योग के साथ मेरी कुंडलिनी खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है?...


user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखिए युग के साथ अगर आप कुंडलिनी जागरण का अभ्यास करते हैं तो इसके लिए आप किसी अच्छी योगी गुरु से संपर्क करें वैसे आपको सलाह दूंगा इन बातों से अपने को दूर रहना चाहिए कि अच्छा सब्जेक्ट नहीं है अपने को साधारण योगाभ्यास करते हुए व्यक्ति धर्म का पालन करते रहना चाहिए धन्यवाद आपका

likhiye yug ke saath agar aap kundalini jagran ka abhyas karte hain toh iske liye aap kisi achi yogi guru se sampark kare waise aapko salah dunga in baaton se apne ko dur rehna chahiye ki accha subject nahi hai apne ko sadhaaran yogabhayas karte hue vyakti dharm ka palan karte rehna chahiye dhanyavad aapka

लिखिए युग के साथ अगर आप कुंडलिनी जागरण का अभ्यास करते हैं तो इसके लिए आप किसी अच्छी योगी ग

Romanized Version
Likes  222  Dislikes    views  1360
WhatsApp_icon
22 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

inderjeet singh

Yoga Trainer

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग के साथ आपको ध्यान करना होगा कुंडली खोलने के लिए और ध्यान आप अपने चक्रवर्ती चक्र आज पर करें हमारे बॉडी के अंदर सात चक्र आज होते हैं उन चक्र पर ध्यान करना शुरू करें आपकी कुंडली जागृत हो जाएगी और साथ में प्राणायाम करें योग करें फिर प्राणायाम करें का ध्यान करें और सात्विक भोजन ले रात का खाना बंद कर दें

yog ke saath aapko dhyan karna hoga kundali kholne ke liye aur dhyan aap apne chakravarti chakra aaj par kare hamare body ke andar saat chakra aaj hote hain un chakra par dhyan karna shuru kare aapki kundali jagrit ho jayegi aur saath me pranayaam kare yog kare phir pranayaam kare ka dhyan kare aur Satvik bhojan le raat ka khana band kar de

योग के साथ आपको ध्यान करना होगा कुंडली खोलने के लिए और ध्यान आप अपने चक्रवर्ती चक्र आज पर

Romanized Version
Likes  126  Dislikes    views  771
WhatsApp_icon
user

Somit Yoga Varanasi

Yoga Trainer and Astrologer

0:21
Play

Likes  72  Dislikes    views  939
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार योग के साथ कुंडलिनी खोलने का सबसे अच्छा अभ्यास क्या करें कुंडली नहीं खोलने का सबसे अच्छा अभ्यास है कपालभाति प्राणायाम कपालभाती प्राणायाम यदि आप एक घंटा सुबह एक घंटा शाम करते हैं आप सिर्फ 45 दिन के अंदर ही चमत्कारिक असर देखेंगे आपका मूलाधार चक्र खोलने लगेगा और आपको प्रतीत होगा कि आपके अंदर एक चुंबकीय शक्ति बनने लगी है आपका पार्वती का प्राणायाम का अभ्यास करें निश्चित ही आपको अच्छे अहसास होने लगेंगे

namaskar yog ke saath kundalini kholne ka sabse accha abhyas kya kare kundali nahi kholne ka sabse accha abhyas hai kapalbhati pranayaam kapalbhati pranayaam yadi aap ek ghanta subah ek ghanta shaam karte hain aap sirf 45 din ke andar hi chamatkarik asar dekhenge aapka muladhar chakra kholne lagega aur aapko pratit hoga ki aapke andar ek chumbakiye shakti banne lagi hai aapka parvati ka pranayaam ka abhyas kare nishchit hi aapko acche ehsaas hone lagenge

नमस्कार योग के साथ कुंडलिनी खोलने का सबसे अच्छा अभ्यास क्या करें कुंडली नहीं खोलने का सबसे

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  472
WhatsApp_icon
user

Vijay Sharma

Yoga Trainer (P.G.D.Y.)

4:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडली के बारे में जानकारी अधूरी है अधूरा ज्ञान इंसान को मार देता है या मजाक का पात्र बनता है कुंडली को ही हंसी खेल नहीं है यह एक बहुत बड़े साइंस है और ध्वनि अध्यात्मिक से जुड़ी हुई चीज है इसको पा लेना इतना आसान नहीं है इसके लिए बहुत शर्म या परिश्रम या तपस्या करनी पड़ती है इसके अलावा यह जमीन प्राप्त हो सकता है जब इंसान इसके अनुरूप हो सके उसको बयान करले लड़कों की कुंडली जो है 61 की भांति मूलाधार चक्र कॉकपिट और 3:30 चक्कर में पड़ी होती है जिसका मुंह स्पाइनल कॉर्ड ऊपर की ओर है कि वह होता है और जो कि वह बंद पड़ी रहती है हर इंसान के अंदर यह कुंडली अवस्था में रहती है यह जग जागृत होती है तो बहुत ही अरे के बस की बात नहीं है इसके लिए बहुत ज्यादा तपस्या और योग का सारी लाल के का जरूरी होना होता है इससे पहले पहले आपको यह मालूम होना चाहिए दिव्य शक्तियों का नाश हमेशा स्वस्थ शरीर स्वस्थ दिमाग में वास्तु सकता है जब तक की आंख मानसिक रूप से ग्रसित नहीं है दिव्य शक्तियों को ग्रहण करने के लिए आपको पहले मानसिक रूप से स्वस्थ होना बहुत जरूरी है उसके बाद आप शायद हमसे आप कोई भी आपके अंदर कोई रोग पैदा ना हो निरोगी बने रहें उसके बाद आप क्योंकि हमारे आगे योग्य अष्टांग योग होते हैं यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार यहां तक बैरंग लोग बोलते हैं जिससे मिल योग बोलते इस पर हम मन को और शरीर को सही करते हैं इसको हठयोगी बोला जाता है इससे इन मन दिमाग को शरीर को स्वस्थ बनाते हैं इसके बाद करने के बाद धारणा ध्यान समाधि यह आपका अंशु पोर्टल ऑटो को मिलाकर राजगीर बोला जाता है इन के माध्यम से इस को फॉलो करेंगे तब कहीं जाकर आपको उस स्वाध्याय की भी जरूरत है तपस्या की जरूरत है सब करने के बाद ऐसा प्रावधान आप हो जाएंगे ईश्वर प्रति समर्पित हो जाएंगे और लगातार अभ्यास के अनुसार नारायण कीर्तन ध्यान लगाने के जरिए आपका फिर कुंडली आपकी जागृत होगी अन्यथा जितनी ए पॉजिटिव अप्रोच करती है उससे कहीं दोगुना नेगेटिव बेदर्दी डीजे जितनी करो उतनी डिस्ट्रक्टिव भी है यह बता देना कुंडली जागृत करना इतना आसान नहीं है इमरान भाई गलत दिशा में स्पाइनल कॉर्ड के अंदर सुंदरी के मुंह में गलत तरीके से पहुंच गई कार्बन डाइऑक्साइड चली गई अगर प्राण भाई अगर आपके अंदर जितनी भाई अगर वह वायु आपस में रेस्ट करके गलत दिशा में चली जाती है और सपोर्ट कुंडली के अंदर चली जाती है तो वह डिस्टर्ब भी जा सकती अधीक्षक के जाएगी के भाग जागल डिस्ट्रक्शन पैदा करेगी पूरे बॉडी ए कंस्ट्रक्टिव गई तो समझ लीजिए आपको अलौकिक शक्तियों का की प्राप्ति होगी प्रत्याशी आनंद नसीब अनुभव प्राप्त होता है यही सब चीजें हैं इसके लिए बात नहीं अल्लाह घन और धैर्य की जरूरत है

