पिता को अपनी 10 साल की बेटी के यौन शोषण के लिए 5000 रुपए जुर्माना लगा। क्या यह न्याय है?...


user

Dr. Abid Khan

Nutritionist

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन एक सवाल है पिता ने अपनी बेटी के साथ वैसे ही पिता को आप गोली मार दे बीच सड़क में खड़ा करके आप उसे गोली मार दे क्योंकि 10 साल होती अगर हमारी अगर कोई मेरा तो बस चले तो मैं उसे जहर का इंजेक्शन देकर मैं उसे मार दो हमारे बारे में ऐसा करने ना दे किसी आप लोग सावधानी बरतें बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

lekin ek sawaal hai pita ne apni beti ke saath waise hi pita ko aap goli maar de beech sadak me khada karke aap use goli maar de kyonki 10 saal hoti agar hamari agar koi mera toh bus chale toh main use zehar ka injection dekar main use maar do hamare bare me aisa karne na de kisi aap log savdhani barte beti bachao beti padhao

लेकिन एक सवाल है पिता ने अपनी बेटी के साथ वैसे ही पिता को आप गोली मार दे बीच सड़क में खड़ा

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  666
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आपके सवाल जो है वह तो पढ़ने लायक भी नहीं है और यह इंसानियत को जलील करने वाला सवाल है इंसानियत को धरातल में अनुशासन में जाकर कहीं ले जाने वाला भाई बहन और बाप बेटी कितना अनोखा हो कितना प्यारा हो कितना पवित्र रिश्ता है वैसे गिरे हुए लोग इंसान दुनिया में ऐसे आदमी को जान से मार दिया जाए तो कम ही तो एक तमाशा है इसको तक न्याय नहीं कहेंगे उस पर क्या न्याय होगा बताइए इंसान बनाने की कोशिश करें क्या हो गया जा

dekhiye aapke sawaal jo hai vaah toh padhne layak bhi nahi hai aur yah insaniyat ko jalil karne vala sawaal hai insaniyat ko dharatal me anushasan me jaakar kahin le jaane vala bhai behen aur baap beti kitna anokha ho kitna pyara ho kitna pavitra rishta hai waise gire hue log insaan duniya me aise aadmi ko jaan se maar diya jaaye toh kam hi toh ek tamasha hai isko tak nyay nahi kahenge us par kya nyay hoga bataiye insaan banane ki koshish kare kya ho gaya ja

देखिए आपके सवाल जो है वह तो पढ़ने लायक भी नहीं है और यह इंसानियत को जलील करने वाला सवाल है

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  276
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी कि यह खबर जो है बड़ी दर्दनाक सुनने के लिए कि एक पिता ने जो अपनी 10 साल की बेटी के यौन शोषण किया था गाना का पूरी खबर उसे बहुत बुरी है कोर्ट ने जो है सजा सुनाई है कि ₹5000 का जुर्माना लगाना चाहिए तो वह मेरे हिसाब से जो सजा मिली है हमें सबसे पहले तो कोर्ट के निर्णय का या फिर उनका एक को अपने जो डिसीजन दिया उसका सम्मान करना चाहिए हां मेरे हिसाब से क्या नाम मिला है मेरी तरफ से और ना ही नहीं मिला क्योंकि अगर वह 10 साल की बेटी कर बात करें जिस प्रकार से उसकी मानसिकता जो है अभी हॉट भी रहेगी हम कह सकते हैं जो दर्द में हो रहा है कि कि वह अपने पिता से यह चीजें एक्सपेक्ट नहीं करेगी तो का नंगा पर्वत दर्द को देखते हुए और वह मेंटल ब्रेक को देखते हो मुझे नहीं लगता कि जो सजा दी गई वह सही है मेरे हिसाब से सजा कम से कम 15 से 20 साल तक लेनी चाहिए थी और पता को लेकिन फिर भी अकरम दिखा दो तो कोर्ट ने जो है ₹5000 जुर्माना इसलिए लगा दिया होगा क्योंकि वह बेटी जो है पिता के साथ रहती हो कहां हो कहां पर हो बेटी का भविष्य अच्छा हो या उसे भविष्य में आगे पढ़ाई में या नौकरी में कोई तकलीफ ना हो इसलिए जो है ₹5000 जुर्माना जैसे दिया गया है क्योंकि अभी जो है वह ज्यादा लड़की पर दिया जा रहा है कि वह यह एक्सपीरियंस कैसे वापस है वह कैसे नॉर्मल स्थिति स्थिति में आए क्योंकि जिस प्रकार से हालात हुए हैं उसके लिए तो उसका रिकॉर्ड होना ज्यादा इंपोर्टेंट है ज़रा से अगर हमने इसकी तुलना की दुकान का पता जो है पिता ने जो किया वह बिल्कुल गलत किया है सजा और मिल लीजिए थी कम से कम 10 साल तक तो मेरे हिसाब से उसे न्याय जो है वह नहीं मिला है

