क्या आप अपने पहले योग कक्षा के अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं?...


user

Anshu Sarkar

Founder & Director, Sarkar Yog Academy

3:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले बलात्कार मेरे तरफ से आपको नमस्कार करता हूं आप कितना प्यारा सा सवाल किया आपने मुझे आपका सवाल है क्या आप अपने पहले योग कक्षा के अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं अवश्य कर सकते हैं विगत 38 वर्ष पूर्व की बात है चेक बैलेंस पहला दिन अपना युवा क्लास में शिक्षकों को क्लास करा रहे थे का नाम था ज्योति बेन पटेल को केवल 8 साल की बच्ची थी वह मेरे पहले स्टूडेंट थी मैं इसको जब क्लास करा रहे थे मेरा पहला अनुभव था इसके पहले मैं 956 बन चुका था ना तो बना शिक्षक वर्ग 1 लाख गोल्ड मेडलिस्ट बन चुका था जिला स्तरीय राज्य में पाए थे शुगर के बारे में पूछ रहा था आज जिसको मैं खड़ा रहा हूं यह बच्चे बड़े हो जाएगी उसको इतना अच्छा समय शिक्षा दूंगा योग का आने वाला दिन में अपने से दूसरों को शिक्षा दें s.m.s. को बनाता हूं जिसमें मेरा अपनों पर एक अच्छा से अपने पति एक विश्वास चलेगा और समाज के प्रति देश के प्रति से मैं कुछ कर पाऊंगा इसका पहला दीनदयाल चल रहा हूं यह सोचकर मैंने अपना उसको शिक्षा दिया और मुझे बता पा रहा है आज लगभग 38 गज की है इसमें रिझाने योगा क्लास चला रही है मुझे गर्व है अपने आप पर बहुत संतुष्टि है कि जो मैंने इस सोच के जो ब्रह्म को प्राप्त कराने आए थे शिक्षा धीरे-धीरे बच्ची बड़ी हुई और मेरा इच्छा को पूरा करके आज एक प्रतिष्ठित योग प्रशिक्षक बन गई शिक्षिका बनी और अमेरिका अफ्रीका का मैच योग का शिक्षा देरी है मुझे नाज है इश्क है अपने आपको संतुष्टि चाहता हूं इसी तरह से आप भी योग के दिशा में जो प्रबंधन को छात्र शिक्षकों को शिक्षा दें और अपना शारीरिक मानसिक आर्थिक आर्थिक और धार्मिक परिवर्तन ला के विकास पर आकर अपना भविष्य उज्जवल बनाएं और देश हित में काम करें जय भारत जय भारत जय भारत धन्यवाद

pehle balatkar mere taraf se aapko namaskar karta hoon aap kitna pyara sa sawaal kiya aapne mujhe aapka sawaal hai kya aap apne pehle yog kaksha ke apne anubhav ko share kar sakte hain avashya kar sakte hain vigat 38 varsh purv ki baat hai check balance pehla din apna yuva class me shikshakon ko class kara rahe the ka naam tha jyoti ban patel ko keval 8 saal ki bachi thi vaah mere pehle student thi main isko jab class kara rahe the mera pehla anubhav tha iske pehle main 956 ban chuka tha na toh bana shikshak varg 1 lakh gold medlist ban chuka tha jila stariy rajya me paye the sugar ke bare me puch raha tha aaj jisko main khada raha hoon yah bacche bade ho jayegi usko itna accha samay shiksha dunga yog ka aane vala din me apne se dusro ko shiksha de s m s ko banata hoon jisme mera apnon par ek accha se apne pati ek vishwas chalega aur samaj ke prati desh ke prati se main kuch kar paunga iska pehla deendayal chal raha hoon yah sochkar maine apna usko shiksha diya aur mujhe bata paa raha hai aaj lagbhag 38 gaj ki hai isme rijhaane yoga class chala rahi hai mujhe garv hai apne aap par bahut santushti hai ki jo maine is soch ke jo Brahma ko prapt karane aaye the shiksha dhire dhire bachi badi hui aur mera iccha ko pura karke aaj ek pratishthit yog parshikshak ban gayi shikshika bani aur america africa ka match yog ka shiksha deri hai mujhe naaj hai ishq hai apne aapko santushti chahta hoon isi tarah se aap bhi yog ke disha me jo prabandhan ko chatra shikshakon ko shiksha de aur apna sharirik mansik aarthik aarthik aur dharmik parivartan la ke vikas par aakar apna bhavishya ujjawal banaye aur desh hit me kaam kare jai bharat jai bharat jai bharat dhanyavad

पहले बलात्कार मेरे तरफ से आपको नमस्कार करता हूं आप कितना प्यारा सा सवाल किया आपने मुझे आपक

Romanized Version
Likes  422  Dislikes    views  3640
WhatsApp_icon
15 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप अपने पहले युद्ध के अनुभवों को शेयर कर सकते हैं कि आपका दवाना और सर का बहुत अच्छी दवा है और इधर की कुछ उधर की तरफ

kya aap apne pehle yudh ke anubhavon ko share kar sakte hain ki aapka davana aur sir ka bahut achi dawa hai aur idhar ki kuch udhar ki taraf

क्या आप अपने पहले युद्ध के अनुभवों को शेयर कर सकते हैं कि आपका दवाना और सर का बहुत अच्छी द

