आपके हिसाब से क्या चीज़ ़ सामाजिक रूप से स्वीकार्य होना चाहिए?...


user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मेरे हिसाब से तो कोई सा भी चीज है जो कि सामाजिक रुप में स्वीकार होना चाहिए लेकिन एक ऐसी चीज़ नहीं लगता है अब समय आ चुका है कि वह सामाजिक रुप से स्वीकार हो 22182 रहीम की सेक्सी ट्रांसपोर्ट करने वाले भी स्वीकार करने अन्य चीज है जो कि भारत में प्रतिबंधित आर्टिकल 360 सिक्योरिटी सिंह द्वारा समय आ चुका है कि कल जो है हमारे ब्लॉग से हटा देसी की वीडियो कमेंट्री लोगे वह भी इंसान होने के उपाय मान सम्मान मिलना है जितना हमें मिल रहा है उनका प्यार करने का तरीका अलग होता है या फिर हम कह सकते हैं वह एक ही चैनल पर लोगों को प्रेम करते कल अब यह नहीं है क्या 19 और सामाजिक रुप से स्वीकार ना करें या फिर उन्हें खफा प्यार करने वाले गंदी चीज खाए कि कि वो लोग भी इंसान है और उन्हें भी प्रिंट करने का हक है प्रियंका कोई डेफिनेशन नहीं होता है और प्रेम का कोई मूल्य नहीं होता अगर कोई पुरुष को पुरुष से प्रिंट कर रहा है तो वह भी नहीं होता है और उसे सामाजिक रूप से हमें स्वीकारना चाहिए तब जाकर हमारा देश आगे बढ़ेगा तब जाकर हमारा देश जो है मॉडल हो पाएगा या हमारे देश की जो सोच विचार जो है वह बदल पाएगी तो मेरे हिसाब से एलजीबीटी क्यूट एक ऐसी चीज़ होगी जो कि सामाजिक रुप से स्वीकार होनी चाहिए

lekin mere hisab se toh koi sa bhi cheez hai jo ki samajik roop mein sweekar hona chahiye lekin ek aisi cheez nahi lagta hai ab samay aa chuka hai ki vaah samajik roop se sweekar ho 22182 rahim ki sexy transport karne waale bhi sweekar karne anya cheez hai jo ki bharat mein pratibandhit article 360 Security Singh dwara samay aa chuka hai ki kal jo hai hamare blog se hata desi ki video commentary loge vaah bhi insaan hone ke upay maan sammaan milna hai jitna hamein mil raha hai unka pyar karne ka tarika alag hota hai ya phir hum keh sakte hain vaah ek hi channel par logo ko prem karte kal ab yah nahi hai kya 19 aur samajik roop se sweekar na kare ya phir unhe khafa pyar karne waale gandi cheez khaye ki ki vo log bhi insaan hai aur unhe bhi print karne ka haq hai priyanka koi definition nahi hota hai aur prem ka koi mulya nahi hota agar koi purush ko purush se print kar raha hai toh vaah bhi nahi hota hai aur use samajik roop se hamein swikarana chahiye tab jaakar hamara desh aage badhega tab jaakar hamara desh jo hai model ho payega ya hamare desh ki jo soch vichar jo hai vaah badal payegi toh mere hisab se LGBT cute ek aisi cheez hogi jo ki samajik roop se sweekar honi chahiye

लेकिन मेरे हिसाब से तो कोई सा भी चीज है जो कि सामाजिक रुप में स्वीकार होना चाहिए लेकिन एक

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  146
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!