye nuksan ho ki nahi aapko kya agar desh desh ke paas toh puja nahi hai is samay toh bhojan vaah de raha hai logo ko de rahe hain bharat khila raha hai bharat ki janta khelna bharat ki janta ko khilaya ja raha hai bhojan ko pahunchaya ja raha hai toh aap apni bhojan kar rahe hain toh yah soch rahe hain kya theek hai agar aap yah soch rahe hain ki hum bhojan kar rahe maa koi bhukha hai abhi soch rahe mahina toh aap yah sochiye ki aap ke liye vaah nuksan hua ki nahi toh vaah aapko lage ki haan yah nuksan hua agar aapke liye aisa nahi hua toh vaah vaah aapko nahi laga ki vo nuksan hai

यह तो नुकसान में हुए कुछ लाभ भी हुए यह पर डिपेंड करता है कि आपके लिए नुकसान हो कि नहीं आपक

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  172
WhatsApp_icon
user

Markandey Pandey

Senior Journalist

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत नुकसान हुआ है छोटे छोटे लघु उद्योग विहार बिहारी मजदूर बेचारी बेरोजगार हो गए और लघु उद्योग बंद हो गए इसके अलावा नोटबंदी से 2 लोगों को दिक्कतें हुई वह तो हुई ही महीनों तक लोग लाइन में खड़े रहे महीनों तक लोग बिल्कुल उनके हाथ में पैसा ही छीन लिया गया नोटबंदी के कई उद्योगों की कमर टूट गई और जो उद्योग आज भी चालू नहीं हो पाए हैं छोटे-छोटे घाव लघु उद्योगों से मालिश केंद्र की टीम को काफी नुकसान हुआ और बिहारी मजदूर थे वह भी क्या रे पलायन करने को एक जगह से दूसरी जगह जाने को विवश हो गए कई ऐसी घटनाएं हुई कि मजदूरों को जहां रहते थे किराए पर किराया देने के लिए पैसा नहीं मिलता था उनकी बिहारी भी बंद हो गई

bahut nuksan hua hai chote chhote laghu udyog vihar bihari majdur bechari berozgaar ho gaye aur laghu udyog band ho gaye iske alava notebandi se 2 logo ko dikkaten hui wah toh hui hi mahinon tak log line mein khade rahe mahinon tak log bilkul unke hath mein paisa hi chin liya gaya notebandi ke kai udhyogo ki kamar toot gayi aur jo udyog aaj bhi chalu nahi ho paye hai chote chhote ghaav laghu udhyogo se maalish kendra ki team ko kaafi nuksan hua aur bihari majdur the wah bhi kya ray palayan karne ko ek jagah se dusri jagah jaane ko vivash ho gaye kai aisi ghatnaye hui ki majduro ko jaha rehte the kiraye par kiraya dene ke liye paisa nahi milta tha unki bihari bhi band ho gayi

बहुत नुकसान हुआ है छोटे छोटे लघु उद्योग विहार बिहारी मजदूर बेचारी बेरोजगार हो गए और लघु उद

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1270
WhatsApp_icon
user

Manoj Dubey

Journalist

0:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोट बंदी से लोगों को यह पता नहीं हुआ के जो बड़े लोग होते हैं

note bandi se logo ko yah pata nahi hua ke jo bade log hote hain

नोट बंदी से लोगों को यह पता नहीं हुआ के जो बड़े लोग होते हैं

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  679
WhatsApp_icon
play
user

Amit Chamaria

Journalist/Professor

0:34

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो आपने पर रोक लगेगी क्या हुआ सर