Romanized Version
Likes  130  Dislikes    views  3557
WhatsApp_icon
user

inderjeet singh

Yoga Trainer

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा कि अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं बिल्कुल कर सकते हैं जब मैं पहली बार योग सीखने के लिए जेल गया मेरे जो टीचर थे वह अपने बारे में बताने लगे कि मेरे को इतनी बीमारियां है यह कुछ है मैं यह दवाइयां खाता था मेरी योग करने से छूट गई है तो मैंने सोचा कि अगर यह इतनी बीमारियों में से निकलकर टीचर बने हैं योग के टीचर बने हैं तो मेरे पास मेरे को तो कोई बीमारी है नहीं तो मैं भी बन सकता हूं तो मैंने ठान ली तो मैं 1 साल में ही योग टीचर बन गया और जब मैं योग करने लगा तो मेरा मन बिल्कुल शांत होने लग गया और जब मैं क्लास लेता हूं कक्षा में जाता हूं तो ऐसा लगता है कि सब मेरे अपने हैं मुझे किसी से यह लगता ही नहीं है कि वह पर आए हैं और ऐसा लगता है कि इनके लिए मेरे को बनाया गया है अपने आपको तो खुशी मिलती है खुशी बांटने से और ज्यादा खुशी मिलती है तो ऐसे ऐसे लोग आते हैं जो बातें करते हैं मेरे को यह बीमारी है यह बीमारी है जब वह योग करते हैं जब हमको इससे फर्क पड़ता है तो मन को खुशी होती है आनंद आता है कई तो लोग ऐसे ऐसे थे जो बोलते थे हम कई सालों से सो नहीं पाए जब होते हैं उनकी बातें सुनते हैं उनके अनुभव सुनते हैं ऐसा लगता है कुछ तो है योग में

aapne kaha ki apne anubhav ko share kar sakte hain bilkul kar sakte hain jab main pehli baar yog sikhne ke liye jail gaya mere jo teacher the vaah apne bare me batane lage ki mere ko itni bimariyan hai yah kuch hai main yah davaiyan khaata tha meri yog karne se chhut gayi hai toh maine socha ki agar yah itni bimariyon me se nikalkar teacher bane hain yog ke teacher bane hain toh mere paas mere ko toh koi bimari hai nahi toh main bhi ban sakta hoon toh maine than li toh main 1 saal me hi yog teacher ban gaya aur jab main yog karne laga toh mera man bilkul shaant hone lag gaya aur jab main class leta hoon kaksha me jata hoon toh aisa lagta hai ki sab mere apne hain mujhe kisi se yah lagta hi nahi hai ki vaah par aaye hain aur aisa lagta hai ki inke liye mere ko banaya gaya hai apne aapko toh khushi milti hai khushi baantne se aur zyada khushi milti hai toh aise aise log aate hain jo batein karte hain mere ko yah bimari hai yah bimari hai jab vaah yog karte hain jab hamko isse fark padta hai toh man ko khushi hoti hai anand aata hai kai toh log aise aise the jo bolte the hum kai salon se so nahi paye jab hote hain unki batein sunte hain unke anubhav sunte hain aisa lagta hai kuch toh hai yog me

आपने कहा कि अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं बिल्कुल कर सकते हैं जब मैं पहली बार योग सीखने क

