मंदिर में घंटी क्यों बजाते हैं?...


user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पुरातन मंदिरों में जो हमारे ऋषि मुनि थे उन्होंने मंदिर के सामने घंटी इसीलिए लगाई कि जब भी अगर कोई अगर यह जोगी या कोई सन्यासी या कोई तपस्वी अगर यह समझ ले योग विद्या से की 24 दिल्ली सिद्धि अगर आने से या उसको कुछ मिल जाने से मंत्र आ जाने से या वह माया भी होने से अगर यह समझ ले कि मैं ही परमात्मा हो या मुझे इस पर मिल चुका है तो यह गलत है मंदिर के पहले इसलिए घंटी दी जाती है घंटी इसलिए दी जाती है कि जब भी परमात्मा का घर ईश्वर का घर आएगा तो तेरे कानों में अनहद आवाज आएगी तेरे अंदर से कनाडा आवाज उच्चारण उत्पन्न होगी जो तेरे को सुनाई देगी परमात्मा की जो आवाज है वह सुनाई देगी तब जाकर कहीं मन का डर आएगा मन का जो है उस परमात्मा का ईश्वर का घर आएगा तो जब ईश्वर का घर आएगा तो उसके बाहर आवाज है और जब तक वह तेरे को सुनाई नहीं देती तो कहीं धोखे में ना रहना कि तू परमात्मा ईश्वर के पास पहुंचने वाला है जब वह सुनाई देगी तभी तो ईश्वर का जानी ईश्वर के पास पहुंचने वाला होगा धन्यवाद

puratan mandiro me jo hamare rishi muni the unhone mandir ke saamne ghanti isliye lagayi ki jab bhi agar koi agar yah jogi ya koi sanyaasi ya koi tapaswi agar yah samajh le yog vidya se ki 24 delhi siddhi agar aane se ya usko kuch mil jaane se mantra aa jaane se ya vaah maya bhi hone se agar yah samajh le ki main hi paramatma ho ya mujhe is par mil chuka hai toh yah galat hai mandir ke pehle isliye ghanti di jaati hai ghanti isliye di jaati hai ki jab bhi paramatma ka ghar ishwar ka ghar aayega toh tere kanon me anhad awaaz aayegi tere andar se canada awaaz ucharan utpann hogi jo tere ko sunayi degi paramatma ki jo awaaz hai vaah sunayi degi tab jaakar kahin man ka dar aayega man ka jo hai us paramatma ka ishwar ka ghar aayega toh jab ishwar ka ghar aayega toh uske bahar awaaz hai aur jab tak vaah tere ko sunayi nahi deti toh kahin dhokhe me na rehna ki tu paramatma ishwar ke paas pahuchne vala hai jab vaah sunayi degi tabhi toh ishwar ka jani ishwar ke paas pahuchne vala hoga dhanyavad

पुरातन मंदिरों में जो हमारे ऋषि मुनि थे उन्होंने मंदिर के सामने घंटी इसीलिए लगाई कि जब भी

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  83
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
mandir ghanti ; mandir ki ghanti ki awaz ; mandir ki ghanti ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!