छात्रों में सॉफ्ट स्किल्स की कमी क्यों होती है भारतीय शिक्षा प्रणाली सॉफ्ट स्किल के विकास पर जोर क्यों नहीं देती है?...


play
user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

1:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वर्तमान भारतीय शिक्षा पद्धति के जनक वाले हैं और मैं कॉल एक अंग्रेज थे जिन्होंने इस देश में अंग्रेजों की नौकरी करने के लिए लोगों को शिक्षित करने का जो तरीका अपनाया था वह आज भी चला आ रहा है हमारी प्राचीन शिक्षा है उसका आधारी सॉफ्ट स्किल में परफेक्शन हुआ करता था परंतु हमारे राजनेता विशेष तौर पर में नेहरू जी और गांधीजी का नाम लूंगा क्योंकि यही राजनेता अब पुराने राजनेताओं में बचे हैं बाकी तो सब गायब हो चुके हैं तो इनकी कृपा से हमारे देश का पूरी तरह से भट्टा बैठ गया है और और उस को आगे बढ़ाने का काम कांग्रेसियों कांग्रेसियों ने किया और दूसरी सरकारें आई उन्होंने भी किया वर्तमान सरकार भी शिक्षा के महत्व को और सॉफ्ट स्किल के महत्व को नहीं समझती इसलिए विभिन्न प्रकार के प्रयोग हमारे प्रधानमंत्री जी द्वारा किए जा रहे हैं परंतु वह भी इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं कि शिक्षा ही एक व्यक्ति समाज देश और आदर्श रूप में संसार का सबसे बड़ा सहायक होता है परंतु भगवान को सर्वोपरि मानने वाले और उन्हीं पर करो अरबों खर्च करने वाली सरकार इस बात को समझ नहीं पाएगी और इसका खामियाजा हमें भुगतना पड़ेगा और पुरानी पूर्व की सरकारों की तरह भी यह सरकार इस देश में कोई बहुत बड़ा परिवर्तन ला पाएगी यह थोड़ा मुश्किल ही लगता है

vartmaan bharatiya shiksha paddhatee ke janak waale hain aur main call ek angrej the jinhone is desh mein angrejo ki naukri karne ke liye logo ko shikshit karne ka jo tarika apnaya tha vaah aaj bhi chala aa raha hai hamari prachin shiksha hai uska adhari soft skill mein parafekshan hua karta tha parantu hamare raajneta vishesh taur par mein nehru ji aur gandhiji ka naam lunga kyonki yahi raajneta ab purane rajnetao mein bache hain baki toh sab gayab ho chuke hain toh inki kripa se hamare desh ka puri tarah se bhatta baith gaya hai aur aur us ko aage badhane ka kaam congressiyo congressiyo ne kiya aur dusri sarkaren I unhone bhi kiya vartaman sarkar bhi shiksha ke mahatva ko aur soft skill ke mahatva ko nahi samajhti isliye vibhinn prakar ke prayog hamare pradhanmantri ji dwara kiye ja rahe hain parantu vaah bhi is baat ko nahi samajh paa rahe hain ki shiksha hi ek vyakti samaj desh aur adarsh roop mein sansar ka sabse bada sahayak hota hai parantu bhagwan ko sarvopari manne waale aur unhi par karo araboon kharch karne wali sarkar is baat ko samajh nahi payegi aur iska khamiyaja hamein bhugatna padega aur purani purv ki sarkaro ki tarah bhi yah sarkar is desh mein koi bahut bada parivartan la payegi yah thoda mushkil hi lagta hai

वर्तमान भारतीय शिक्षा पद्धति के जनक वाले हैं और मैं कॉल एक अंग्रेज थे जिन्होंने इस देश में

Romanized Version
Likes  118  Dislikes    views  1457
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!