अंधविश्वासी होने के फायदे और नुकसान क्या हैं?...


user

Dr. Mitali Jha

Psychologist

2:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से जब भी अंधविश्वास की बात आती है सबसे पहले में विश्वास और अंधविश्वास के बीच का जो फाइनल आई है हमें उसको भी टाइम करने के लिए हम सबके लिए बहुत जरूरी है कि अगर हमारे पास पेट नहीं होगा तभी हम लोग सब डिप्रेशन की ओर भागे जा रहे हैं हमारे बच्चे हमारे बुजुर्ग की आरजू मिथुन के ऊपर अब शादियां डिप्रेशन बहुत ज्यादा आगे होता क्या है कि हमने कहीं ना कहीं खो दिया है पिज़्ज़ा विदाउट इन लॉजिकल रिटर्निंग किए जाते वह हमेशा हमें खड़े नहीं थे टाइमलाइन है इस बीच में कहां जाकर हमने तब वह लाइन खराब कर दी और हम विश्वास या अंधविश्वास की तरफ आ जाते हैं उसी को हमें हमेशा करके चलना होगा ध्यान में रखना होगा कि जो भी काम हम करने जा रहे हैं उसके पीछे पीछे चल रही है या उसके पीछे कोई साइंटिफिक में काम करें चलिए काम किए जा रहे शोषण करने की जरा में भी इस काम में ले सकते हैं समटाइम इसको हम लोग अपना क्वेश्चन मार्क लगाने की जरूरत पड़ेगी हर बात पर भी हम कोई भी ऐसा कार्य करें ज्यादा विश्वास करने की जरूरत क्यों किए जा रही है कैसे कर रहे हैं विश्वास में बदल के काम कर सकते हमें विश्वास रखना चाहिए ऐसी हमारी डिवाइन एनर्जी सोर्स पर विश्वास रखना चाहिए कि कोई तो है जो हमें मुसीबतों के बाद हमें रास्ता दिखा दे तू खुद कॉल कर देना जब कभी कुछ कार्य करें उससे एक बार अपने आप को पूछ ले जा रहे हैं हम

mere hisab se jab bhi andhavishvas ki baat aati hai sabse pehle mein vishwas aur andhavishvas ke beech ka jo final I hai hamein usko bhi time karne ke liye hum sabke liye bahut zaroori hai ki agar hamare paas pet nahi hoga tabhi hum log sab depression ki aur bhaage ja rahe hain hamare bacche hamare bujurg ki aaraju mithun ke upar ab shadiyan depression bahut zyada aage hota kya hai ki humne kahin na kahin kho diya hai pizza without in logical returning kiye jaate vaah hamesha hamein khade nahi the timeline hai is beech mein kahaan jaakar humne tab vaah line kharab kar di aur hum vishwas ya andhavishvas ki taraf aa jaate hain usi ko hamein hamesha karke chalna hoga dhyan mein rakhna hoga ki jo bhi kaam hum karne ja rahe hain uske peeche peeche chal rahi hai ya uske peeche koi scientific mein kaam kare chaliye kaam kiye ja rahe shoshan karne ki zara mein bhi is kaam mein le sakte hain sometime isko hum log apna question mark lagane ki zarurat padegi har baat par bhi hum koi bhi aisa karya kare zyada vishwas karne ki zarurat kyon kiye ja rahi hai kaise kar rahe hain vishwas mein badal ke kaam kar sakte hamein vishwas rakhna chahiye aisi hamari divine energy source par vishwas rakhna chahiye ki koi toh hai jo hamein musibaton ke baad hamein rasta dikha de tu khud call kar dena jab kabhi kuch karya kare usse ek baar apne aap ko puch le ja rahe hain hum

मेरे हिसाब से जब भी अंधविश्वास की बात आती है सबसे पहले में विश्वास और अंधविश्वास के बीच का

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  130
KooApp_icon
WhatsApp_icon
17 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!