modi ki yah khabar jo hai badi dardanak sunne ke liye ki ek pita ne jo apni 10 saal ki beti ke yaun shoshan kiya tha gaana ka puri khabar use bahut buri hai court ne jo hai saza sunayi hai ki Rs ka jurmana lagana chahiye toh vaah mere hisab se jo saza mili hai hamein sabse pehle toh court ke nirnay ka ya phir unka ek ko apne jo decision diya uska sammaan karna chahiye haan mere hisab se kya naam mila hai meri taraf se aur na hi nahi mila kyonki agar vaah 10 saal ki beti kar baat kare jis prakar se uski mansikta jo hai abhi hot bhi rahegi hum keh sakte hain jo dard mein ho raha hai ki ki vaah apne pita se yah cheezen expect nahi karegi toh ka nanga parvat dard ko dekhte hue aur vaah mental break ko dekhte ho mujhe nahi lagta ki jo saza di gayi vaah sahi hai mere hisab se saza kam se kam 15 se 20 saal tak leni chahiye thi aur pata ko lekin phir bhi akram dikha do toh court ne jo hai Rs jurmana isliye laga diya hoga kyonki vaah beti jo hai pita ke saath rehti ho kahaan ho kahaan par ho beti ka bhavishya accha ho ya use bhavishya mein aage padhai mein ya naukri mein koi takleef na ho isliye jo hai Rs jurmana jaise diya gaya hai kyonki abhi jo hai vaah zyada ladki par diya ja raha hai ki vaah yah experience kaise wapas hai vaah kaise normal sthiti sthiti mein aaye kyonki jis prakar se haalaat hue hain uske liye toh uska record hona zyada important hai zara se agar humne iski tulna ki dukaan ka pata jo hai pita ne jo kiya vaah bilkul galat kiya hai saza aur mil lijiye thi kam se kam 10 saal tak toh mere hisab se use nyay jo hai vaah nahi mila hai

मोदी कि यह खबर जो है बड़ी दर्दनाक सुनने के लिए कि एक पिता ने जो अपनी 10 साल की बेटी के यौन

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Sameer Tripathy

Political Critic

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले से ही सवाल दया का आंसर देने से पहले मैं तो बोलना चाहूंगा कि जो हमारे जो इंडियन जो रूल्स है इंडियन कमेंट काजोल एंड रूल है कभी भी भरोसा जरा उठ उठ जाता है यह सब जो घटिया काम करते हैं जो लोग छोटे छोटे बच्चे को रेप करते हैं और जो अपने पिता जो जिसका अपने बच्चे को जिसने आपको जन्म दिया है उसको ही यौन शोषण का के और आप उसको ₹5000 फाइन देना इनका चार्ज लगा रहे तू ने इस टाइम वह फिर से करेगा उसको फिर से ₹5000 फाइन लगाएंगे आप लोग तो इसमें क्या होता है लोगों को स्कोप मिलता है अगर जो रेप करते अभी जो निर्भय निर्भय कांड हुआ था मैं सुनने में आया था कि वह दिल्ली का जो जो कोर्ट में फैसला लिया कि उनको छोड़ने के लिए उसके बाद उनको ₹10000 और एक ट्रेलर हमेशा मैसेज दिए तो यह सब काम करके आप उन लोगों को इनक्रीस कर रहे हो कि और करो रेप और और यह भजन करो ₹5000 फाइन देकर आप क्या कर सकती आप उसमें क्या होगा उसका को कभी चेंज होगा वह आदमी जो बात जो आदमी अपने बच्ची के ऊपर यौन शोषण कर रहा है उसको वह बच्चों उसको सिर्फ ₹5000 देकर छोड़ दिया जाए तो इससे पता चलता है कि हमारे जो लोग उनका रूल्स एंड रेगुलेशन है वह इतना घटिया है यह सब चीज के कारण मुझे तो भरोसा ही उठ जाएगा यह सब चीज के लिए उसको तो जेल में डाल देना चाहिए वह भी इंटरनेट टाइम के लिए तभी जाकर उसको पता चलेगा नहीं तो फांसी यह सब चीज के लिए फांसी दे देना चाहिए तभी जाकर लोग इन लोगों का जो हरकत है यह सब चेंज होगा नहीं तो हमारे भारत का कुछ नहीं हो सकता ऐसे ही रेप होते रहेंगे ऐसे यौन शोषण होता उनके ऐसे ही लोग जो मां बम बम जो 7 से सूर्य गोदावरी के लिए अपने बहू को ही टॉर्चर कर मारते रहेंगे मैं बहुत सारे न्यूज़ दिखाओ ढोरी के लिए बहू को भी मार देते हैं तो और ऑनर किलिंग यह जो ऑनर किलिंग भी है वही कास्ट मैसेजेस लव जिहाद यह सब चीज को हटाओ और देश बचाओ नहीं तो कभी कुछ नहीं हो सकता हमारे भारत का