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  524
WhatsApp_icon
user

Rakesh Kothiyal

Astrologer And Yoga Teacher

3:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हरि ओम नमस्कार दोस्तों सभी वह कल ग्रुप के मेंबर को मेरा नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है क्या आप अपने पहले योग कक्षा की अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं बिल्कुल दोस्तों दोस्तों मैं भी पहले युवकों को नहीं समझता था कि योगा क्या चीज है यह सब यह सब धोखा है जो योगा करेगा वह विदेश जाएगा जो योगा यहां करेगा वह पैसे कम आएगा हमारे किस काम का क्योंकि दोस्तों उस समय मुझे योगा के बारे में एक भी रुपए के नॉलेज नहीं थी कि क्या होता है कैसे होता है कैसे करते हैं बस टीवी में देख लिया कभी मोबाइल में देख लिया था कभी बाहर ही लोग दोस्तों को देख लिया करता था जब खुद में इस योगा में आया पहले मैं भी आपकी तरह एक हाथी एक मोटा लड़का था हां वजन कम करने की दवाई खा लिया वजन कम होगा जब मैंने लगातार एक महीना गया डेढ़ महीने में देखा है रे उसमें उस वस्तु जिसमें योगा जॉइन करूं मेरा वजन था 75 किलो राजा भी यकीन करेंगे आज मेरा वजन है 55 किलो देखो दोस्तों युवा किया युगा की किताबों के अध्ययन किया अच्छी सी जानकारी मिली भगवान के बारे में सोचने से के बारे में लिखा हुआ है किरण संहिता है हर प्रदीपिका है प्राकृतिक चिकित्सा एक्यूप्रेशर है मर्म चिकित्सा है और सबसे बड़ी बात है दोस्तों कि हम जो जो लड़की आई एम में सीबीएसई में करके आते हैं उन्हें योगा के माध्यम से उनको संस्कृत भाषा सीखने का भी मौका मिला संस्कृत श्लोक भोले का मौका मिला जो संस्कृत श्लोक से दूर भागते थे वहां संस्कृत में श्लोक आहा कितना अच्छा लगता है हमें भी कितना अच्छा लगता है कि हमारे धार्मिक का प्रचार हो रहा है लड़की है ल क्या अच्छे-अच्छे श्लोकों का उच्चारण करते हैं योगा में योगा कला के माध्यम से शरीर देखो जितने भी होगा वाले होंगे सब का वजन काले मोटे होते आते जब योगा करते तब पतले होते चले जाते हैं तो तो मैंने भी योगा किया लेकिन मेरे मन में लाल सैनी के भी होगा करूंगा विदेश जाऊंगा ऐसा नहीं है क्योंकि मेरे पास अभी और भी काम है मेरा अपना पूजा-पाठ का काम है मेरा अपना ज्योतिष एस्ट्रोलॉजी का भी काम है और साथ-साथ में योगा शाम को एक घंटा रोजाना कला सिखाता हूं मसीही मेरा काम है परमात्मा परमात्मा ने मेरे को इतना दिया है कि मेरे को बाहर जाने की जरूरत नहीं है आप लोगों के आशीर्वाद से लोकल ऐप्स में जुड़ा हूं इसे मैं आपको क्वेश्चन के आंसर दे रहा हो तो यह जो भी मैंने अभी आपका रिजर्वेशन के आंसर दिया है यह मैंने कई किताबें पड़ा है ना कहीं पढ़ा हूं यह सिर्फ मेरा ही अनुभव है अपने अनुभव आपके क्वेश्चन के माध्यम से शेयर कर रहा हूं हां अगर में किताबें पढ़ता तो भी रोजाना कम से कम दो-तीन ही क्वेश्चन के आंसर दे पाता है क्यों में किताबें पढ़कर तब आपको बता रहा हूं तो तो आप भी शेयर करें आप भी पढ़े आप भी आनंद में भगवान के प्रति अपना आज विश्वास श्रद्धा बनाए रखें इस योगा के माध्यम से आपको अदभुत जानकारियां मिली कि अगली बार जब आऊंगा तो वीडियो के माध्यम से आपसे मुलाकात होगी जय माता दी

hari om namaskar doston sabhi vaah kal group ke member ko mera namaskar doston aapka prashna hai kya aap apne pehle yog kaksha ki apne anubhav ko share kar sakte hain bilkul doston doston main bhi pehle yuvakon ko nahi samajhata tha ki yoga kya cheez hai yah sab yah sab dhokha hai jo yoga karega vaah videsh jaega jo yoga yahan karega vaah paise kam aayega hamare kis kaam ka kyonki doston us samay mujhe yoga ke bare me ek bhi rupaye ke knowledge nahi thi ki kya hota hai kaise hota hai kaise karte hain bus TV me dekh liya kabhi mobile me dekh liya tha kabhi bahar hi log doston ko dekh liya karta tha jab khud me is yoga me aaya pehle main bhi aapki tarah ek haathi ek mota ladka tha haan wajan kam karne ki dawai kha liya wajan kam hoga jab maine lagatar ek mahina gaya dedh mahine me dekha hai ray usme us vastu jisme yoga join karu mera wajan tha 75 kilo raja bhi yakin karenge aaj mera wajan hai 55 kilo dekho doston yuva kiya yuga ki kitabon ke adhyayan kiya achi si jaankari mili bhagwan ke bare me sochne se ke bare me likha hua hai kiran sanhita hai har pradipika hai prakirtik chikitsa ekyupreshar hai marm chikitsa hai aur sabse badi baat hai doston ki hum jo jo ladki I M me cbse me karke aate hain unhe yoga ke madhyam se unko sanskrit bhasha sikhne ka bhi mauka mila sanskrit shlok bhole ka mauka mila jo sanskrit shlok se dur bhagte the wahan sanskrit me shlok aaha kitna accha lagta hai hamein bhi kitna accha lagta hai ki hamare dharmik ka prachar ho raha hai ladki hai l kya acche acche shlokon ka ucharan karte hain yoga me yoga kala ke madhyam se sharir dekho jitne bhi hoga waale honge sab ka wajan kaale mote hote aate jab yoga karte tab patle hote chale jaate hain toh toh maine bhi yoga kiya lekin mere man me laal saini ke bhi hoga karunga videsh jaunga aisa nahi hai kyonki mere paas abhi aur bhi kaam hai mera apna puja path ka kaam hai mera apna jyotish astrology ka bhi kaam hai aur saath saath me yoga shaam ko ek ghanta rojana kala sikhata hoon masihi mera kaam hai paramatma paramatma ne mere ko itna diya hai ki mere ko bahar jaane ki zarurat nahi hai aap logo ke ashirvaad se local apps me juda hoon ise main aapko question ke answer de raha ho toh yah jo bhi maine abhi aapka reservation ke answer diya hai yah maine kai kitaben pada hai na kahin padha hoon yah sirf mera hi anubhav hai apne anubhav aapke question ke madhyam se share kar raha hoon haan agar me kitaben padhata toh bhi rojana kam se kam do teen hi question ke answer de pata hai kyon me kitaben padhakar tab aapko bata raha hoon toh toh aap bhi share kare aap bhi padhe aap bhi anand me bhagwan ke prati apna aaj vishwas shraddha banaye rakhen is yoga ke madhyam se aapko adbhut jankariyan mili ki agli baar jab aaunga toh video ke madhyam se aapse mulakat hogi jai mata di