kundali ke bare me jaankari adhuri hai adhura gyaan insaan ko maar deta hai ya mazak ka patra banta hai kundali ko hi hansi khel nahi hai yah ek bahut bade science hai aur dhwani adhyatmik se judi hui cheez hai isko paa lena itna aasaan nahi hai iske liye bahut sharm ya parishram ya tapasya karni padti hai iske alava yah jameen prapt ho sakta hai jab insaan iske anurup ho sake usko bayan karle ladko ki kundali jo hai 61 ki bhanti muladhar chakra cockpit aur 3 30 chakkar me padi hoti hai jiska mooh spinal card upar ki aur hai ki vaah hota hai aur jo ki vaah band padi rehti hai har insaan ke andar yah kundali avastha me rehti hai yah jag jagrit hoti hai toh bahut hi are ke bus ki baat nahi hai iske liye bahut zyada tapasya aur yog ka saari laal ke ka zaroori hona hota hai isse pehle pehle aapko yah maloom hona chahiye divya shaktiyon ka naash hamesha swasth sharir swasth dimag me vastu sakta hai jab tak ki aankh mansik roop se grasit nahi hai divya shaktiyon ko grahan karne ke liye aapko pehle mansik roop se swasth hona bahut zaroori hai uske baad aap shayad humse aap koi bhi aapke andar koi rog paida na ho nirogee bane rahein uske baad aap kyonki hamare aage yogya ashtanga yog hote hain yum niyam aasan pranayaam pratyahar yahan tak bairang log bolte hain jisse mil yog bolte is par hum man ko aur sharir ko sahi karte hain isko hathyogi bola jata hai isse in man dimag ko sharir ko swasth banate hain iske baad karne ke baad dharana dhyan samadhi yah aapka anshu portal auto ko milakar raajgir bola jata hai in ke madhyam se is ko follow karenge tab kahin jaakar aapko us swaadhyaay ki bhi zarurat hai tapasya ki zarurat hai sab karne ke baad aisa pravadhan aap ho jaenge ishwar prati samarpit ho jaenge aur lagatar abhyas ke anusaar narayan kirtan dhyan lagane ke jariye aapka phir kundali aapki jagrit hogi anyatha jitni a positive approach karti hai usse kahin doguna Negative bedardii DJ jitni karo utani destructive bhi hai yah bata dena kundali jagrit karna itna aasaan nahi hai imran bhai galat disha me spinal card ke andar sundari ke mooh me galat tarike se pohch gayi carbon dioxide chali gayi agar praan bhai agar aapke andar jitni bhai agar vaah vayu aapas me rest karke galat disha me chali jaati hai aur support kundali ke andar chali jaati hai toh vaah disturb bhi ja sakti adhikshak ke jayegi ke bhag jagal destruction paida karegi poore body a kanstraktiv gayi toh samajh lijiye aapko alaukik shaktiyon ka ki prapti hogi pratyashi anand nasib anubhav prapt hota hai yahi sab cheezen hain iske liye baat nahi allah ghan aur dhairya ki zarurat hai

कुंडली के बारे में जानकारी अधूरी है अधूरा ज्ञान इंसान को मार देता है या मजाक का पात्र बनता

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  1553
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त आपका कोई शक नहीं कि जो के साथ मेरी कुंडली खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है तो देखो आप सहयोग में बताई गई मार्गों को यम नियम को पालन करते हुए साधना मार्ग में आते ही आगे बढ़ती हुई आप आसन और प्राणायाम के द्वारा भी कुंडली को जागृत किया कर सकते हैं रिपोर्ट में बताया गया है कि वास्तव में पाकिस्तान में पश्चिमोत्तर है प्राणायाम एकता बनाए रखें और आप कुछ ना कुछ जरूर रहता क्या है और ज्यादा हम कैसे कर सकते हैं या अपना मुंह मुंह में पूछी अपनी मुंह में दबाकर सोए हुए रहती है इसी को को पढ़कर या कुछ करके आप को जागृत नहीं करना है तो आपको प्रॉब्लम क्रिएट हो सकती है यानी ना जाने कितने प्रकार के रोग उत्पन्न हो सकते हैं आदमी पागल हो सकता है हनी चलो ठीक है हम मान ले कि अपने मत का प्रयास करते करते लेकिन हर जागृत होगी तो उसको सही मगर नहीं मिला उसको सामान रखा गया नियम नियम का पालन सबसे पहले क्षमता हो जानी चाहिए कि आप उस कुंडली के आप को संभाल सके मेरे कहने का क्या मतलब है नहीं उसको संभाल ही नहीं पाएंगे तब आपको प्रॉब्लम भी आपको ध्यान रखना है और कुंडली जागृत करना होगा तो है कि किसी भी को आपको मना ले बना ले अपनी जागृत करना उसी प्रकार की कुंडली जागृत करते रहेंगे आपके अंदर इतना ज्यादा ध्यान होना चाहिए ताकि आप विचलित ना हो और दूसरी इसके विषय में बहुत जानना चाहते और जाना चाहते हैं तो मेरा यूट्यूब चैनल है योगा एजुकेशन इंडिया इन सब पर मैंने वीडियो बना रखा है उसमें जाकर आप भी तो बहुत समझ ले ग्रंथ के अकॉर्डिंग यानी कहीं अलग से नहीं आंखों में उसके गार्डन जो सूत्रों में है उसको मैंने सरल सरल भाषा में समझाया है आप वहां जाकर देख ले आपकी जो आपके मन में जितने भी क्वेश्चन होंगे उसके हल वहां मिल जाएंगे और अच्छा लगेगा तब भी सब्सक्राइब कर लीजिएगा और कमेंट करके मुझे बताइएगा जरूर कि आपको कैसा लगा