pehle se hi sawaal daya ka answer dene se pehle main toh bolna chahunga ki jo hamare jo indian jo rules hai indian comment kajol and rule hai kabhi bhi bharosa zara uth uth jata hai yah sab jo ghatiya kaam karte hain jo log chote chhote bacche ko rape karte hain aur jo apne pita jo jiska apne bacche ko jisne aapko janam diya hai usko hi yaun shoshan ka ke aur aap usko Rs fine dena inka charge laga rahe tu ne is time vaah phir se karega usko phir se Rs fine lagayenge aap log toh isme kya hota hai logo ko scope milta hai agar jo rape karte abhi jo nirbhay nirbhay kaand hua tha main sunne mein aaya tha ki vaah delhi ka jo jo court mein faisla liya ki unko chodne ke liye uske baad unko Rs aur ek trelar hamesha massage diye toh yah sab kaam karke aap un logo ko increase kar rahe ho ki aur karo rape aur aur yah bhajan karo Rs fine dekar aap kya kar sakti aap usme kya hoga uska ko kabhi change hoga vaah aadmi jo baat jo aadmi apne bachi ke upar yaun shoshan kar raha hai usko vaah baccho usko sirf Rs dekar chod diya jaaye toh isse pata chalta hai ki hamare jo log unka rules and regulation hai vaah itna ghatiya hai yah sab cheez ke karan mujhe toh bharosa hi uth jaega yah sab cheez ke liye usko toh jail mein daal dena chahiye vaah bhi internet time ke liye tabhi jaakar usko pata chalega nahi toh fansi yah sab cheez ke liye fansi de dena chahiye tabhi jaakar log in logo ka jo harkat hai yah sab change hoga nahi toh hamare bharat ka kuch nahi ho sakta aise hi rape hote rahenge aise yaun shoshan hota unke aise hi log jo maa bomb bomb jo 7 se surya godavari ke liye apne bahu ko hi torture kar marte rahenge main bahut saare news dikhaao dhori ke liye bahu ko bhi maar dete hain toh aur honour killing yah jo honour killing bhi hai wahi caste messages love jihad yah sab cheez ko hatao aur desh bachao nahi toh kabhi kuch nahi ho sakta hamare bharat ka

पहले से ही सवाल दया का आंसर देने से पहले मैं तो बोलना चाहूंगा कि जो हमारे जो इंडियन जो रूल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं मुझे लगता है यह सरासर अन्याय है अगर ₹500 ही से किसी को कुछ इतना फर्क नहीं पड़ेगा आगे के लोगों में और बताइए क्या गर्म ₹5000 भी करें कर रहे हैं तो यह ठीक है तुम मुझे लगता है कि इसके लिए मौत की सजा होनी चाहिए ताकि यह चीज एक बाकी को क्लीनिक सबक पढ़ने और वह व्यक्ति BF कभी कहीं ना पाए और बाकी लोगों को भी समझ में नहीं डरेंगे जिसने पर रखा अगर भारत गवर्मेंट 5000 चाहिए जुर्माना लगाएगी तो आप आगे वाले लोग डरेंगे नहीं उनमें और हिम्मत है कि यह बिल्कुल भी न्याय नहीं है या अन्याय कर आ गया है