हरि ओम नमस्कार दोस्तों सभी वह कल ग्रुप के मेंबर को मेरा नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है क्य

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  1143
WhatsApp_icon
play
user

Dr. R. K. Gupta

Yoga & Nature Care Health center

1:36

Likes  106  Dislikes    views  1213
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:40

Likes  265  Dislikes    views  2355
WhatsApp_icon
user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जंग सियासत के लिए 4 महीने बाद ही हमारे गुरु जी का ट्रांसफर को गवर्नमेंट डिपार्टमेंट टेलीफोन जिओ का सिम 4G की राशि दिखाए नहीं आ रही थी तभी मैंने उसके बाद धीरे-धीरे बाद में लोगों की दृष्टि होगा करवाया जाता है बहुत ही अच्छे अच्छे उसके बाद लोगों के ऊपर आना हमारे घर आकर युवा करेंगे अलग से पहले लावा के नाम से जो धन्यवाद

jung siyasat ke liye 4 mahine baad hi hamare guru ji ka transfer ko government department telephone jio ka sim 4G ki rashi dekhiye nahi aa rahi thi tabhi maine uske baad dhire dhire baad me logo ki drishti hoga karvaya jata hai bahut hi acche acche uske baad logo ke upar aana hamare ghar aakar yuva karenge alag se pehle lava ke naam se jo dhanyavad

जंग सियासत के लिए 4 महीने बाद ही हमारे गुरु जी का ट्रांसफर को गवर्नमेंट डिपार्टमेंट टेलीफो

Romanized Version
Likes  241  Dislikes    views  2709
WhatsApp_icon
play
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या योगा क्या आप अपने योग अपने पहले योग कक्षा का अनुभव को शेयर कर सकते हैं बेहतर रही मेरी यूपी कक्षा और पहली मेरी योग्य कक्षा जो है मेरी अपनी खुद की क्लास की गई और हमारे गुरुजी सारे योग हमारे जो साथी थे वह सब से अपने ही क्लास को करवाया करते थे शुरुआत में हम लोगों ने बच्चे सहयोग किया इसके बाद जो है सबको प्लस लेने का मौका देते थे और वो कहते थे कि जो है कि आगे चलकर आपको ही इस तरह के क्लास लेने हैं अभी कोई गलती है तो आप मेरे समक्ष ले रहे हैं तो अच्छा अनुभव रहा हमारा

kya yoga kya aap apne yog apne pehle yog kaksha ka anubhav ko share kar sakte hain behtar rahi meri up kaksha aur pehli meri yogya kaksha jo hai meri apni khud ki class ki gayi aur hamare guruji saare yog hamare jo sathi the vaah sab se apne hi class ko karvaya karte the shuruat mein hum logo ne bacche sahyog kiya iske baad jo hai sabko plus lene ka mauka dete the aur vo kehte the ki jo hai ki aage chalkar aapko hi is tarah ke class lene hain abhi koi galti hai toh aap mere samaksh le rahe hain toh accha anubhav raha hamara

क्या योगा क्या आप अपने योग अपने पहले योग कक्षा का अनुभव को शेयर कर सकते हैं बेहतर रही मेरी

Romanized Version
Likes  80  Dislikes    views  2103
WhatsApp_icon
user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब मैं 13 साल का था तो मेरी आंखों को में कमजोरी आ गई थी और डॉक्टर ने चर्चा के स्काइप पर दिया था मैं जाने मैं नहीं जानता किस वजह से मैं युग की पुस्तक लेकर आया और मुझे नहीं मालूम मुझे यह यह उस पुस्तक को खरीदने का कहां से प्रोत्साहन मिला क्योंकि मेरे घर में कोई भी योग नहीं करता है तो वह में योग की पुस्तक लेकर आया और भाइयों की पुस्तक एक्चुली मेरे कलाई में बहुत ज्यादा दर्द होता था क्योंकि मेरी हड्डी टूट गई थी हाथ की और प्रॉपर्टी क्यों नहीं पाई थी तो उसके लिए मैंने योग करना शुरू किया और उससे मुझे बहुत फायदा हो गया अर्थात मेरे हाथ का जो दर्द था बिल्कुल ठीक हो गया बल्कि इसके कारण मेरी नाखून भी खराब हो गए थे जिसके विषय में डॉक्टर से ने कह दिया था कि ना फोन आपका भी ठीक नहीं होंगे और नाखून भी ठीक हो गए थे तो इससे मुझे इतना ज्यादा अच्छा लगा अजब मुझे डॉक्टर ने चश्मा पर स्काइप पर या तो उस उस पुस्तक से ही मैंने आंखों के लिए योग्य तो मेरे आंखों पर भी चश्मा चढ़ाने की आवश्यकता नहीं पड़ी इसलिए तेरे बस की अवस्था में मेरे दिमाग पर योग का इतना अच्छा प्रभाव पड़ा कि जब डॉक्टर बनने के बाद मुझे अपने पेशेंट को लेकर बहुत ज्यादा परेशानी होने लगी उनके प्रति मेरे मन में यह भाव है कि मैं उनकी अच्छी सेवा नहीं कर पा रहा हूं तो मैं अपनी एलोपैथिक मेडिसिन से युग में शिफ्ट हो गया और अब मैं एमबीबीएस करने के बाद एक योग्य