dost aapka koi shak nahi ki jo ke saath meri kundali kholne ke liye sabse accha abhyas kya hai toh dekho aap sahyog me batai gayi margon ko yum niyam ko palan karte hue sadhna marg me aate hi aage badhti hui aap aasan aur pranayaam ke dwara bhi kundali ko jagrit kiya kar sakte hain report me bataya gaya hai ki vaastav me pakistan me pashchimottar hai pranayaam ekta banaye rakhen aur aap kuch na kuch zaroor rehta kya hai aur zyada hum kaise kar sakte hain ya apna mooh mooh me puchi apni mooh me dabakar soye hue rehti hai isi ko ko padhakar ya kuch karke aap ko jagrit nahi karna hai toh aapko problem create ho sakti hai yani na jaane kitne prakar ke rog utpann ho sakte hain aadmi Pagal ho sakta hai honey chalo theek hai hum maan le ki apne mat ka prayas karte karte lekin har jagrit hogi toh usko sahi magar nahi mila usko saamaan rakha gaya niyam niyam ka palan sabse pehle kshamta ho jani chahiye ki aap us kundali ke aap ko sambhaal sake mere kehne ka kya matlab hai nahi usko sambhaal hi nahi payenge tab aapko problem bhi aapko dhyan rakhna hai aur kundali jagrit karna hoga toh hai ki kisi bhi ko aapko mana le bana le apni jagrit karna usi prakar ki kundali jagrit karte rahenge aapke andar itna zyada dhyan hona chahiye taki aap vichalit na ho aur dusri iske vishay me bahut janana chahte aur jana chahte hain toh mera youtube channel hai yoga education india in sab par maine video bana rakha hai usme jaakar aap bhi toh bahut samajh le granth ke according yani kahin alag se nahi aakhon me uske garden jo sootron me hai usko maine saral saral bhasha me samjhaya hai aap wahan jaakar dekh le aapki jo aapke man me jitne bhi question honge uske hal wahan mil jaenge aur accha lagega tab bhi subscribe kar lijiega aur comment karke mujhe bataiega zaroor ki aapko kaisa laga

दोस्त आपका कोई शक नहीं कि जो के साथ मेरी कुंडली खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है तो

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  2040
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

2:54

Likes  229  Dislikes    views  2339
WhatsApp_icon
user

Ashish Rawat

Yoga Teacher

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड मेरा नाम है आशीष बाबा तो तेरा यूट्यूब चैनल नहीं है स्वाध्याय योगी आर यू ग्रुप फ्रेंड सवाल पूछा गया है योग के साथ मेरी कुंडलिनी खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है सबसे अच्छा व्यास आगे कीजिए कि एक अच्छा गुरु धनिए जो ने खुद अपनी कुंडली जागृत की हो क्योंकि अगर आप यह सवाल इधर पूछेंगे तो सब के सब या तो नेट से बताएंगे या फिर किताब खोल कर बताएंगे इसलिए इसका जवाब वही दे सकता है जिन्होंने खुद कुंडली जागृत की हो धन्यवाद

hello friend mera naam hai aashish baba toh tera youtube channel nahi hai swaadhyaay yogi rss you group friend sawaal poocha gaya hai yog ke saath meri kundalini kholne ke liye sabse accha abhyas kya hai sabse accha vyas aage kijiye ki ek accha guru dhaniye jo ne khud apni kundali jaagarrett ki ho kyonki agar aap yah sawaal idhar puchhenge toh sab ke sab ya toh net se batayenge ya phir kitab khol kar batayenge isliye iska jawab wahi de sakta hai jinhone khud kundali jaagarrett ki ho dhanyavad

हेलो फ्रेंड मेरा नाम है आशीष बाबा तो तेरा यूट्यूब चैनल नहीं है स्वाध्याय योगी आर यू ग्रुप

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  209
WhatsApp_icon
user

xyz

nothing

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडली जागृत करना और एक प्रोसेस है एक साधना है वह ऐसा नहीं है कि जैसे कि अगर आप को बुखार हुआ कि एक गोली खाली कस्टमर ठीक हो गए तो कुंडली जागृत करने के लिए कोई एक अभ्यास को यह कसम ऐसा नहीं है वह एक साधना है पूरा जीवन आप को अर्पित करना होगा और उसके साथ था तो आपको अच्छा एक गुरु चाहिए जो गुरु उस स्थिति में हो जो की कुंडली जागृत हो गुरु की और जिन्होंने जिन को प्रोसेस मालूम है जो उस प्रोसेस से गुजर के गए हैं आगे तक वही गुरु आपको कुंडलिनी जागृत करने का तरीका बता सकते हैं अपने यह प्रश्न गलत प्लेटफार्म में उठाया है मैं समझता हूं यहां पर कोई भी गुरु उस लिविंग का नहीं है सभी लोग तथाकथित योगा टीचर हैं धन्यवाद

kundali jaagarrett karna aur ek process hai ek sadhna hai vaah aisa nahi hai ki jaise ki agar aap ko bukhar hua ki ek goli khaali customer theek ho gaye toh kundali jaagarrett karne ke liye koi ek abhyas ko yah kasam aisa nahi hai vaah ek sadhna hai pura jeevan aap ko arpit karna hoga aur uske saath tha toh aapko accha ek guru chahiye jo guru us sthiti mein ho jo ki kundali jaagarrett ho guru ki aur jinhone jin ko process maloom hai jo us process se gujar ke gaye hain aage tak wahi guru aapko kundalini jaagarrett karne ka tarika bata sakte hain apne yah prashna galat platform mein uthaya hai main samajhata hoon yahan par koi bhi guru us living ka nahi hai sabhi log tathakathit yoga teacher hain dhanyavad