nahi mujhe lagta hai yah sarasar anyay hai agar Rs hi se kisi ko kuch itna fark nahi padega aage ke logo mein aur bataye kya garam Rs bhi kare kar rahe hain toh yah theek hai tum mujhe lagta hai ki iske liye maut ki saza honi chahiye taki yah cheez ek baki ko clinic sabak padhne aur vaah vyakti BF kabhi kahin na paye aur baki logo ko bhi samajh mein nahi darenge jisne par rakha agar bharat government 5000 chahiye jurmana lagaegi toh aap aage waale log darenge nahi unmen aur himmat hai ki yah bilkul bhi nyay nahi hai ya anyay kar aa gaya hai

नहीं मुझे लगता है यह सरासर अन्याय है अगर ₹500 ही से किसी को कुछ इतना फर्क नहीं पड़ेगा आगे

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
play
user

Ishita Seth

Obstinate Programmer

1:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो यह हाल ही में न्यूज़ आई है कि पिता को अपनी 10 साल की बेटी के यौन शोषण के लिए ₹5000 का जुर्माना लगा है दिल से है कि क्या सोचकर यह ₹5000 का जुर्माना लगा है देखिए मेरे तो समझ से परे है यह न्याय तो बिल्कुल नहीं है यह सरासर अन्याय है कि इतना बड़ा जुर्म है जो एक पिता ने किया है अपनी 10 साल की बेटी के लिए उसके लिए उनको बहुत ही ज्यादा कड़ी पनिशमेंट मिलनी चाहिए थी पर उन्हें सिर्फ और सिर्फ जुर्माना लगाया के अंदर है वह भी सिर्फ ₹5000 का यह भारत में हो क्या रहा है यह समझ नहीं आ रहा है क्योंकि यौन शोषण जैसी जो यौन शोषण जैसी जो यह चीज है जो यह क्राइम है यह बिल्कुल हटा देना चाहिए लोग पता नहीं क्यों ही करते हैं और कैसे करते हैं तो यह जो 10 साल की बच्ची थी उनकी उनके मन में उसके मन में इंसानों के लिए क्या ही कमी रह गई होगी उस बेचारे बच्चे को तो कुछ समझ में भी नहीं आया होगा किसके साथ हुआ क्या है तो देखी बहुत ही गलत चीज है बहुत बुरी चीज है उसका बहुत ही ज्यादा कठोर परिश्रम होनी चाहिए थी यह बात यह बात है रोहतक जुर्माने से वह सर 5 तारीख के जुर्माने से वफा नहीं कर देनी चाहिए थी इस बच्ची के न्याय के लिए हमें लड़ना चाहिए था और यह न्याय जो सिस्टम है भारत का स्कोर क्या हो गया है सिर्फ रिलेटिव मुझे नहीं समझ में आ रहा क्योंकि यह बहुत बड़ी बात है और इतनी बड़ी बात कि सिर्फ इतनी सी सजा तो नहीं मिली सही है

dekhiye jo yah haal hi mein news I hai ki pita ko apni 10 saal ki beti ke yaun shoshan ke liye Rs ka jurmana laga hai dil se hai ki kya sochkar yah Rs ka jurmana laga hai dekhiye mere toh samajh se pare hai yah nyay toh bilkul nahi hai yah sarasar anyay hai ki itna bada jurm hai jo ek pita ne kiya hai apni 10 saal ki beti ke liye uske liye unko bahut hi zyada kadi punishment milani chahiye thi par unhe sirf aur sirf jurmana lagaya ke andar hai vaah bhi sirf Rs ka yah bharat mein ho kya raha hai yah samajh nahi aa raha hai kyonki yaun shoshan jaisi jo yaun shoshan jaisi jo yah cheez hai jo yah crime hai yah bilkul hata dena chahiye log pata nahi kyon hi karte hain aur kaise karte hain toh yah jo 10 saal ki bachi thi unki unke man mein uske man mein insano ke liye kya hi kami reh gayi hogi us bechaare bacche ko toh kuch samajh mein bhi nahi aaya hoga kiske saath hua kya hai toh dekhi bahut hi galat cheez hai bahut buri cheez hai uska bahut hi zyada kathor parishram honi chahiye thi yah baat yah baat hai rohatak jurmane se vaah sir 5 tarikh ke jurmane se wafa nahi kar deni chahiye thi is bachi ke nyay ke liye hamein ladna chahiye tha aur yah nyay jo system hai bharat ka score kya ho gaya hai sirf relative mujhe nahi samajh mein aa raha kyonki yah bahut badi baat hai aur itni badi baat ki sirf itni si saza toh nahi mili sahi hai