jab main 13 saal ka tha toh meri aankho ko mein kamzori aa gayi thi aur doctor ne charcha ke skaip par diya tha main jaane main nahi jaanta kis wajah se main yug ki pustak lekar aaya aur mujhe nahi maloom mujhe yah yah us pustak ko kharidne ka kahaan se protsahan mila kyonki mere ghar mein koi bhi yog nahi karta hai toh vaah mein yog ki pustak lekar aaya aur bhaiyo ki pustak ekchuli mere kalaai mein bahut zyada dard hota tha kyonki meri haddi toot gayi thi hath ki aur property kyon nahi payi thi toh uske liye maine yog karna shuru kiya aur usse mujhe bahut fayda ho gaya arthat mere hath ka jo dard tha bilkul theek ho gaya balki iske karan meri nakhun bhi kharab ho gaye the jiske vishay mein doctor se ne keh diya tha ki na phone aapka bhi theek nahi honge aur nakhun bhi theek ho gaye the toh isse mujhe itna zyada accha laga ajab mujhe doctor ne chashma par skaip par ya toh us us pustak se hi maine aankho ke liye yogya toh mere aankho par bhi chashma chadhane ki avashyakta nahi padi isliye tere bus ki avastha mein mere dimag par yog ka itna accha prabhav pada ki jab doctor banne ke baad mujhe apne patient ko lekar bahut zyada pareshani hone lagi unke prati mere man mein yah bhav hai ki main unki achi seva nahi kar paa raha hoon toh main apni allopathic medicine se yug mein shift ho gaya aur ab main MBBS karne ke baad ek yogya

जब मैं 13 साल का था तो मेरी आंखों को में कमजोरी आ गई थी और डॉक्टर ने चर्चा के स्काइप पर दि

Romanized Version
Likes  109  Dislikes    views  1566
WhatsApp_icon
user

Pawan Upadhyay

Yoga Instructor

3:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

2008 में गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय से योग से b.a. करने के पश्चात योग के क्षेत्र में मैंने अपने कर्म भूमि दिल्ली दिल्ली को बनाया तो दिल्ली में जो सबसे पहले मेरी क्लास थी वह हौज खास एंक्लेव में थी तो जो उस क्लास जो मलिक क्लास पर्सनल क्लास की मेरी तो क्लास का टाइम था आठ से नौ तो मैं जैसलमेर पहले क्लास थी मैं थोड़ा नर्वस था डरा हुआ था तो मैं वहां हौज खास एंक्लेव में सुबह 7:00 बजे ही पहुंच गया और मैं मैंने एक घंटा किसी पार्क में इंद्र किया 8 महीने का तो मैं तब तक मैं एक योग की पुस्तक थी उसको प्रथा रहा अध्ययन करता रहा कि जैसे कोई मेरे एग्जाम हो तो मैं जैसे आसन प्राणायाम बंध वह सब ध्यान से पढ़ रहा था जिससे कि जब मेरी पहली क्लास है पहला दिन वो थोड़ा आसान रहे तो मैं 8:00 बजे हौज खास एनक्लेव हाउस नंबर मुझे अब तक याद है यह बात है 28 अगस्त सन 2012 की तो मैं वहां गया तो मुझे ड्राइंग में उठाया गया अंदर पर कम से कम 10 मिनट के बाद जिनको यह बताना था मिस्टर अमित अग्रवाल वह आए तो उनका वेट 140 किलो था इससे पहले बैठे बात की हुई क्या हेल्थ इश्यू है किस लिए वह करना है वह सब ठीक है क्लास स्टार्ट हुई अग्रवाल के अच्छे प्रश्न अच्छे व्यक्ति हैं उन्होंने काफी अच्छे से जैसे वेट करूं के 40 था तो मैंने पहली क्लास में उनको हल्का सा बार मत करवाया मैंने करवाया कपालभाति प्राणायाम किस तरह एक घंटा बीत गया और यह क्लास काफी अच्छी रही जैसे मैं डरा हुआ था थोड़ा नर्वस था तो जब मैंने क्लास आरंभ की तो डर धीरे-धीरे हो जाता रहा और पहले पहले क्लास का अनुभव काफी अच्छा रहा और फिर 1520 दिनों के बाद मुझे पता लगा कि जिस घर में मैं जिस कोठी में मैं आ रहा हूं जो सबसे फेमस गार्डन नाम आपने भी सुना होगा हल्दीराम आप लोगों ने हल्दीराम की नमकीन वगैरा भी खाई होगी ना उसके आउटलेट्स में काफी सारे थे तो उनके ऑनर थे मिस्टर अमित अग्रवाल तुमसे जान कर बाद में काफी अच्छा लगा कि मैं आमिर पहले ही क्लास हल्दीराम के मालिक हैं इतिहास काफी तेज थी मेरी 12वीं क्लास की 9000 फीट तब काफी अच्छी मानी जाती थी इस तरह यह मेरी पहली क्लास काफी अच्छे रहे धन्यवाद