कुंडली जागृत करना और एक प्रोसेस है एक साधना है वह ऐसा नहीं है कि जैसे कि अगर आप को बुखार ह

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1720
WhatsApp_icon
user

Hani jaiswal

Yoga Instructor and Reiki master

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है योग के साथ मेरी पूरी नहीं खोलने के लिए सबसे अच्छा योगाभ्यास क्या है योग के साथ मिलने खोलने के लिए अगर आप तो योगाभ्यास पूछ रहे हैं तो ऐसा कोई योगाभ्यास नहीं है जो आपकी कुंडली जागृत कर सके आपकी कुंडली जागृत करना इतना आसान नहीं है क्योंकि कुंडली जागृत करना कोई योगी आश्रम से संभव नहीं है इसके लिए आपको अंतिम भाग को जरूर ध्यान रखना चाहिए कि उसके लिए आपको ध्यान धारणा और साधना तीनों पर बहुत ज्यादा अच्छा नियंत्रण होना चाहिए और साथ ही नहीं आपको एक अच्छे रेकी मास्टर से क्या होता होगी जो जिसकी कुंडली पहले से ही जागृत हो या ऐसे यूजर की मास्टर से मिली है जान मास्टर से मिले लेकिन मास्टर से तो वह आपकी कुंडली जागृत कराने में आपकी बहुत ज्यादा हेल्प कर सकता है और उसके जब देश में आप करेंगे उन्हीं के क्षेत्र में उन्हीं के स्थान पर आप प्रयास करें उन्हें जागृत करने का अब जल्द से जल्द अपनी कोनिया को जागृत कर पाएंगे उनको नहीं जा कर पाए तो कम से कम उनको एक एक परफेक्ट वे में कर पाएंगे आपके साथ तो की शादी कुनिया एक परफेक्ट जगह पर रहेंगे योगाभ्यास करने का प्रयास करेंगे आपको बहुत जरूरी है इसके लिए आपको ध्यान धारणा और साधना और ऐसे हीरे की और योग से संबंधित जानकारियों के लिए मुझे फॉलो करें धन्यवाद

aapka prashna hai yog ke saath meri puri nahi kholne ke liye sabse accha yogabhayas kya hai yog ke saath milne kholne ke liye agar aap toh yogabhayas poochh rahe hain toh aisa koi yogabhayas nahi hai jo aapki kundali jaagarrett kar sake aapki kundali jaagarrett karna itna aasaan nahi hai kyonki kundali jaagarrett karna koi yogi aashram se sambhav nahi hai iske liye aapko antim bhag ko zaroor dhyan rakhna chahiye ki uske liye aapko dhyan dharana aur sadhna teenon par bahut zyada accha niyantran hona chahiye aur saath hi nahi aapko ek acche reki master se kya hota hogi jo jiski kundali pehle se hi jaagarrett ho ya aise user ki master se mili hai jaan master se mile lekin master se toh vaah aapki kundali jaagarrett karane mein aapki bahut zyada help kar sakta hai aur uske jab desh mein aap karenge unhin ke kshetra mein unhin ke sthan par aap prayas karen unhe jaagarrett karne ka ab jald se jald apni koniya ko jaagarrett kar payenge unko nahi ja kar paye toh kam se kam unko ek ek perfect ve mein kar payenge aapke saath toh ki shadi kuniya ek perfect jagah par rahenge yogabhayas karne ka prayas karenge aapko bahut zaroori hai iske liye aapko dhyan dharana aur sadhna aur aise heere ki aur yog se sambandhit jankariyon ke liye mujhe follow karen dhanyavad

आपका प्रश्न है योग के साथ मेरी पूरी नहीं खोलने के लिए सबसे अच्छा योगाभ्यास क्या है योग के

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
user

Dr.Swatantra Sharma

Yoga Expert & Consultant

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडलिनी योग जागरण किसी योग्य गुरु के सानिध्य में करना चाहिए अन्यथा कुंडलिनी जागरण का विपरीत प्रभाव भी हमारे अस्तित्व पर हो जाता है कभी-कभी लोग पागल हो जाते हैं इसलिए आप इस चक्कर में स्वयं प्रयास न करें किसी अच्छे योग्य गुरु का पता लगाएं उनका सानिध्य ले और तब फिर इन क्रियाओं को आगे बढ़ाएं

kundalini yog jagran kisi yogya guru ke sanidhya mein karna chahiye anyatha kundalini jagran ka viprit prabhav bhi hamare astitva par ho jata hai kabhi kabhi log Pagal ho jaate hain isliye aap is chakkar mein swayam prayas na karen kisi acche yogya guru ka pata lagaen unka sanidhya le aur tab phir in kriyaon ko aage badhayen

कुंडलिनी योग जागरण किसी योग्य गुरु के सानिध्य में करना चाहिए अन्यथा कुंडलिनी जागरण का विपर

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  1142
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Amit Agrawal Rishiyog

Yoga Acupressure Expert

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने युग के साथ मेरी कुंडली खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है देखिए अगर मैं स्पष्ट शब्दों में बात करूं तो कुंडली खोलना या कुंडली जागृत करना कोई मजाक नहीं है लोगों ने आजकल इसे मजाक बना दिया है कुंडली जागृत करने की दुकाने से खुल गई है और काफी योग के क्षेत्र में करने वाली यह कार्य कर रहे हैं लेकिन बहुत गलत है कुंडली जागरण का मतलब है कि आप जिस भी गुरु को फॉलो कर रहे हैं वह उस स्थिति का है या नहीं आपको सही गाइडेंस दे सकता है या नहीं उसकी कुंडली जागरण है जागृत है या नहीं यह सब प्रश्न बहुत महत्वपूर्ण है इसलिए हमेशा ध्यान रखें पूर्ण गुरु जो उस स्थिति का संत है जैसे कि विवेकानंद जी के गुरु थे रामकृष्ण परमहंस साउथ में एक हुए हैं महर्षि रमण इनके आपने नाम सुने होंगे यह सब उस स्थिति के संत हैं जो समाधि अवस्था की उस स्थिति थक गए हैं जिन्होंने उसका अनुभव किया है उस आत्मा उस ईश्वर का उस परमात्मा का साक्षात्कार किया है तो यह बहुत महत्वपूर्ण है कि वह व्यक्ति उस स्थिति में उतरा हुआ है या नहीं यह बहुत लंबे समय की प्रक्रिया है बहुत ड्यूटी पूरे डिवोशन के साथ पूरे सैक्रिफाइस करने के बाद जब आप एक ईश्वर में लगे रहते हैं उसमें अपने आप को पूरी तरह समर्पित कर देते हैं तब कहीं जाकर यह स्थिति आती है तो यह इस को हल्के में सामान्यतया मजाक में ना लें यह बहुत ही अधिक जो है चलने वाला कह सकते हैं कि जो वाकई में चल रहे हैं अध्यात्म मार्ग पर उनको ही यह स्थिति प्राप्त होती है