jo aapne par rok lagegi kya hua sar

जो आपने पर रोक लगेगी क्या हुआ सर

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  503
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोट बंदी से सबसे बड़ा नुकसान यही हुआ कि आज पाकिस्तान गरीब हो गया है पाकिस्तान जो जाली नोटों का कारोबार किया करता था उसका कारोबार बंद हो गया है आज पाकिस्तान के हर एक नागरिक के ऊपर ₹1500000 का कर्ज है पाकिस्तान में आतंकवाद का खात्मा हो रहा है दिल्ली 10 12 आतंकवादी मारे जा रहे हैं और पाकिस्तान आज दुनिया का सबसे गरीब देश बन गया है वह नोटबंदी के माध्यम से यही नोटबंदी से सबसे अधिक नुकसान हुआ है देखिए नोट बंदी का फैसला हमारे देश के हित के लिए लिया गया था अगर प्रधानमंत्री जी को सत्ता के लालच रति तो कभी भी हमारे देश में जीएसटी लागू नहीं होता कभी भी हमारे देश में नोटबंदी नहीं होता और वह हमारे देश के लिए कार्य करते हैं हमारे देश में विकास का कार्य करते हैं ऐसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को और मौका मिलना चाहिए ताकि हमारे हमारे देश में कुछ ज्यादा अच्छा कार्य हो सके के 5 सालों में वह कार्य प्रधानमंत्री जी ने करके दिखाया है जो 70 सालों में कार्य नहीं हुआ तो इसलिए आप सभी लोगों से मेरा निवेदन है अपना महत्वपूर्ण वोट बीजेपी को दें भारतीय जनता पार्टी को दें ताकि हमारे देश में कुछ अच्छा कार्य हो सके और भी अच्छे अच्छे फैसले लिए जा सके ताकि हमारे देश से भ्रष्टाचार का खात्मा हो सके और पाकिस्तान जैसे देश के आतंकवादियों का हमेशा के लिए खात्मा हो सके धन्यवाद

note bandi se sabse bada nuksan yahi hua ki aaj pakistan garib ho gaya hai pakistan jo jaali noton ka karobaar kiya karta tha uska karobaar band ho gaya hai aaj pakistan ke har ek nagarik ke upar Rs ka karj hai pakistan mein aatankwad ka khatma ho raha hai delhi 10 12 aatankwadi maare ja rahe hain aur pakistan aaj duniya ka sabse garib desh ban gaya hai vaah notebandi ke madhyam se yahi notebandi se sabse adhik nuksan hua hai dekhiye note bandi ka faisla hamare desh ke hit ke liye liya gaya tha agar pradhanmantri ji ko satta ke lalach rati toh kabhi bhi hamare desh mein gst laagu nahi hota kabhi bhi hamare desh mein notebandi nahi hota aur vaah hamare desh ke liye karya karte hain hamare desh mein vikas ka karya karte hain aise pradhanmantri shri narendra modi ji ko aur mauka milna chahiye taki hamare hamare desh mein kuch zyada accha karya ho sake ke 5 salon mein vaah karya pradhanmantri ji ne karke dikhaya hai jo 70 salon mein karya nahi hua toh isliye aap sabhi logo se mera nivedan hai apna mahatvapurna vote bjp ko de bharatiya janta party ko de taki hamare desh mein kuch accha karya ho sake aur bhi acche acche faisle liye ja sake taki hamare desh se bhrashtachar ka khatma ho sake aur pakistan jaise desh ke aatankwadion ka hamesha ke liye khatma ho sake dhanyavad

नोट बंदी से सबसे बड़ा नुकसान यही हुआ कि आज पाकिस्तान गरीब हो गया है पाकिस्तान जो जाली नोटो

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  372
WhatsApp_icon
user

Ved prakash Mishra

Journalist Dainik jagran { Naidunia}

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूपति कहानी देश को भारी नुकसान हुआ खासकर आम जनता को काफी नुकसान उठाना पड़ा आप देखेंगे कि आम जनता ही बैंकों में कतार लगाए खड़े हुई थी आप टाटा बिरला अंबानी अपने बड़े लोगों को जो और पति खरबपति है पैसे वाले हैं या उनको छोड़ दीजिए ऐसा लगता है ऐसे लोग जो काला धन रखते हैं ऐसे जो लोग जा कोलकाता लिखते हैं पैसे वाले हैं उन लोगों को आपने कहीं लाइन में खड़े देखा नहीं होगा सिर्फ आम आदमी गरीब मध्यमवर्गीय की लाइन में खड़ा दिखाई दिया बहुत नुकसान हुआ कई लोगों के नोट 14th रखे हुए थे बदल नहीं पाए उसका नुकसान उठाना पड़ा बताया जाता है कि इसमें कई लोगों की जान चली गई लाइन में खड़े खड़े वही देखेंगे कितने नोट छापे गए उसमें भी करोड़ों का खर्च आया अरबों खर्च आने नोट छापने के नेता करके जरूरत पूरा मशीन भी चाहत पड़ा लोगों को जरूरत पूरा दिन-रात छापेखाने चले और उसी को पूरा करना पड़ा साथ ही हमारी अर्थव्यवस्था थी उस को नुकसान पहुंचा जहां तक बात की जाती है कि नोटबंदी से रजौली कैसी चल रही थी वह बंद हो गई तो ऐसा कुछ नहीं है नया नोट सकते साथ ही उसके जाली नोट पर बनने लग गए हैं और जाली नोट मार्केट में लगे हैं कई बार जाली नोट पकड़े जा चुके हैं दूसरी ओर बताएंगे कि से पुरान आतंकी फंडिंग को रोक लगे तो हां इसमें कहीं थोड़ा बहुत फायदा हो सकता है क्या आतंकी फंडिंग कुरुख लेंगे लेकिन जरूर ने आतंकवादी हमारे देश में आते हैं उनको ने विदेशों से आती है उनको विदेशी फंडिंग हो जाती है इसलिए इसमें भी कुछ खास असर नहीं पड़ा है जहां तक मुझे लगता है इससे जो सरकार ने जो सोचा था वैसा कुछ भी नहीं हुआ बल्कि लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा

