भारत में गरीबी का उन्मूलन क्यों नहीं होता? तीन कारण बताएँ ँ?...


play
user

M S Aditya Pandit

Entrepreneur | Politician

1:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे बड़ा कारण है राजनीतिक भ्रष्टाचार देश में राजनीतिक भ्रष्टाचार जातिवाद धर्म और भाषा व क्षेत्रवाद अमीरी गरीबी के हिसाब से चलता रहता है जिसकी वजह से लोग उसी में घूमता रहता है उन्हें कुछ पता नहीं चलता दूसरा चीज की जो सरकारी नियम होते हुए निकल जागरूकता का भाव तो नहीं पता नहीं चलता कि सरकार ने कौन सा किसके लिए लाए है कनोक्स कहां पर क्या चीज मिलेगी क्या कर सकता क्या नहीं कर सकता सारी चीजें होते फिर भी उनको मालूम नहीं होते कि क्या करना है क्या नहीं कल सरकार के कारण उनके सामने होते लेकिन मैंने पता ही नहीं होता कहां जाना क्या अप्लाई करना वह डरे रहते समय रहते हैं इसमें जिसके पास पैसा है वह आगे बढ़ता चला जिसके पास नहीं हो जाता है रूप से जानकारी बढ़ाएं

sabse bada karan hai raajnitik bhrashtachar desh mein raajnitik bhrashtachar jaatiwad dharm aur bhasha va kshetravad amiri garibi ke hisab se chalta rehta hai jiski wajah se log usi mein ghoomta rehta hai unhe kuch pata nahi chalta doosra cheez ki jo sarkari niyam hote hue nikal jagrukta ka bhav toh nahi pata nahi chalta ki sarkar ne kaun sa kiske liye laye hai kanoks kahaan par kya cheez milegi kya kar sakta kya nahi kar sakta saree cheezen hote phir bhi unko maloom nahi hote ki kya karna hai kya nahi kal sarkar ke karan unke saamne hote lekin maine pata hi nahi hota kahaan jana kya apply karna vaah dare rehte samay rehte hain isme jiske paas paisa hai vaah aage badhta chala jiske paas nahi ho jata hai roop se jaankari badhayen

सबसे बड़ा कारण है राजनीतिक भ्रष्टाचार देश में राजनीतिक भ्रष्टाचार जातिवाद धर्म और भाषा व क

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  1813
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में गरीबी उन्मूलन जो नहीं होते उसके तीन कारण है नंबर एक राजनीतिक भ्रष्टाचार नंबर 2 अशिक्षा नंबर 3 बढ़ती हुई जनसंख्या हमें पहले कारण से विश्लेषण करता हूं क्योंकि राजनीतिक नेता हमारे अपने अधिक है कि सभी राजनीतिक पार्टियों के नेता हैं मोदी का कन्हैया सेलफिश है और अधिकांश के जो व्यक्ति का चरित्र है वही बताई गंदगी से व्याप्त है दूसरे कारणों में अशिक्षा जनता में अपनी अशिक्षा है क्योंकि लोग यह समझ ही नहीं पाते हैं ना इसके बारे में कभी ऑपरेशन करते हैं अभी अभी प्लान में जो नरेंद्र मोदी जी ने नोटबंदी का कार्यक्रम चालू किया था कि बहुत अच्छा था कि इसके दूरगामी परिणाम हमारे भ्रष्टाचार इतना अधिक फैला हुआ है कि यह बैंक वालों के भ्रष्टाचार के कारण से जो एक अच्छा उद्देश्य पूर्ण स्वभाव था कपूर कार्य था वो फेल हो गया तीसरा तीसरा अपने पाएंगे क्या हमारी आयु बढ़ती हुई जनसंख्या है सरकार को सुविधाएं देती है जबकि खाने वाले 10 बढ़ जाते हैं तो यह जो सरकार तो सुधार करती है या बेरोजगारी बढ़ाने के साधन उपलब्ध कराती है या शिक्षा भोजन आवास आदि कि सुविधाएं उठाती है तो दो कि जुटा पाती है तब तक भी संख्या बढ़ जाती है कारण इनकी कारण से गरीबी निरंतर बढ़ती हुई दिखाई देती है उनकी कारण से सरकार जितना भी प्रयास करती है वह उन्नति के प्रयास दिखाई नहीं दे पाते हैं यदि इन पर प्रयास किया जाए भारतीय जनता सजग हो जाए तो यह सकते हैं

bharat mein garibi unmulan jo nahi hote uske teen kaaran hai number ek raajnitik bhrashtachar number 2 asiksha number 3 badhti hui jansankhya humein pehle kaaran se vishleshan karta hoon kyonki raajnitik neta hamare apne adhik hai ki sabhi raajnitik partiyon ke neta hain modi ka kanhaiya selfish hai aur adhikaansh ke jo vyakti ka charitra hai wahi batai gandagi se vyapt hai dusre karanon mein asiksha janta mein apni asiksha hai kyonki log yeh samajh hi nahi paate hain na iske bare mein kabhi operation karte hain abhi abhi plan mein jo narendra modi ji ne notebandi ka karyakram chalu kiya tha ki bahut accha tha ki iske durgami parinam hamare bhrashtachar itna adhik faila hua hai ki yeh bank walon ke bhrashtachar ke kaaran se jo ek accha uddeshya poorn swabhav tha kapur karya tha vo fail ho gaya teesra teesra apne payenge kya hamari aayu badhti hui jansankhya hai sarkar ko suvidhayen deti hai jabki khane wale 10 badh jaate hain toh yeh jo sarkar toh sudhaar karti hai ya berojgari badhane ke sadhan uplabdh karati hai ya shiksha bhojan aawas aadi ki suvidhayen uthaati hai toh do ki juta pati hai tab tak bhi sankhya badh jati hai kaaran inki kaaran se garibi nirantar badhti hui dikhai deti hai unki kaaran se sarkar jitna bhi prayas karti hai wah unnati ke prayas dikhai nahi de paate hain yadi in par prayas kiya jaye bharatiya janta sajag ho jaye toh yeh sakte hain

