वर्तमान में हमारे दादा पर्दादा की कहानियां कितने रिलेवेंट हैं?...


user

Sefali

Media-Ad Sales

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए वर्तमान में भी हमारे दादा-परदादा की कहानियों का उतना ही इंपैक्ट है क्योंकि और जो सीख और जो ज्ञान हमें उनकी कहानियों से मिलता है और जितना हम खुद अपने को उनकी कहानियों से लेट कर सकते हैं शायद ही किसी बुक की या फिर कोई और जो पर्सनालिटी है उतना जो है आप को मोटिवेट या फिर आपको गाइडेंस दे पाए हम अगर यह अलग हो गया है कि जो उस जमाने में उन्होंने किया था सीखा था और उसी की थी और उसको जो गाइडेंस लेकर उसको लर्निंग लेसन को इस समय में अप्लाई करना थोड़ा सा मुश्किल है क्योंकि उस समय में हर चीज का महत्व एक अलग था कंपटीशन इतना नहीं था इतनी जो है भगदड़ नहीं थी की ऐसी जॉब चाहिए इतना कमाना है यह करना है तू कभी पीस लाइव T20 स्कोर लाइव थी अभी जिस तरह का समय है अच्छी जॉब भी चाहिए बंगला भी चाहिए गाड़ी भी छोटा बंगला से बहुत बड़ा बंगला चाहिए विदेश भी जाना है वह प्रमोशन भी चाहिए तो काफी कुछ तो है कंपटीशन है और फिर जा के वर्क प्लेस में ऐसा होता है क्या ऐसी कौन सी कल काफी सारे भाइयों को फॉलो करने पड़ते हैं और उसके हिसाब से कभी ऐसा भी होता है क्या आपको कोई तो है दिल करता है यह सिनेरियो है आज क्या वह काफी बदल गया है तो उसके हिसाब से जो और जो सीखा में दादा परदादा हो की कहानियों से मिली है अप्लाई करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है पर कहने की चीज है जो ज्ञान है वह हमेशा रहता रहा हम अपनी गाय भैंस के लिए फॉलो करते हैं वरना जो सिचुएशन से अभी जो है कलयुग है सिचुएशन तो काफी ज्यादा बदल चुकी है

dekhiye vartaman mein bhi hamare dada pardada ki kahaniya ka utana hi impact hai kyonki aur jo seekh aur jo gyaan hamein unki kahaniya se milta hai aur jitna hum khud apne ko unki kahaniya se late kar sakte hai shayad hi kisi book ki ya phir koi aur jo personality hai utana jo hai aap ko motivate ya phir aapko guidance de paye hum agar yah alag ho gaya hai ki jo us jamane mein unhone kiya tha seekha tha aur usi ki thi aur usko jo guidance lekar usko learning Lesson ko is samay mein apply karna thoda sa mushkil hai kyonki us samay mein har cheez ka mahatva ek alag tha competition itna nahi tha itni jo hai bhagadad nahi thi ki aisi job chahiye itna kamana hai yah karna hai tu kabhi peace live T20 score live thi abhi jis tarah ka samay hai achi job bhi chahiye bangla bhi chahiye gaadi bhi chota bangla se bahut bada bangla chahiye videsh bhi jana hai vaah promotion bhi chahiye toh kaafi kuch toh hai competition hai aur phir ja ke work place mein aisa hota hai kya aisi kaun si kal kaafi saare bhaiyo ko follow karne padte hai aur uske hisab se kabhi aisa bhi hota hai kya aapko koi toh hai dil karta hai yah sineriyo hai aaj kya vaah kaafi badal gaya hai toh uske hisab se jo aur jo seekha mein dada pardada ho ki kahaniya se mili hai apply karna thoda mushkil ho jata hai par kehne ki cheez hai jo gyaan hai vaah hamesha rehta raha hum apni gaay bhains ke liye follow karte hai varna jo situation se abhi jo hai kalyug hai situation toh kaafi zyada badal chuki hai

देखिए वर्तमान में भी हमारे दादा-परदादा की कहानियों का उतना ही इंपैक्ट है क्योंकि और जो सीख

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  202
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!