bhoopati kahani desh ko bhari nuksan hua khaskar aam janta ko kaafi nuksan uthna pada aap dekhenge ki aam janta hi bankon mein katar lagaye khade hui thi aap tata birala ambani apne bade logo ko jo aur pati kharabpati hai paise waale hai ya unko chod dijiye aisa lagta hai aise log jo kaala dhan rakhte hai aise jo log ja kolkata likhte hai paise waale hai un logo ko aapne kahin line mein khade dekha nahi hoga sirf aam aadmi garib madhyamwargiye ki line mein khada dikhai diya bahut nuksan hua kai logo ke note 14th rakhe hue the badal nahi paye uska nuksan uthna pada bataya jata hai ki isme kai logo ki jaan chali gayi line mein khade khade wahi dekhenge kitne note chaape gaye usme bhi karodo ka kharch aaya araboon kharch aane note chaapne ke neta karke zarurat pura machine bhi chahat pada logo ko zarurat pura din raat chapekhane chale aur usi ko pura karna pada saath hi hamari arthavyavastha thi us ko nuksan pohcha jaha tak baat ki jaati hai ki notebandi se rajauli kaisi chal rahi thi vaah band ho gayi toh aisa kuch nahi hai naya note sakte saath hi uske jaali note par banne lag gaye hai aur jaali note market mein lage hai kai baar jaali note pakde ja chuke hai dusri aur batayenge ki se puran aatanki funding ko rok lage toh haan isme kahin thoda bahut fayda ho sakta hai kya aatanki funding kurukh lenge lekin zaroor ne aatankwadi hamare desh mein aate hai unko ne videshon se aati hai unko videshi funding ho jaati hai isliye isme bhi kuch khaas asar nahi pada hai jaha tak mujhe lagta hai isse jo sarkar ne jo socha tha waisa kuch bhi nahi hua balki logo ko pareshani ka samana karna pada

भूपति कहानी देश को भारी नुकसान हुआ खासकर आम जनता को काफी नुकसान उठाना पड़ा आप देखेंगे कि आ