भारत में गरीबी उन्मूलन जो नहीं होते उसके तीन कारण है नंबर एक राजनीतिक भ्रष्टाचार नंबर 2 अश

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  423
WhatsApp_icon
user

Markandey Pandey

Senior Journalist

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बड़ा कारण भ्रष्टाचार है दूसरा जो है बड़ी जनसंख्या का होना है और तीसरा रोजगार के अवसरों का कम होना है बड़े कारणों से आगे नहीं बढ़ पा रही है

ek bada kaaran bhrashtachar hai doosra jo hai badi jansankhya ka hona hai aur teesra rojgar ke avasaron ka kam hona hai bade karanon se aage nahi badh pa rahi hai

एक बड़ा कारण भ्रष्टाचार है दूसरा जो है बड़ी जनसंख्या का होना है और तीसरा रोजगार के अवसरों

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1117
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसी बात नहीं है कि भारत में गरीबी का उन्मूलन नहीं होता है बिल्कुल ना होता है आज उसे कि अभी बताना चाहूंगा आपको नरेंद्र मोदी के आने के बाद वहां सारे ऐप्स उठाए गए हैं जो की गरीबी का उन्मूलन किया जा सके उसको गरीबी को दूर कैसे कंप्लीटली का मतलब ही होता है कि गरीबी को मतलब कहां-कहां पर गरीबी है उसको पूरी तरह से कंप्लीट दूर करे तो उसके पीछे कुछ स्टेप्स में जो प्राइवेट जंक्शन से है वह लिए गए हैं जिससे कि मैं आपको बता दो आज इंडस्ट्रीज होते हैं ठीक है उसको एक ऑपर्चुनिटी को बढ़ाना रिप्रोडक्टिव रिसोर्सेस है जिससे कि आप ज्यादा कमा सकते हैं उसको बढ़ाना कि किस तरह से लोगों को जो चीजें हैं जरूरत की चीजें फिर से मिल पाए उसके लिए आज की बेसिक बेसिक जो सोशल सर्विस जमीनी चाहिए लोगों को उसकी सभी शिक्षक बददुआ ट्रांसलेट जो हो रहा है पूरे इंडिया में स्क्रीन स्क्रीन से जो कि लोग सोच सोच भी जुड़ पाए लोगों से मतलब और काफी हद तक लोकेशन ऑफ लिविंग है बार-बार गरीबी है पेश किया जा रहा है और जिसे कि जो ऑर्गनाइजेशन चोरी हो गई उस को बढ़ावा दिया जा रहा है ताकि लोगों को रोजगार मिले और गरीबी खत्म हो और महिलाओं पर भी ध्यान दें ताकि जो महिलाएं और पुरुष दोनों मिलकर अपनी फैमिली को आगे बढ़ाएं तो बहुत सारी चीजें हैं जो कि स्टेप लिया जा रहा है सरकार की तरफ से हैप्पी बात बिल्कुल नहीं है कि उन्होंने नहीं किया जाता है

aisi baat nahi hai ki bharat mein garibi ka unmulan nahi hota hai bilkul na hota hai aaj use ki abhi bataana chahunga aapko narendra modi ke aane ke baad wahan saare apps uthye gaye hain jo ki garibi ka unmulan kiya ja sake usko garibi ko dur kaise completely ka matlab hi hota hai ki garibi ko matlab kahaan kahaan par garibi hai usko puri tarah se complete dur kare toh uske peeche kuch steps mein jo private junction se hai vaah liye gaye hain jisse ki main aapko bata do aaj industries hote hain theek hai usko ek opportunity ko badhana riprodaktiv resources hai jisse ki aap zyada kama sakte hain usko badhana ki kis tarah se logo ko jo cheezen hain zarurat ki cheezen phir se mil paye uske liye aaj ki basic basic jo social service zameeni chahiye logo ko uski sabhi shikshak badduaa translate jo ho raha hai poore india mein screen screen se jo ki log soch soch bhi jud paye logo se matlab aur kaafi had tak location of living hai baar baar garibi hai pesh kiya ja raha hai aur jise ki jo organisation chori ho gayi us ko badhawa diya ja raha hai taki logo ko rojgar mile aur garibi khatam ho aur mahilaon par bhi dhyan de taki jo mahilaye aur purush dono milkar apni family ko aage badhaye toh bahut saree cheezen hain jo ki step liya ja raha hai sarkar ki taraf se happy baat bilkul nahi hai ki unhone nahi kiya jata hai

ऐसी बात नहीं है कि भारत में गरीबी का उन्मूलन नहीं होता है बिल्कुल ना होता है आज उसे कि अभी

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!