क्या प्यार समय के साथ कम हो जाता है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बिल्कुल गलत है कि वक्त के साथ प्यार खत्म हो जाता है या फिर कम हो जाता है मर जाता है इस बात से मैं बिल्कुल भी सहमत नहीं हूं क्योंकि हमारा प्यार जो है हर्ड दिल से जुड़ा होता है और प्यार जो है वह दिल में होता है इंसान सिर्फ हमारा जो एहसास है हमारी जो सोच है वक्त के साथ वह थोड़ी बदल सकती है लेकिन कभी आप अकेले में यह तनहा जब भी होंगे एक बार जब आपको अपने साथी या गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड जिस से भी आप प्यार करते हैं कोई भी हो एनीथिंग एनी वन तो तब भी आप तन्हा होंगे अकेले में होंगे तो उस प्यार को कुछ लम्हों को जो हमने पीछे जो हमने छोड़ दिया उन लम्हों को जब भी आप याद करेंगे तो शायद मेरा तो यह कहना है कि तब हम जितना प्यार करते थे पहले उससे भी ज्यादा हमें लगेगा कि हम उन्हें प्यार करें जिनसे हम प्यार करते थे ऐसा नहीं है कि हमारा जो प्यार है वह खत्म सिर्फ हमारी सोच एहसास बदल जाता है और मैं तो यही कहूंगा कि वक्त के साथ-साथ जितना हमारा वक्त बीतता है गुजरता है उसके साथ-साथ हमारा प्यार जो है बढ़ता है ना कि कम होता है सिर्फ हम उस प्यार का एहसास नहीं करना चाहते अपने जीवन के जो प्रॉब्लम है कुछ भी है नहीं थी उसके साथ साथ हम अपने प्यार को करना नहीं चाहते सोचना नहीं चाहते सिर्फ इतना फर्क होता है और कुछ नहीं जब भी आप अकेले में तन्हा बैठकर उस मोहब्बत उस प्यार के बारे में सोचेंगे तो शायद आपका दिल करेगा कि मैं

yah bilkul galat hai ki waqt ke saath pyar khatam ho jata hai ya phir kam ho jata hai mar jata hai is baat se main bilkul bhi sahmat nahi hoon kyonki hamara pyar jo hai heard dil se juda hota hai aur pyar jo hai vaah dil mein hota hai insaan sirf hamara jo ehsaas hai hamari jo soch hai waqt ke saath vaah thodi badal sakti hai lekin kabhi aap akele mein yah tanha jab bhi honge ek baar jab aapko apne sathi ya girlfriend ya boyfriend jis se bhi aap pyar karte hain koi bhi ho anything any van toh tab bhi aap tanha honge akele mein honge toh us pyar ko kuch lamhon ko jo humne peeche jo humne chod diya un lamhon ko jab bhi aap yaad karenge toh shayad mera toh yah kehna hai ki tab hum jitna pyar karte the pehle usse bhi zyada hamein lagega ki hum unhe pyar kare jinse hum pyar karte the aisa nahi hai ki hamara jo pyar hai vaah khatam sirf hamari soch ehsaas badal jata hai aur main toh yahi kahunga ki waqt ke saath saath jitna hamara waqt bitta hai guzarta hai uske saath saath hamara pyar jo hai badhta hai na ki kam hota hai sirf hum us pyar ka ehsaas nahi karna chahte apne jeevan ke jo problem hai kuch bhi hai nahi thi uske saath saath hum apne pyar ko karna nahi chahte sochna nahi chahte sirf itna fark hota hai aur kuch nahi jab bhi aap akele mein tanha baithkar us mohabbat us pyar ke bare mein sochenge toh shayad aapka dil karega ki main

यह बिल्कुल गलत है कि वक्त के साथ प्यार खत्म हो जाता है या फिर कम हो जाता है मर जाता है इस

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  32
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!