देखिए जो यह हाल ही में न्यूज़ आई है कि पिता को अपनी 10 साल की बेटी के यौन शोषण के लिए ₹500

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश की संस्कृति और समाज में रिश्तो को बहुत अहमियत दी जाती है हम रिश्तो के साथ ही बड़े होते हैं उन्हीं में पलते हैं और उन्हीं को निभाते निभाते हमारी पूरी उम्र निकल जाती है लेकिन आज कल हम जिससे सुन रहे हैं यह सुनकर यह देख कर यह पढ़कर दिमाग सुन्न हो जाता है कि यह हमारा समाज कहां जा रहा है इतनी विकृत मानसिकता कैसे हमारे लोगों में आ गई है कि वह अपने ही बच्चों को नहीं छोड़ते हैं एक पिता जो अपने ही बच्चों की बच्ची के साथ ऐसा करता है उसकी मानसिकता कैसी होगी मतलब सोच कर भी आश्चर्य होता है समझ नहीं आता है कि क्या करना चाहिए हमारे समाज में तो चाचा को बड़े भाई को मामा को इन सब को भी पुलिस के समक्ष रखा जाता है और उसकी आदत से उसे प्यार से उसी विश्वास के साथ उनके साथ रहा जाता है लेकिन आज जब खुद का ही पिता जिसने उस बच्चे को जन्म दिया इसके साथ इस तरह के काम करता है तो उस बच्ची के दिल पर दिमाग पर क्या बीतेगी क्या-क्या वृक्षों के बारे में सोचेगी समझ नहीं समझ ही नहीं आता उसकी मानसिकता कैसी हो जाएगी और उसके लिए सिर्फ ₹5000 रुपए का जुर्माना यह बहुत ही गलत है अन्याय है उस इंसान ने उस बच्ची के साथ शारीरिक और मानसिक रूप से अत्याचार किया है उसे शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना दी है तो उस इंसान को भी शारीरिक और मानसिक रूप से कड़ी सजा मिलनी चाहिए उसको ऐसी प्रताड़ना इसी कड़ी सजा देनी चाहिए कि वह तो इस से सबक ले ही ले दूसरे लोग भी उससे सबक सीखे कि अगर हमने ऐसा कुछ गलत किया तो हमें यह सजा मिल सकती है

hamare desh ki sanskriti aur samaj mein rishto ko bahut ahamiyat di jaati hai hum rishto ke saath hi bade hote hain unhi mein palate hain aur unhi ko nibhate nibhate hamari puri umr nikal jaati hai lekin aaj kal hum jisse sun rahe hain yah sunkar yah dekh kar yah padhakar dimag sunna ho jata hai ki yah hamara samaj kahaan ja raha hai itni vikrit mansikta kaise hamare logo mein aa gayi hai ki vaah apne hi baccho ko nahi chodte hain ek pita jo apne hi baccho ki bachi ke saath aisa karta hai uski mansikta kaisi hogi matlab soch kar bhi aashcharya hota hai samajh nahi aata hai ki kya karna chahiye hamare samaj mein toh chacha ko bade bhai ko mama ko in sab ko bhi police ke samaksh rakha jata hai aur uski aadat se use pyar se usi vishwas ke saath unke saath raha jata hai lekin aaj jab khud ka hi pita jisne us bacche ko janam diya iske saath is tarah ke kaam karta hai toh us bachi ke dil par dimag par kya bitegi kya kya vriksho ke bare mein sochegi samajh nahi samajh hi nahi aata uski mansikta kaisi ho jayegi aur uske liye sirf Rs rupaye ka jurmana yah bahut hi galat hai anyay hai us insaan ne us bachi ke saath sharirik aur mansik roop se atyachar kiya hai use sharirik aur mansik prataadana di hai toh us insaan ko bhi sharirik aur mansik roop se kadi saza milani chahiye usko aisi prataadana isi kadi saza deni chahiye ki vaah toh is se sabak le hi le dusre log bhi usse sabak sikhe ki agar humne aisa kuch galat kiya toh hamein yah saza mil sakti hai