aap apne yug ke saath meri kundali kholne ke liye sabse accha abhyas kya hai dekhiye agar main spasht shabdon mein baat karun toh kundali kholna ya kundali jaagarrett karna koi mazak nahi hai logon ne aajkal ise mazak bana diya hai kundali jaagarrett karne ki dukaaney se khul gayi hai aur kafi yog ke kshetra mein karne waali yah karya kar rahe hain lekin bahut galat hai kundali jagran ka matlab hai ki aap jis bhi guru ko follow kar rahe hain vaah us sthiti ka hai ya nahi aapko sahi guidance de sakta hai ya nahi uski kundali jagran hai jaagarrett hai ya nahi yah sab prashna bahut mahatvapurna hai isliye hamesha dhyan rakhen purn guru jo us sthiti ka sant hai jaise ki vivekananda ji ke guru the ramakrishna paramhans south mein ek hue hain maharshi raman inke aapne naam sune honge yah sab us sthiti ke sant hain jo samadhi avastha ki us sthiti thak gaye hain jinhone uska anubhav kiya hai us aatma us ishwar ka us paramatma ka sakshatkar kiya hai toh yah bahut mahatvapurna hai ki vaah vyakti us sthiti mein utara hua hai ya nahi yah bahut lambe samay ki prakriya hai bahut duty poore devotion ke saath poore sacrifice karne ke baad jab aap ek ishwar mein lage rehte hain usmein apne aap ko puri tarah samarpit kar dete hain tab kahin jaakar yah sthiti aati hai toh yah is ko halke mein samanyataya mazak mein na lein yah bahut hi adhik jo hai chalne vala keh sakte hain ki jo vaakai mein chal rahe hain adhyaatm marg par unko hi yah sthiti prapt hoti hai

आप अपने युग के साथ मेरी कुंडली खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है देखिए अगर मैं स्पष्ट

Romanized Version
Likes  87  Dislikes    views  2130
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Aaditya

Yoga Instructor

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडलिनी जागरण के लिए लोग बहुत प्रश्न करते हैं और बहुत सारे जो योग शिक्षक हैं वह अनेक अनेक दावे भी करते हैं लेकिन आपको यह समझना होगा कि कुंडलिनी जागरण को बाहरी प्रक्रिया नहीं है यह एक पूरी तरह से आंतरिक प्रक्रिया है और आंतरिक प्रक्रिया को समझने के लिए आपको थोड़ा अंतर्मुखी होना पड़ेगा यम नियम आसन प्राणायाम की बात जो प्रकल्प आता है वह है प्रत्याहार प्रत्याहार हमें अंतर्मुखी बनाने का प्रथम चरण है यदि हम प्रत्याहार का अभ्यास शुरू करते हैं तो हम थोड़े थोड़े अंतर्मुखी हो नरम कर देते हैं और वहां से हमारा अंतर्मुखी होना शुरू होता है और वह जब धारणा में परिवर्तित होगा प्रत्याहार से हम धारणा की ओर बढ़ेंगे धारणा से हम धीरे-धीरे ध्यान की ओर बढ़ेंगे तब धीरे-धीरे आपको एहसास होगा कि कुंडलिनी होती क्या है इसका तात्पर्य क्या है और हम जो कुंडलिनी जागरण है या अन्य जो उसके प्रकल्प हैं इन सब से आपका परिचय हो पाएगा तो पहले योगाभ्यास ध्यान पूर्वक करें उसके बाद यह चीजें अपने आप समझ में आने लगेगी

kundalini jagran ke liye log bahut prashna karte hain aur bahut saare jo yog shikshak hain vaah anek anek daave bhi karte hain lekin aapko yah samajhna hoga ki kundalini jagran ko baahri prakriya nahi hai yah ek puri tarah se aantarik prakriya hai aur aantarik prakriya ko samjhne ke liye aapko thoda antarmukhi hona padega yum niyam aasan pranayaam ki baat jo prakalp aata hai vaah hai pratyahar pratyahar hamein antarmukhi banaane ka pratham charan hai yadi hum pratyahar ka abhyas shuru karte hain toh hum thode thode antarmukhi ho naram kar dete hain aur wahan se hamara antarmukhi hona shuru hota hai aur vaah jab dharana mein parivartit hoga pratyahar se hum dharana ki aur badhenge dharana se hum dhire dhire dhyan ki aur badhenge tab dhire dhire aapko ehsaas hoga ki kundalini hoti kya hai iska tatparya kya hai aur hum jo kundalini jagran hai ya anya jo uske prakalp hain in sab se aapka parichay ho payega toh pehle yogabhayas dhyan purvak karen uske baad yah cheezen apne aap samajh mein aane lagegi

कुंडलिनी जागरण के लिए लोग बहुत प्रश्न करते हैं और बहुत सारे जो योग शिक्षक हैं वह अनेक अनेक

Romanized Version
Likes  52  Dislikes    views  1261
WhatsApp_icon
play
user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब एक व्यक्ति उचित तरीके से योग करता है तो उसके चक्रों का जागरण अपने आप होता है उसके लिए उसको कुंडलिनी जागरण के द्वारा चक्रों की जागरण की आवश्यकता नहीं पड़ती है जैसे जैसे छवि के शुद्धिकरण होता जाता है मन के विचार स्वस्थ और उच्च होते जाते हैं कुंडली जी का जागरण अपने आप होता है इसके लिए आपको पोस्ट फुल कुंडली जागरण की कोशिश नहीं करनी चाहिए यदि आपके शरीर की और मन की सुध नहीं हुई है और आपने कुंडली जागरण की कोशिश करी तो इससे आपको फार्मा है शारीरिक और मानसिक लाभ नुकसान भी हो सकता है इसका ध्यान रखें इसलिए कुंडलिनी जागरण रूपी जो बातें कोई भी विषय विशेषज्ञ बताता है जो कि कुंडली में निवेशक है और बिना शारीरिक और मानसिक शुद्धि के साथ यदि कोई आपकी कुंडली जागरण करने की बात करता है तो ऐसे व्यक्तियों से बचें

