एनवायरनमेंट क्या है विस्तार से समझाइये हिंदी में?...


play
user

Ridhima

Mass Communications Student

1:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पर्यावरण यानी एनवायरनमेंट शब्द का निर्माण दो शब्दों से मिलकर हुआ है पर यार जो हमारे चारों ओर है और आवरण जो हमें चारों ओर से घेरे हुए हैं पर्यावरण उन सभी भौतिक रासायनिक एवं जैविक कारकों की तमाशा समष्टिगत इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा पारितंत्र आबादी को प्रभावित करते करते हैं तथा उनके रूप जीवन आजीविका को तय करते हैं सामान्य अर्थों में या हमारे जीवन को प्रभावित करने वाले सभी जैविक और अजैविक तत्वों तथ्यों प्रक्रियाओं और घटनाओं के समुच्चय से निर्मित इकाई है यह हमारे चारों ओर व्याप्त है और हमारे जीवन का की प्रत्येक घटना इसी के अंदर संपादित होती है तथा हम मनुष्य अपनी समस्त क्रियाओं से इस पर्यावरण को भी प्रभावित करते हैं इस प्रकार एक जीवधारी और उसके पर्यावरण के बीच अन्योन्याश्रय का संबंध भी होता है पर्यावरण के जैविक संकटों में सूक्ष्म जीवाणु से लेकर वीडियो में कव्वाली सभी जीव जंतु और पेड़ पौधे आ जाते हैं और इसके साथ ही उनसे जुड़ी सारी जेब क्रियाएं और प्रक्रियाएं b.a. जैविक संकटों को संकट संकट को मैं जीवन रहित जीवन तत्व और उनसे जुड़ी प्रक्रियाएं आती है जैसे चट्टानी परिवर्तन पर्वत नदी हवा और जलवायु के तत्व तत्व इत्यादि

paryaavaran yani environment shabd ka nirmaan do shabdon se milkar hua hai par yaar jo hamare charo aur hai aur aavaran jo hamein charo aur se ghere hue hain paryavaran un sabhi bhautik Rasayanik evam Jaivik kaarakon ki tamasha samashtigat ikai hai jo kisi jeevadhari athva paritantra aabadi ko prabhavit karte karte hain tatha unke roop jeevan aajiwika ko tay karte hain samanya arthon mein ya hamare jeevan ko prabhavit karne waale sabhi Jaivik aur ajaivik tatvon tathyon prakriyaon aur ghatnaon ke samuchya se nirmit ikai hai yah hamare charo aur vyapt hai aur hamare jeevan ka ki pratyek ghatna isi ke andar sanpadit hoti hai tatha hum manushya apni samast kriyaon se is paryavaran ko bhi prabhavit karte hain is prakar ek jeevadhari aur uske paryavaran ke beech anyonyashray ka sambandh bhi hota hai paryavaran ke Jaivik sankaton mein sukshm jivanu se lekar video mein qawwali sabhi jeev jantu aur ped paudhe aa jaate hain aur iske saath hi unse judi saree jeb kriyaen aur prakriyaen b a Jaivik sankaton ko sankat sankat ko main jeevan rahit jeevan tatva aur unse judi prakriyaen aati hai jaise chattani parivartan parvat nadi hawa aur jalvayu ke tatva tatva ityadi

पर्यावरण यानी एनवायरनमेंट शब्द का निर्माण दो शब्दों से मिलकर हुआ है पर यार जो हमारे चारों

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  135
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
व्हाट इस डेसर्टीफिकेशन ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!