हमारे देश की संस्कृति और समाज में रिश्तो को बहुत अहमियत दी जाती है हम रिश्तो के साथ ही बड़

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं किसी भी तरह से अन्याय पूर्ण नहीं है कि किसी भी पिता को अपनी बेटी के बलात्कार यारों यौन शोषण के बाद किसी भी तरह का जुर्माना भरना पड़ेगा और मेरे हिसाब से तो जिसके साथ भी ऐसा हुआ है उनको वह ध्यान रखना चाहिए उनको और इसके खिलाफ आवाज उठानी चाहिए और चुप बिल्कुल भी नहीं बैठना चाहिए क्योंकि हमारे देश में किसी भी तरह का घोर अन्याय हो रहा है और अगर उसको इंसान चुप बैठ कर रह जाता है तो वह इस अन्याय को बढ़ावा देना होता है और हमें तो हर इंसान के साथ खड़े होकर इस इन चीजों के विरुद्ध खड़ा होना चाहिए और जिसके साथ भी ऐसा हुआ है मैं जरूर उनसे कहना चाहूंगी कि आप इसके खिलाफ खड़े हो इसके विरोध में खड़े हो और आजकल तू अपनी शिकायत करने के लिए बहुत सारी जरिया बन चुके हैं अगर आपकी है थाने में या फिर पुलिस स्टेशन में जाकर कोई नहीं बात सुन रहा है आपके कोई रिपोर्ट नहीं ले रहा है आपके इसके अगेंस्ट कोई एक्शन नहीं ले रहा है तो आप सोशल मीडिया के थ्रू नेता हो या फिर बड़े कैबिनेट के लोगों तक के बाद पहुंचा सकते हैं आप चाहे तो Facebook WhatsApp फेसबुक ट्विटर या किसी और सोशल मीडिया के तहत लोगों को टैग करके चाहे तो आप प्राइम मिनिस्टर तक भी अपनी बात पहुंचा सकते हैं और मेरे ख्याल से अगर आप आगे बढ़ेंगे तो लोग आपसे जरूर इस पर जुड़ेंगे और आप को बढ़ावा देंगे और कहीं ना कहीं यह बात ऊपर तक पहुंचेगी जरूर और जाकर यह बात ऊपर तक पहुंचती है तो आप क्यों आप के केस के ऊपर कार्यवाही जरूर होगी और आपके साथ जो भी अन्याय हुआ हुआ है वह सब अन्याय पूर्ण तरह से देखा जाएगा और आप को न्याय जरूर मिलेगा

ji nahi kisi bhi tarah se anyay purn nahi hai ki kisi bhi pita ko apni beti ke balatkar yaaron yaun shoshan ke baad kisi bhi tarah ka jurmana bharna padega aur mere hisab se toh jiske saath bhi aisa hua hai unko vaah dhyan rakhna chahiye unko aur iske khilaf awaaz uthani chahiye aur chup bilkul bhi nahi baithana chahiye kyonki hamare desh mein kisi bhi tarah ka ghor anyay ho raha hai aur agar usko insaan chup baith kar reh jata hai toh vaah is anyay ko badhawa dena hota hai aur hamein toh har insaan ke saath khade hokar is in chijon ke viruddh khada hona chahiye aur jiske saath bhi aisa hua hai zaroor unse kehna chahungi ki aap iske khilaf khade ho iske virodh mein khade ho aur aajkal tu apni shikayat karne ke liye bahut saree zariya ban chuke hain agar aapki hai thane mein ya phir police station mein jaakar koi nahi baat sun raha hai aapke koi report nahi le raha hai aapke iske against koi action nahi le raha hai toh aap social media ke through neta ho ya phir bade cabinet ke logo tak ke baad pohcha sakte hain aap chahen toh Facebook WhatsApp facebook twitter ya kisi aur social media ke tahat logo ko tag karke chahen toh aap prime minister tak bhi apni baat pohcha sakte hain aur mere khayal se agar aap aage badhenge toh log aapse zaroor is par judenge aur aap ko badhawa denge aur kahin na kahin yah baat upar tak pahunchegi zaroor aur jaakar yah baat upar tak pohchti hai toh aap kyon aap ke case ke upar karyavahi zaroor hogi aur aapke saath jo bhi anyay hua hua hai vaah sab anyay purn tarah se dekha jaega aur aap ko nyay zaroor milega