2008 mein gurukul kangadi vishwavidyalaya se yog se b a karne ke pashchat yog ke kshetra mein maine apne karm bhoomi delhi delhi ko banaya toh delhi mein jo sabse pehle meri kashi thi vaah hauj khaas enclave mein thi toh jo us kashi jo malik kashi personal kashi ki meri toh kashi ka time tha aath se nau toh main jaisalmer pehle kashi thi main thoda nervous tha dara hua tha toh main wahan hauj khaas enclave mein subah 7 00 baje hi pohch gaya aur main maine ek ghanta kisi park mein indra kiya 8 mahine ka toh main tab tak main ek yog ki pustak thi usko pratha raha adhyayan karta raha ki jaise koi mere exam ho toh main jaise aasan pranayaam bandh vaah sab dhyan se padh raha tha jisse ki jab meri pehli kashi hai pehla din vo thoda aasaan rahe toh main 8 00 baje hauj khaas enaklev house number mujhe ab tak yaad hai yah baat hai 28 august san 2012 ki toh main wahan gaya toh mujhe drying mein uthaya gaya andar par kam se kam 10 minute ke baad jinako yah bataana tha mister amit agrawal vaah aaye toh unka wait 140 kilo tha isse pehle baithe baat ki hui kya health issue hai kis liye vaah karna hai vaah sab theek hai kashi start hui agrawal ke acche prashna acche vyakti hain unhone kaafi acche se jaise wait karu ke 40 tha toh maine pehli kashi mein unko halka sa baar mat karvaya maine karvaya kapalbhati pranayaam kis tarah ek ghanta beet gaya aur yah kashi kaafi achi rahi jaise main dara hua tha thoda nervous tha toh jab maine kashi aarambh ki toh dar dhire dhire ho jata raha aur pehle pehle kashi ka anubhav kaafi accha raha aur phir 1520 dino ke baad mujhe pata laga ki jis ghar mein main jis kothi mein main aa raha hoon jo sabse famous garden naam aapne bhi suna hoga haldiram aap logo ne haldiram ki namkeen vagera bhi khai hogi na uske Outlets mein kaafi saare the toh unke honour the mister amit agrawal tumse jaan kar baad mein kaafi accha laga ki main aamir pehle hi kashi haldiram ke malik hain itihas kaafi tez thi meri vi kashi ki 9000 feet tab kaafi achi maani jaati thi is tarah yah meri pehli kashi kaafi acche rahe dhanyavad

2008 में गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय से योग से b.a. करने के पश्चात योग के क्षेत्र में मै

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  256
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है कि क्या आप अपने पहले योग कक्षा के अनुभव को इस शेयर कर सकते हैं जी बिल्कुल बहुत ही अच्छा सवाल है मेरे जो पहली योग कक्षा थी उसमें मैं क्या इस तरीके से मैं भी सीख रहा था उस वक्त और मैं योग कक्षा चलाते-चलाते योग में सीखा हूं और योग कक्षा लेना बहुत ही जरूरी है क्योंकि इस तरह से आपके अंदर जितना आप सीख लिए पहले आप सीख लीजिए और सीखने के बाद जवाब योग की कथा लेना शुरू करेंगे तो धीरे-धीरे क्या होगा कि आपका एक इसमें कॉन्फिडेंस बढ़ेगा आपका विश्वास अपने ऊपर बढ़ेगा आप इसमें और भी जानकारियां लेंगे क्योंकि सवाल जवाब बहुत होते हैं सामने से तो उन सवालों का प्रॉपर जवाब देने के लिए आपको जो है इसमें गहन अध्ययन करना पड़ता है इस योग कक्षा का मेरा अनुभव तो यही रहा कि इससे मेरा ज्ञान बड़ा है और हमें भी चाहूंगा कि अगर आप भी योग कक्षा लेंगे तो आपकी विज्ञान विज्ञान पड़ेगा धन्यवाद

haan namaskar jaisa ki aapka prashna hai ki kya aap apne pehle yog kaksha ke anubhav ko is share kar sakte hain ji bilkul bahut hi accha sawaal hai mere jo pehli yog kaksha thi usme main kya is tarike se main bhi seekh raha tha us waqt aur main yog kaksha chalte chalte yog mein seekha hoon aur yog kaksha lena bahut hi zaroori hai kyonki is tarah se aapke andar jitna aap seekh liye pehle aap seekh lijiye aur sikhne ke baad jawab yog ki katha lena shuru karenge toh dhire dhire kya hoga ki aapka ek isme confidence badhega aapka vishwas apne upar badhega aap isme aur bhi jankariyan lenge kyonki sawaal jawab bahut hote hain saamne se toh un sawalon ka proper jawab dene ke liye aapko jo hai isme gahan adhyayan karna padta hai is yog kaksha ka mera anubhav toh yahi raha ki isse mera gyaan bada hai aur hamein bhi chahunga ki agar aap bhi yog kaksha lenge toh aapki vigyan vigyan padega dhanyavad

हां नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है कि क्या आप अपने पहले योग कक्षा के अनुभव को इस शेयर कर

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  798
WhatsApp_icon
user

Saroj Kumar Ksheti

Yoga Instructor/Practitioner

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप अपने पहले योग कक्षा के अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं देखिए चाहिए जो अनुभव होता है यह सभी का अपना अपना अलग ही अनुभव होता है हमने जो अनुभव किया है दूसरा व्यक्ति अगर कोई जान है तो उसका अनुभव बहुत ही अलग होगा और उसका जो अनुभव की जो भी चिंता है उसका आनंद लेना चाहिए

kya aap apne pehle yog kaksha ke apne anubhav ko share kar sakte hain dekhiye chahiye jo anubhav hota hai yah sabhi ka apna apna alag hi anubhav hota hai humne jo anubhav kiya hai doosra vyakti agar koi jaan hai toh uska anubhav bahut hi alag hoga aur uska jo anubhav ki jo bhi chinta hai uska anand lena chahiye