jab ek vyakti uchit tarike se yog karta hai toh uske chakron ka jagran apne aap hota hai uske liye usko kundalini jagran ke dwara chakron ki jagran ki avashyakta nahi padti hai jaise jaise chhavi ke shuddhikaran hota jata hai man ke vichar swasth aur ucch hote jaate hain kundali ji ka jagran apne aap hota hai iske liye aapko post full kundali jagran ki koshish nahi karni chahiye yadi aapke sharir ki aur man ki sudh nahi hui hai aur aapne kundali jagran ki koshish kari toh isse aapko pharma hai sharirik aur mansik labh nuksan bhi ho sakta hai iska dhyan rakhen isliye kundalini jagran rupee jo batein koi bhi vishay visheshagya batata hai jo ki kundali mein niveshak hai aur bina sharirik aur mansik shudhi ke saath yadi koi aapki kundali jagran karne ki baat karta hai toh aise vyaktiyon se bache

जब एक व्यक्ति उचित तरीके से योग करता है तो उसके चक्रों का जागरण अपने आप होता है उसके लिए उ

Romanized Version
Likes  105  Dislikes    views  1049
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रयास है कि योग के साथ मेरी कुंडली खोलने के लिए सबसे अभ्यास क्या है देखिए जो है बहुत अच्छी क्रिया है योग कुंडली जागरण के लिए काम करती है वह किसी अच्छे योग गुरु के निर्देशन में ना करें योग गुरु के निर्देशन में ही करें ऐसे किसी से ऑडियो वीडियो देखकर ना करें नहीं तो आपको नुकसान होने की संभावना होगी धन्यवाद

aapka prayas hai ki yog ke saath meri kundali kholne ke liye sabse abhyas kya hai dekhiye jo hai bahut achi kriya hai yog kundali jagran ke liye kaam karti hai vaah kisi acche yog guru ke nirdeshan mein na karen yog guru ke nirdeshan mein hi karen aise kisi se audio video dekhkar na karen nahi toh aapko nuksan hone ki sambhavna hogi dhanyavad

आपका प्रयास है कि योग के साथ मेरी कुंडली खोलने के लिए सबसे अभ्यास क्या है देखिए जो है बहुत

Romanized Version
Likes  82  Dislikes    views  1711
WhatsApp_icon
user

Saroj Kumar Ksheti

Yoga Instructor/Practitioner

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडली खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास देखिए ऐसी अभ्यास किसी सिद्धांत रूप से मत करिए इसी सिद्धांत को पढ़कर किसी पुस्तकों को पढ़कर ही नेट पर देखकर या किसी यूट्यूब पर देख मत जाइए आप के लिए एक स्वतंत्र प्रक्रिया होती है किसी अच्छे साधक के पास जाइए संपर्क कीजिए कुछ दिन हमें कुछ दिन के लिए समय निकालिए उनके पास जाइए बैठी एक दिन में ऐसा नहीं होता बड़ी लंबी प्रक्रिया है इसके लिए और बहुत सारे चीजों का विशेष ध्यान रखना पड़ता है इसके लिए उनके पास जाइए बड़े अच्छे साधक से मिली आपको बताएंगे आप कोई तरीका कुछ दिन बाद या कुछ समय के बाद आप स्वता ही अपने आप एक लाइक करने लगेगा बाकी नहीं कर सकते फिर किसी गुरु की आवश्यकता नहीं पड़ेगी के होते तो आपको सामने ही बताएंगे तो कचरा प्रत्यक्ष रूप में बताएंगे एंड फेस टू फेस

kundali kholne ke liye sabse accha abhyas dekhiye aisi abhyas kisi siddhant roop se mat kariye isi siddhant ko padhakar kisi pustakon ko padhakar hi net par dekhkar ya kisi youtube par dekh mat jaiye aap ke liye ek swatantra prakriya hoti hai kisi acche sadhak ke paas jaiye sampark kijiye kuch din hamein kuch din ke liye samay nikaliye unke paas jaiye baithi ek din mein aisa nahi hota badi lambi prakriya hai iske liye aur bahut saare chijon ka vishesh dhyan rakhna padta hai iske liye unke paas jaiye bade acche sadhak se mili aapko batayenge aap koi tarika kuch din baad ya kuch samay ke baad aap swata hi apne aap ek like karne lagega baki nahi kar sakte phir kisi guru ki avashyakta nahi padegi ke hote toh aapko saamne hi batayenge toh kachra pratyaksh roop mein batayenge and face to face

कुंडली खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास देखिए ऐसी अभ्यास किसी सिद्धांत रूप से मत करिए इसी सि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