जी नहीं किसी भी तरह से अन्याय पूर्ण नहीं है कि किसी भी पिता को अपनी बेटी के बलात्कार यारों

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से तो यह गम ही अन्याय नहीं है कि कि अपनी बेटी का ऐसे करना हर आसमान करना यह बहुत गलत है उसको और शार्ट ट्रिक को पनिशमेंट मिलना चाहिए बल्कि उनको जेल में डालना चाहिए पैसा से फाइन भरना यह कोई कर एक पनिशमेंट नहीं हुआ है ऐसे घिनौने अर्जुन के लिए

mere hisab se toh yah gum hi anyay nahi hai ki ki apni beti ka aise karna har aasman karna yah bahut galat hai usko aur shaart trick ko punishment milna chahiye balki unko jail mein dalna chahiye paisa se fine bharna yah koi kar ek punishment nahi hua hai aise ghinouni arjun ke liye

मेरे हिसाब से तो यह गम ही अन्याय नहीं है कि कि अपनी बेटी का ऐसे करना हर आसमान करना यह बहुत

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  7
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी व्यक्ति अगर यौन शोषण या फिर बलात्कार जैसे घिनौने और क्रूर अपराध को अंजाम देता है तो मेरे मुताबिक उस व्यक्ति को फांसी के अलावा और कोई सजा नहीं मिलनी चाहिए और भारत में बहुत सारे ऐसे कैसे बढ़ रहे हैं जिसमें लड़कियों या फिर महिलाओं के खिलाफ इस तरह की वारदात सामने आ रही है तू जहां पर एक पिता ने अपनी ही 10 साल की बेटी के साथ यौन शोषण किया है और उसे सजा के तौर पर ₹5000 जुर्माना भरना पड़ेगा तो इस तरह की सजा अपराधियों को एक तरफ से और सपोर्ट करेगी कि वह ऐसे गलत काम करके भी बन सकते हैं तो मेरे मुताबिक तो सबसे पहले उस व्यक्ति को कठोर सजा मिलनी चाहिए जिसने इस तरह का गणित काम किया है और जिस व्यक्ति ने उसे ₹5000 जुर्माने के तौर पर भरने का निर्देश दिया है उसे भी सजा मिलनी चाहिए क्योंकि इस तरह का संगीन जुर्म अगर कोई व्यक्ति कर रहा है और उसे मात्र ₹5000 देकर छोड़ दिया जा रहा है तो वह व्यक्ति कैसा होगा उसकी मानसिकता कैसी होगी जो इस तरह का डिसीजन दे रहा है तो यह हमारी सरकार और हमारी न्याय व्यवस्था की एक तरह से हार है इन अपराधियों के सामने अगर इस तरह का डिसीजन हमारे समाज में लिया जा रहा है तो हमारी सरकार और हमारी न्याय व्यवस्था को कठोर कदम उठाने की आवश्यकता है ताकि जो यह बलात्कार और यौन उत्पीड़न की घटनाएं सामने आती

koi bhi vyakti agar yaun shoshan ya phir balatkar jaise ghinouni aur krur apradh ko anjaam deta hai toh mere mutabik us vyakti ko fansi ke alava aur koi saza nahi milani chahiye aur bharat mein bahut saare aise kaise badh rahe hain jisme ladkiyon ya phir mahilaon ke khilaf is tarah ki vaardaat saamne aa rahi hai tu jaha par ek pita ne apni hi 10 saal ki beti ke saath yaun shoshan kiya hai aur use saza ke taur par Rs jurmana bharna padega toh is tarah ki saza apradhiyon ko ek taraf se aur support karegi ki vaah aise galat kaam karke bhi ban sakte hain toh mere mutabik toh sabse pehle us vyakti ko kathor saza milani chahiye jisne is tarah ka ganit kaam kiya hai aur jis vyakti ne use Rs jurmane ke taur par bharne ka nirdesh diya hai use bhi saza milani chahiye kyonki is tarah ka sangeen jurm agar koi vyakti kar raha hai aur use matra Rs dekar chod diya ja raha hai toh vaah vyakti kaisa hoga uski mansikta kaisi hogi jo is tarah ka decision de raha hai toh yah hamari sarkar aur hamari nyay vyavastha ki ek tarah se haar hai in apradhiyon ke saamne agar is tarah ka decision hamare samaj mein liya ja raha hai toh hamari sarkar aur hamari nyay vyavastha ko kathor kadam uthane ki avashyakta hai taki jo yah balatkar aur yaun utpidan ki ghatnaye saamne aati