क्या आप अपने पहले योग कक्षा के अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं देखिए चाहिए जो अनुभव होता है

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

PANKAJ SHARMA

Yoga Instructor

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे अंदर योग का उबाल कब कैसे और क्यों आया पहले मैं आपको यह बता देता हूं शुरू से लगभग 12 तेरह साल की उम्र चाहिए मुझे इंडियन आर्मी में जाने का शौक था मैं कभी भी योग के बारे में एबीसीडी भी नहीं जानता था मैं हमेशा से यही चाहता था कि मैं सेना में जा कर के अपने दुश्मनों से लड़ो और उन्हें मार गिराओ और हर वक्त बचपन से मेरी यह आदत थी कि मैं चाय कार्य जो भी हो उसमें अब अलाउ फर्स्ट टाइम इसके लिए मैं अपनी हर क्लास में हर एग्जाम में अव्वल आता था परंतु जैसे ही मेरी उम्र 18 साल की हुई तो मुझे एक सोरायसिस नाम की बीमारी हुई यह सुरक्षित नाम की बीमारी है क्या ऐसी बीमारी है जिसमें आपकी स्किन डिजीज जो है इतनी तेजी से काम कर 10 गुना ज्यादा तेजी से यह बनने लगती है जिसके कारण

mere andar yog ka ubaal kab kaise aur kyon aaya pehle main aapko yah bata deta hoon shuru se lagbhag 12 terah saal ki umr chahiye mujhe indian army mein jaane ka shauk tha main kabhi bhi yog ke bare mein ABCD bhi nahi jaanta tha main hamesha se yahi chahta tha ki main sena mein ja kar ke apne dushmano se lado aur unhe maar girao aur har waqt bachpan se meri yah aadat thi ki main chai karya jo bhi ho usme ab alau first time iske liye main apni har kashi mein har exam mein avval aata tha parantu jaise hi meri umr 18 saal ki hui toh mujhe ek psoriasis naam ki bimari hui yah surakshit naam ki bimari hai kya aisi bimari hai jisme aapki skin disease jo hai itni teji se kaam kar 10 guna zyada teji se yah banne lagti hai jiske karan

मेरे अंदर योग का उबाल कब कैसे और क्यों आया पहले मैं आपको यह बता देता हूं शुरू से लगभग 12 त

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  274
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक आप का क्वेश्चन है क्या आप अपने पहले ही होगा योग कक्षा के अपने अनुभव को शेयर कर सकते हैं तो मैं थोड़ा सा उस में संक्षिप्त अपने अनुभव को शेयर करना चाहूंगा जब मैं योग में एडमिशन लिया तो उसमें इतना अनुशासन में रहना पड़ता है इतना अनुशासित व्यक्ति को रहना पड़ता है कि आदमी को थोड़ा सा खींच जैसा महसूस महसूस होता है हम भी थोड़ा सा घर आ जरूर गए थे कारण की आवश्यकता से ज्यादा उसमें अनुशासन बरतना पड़ता है अनुशासित होना पड़ता है कारण की आवश्यकता से ज्यादा उसमें बोल नहीं सकते उसी 9 सिटी के अंदर रहना पड़ता है और एक बात है गपशप भी नहीं कर सकते हो सकता है ज्यादा बोलना ही नहीं है सिर्फ योग कीजिए अपने रूम में जाइए खाइए पीजिए सो जाइए इस टाइप का है मैं दोस्तों से बात करने को ना फोन पर बात करना मैं घूमना फिरना सब पर पाबंदी होती है इसलिए हम हमारा जहां तक अनुभव थोड़ा शुरू शुरू में 15 दिन तक हमें भी काफी कि जब से महसूस हुई इसलिए थोड़ा शोषण में दिक्कत तो होता है लेकिन उसके बाद भी अपने आप को संभालना पड़ता है किसी चीज को पाने के लिए किसी न किसी चीज को पाना ही पड़ता है इसका परिणाम आज सामने आता है जिसके वजह से आदमी है वैसा ही जैसे उस समय अनुशासित आज भी उसे अनुशासन के तहत हम अपने लाइफ को व्यतीत कर रहे हैं उसे जीवन में जिंदा है जिससे जीवन में कक्षा में था धन्यवाद

jahan tak aap ka question hai kya aap apne pehle hi hoga yog kaksha ke apne anubhav ko share kar sakte hain toh main thoda sa us mein sanshipta apne anubhav ko share karna chahunga jab main yog mein admission liya toh usme itna anushasan mein rehna padta hai itna anushasit vyakti ko rehna padta hai ki aadmi ko thoda sa khinch jaisa mehsus mahsus hota hai hum bhi thoda sa ghar aa zaroor gaye the karan ki avashyakta se zyada usme anushasan bartana padta hai anushasit hona padta hai karan ki avashyakta se zyada usme bol nahi sakte usi 9 city ke andar rehna padta hai aur ek baat hai gapshap bhi nahi kar sakte ho sakta hai zyada bolna hi nahi hai sirf yog kijiye apne room mein jaiye khaiye PGA so jaiye is type ka hai doston se baat karne ko na phone par baat karna main ghumana phirna sab par pabandi hoti hai isliye hum hamara jaha tak anubhav thoda shuru shuru mein 15 din tak hamein bhi kaafi ki jab se mehsus hui isliye thoda shoshan mein dikkat toh hota hai lekin uske baad bhi apne aap ko sambhaalna padta hai kisi cheez ko paane ke liye kisi na kisi cheez ko paana hi padta hai iska parinam aaj saamne aata hai jiske wajah se aadmi hai waisa hi jaise us samay anushasit aaj bhi use anushasan ke tahat hum apne life ko vyatit kar rahe hain use jeevan mein zinda hai jisse jeevan mein kaksha mein tha dhanyavad

