जावेद अख्तर सोचते हैं कि मस्जिदों में स्पीकर का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। इस पर आपकी क्या राय है?...


user

Imran Ansari

Electrician at Treasure Xpeart

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिखी मेरी नजर में तो लाउडस्पीकर बंद होने चाहिए मस्जिद में बंद होने चाहिए लाउडस्पीकर क्योंकि मजहब इस्लाम किसी को भी तकलीफ पहुंचाने की इजाजत नहीं देता दूसरी बात यह है कि आज से 14 साल पहले जब माइक नहीं थे तब भी अजान होती थी और अजान सुनकर नमाज में आने वालों की तादाद भी ज्यादा होती थी आज वक्त बदला है टेक्नोलॉजी नहीं नहीं है फिर भी अजान होने के बाद सूची मस्जिदों में लोगों की भीड़ कम है यह कोई देखी भी खिला पर शराब बात नहीं कर रहा हूं और ना ही मैं किसी मजहब को बुरा ऐसा नहीं कह रहा हूं मेरी सोच यह है कि अपनी वजह से कोई मदद नहीं सिखाता है कि आप किसी को तकलीफ पहुंचा है वे किस में छोटे-छोटे बच्चे होते हैं स्कूल जाने वाले ड्यूटी से कोई आया है कोई बीमार है अभी स्पीकर बसता है जो सुबह स्कूल की नींद में खलल पड़ता है तो बेहतर यह है कि इसको बंद होनी चाहिए जिस तरह में अपनी ड्यूटी का ख्याल रहता है कि वह हमें 8:00 बजे ड्यूटी जाना है तो यह ख्याल क्यों नहीं होता कि आप मस्जिद में कोई टाइम तक तो पहुंच जाओ नमाज को जा कर आप का ऐलान करके बुलाया जाता है ड्यूटी के वक्त में आपका इलाज तो नहीं होता कि भैया आप ड्यूटी का टाइम हो गया आप चाहिए तो कोशिश कीजिए कि अपनी वजह से किसी को तकलीफ ना हो जो कि मजहब इस्लाम जो है यह सिखाता है कि आपका पड़ोसी भी आपकी वजह से परेशान ना हो तो मेरी सोच तो यही कि स्पीकर लाउडस्पीकर बंद होने चाहिए बस्सी टू में और अगर जगहों पर भी एक वक्त मुकर्रर होना चाहिए

dikhi meri nazar mein toh loudspeaker band hone chahiye masjid mein band hone chahiye loudspeaker kyonki majhab islam kisi ko bhi takleef pahunchane ki ijajat nahi deta dusri baat yah hai ki aaj se 14 saal pehle jab mike nahi the tab bhi ajaan hoti thi aur ajaan sunkar namaz mein aane walon ki tadad bhi zyada hoti thi aaj waqt badla hai technology nahi nahi hai phir bhi ajaan hone ke baad suchi masjidon mein logo ki bheed kam hai yah koi dekhi bhi khila par sharab baat nahi kar raha hoon aur na hi main kisi majhab ko bura aisa nahi keh raha hoon meri soch yah hai ki apni wajah se koi madad nahi sikhata hai ki aap kisi ko takleef pohcha hai ve kis mein chote chhote bacche hote hain school jaane waale duty se koi aaya hai koi bimar hai abhi speaker basta hai jo subah school ki neend mein khalal padta hai toh behtar yah hai ki isko band honi chahiye jis tarah mein apni duty ka khayal rehta hai ki vaah hamein 8 00 baje duty jana hai toh yah khayal kyon nahi hota ki aap masjid mein koi time tak toh pohch jao namaz ko ja kar aap ka elaan karke bulaya jata hai duty ke waqt mein aapka ilaj toh nahi hota ki bhaiya aap duty ka time ho gaya aap chahiye toh koshish kijiye ki apni wajah se kisi ko takleef na ho jo ki majhab islam jo hai yah sikhata hai ki aapka padosi bhi aapki wajah se pareshan na ho toh meri soch toh yahi ki speaker loudspeaker band hone chahiye bassi to mein aur agar jagaho par bhi ek waqt mukarrar hona chahiye

दिखी मेरी नजर में तो लाउडस्पीकर बंद होने चाहिए मस्जिद में बंद होने चाहिए लाउडस्पीकर क्योंक

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  352
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!