Dr Hemant Yogi

Yoga and Naturopathy

4:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री कृष्णा जय श्री राधे हेमंत कुमार योगी की तरफ से आप का प्रयोग के साथ मेरी कुंडली में खोलने के लिए सबसे अच्छा व्यास का है देखिए आप सब लोग कर रहे हैं योग के आसन करना प्रारंभ करें प्रचार करने धारणा ध्यान और समाधि की तरफ जा रहे हैं चक्र पर ध्यान किसी और की चकली नो द्वारे विद्या नगरी हमारे वरिष्ठ बुधवार बुधवार बोले जैसे तू आंखों का नाच गाना दो मुख दोनों कान लिंबोदा ऐसे बहुत द्वारा अयोध्या नगरी हमारे यही हमारे आज जान रख दी है सभी स्तरों पर एक गुप्तचर भी होता है अष्ट चक्र से सात चक्र चक्र द्वारा अयोध्या नगरी हमारे तो इसमें कुंडली शक्ति जब खो खो सबसे पहले ध्यान मूल आधार पर उसके बाद सुदर्शन चक्र चक्र चक्र है उसके रंग-रूप आकार है लॉन्ग विषय में बताइए आपको मणिपुरी चपला फिर आरक्षक जैसे विशुद्धि चक्र भी कहा जाता है फिर भी चक मॉडल आप ऑफिस से अवतार चमक तारे होते हैं जैसा परमाणु वैसे असम के चक्र चक्र चक्र हमारे मस्जिद कुंडली कब खुलेगी 3:30 लपेटे हुए कोई सर्प अपनी पूंछ को मुंह में दबाकर बैठा हुआ है हमारे बाल विकास में मूलाधार चक्र पर ध्यान करेंगे हम उस कुंडली शक्ति का उसका ध्यान से शक्ति उत्पन्न होगी जैसे किसी सांप के मध्यावधि भारत को एकदम पड़ सकता है ऐसी जब ध्यान करेंगे धारण करें उसी जगह का चक्का खोलेंगे अभ्यास अभ्यास करने पड़ते शक्ति होती है उचक है उसमें दिखाई नहीं देंगे आपको यह गाड़ियों की गुप्त है किसी के द्वारा गए किसी की चार है किसी के आठ है कमल के पत्र के समान माना गया है उनका रंग है रूप है आका है शास्त्रों में आपको खुद ही मालूम पड़ जाएगा यह ध्यान से अभ्यास से आपकी कुंडली शक्ति खुल सकती है ओके सी योगा चार ग्रुप ग्रुप बनाएं बिना योगगुरु के कभी उंगली खोलने की शक्ति को खोलने का प्रयास ना करें यह विशेष तौर पर याद कराओ खेल-खेल में यह चीज भी हमारे ऋषि-मुनियों ने इसको समाज में नहीं लाए थे उसके अच्छी बियर फैक्ट्री बनेगी जब उसको हर मनुष्य का मस्तिष्क राजस्थानी उसको संभाल सकें इसलिए मैं कह रहा हूं कि कुंडली शक्ति अपने आप ना खोलें कोई योग गुरु है तू जानता हूं उस कुंडली शक्ति की उर्जा को संभाल सके उसके क्या नियम है क्या फायदे हैं क्या कैसे करना है उसकी रघु की कपड़े धोने योग और जानकार व्यक्ति मिल जाए और डॉक्टर से भी सवाल है जब उसके मार्ग पर आगे चले नहीं तो नहीं बिल्कुल ना चले इसके नियम है कायदे हैं वह सीखे कॉल नहीं तो आप मेरा नंबर है 98370 31051 पर संपर्क कर सकते हैं धन्यवाद हेमंत योगी की तरफ से शुभ रात्रि

jai shri krishna jai shri radhe hemant kumar yogi ki taraf se aap ka prayog ke saath meri kundali mein kholne ke liye sabse accha vyas ka hai dekhiye aap sab log kar rahe hain yog ke aasan karna prarambh karen prachar karne dharana dhyan aur samadhi ki taraf ja rahe hain chakra par dhyan kisi aur ki chakali no dware vidya nagari hamare varishtha budhavar budhavar bole jaise tu aakhon ka nach gaana do mukh dono kaan limboda aise bahut dwara ayodhya nagari hamare yahi hamare aaj jaan rakh di hai sabhi staron par ek guptachar bhi hota hai asht chakra se saat chakra chakra dwara ayodhya nagari hamare toh isme kundali shakti jab kho kho sabse pehle dhyan mul aadhaar par uske baad sudarshan chakra chakra chakra hai uske rang roop aakaar hai long vishay mein bataiye aapko manipuri chapala phir aarakshak jaise vishuddhi chakra bhi kaha jata hai phir bhi chak model aap office se avatar chamak taare hote hain jaisa parmanu waise assam ke chakra chakra chakra hamare masjid kundali kab khulegi 3 30 lapete hue koi sarp apni poonchh ko mooh mein dabakar baitha hua hai hamare baal vikas mein muladhar chakra par dhyan karenge hum us kundali shakti ka uska dhyan se shakti utpann hogi jaise kisi saanp ke madhyavadhi bharat ko ekdam pad sakta hai aisi jab dhyan karenge dharan karen usi jagah ka chakka kholenge abhyas abhyas karne padate shakti hoti hai uchak hai usmein dikhai nahi denge aapko yah gadiyon ki gupt hai kisi ke dwara gaye kisi ki char hai kisi ke aath hai kamal ke patra ke saman mana gaya hai unka rang hai roop hai aaka hai shastron mein aapko khud hi maloom pad jaega yah dhyan se abhyas se aapki kundali shakti khul sakti hai ok si yoga char group group banaye bina yogguru ke kabhi ungli kholne ki shakti ko kholne ka prayas na karen yah vishesh taur par yaad karao khel khel mein yah cheez bhi hamare rishi muniyon ne isko samaaj mein nahi laye the uske achi beer factory banegi jab usko har manushya ka mastishk rajasthani usko sambhaal sakein isliye main keh raha hoon ki kundali shakti apne aap na kholen koi yog guru hai tu jaanta hoon us kundali shakti ki urja ko sambhaal sake uske kya niyam hai kya fayde hain kya kaise karna hai uski raghu ki kapde dhone yog aur janakar vyakti mil jaaye aur doctor se bhi sawaal hai jab uske marg par aage chale nahi toh nahi bilkul na chale iske niyam hai kayade hain vaah sikhe call nahi toh aap mera number hai 98370 31051 par sampark kar sakte hain dhanyavad hemant yogi ki taraf se shubha ratri

जय श्री कृष्णा जय श्री राधे हेमंत कुमार योगी की तरफ से आप का प्रयोग के साथ मेरी कुंडली में

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  308
WhatsApp_icon
user

PANKAJ SHARMA

Yoga Instructor

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

12 प्रकार के कुंभक और 12 प्रकार के बंद और साथ ही सांसों के आने-जाने के स्थिर करने के बाद ही कुंडली जागरण होती है

12 prakar ke kumbhak aur 12 prakar ke band aur saath hi shanson ke aane jaane ke sthir karne ke baad hi kundali jagran hoti hai