कोई भी व्यक्ति अगर यौन शोषण या फिर बलात्कार जैसे घिनौने और क्रूर अपराध को अंजाम देता है तो

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आंधी के साथ अगर एक पिता को अपनी बेटी का यौन शोषण करने के अपराध में सिर्फ ₹5000 का जुर्माना लगा तो यह न्याय बिल्कुल भी नहीं है जिस व्यक्ति के ऊपर यौन शोषण होता है वह वैसे ही इमोशनल ही टूट जाता है ऐसे लोग डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं और उनके लिए वैसे ही बहुत मुश्किल होता है दुबारा सोसाइटी में अपनी जगह बना ना खड़े हो पाना अपने पैरों पर वह सब चीजों को भूलकर और परिवार तो वह होता है जो अपने बच्चों को इस अपील से बचा कर रखता है वहीं दूसरी तरफ अगर परिवार का कोई सदस्य है और परिवार चिड़ियाघर आपके खुद के पिता पिता तो भगवान तोले होते हैं बेटियां तो अपने पिता की वैसे ही बहुत प्यारी होती हैं और पिता ही ऐसे कुछ कर रहा है तू वैसे ही बेटी के मन में जो अपने खुद को लेकर जो हीन भावना पैदा हो जाएगी उसका तो कोई फिर सलूशन नहीं है और अगर इसके जुम्मे की सजा के तौर पर स्थित उस पिता को ₹5000 देकर छोड़ दिया जाता है तो मुझे लगता है कि हमारे देश में बहुत गड़बड़ है हमारे न्यायपालिका में सच में बहुत ज्यादा डिप्रेशन को ठीक करने की बहुत ज्यादा जरूरत है यौन शोषण की सजा तो मेरे साथ से सीधा फांसी पर लटकाना चाहिए और अगर कोई पिता ऐसा कुछ सोच रहा है तो उसके दो टुकड़े टुकड़े कर देना चाहिए यह न्याय कहीं से भी नहीं है

andhi ke saath agar ek pita ko apni beti ka yaun shoshan karne ke apradh mein sirf Rs ka jurmana laga toh yah nyay bilkul bhi nahi hai jis vyakti ke upar yaun shoshan hota hai vaah waise hi emotional hi toot jata hai aise log depression ka shikaar ho jaate hai aur unke liye waise hi bahut mushkil hota hai dubara society mein apni jagah bana na khade ho paana apne pairon par vaah sab chijon ko bhulkar aur parivar toh vaah hota hai jo apne baccho ko is appeal se bacha kar rakhta hai wahi dusri taraf agar parivar ka koi sadasya hai aur parivar chidiyaghar aapke khud ke pita pita toh bhagwan tole hote hai betiyan toh apne pita ki waise hi bahut pyaari hoti hai aur pita hi aise kuch kar raha hai tu waise hi beti ke man mein jo apne khud ko lekar jo heen bhavna paida ho jayegi uska toh koi phir salution nahi hai aur agar iske jumme ki saza ke taur par sthit us pita ko Rs dekar chod diya jata hai toh mujhe lagta hai ki hamare desh mein bahut gadbad hai hamare nyaypalika mein sach mein bahut zyada depression ko theek karne ki bahut zyada zarurat hai yaun shoshan ki saza toh mere saath se seedha fansi par latkana chahiye aur agar koi pita aisa kuch soch raha hai toh uske do tukde tukde kar dena chahiye yah nyay kahin se bhi nahi hai

आंधी के साथ अगर एक पिता को अपनी बेटी का यौन शोषण करने के अपराध में सिर्फ ₹5000 का जुर्माना

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
yaun shoshan ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!