Romanized Version
Likes  128  Dislikes    views  1021
WhatsApp_icon
user

Sachin Sinha

Journalist

3:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोटबंदी में से सबसे बड़ा नुकसान हो गया भारतीय मुद्रा की स्थिति में दूसरा हुआ भ्रष्टाचार बड़ा तीसरा यह हुआ की वस्तुएं महंगी हो गई अनाप-शनाप सभी का वेट लंबाई चौड़ाई क्या आवश्यक वस्तुएं जैसे समझिए और कौन-कौन सी चीजें पास और मोबाइल आपका इलेक्ट्रॉनिक चीजें पर से लेकर के जितने भी मनुष्य की चीजें हैं वह भ्रष्टाचार भी अपने चरम पर हो गए और समझ जाइए नोटबंदी का है कौन था इस देश में जिसे से प्रस्तुत किया गया था बिल्कुल इस पर अपॉजिट पब्लिक समन्वय काला धन और और ज्यादा बढ़ गया विनोद लौट आए वो पहले से उन नेताओं के पास पहुंच चुके थे इस पेड़ से 2 महीना बाद आपके पास आए तो 3 महीने बाद आपके पास पुस्तकालय सारे नेताओं पर एक बड़े उद्योगपतियों के पास वोट डाले जा चुके थे इस प्रकार से आप इनकार नहीं कर सकते उसके तीन चार महीने बाद आम नागरिकों को वह नेट देखने को मिला अनेक अच्छी लंबी डिस्टेंस पर करवाई गई नोट को आम आम नागरिकों पर लाने के लिए उसके बाद बार-बार यह भक्ति दिखाना कि 2000 के नोट बंद होने वाले हैं कभी-कभी ऐसा व्यवहार कर के लोगों में लोगों में भय अभी बना रहा है जो नहीं तो यह बोलता है कि यह नोट बंद हो रहा है वह नोट बंद हो रहा है महिलाओं को खासकर जो अपनी छोटी-छोटी बचत को अपने ऊपर व्यय करने के बजाय उसे किसी से डरते नहीं किसी और के डब्बे में किसी न किसी के काम हो जाए परिवार के इसके लिए जोड़ कर रखती हैं उनको आप को कम करना चाहते हैं मैं आपसे ज्यादा दिक्कत धौला कुआं से घर की वित्त मंत्री का जाता है उनका पैसा को आप लिखिए जिन्होंने अपने भविष्य के लिए भविष्य के परिवार परिवार को पैसे के लिए जेट चंद्रपाल से बना कर रखे हैं आज उनकी स्थिति यह है कि नहीं कल को कुछ हो जाए तो उनके पास इतना पैसा भी नहीं हो पाएगा क्योंकि बार-बार 2009 को फिर से बंद करने की बात उड़ते रत्ती भर ली हो लेकिन डर मुस्कान बहुत हुआ है इस पर गौर करने की आवश्यकता है और इसकी गिना ही नहीं सकते हो किस किस बर्बादी के सिवाय नोटबंदी में और कुछ नहीं हुआ

notebandi me se sabse bada nuksan ho gaya bharatiya mudra ki sthiti me doosra hua bhrashtachar bada teesra yah hua ki vastuyen mehengi ho gayi anap shanap sabhi ka wait lambai chaudai kya aavashyak vastuyen jaise samjhiye aur kaun kaun si cheezen paas aur mobile aapka electronic cheezen par se lekar ke jitne bhi manushya ki cheezen hain vaah bhrashtachar bhi apne charam par ho gaye aur samajh jaiye notebandi ka hai kaun tha is desh me jise se prastut kiya gaya tha bilkul is par apajit public samanvay kaala dhan aur aur zyada badh gaya vinod lot aaye vo pehle se un netaon ke paas pohch chuke the is ped se 2 mahina baad aapke paas aaye toh 3 mahine baad aapke paas pustakalaya saare netaon par ek bade udyogpatiyon ke paas vote dale ja chuke the is prakar se aap inkar nahi kar sakte uske teen char mahine baad aam nagriko ko vaah net dekhne ko mila anek achi lambi distance par karwai gayi note ko aam aam nagriko par lane ke liye uske baad baar baar yah bhakti dikhana ki 2000 ke note band hone waale hain kabhi kabhi aisa vyavhar kar ke logo me logo me bhay abhi bana raha hai jo nahi toh yah bolta hai ki yah note band ho raha hai vaah note band ho raha hai mahilaon ko khaskar jo apni choti choti bachat ko apne upar vyay karne ke bajay use kisi se darte nahi kisi aur ke dabbe me kisi na kisi ke kaam ho jaaye parivar ke iske liye jod kar rakhti hain unko aap ko kam karna chahte hain main aapse zyada dikkat dhaula kuan se ghar ki vitt mantri ka jata hai unka paisa ko aap likhiye jinhone apne bhavishya ke liye bhavishya ke parivar parivar ko paise ke liye Jet chandrapal se bana kar rakhe hain aaj unki sthiti yah hai ki nahi kal ko kuch ho jaaye toh unke paas itna paisa bhi nahi ho payega kyonki baar baar 2009 ko phir se band karne ki baat udte ratti bhar li ho lekin dar muskaan bahut hua hai is par gaur karne ki avashyakta hai aur iski gina hi nahi sakte ho kis kis barbadi ke shivaay notebandi me aur kuch nahi hua

नोटबंदी में से सबसे बड़ा नुकसान हो गया भारतीय मुद्रा की स्थिति में दूसरा हुआ भ्रष्टाचार बड

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  1070
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!