12 प्रकार के कुंभक और 12 प्रकार के बंद और साथ ही सांसों के आने-जाने के स्थिर करने के बाद ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  304
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है योग के साथ मेरे कुंडलिनी खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है तो देखिए मैं यह मानता हूं योग के समग्र आने वाले विद्याओं में से एक विद्या कुंडलिनी है लेकिन कुंडलिनी ऐसे खोलना मेरे समझते नामुमकिन है आपके लिए क्योंकि उसके लिए काफी सजग काफी सक्रिय और काफी पहुंचे हुए योगी यति का शरण आपको लेना पड़ेगा जिससे काफी ही इससे मैदान में इस लाइन में जिसे अनुभव आप सिर्फ योग करें कौन देखने के चक्कर में ना पड़े क्योंकि वह बहुत ही टफ मैटर हो जाता है उसमें काफी समय देना पड़ता है उसके लिए बहुत सजग रहना पड़ता है आपको कुंडलिनी जागृत करने के लिए बिल्कुल मान लीजिए तरह से योगी जाति योगाभ्यासी का है जीवन यापन करना पड़ेगा इतिहास योग करें कुंडलिनी के चक्कर में ना पड़े क्योंकि आपके बस का रोग नहीं है कुंडली जागरण धन्यवाद

aapka question hai yog ke saath mere kundalini kholne ke liye sabse accha abhyas kya hai toh dekhiye main yah manata hoon yog ke samagra aane waale vidyaon mein se ek vidya kundalini hai lekin kundalini aise kholna mere samajhte namumkin hai aapke liye kyonki uske liye kafi sajag kafi sakriy aur kafi pahuche hue yogi yati ka sharan aapko lena padega jisse kafi hi isse maidan mein is line mein jise anubhav aap sirf yog karen kaun dekhne ke chakkar mein na pade kyonki vaah bahut hi tough matter ho jata hai usmein kafi samay dena padta hai uske liye bahut sajag rehna padta hai aapko kundalini jaagarrett karne ke liye bilkul maan lijiye tarah se yogi jati yogabhyasi ka hai jeevan yaapan karna padega itihas yog karen kundalini ke chakkar mein na pade kyonki aapke bus ka rog nahi hai kundali jagran dhanyavad

आपका क्वेश्चन है योग के साथ मेरे कुंडलिनी खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है तो देखिए

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  1104
WhatsApp_icon
user

Anil pareek

Yoga Instructor

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यू के साथ अगर कुंडली में खोलने के लिए सबसे पहले अगर आप अध्याय सारे सबसे बड़े प्राणायाम के अभ्यास बनाइए और उसके अंदर भी कपालभाति के अभ्यास के साथ आप शुरू करें और धीरे-धीरे आप बंद का व्यास बनाना शुरू करिए मूलबंध udyan-1 जालंधर बंध और थर्ड चीज आपके जितने भी चकरा गए इन चकरा से ध्यान लगाना शुरू कर दीं शाहपुरा का निकलना शुरू हुआ इसके अंदर आपका मूलाधार चक्र बहुत इंपोर्टेंट लगा करता है लेकिन कुंडली नहीं पर जब भी आप काम करें किसी अच्छे मार्गदर्शक गुरु की शरण में काम करें या फायदा कम नुकसान ज्यादा हो सकता है अगर आप किसी अच्छे गुरु के मार्गदर्शन पर सफलता को जरूर मिलेगी जय हिंद भारत व अनिल पारीक अजमेर से आपका स्वागत करता हूं आपको मिलने के मार्ग में आप अच्छे गुरु का हाथ पकड़कर आगे बढ़िए ईश्वर आपका जरूर साथ देगा

you ke saath agar kundali mein kholne ke liye sabse pehle agar aap adhyay saare sabse bade pranayaam ke abhyas banaiye aur uske andar bhi kapalbhati ke abhyas ke saath aap shuru karen aur dhire dhire aap band ka vyas banana shuru kariye mulbandh udyan 1 jalandhar bandh aur third cheez aapke jitne bhi chakra gaye in chakra se dhyan lagana shuru kar din shahpura ka nikalna shuru hua iske andar aapka muladhar chakra bahut important laga karta hai lekin kundali nahi par jab bhi aap kaam karen kisi acche margadarshak guru ki sharan mein kaam karen ya fayda kam nuksan zyada ho sakta hai agar aap kisi acche guru ke margdarshan par safalta ko zaroor milegi jai hind bharat v anil parik ajmer se aapka swaagat karta hoon aapko milne ke marg mein aap acche guru ka hath pakadakar aage badhiye ishwar aapka zaroor saath dega

यू के साथ अगर कुंडली में खोलने के लिए सबसे पहले अगर आप अध्याय सारे सबसे बड़े प्राणायाम के

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  360
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आगरा चक्र आज्ञा चक्र पर विमल का होता है वहां से करता है और जो हमारा आज्ञा चक्र हमारे मस्तिष्क के ऑडियो के बीच में जो कि हमारे मस्तिष्क की शक्ति को इस तरीके से विभिन्न चक्रों का विभिन्न योगदान है तो हम जितने भी प्रणाम करते हैं उनसे हमारे चक्रों को हम कंट्रोल कर सकते तो अगर आप कुंडली जागरण कर सकते हैं तो आप फ्री बंद जो हमारे होते हैं जालंधर बंध मूलबंध और जिन बनारस का यंत्र अभ्यास करते और कुंडली जागरण का कर सकते हैं जिससे कि आपके अंदर ऊर्जा का प्रभाव होगा आपकी जो कार्य करने की क्षमता बढ़ेगी और आपका जुदाई अच्छा हो जाएगा तो खुशी कीजिए योग करने की अयोग्य परिणाम को धन्यवाद

आगरा चक्र आज्ञा चक्र पर विमल का होता है वहां से करता है और जो हमारा आज्ञा चक्र हमारे मस्ति

Likes  167  Dislikes    views  2379
WhatsApp_icon
user

Monica Patel

Yoga Teacher

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है जो के साथ मेरी कुंडली में खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है कुंडलिनी जागृत करने के लिए प्राणायाम का अभ्यास कर सकते हैं जैसे हठयोग प्रदीपिका में कहा गया है दिन में चार बार ई सवेरा संध्या मॉर्निंग आफ्टरनून इन मिडनाइट समय जन्म का अभ्यास करें महा मुद्रा का अभ्यास करें उसके अलावा महाबंध का अभ्यास करें यह सारे अभ्यास रेगुलर बेसिस पर करने से कुंडलिनी जागृत हो सकती है धन्यवाद

sawaal hai jo ke saath meri kundali mein kholne ke liye sabse accha abhyas kya hai kundalini jaagarrett karne ke liye pranayaam ka abhyas kar sakte hain jaise hathyog pradipika mein kaha gaya hai din mein char baar ee savera sandhya morning afternoon in midnait samay janam ka abhyas karen maha mudra ka abhyas karen uske alava mahabandh ka abhyas karen yah saare abhyas regular basis par karne se kundalini jaagarrett ho sakti hai dhanyavad

सवाल है जो के साथ मेरी कुंडली में खोलने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास क्या है कुंडलिनी जागृत कर

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  528
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!