जहां तक आप का क्वेश्चन है क्या आप अपने पहले ही होगा योग कक्षा के अपने अनुभव को शेयर कर सकत

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  1057
WhatsApp_icon
user

Shyam Vispute

Yoga Instructor

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी जरूर रहा जब हम फर्स्ट पहली बार जब योगा करने गए थे तो काफी हमें लगा था कि क्या होगा क्या नहीं होगा कैसे होगा कैसा होता है क्या होता है योग के बारे में बहुत कुछ धारणाएं थी और वहां पर जाने के बाद में पता चला कि जो हम पहले से सुनी थी होगा के बारे में बाकी सुधा के बाद में क्यों पूछ रही हमने गलत धारणा है उसके बारे में कर ली थी कि योगा सेक्स व बुरे लोगों के लिए होता है या फ्रिज वाले लोगों के लिए होता है बट वहां पर जाने के बाद पता चला कि योगा जो होता है वह सारे लोगों के लिए होता है सारे इस ग्रुप के लोग कर सकते आप लोगों के लिए युवाओं के लिए बहुत जरूरी है योगा और योगा कर करते हैं तो हमारा स्वास्थ्य पड़ता है और और हमें अच्छे से अच्छे से अच्छे स्वास्थ्य में रख सकते योगा योगा करने के बाद में यह पता चला और पहले दिन काफी काफी दिक्कत होती है उसका कान में प्रोलिफिकली होता है हमें लगता है छोड़ दे योगा करना एक दूसरे से नेट ऑन करके में लगता है कि यह हमसे नहीं हो पाएगा ऐसा होगा करके बहुत हार्ड है करके लेकिन ऐसा नहीं होता अमर इंस्पेक्टर काफी अच्छे थे तो वह काफी उन्होंने सही ढंग से में करवाया और हां पहले दिन करने के बाद भी काफी एनर्जी महसूस हुई दिन बहुत अच्छा गया और काफी काफी एनर्जी लगी और पौड़ी काफी है न जाए सो गई थी हमारी हो दिनभर थकान महसूस नहीं हुई और काफी अच्छा अनुभव रहा जो कि शरीर का डिटॉक्सिफिकेशन होता है चाहे त्रिवेदी वेरी गुड बहुत ही अच्छा एक्सप्रेस राम मेरा मुझे चांद बोला यह सब करने का योगा के फौजी का अनुभव काफी अच्छा रहा और रमेश अब कोई कमेंट करूंगा कि सब नहीं करना चाहिए और अपना स्वास्थ्य अच्छा बनाना चाहिए

ji zaroor raha jab hum first pehli baar jab yoga karne gaye the toh kaafi hamein laga tha ki kya hoga kya nahi hoga kaise hoga kaisa hota hai kya hota hai yog ke bare mein bahut kuch dharnae thi aur wahan par jaane ke baad mein pata chala ki jo hum pehle se suni thi hoga ke bare mein baki sudha ke baad mein kyon puch rahi humne galat dharana hai uske bare mein kar li thi ki yoga sex va bure logo ke liye hota hai ya fridge waale logo ke liye hota hai but wahan par jaane ke baad pata chala ki yoga jo hota hai vaah saare logo ke liye hota hai saare is group ke log kar sakte aap logo ke liye yuvaon ke liye bahut zaroori hai yoga aur yoga kar karte hain toh hamara swasthya padta hai aur aur hamein acche se acche se acche swasthya mein rakh sakte yoga yoga karne ke baad mein yah pata chala aur pehle din kaafi kafi dikkat hoti hai uska kaan mein prolifically hota hai hamein lagta hai chod de yoga karna ek dusre se net on karke mein lagta hai ki yah humse nahi ho payega aisa hoga karke bahut hard hai karke lekin aisa nahi hota amar inspector kaafi acche the toh vaah kaafi unhone sahi dhang se mein karvaya aur haan pehle din karne ke baad bhi kaafi energy mehsus hui din bahut accha gaya aur kaafi kafi energy lagi aur poudi kaafi hai na jaaye so gayi thi hamari ho dinbhar thakan mehsus nahi hui aur kaafi accha anubhav raha jo ki sharir ka ditaksifikeshan hota hai chahen trivedi very good bahut hi accha express ram mera mujhe chand bola yah sab karne ka yoga ke fauji ka anubhav kaafi accha raha aur ramesh ab koi comment karunga ki sab nahi karna chahiye aur apna swasthya accha banana chahiye

जी जरूर रहा जब हम फर्स्ट पहली बार जब योगा करने गए थे तो काफी हमें लगा था कि क्या होगा क्या

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  386
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!