अन्ना हज़ारे का कहना है की सरकार केवल उद्योगपतियों पर ध्यान देती है किसानों पर नहीं । यह बात कितनी सच है?...


user

Shubham

Software Engineer in IBM

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी इस बात में कोई दो राय नहीं है कि आज हमारे देश के जो किसान हैं उनकी हालत गंभीर है और मैं बात करूं कि अन्ना हजारे ने बोला कि सरकार केवल उद्योगपतियों पर ध्यान देती है कि जहां तक उनका स्टेटमेंट है मैं उनसे पूरी तरीके से सहमत नहीं हूं सरकार ने जो किसान है उनके लिए काफी सारी योजनाएं लेकर आएं और इस बार के बजट में हम यह भी देख सकते हैं कि पूरा बजट गरीब लोगों के लिए और किसानों के लिए ही था लेकिन बात यह है कि सरकार कोशिश पूरी तरीके से कर रही है बीते हुए 3 सालों में किसानों के लिए लेकिन हमारा सिस्टम इतना कर अपडेट है और बिल्कुल भी अच्छी तरीके से काम नहीं होता मेरे सिस्टम में जो पॉलिसी और ज्योति योजना किसानों के लिए लागू हुई है वह अच्छी तरीके से रेगुलेट हो ही नहीं पा रही क्योंकि सिस्टम बहुत कनेक्टेड है इस को रेगुलेट और अच्छी तरीके से करना चाहिए बहुत सारी योजनाएं जन धन योजना

vicky is baat mein koi do rai nahi hai ki aaj hamare desh ke jo kisan hain unki halat gambhir hai aur main baat karu ki anna hazare ne bola ki sarkar keval udyogpatiyon par dhyan deti hai ki jaha tak unka statement hai unse puri tarike se sahmat nahi hoon sarkar ne jo kisan hai unke liye kaafi saree yojanaye lekar aaen aur is baar ke budget mein hum yah bhi dekh sakte hain ki pura budget garib logo ke liye aur kisano ke liye hi tha lekin baat yah hai ki sarkar koshish puri tarike se kar rahi hai bite hue 3 salon mein kisano ke liye lekin hamara system itna kar update hai aur bilkul bhi achi tarike se kaam nahi hota mere system mein jo policy aur jyoti yojana kisano ke liye laagu hui hai vaah achi tarike se regulate ho hi nahi paa rahi kyonki system bahut connected hai is ko regulate aur achi tarike se karna chahiye bahut saree yojanaye jan dhan yojana

विकी इस बात में कोई दो राय नहीं है कि आज हमारे देश के जो किसान हैं उनकी हालत गंभीर है और म

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मुझे ऐसा लगता है कि अन्ना हजारे की बात कुछ हद तक सही है मैं ऐसा नहीं कहूंगी कि वह उद्योग पतियों पर ही ध्यान देती है क्योंकि मोदी सरकार ने ऐसी कुछ गेम चाहिए जिससे कि मेक इन इंडिया जो इंडिया में बने हुए प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देती है जो ग्राउंड में प्रोडक्ट बनते आणि कि जो हमारे लोग कल आर्टिस्ट लोकल क्राफ्ट बना दे उन चीजों को बहुत बढ़ावा मिला है शादी को बढ़ावा दिया है उन्होंने लेकिन यह बात बिल्कुल सही है कि वह किसानों पर आया था नहीं दे पा रहे हैं हमको जंगे उनका लोन माफ किया गया है लेकिन पूरे देश में लोन माफ करने की बात की गई थी वह नहीं हुआ है जिसमें हरियाणा की बात करूं तो यहां जो कुछ सब्जियां है उनके लिए मिनिमम प्राइस सेट कर दिए गए हैं कि सरकार वह प्राइस में वह सब्जी खरीद लेंगे तो सरकार ने ध्यान तो दिया है किसानों पर लिख लिख देना चाहिए उतना नहीं दिया है हां यह जरूर है कि वजह से मैं थोड़ा सा ध्यान दिया लेकिन आज के वक्त में कंट्री कि ओवरऑल डेवलपमेंट

dekhiye mujhe aisa lagta hai ki anna hazare ki baat kuch had tak sahi hai aisa nahi kahungi ki vaah udyog patiyon par hi dhyan deti hai kyonki modi sarkar ne aisi kuch game chahiye jisse ki make in india jo india mein bane hue products ko badhawa deti hai jo ground mein product bante aani ki jo hamare log kal artist local craft bana de un chijon ko bahut badhawa mila hai shadi ko badhawa diya hai unhone lekin yah baat bilkul sahi hai ki vaah kisano par aaya tha nahi de paa rahe hain hamko jange unka loan maaf kiya gaya hai lekin poore desh mein loan maaf karne ki baat ki gayi thi vaah nahi hua hai jisme haryana ki baat karu toh yahan jo kuch sabjiyan hai unke liye minimum price set kar diye gaye hain ki sarkar vaah price mein vaah sabzi kharid lenge toh sarkar ne dhyan toh diya hai kisano par likh likh dena chahiye utana nahi diya hai haan yah zaroor hai ki wajah se main thoda sa dhyan diya lekin aaj ke waqt mein country ki overall development

देखिए मुझे ऐसा लगता है कि अन्ना हजारे की बात कुछ हद तक सही है मैं ऐसा नहीं कहूंगी कि वह उद

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिल्कुल मैं अन्ना हजारे की जो बात है उस से सहमत हूं कि सरकार जब बजट लाती है तो ऐसे पॉलिसी लाती है जिनको जो है वह हाई क्लास या बिजनेसमैन को फायदा होगा और अब मिल क्लास वालों को तो ना के बराबर ही कुछ पॉलिसी लाती है और जो लोग क्लास है उनके लिए थोड़ा बहुत कुछ है रहता है तो दे देती है नहीं तो वह भी नहीं देती तो मैं जरूर समझता कि यह जो सरकार है यह बिजनेसमैन को ज्यादा सपोर्ट करती है जबकि हमारे किसानों को सपोर्ट की जरूरत है ना कि बिजनेस मैन टू बिजनेस मैन अपना काम खुद चला सकते हैं जो टाइप किया कर ज्यादा लगा दे जाएगा तो वह किसान को आज की स्थिति में जो है किसान को बहुत लॉस होते हैं और बहुत दिक्कत है उसे जो है वह आदमी खेती कर पाता है अपना परिवार चलाता है तो मैं सरकार को जो है वह किसान को सपोर्ट करना चाहिए

ji haan bilkul main anna hazare ki jo baat hai us se sahmat hoon ki sarkar jab budget lati hai toh aise policy lati hai jinako jo hai vaah high class ya bussinessmen ko fayda hoga aur ab mil class walon ko toh na ke barabar hi kuch policy lati hai aur jo log class hai unke liye thoda bahut kuch hai rehta hai toh de deti hai nahi toh vaah bhi nahi deti toh main zaroor samajhata ki yah jo sarkar hai yah bussinessmen ko zyada support karti hai jabki hamare kisano ko support ki zarurat hai na ki business man to business man apna kaam khud chala sakte hain jo type kiya kar zyada laga de jaega toh vaah kisan ko aaj ki sthiti mein jo hai kisan ko bahut loss hote hain aur bahut dikkat hai use jo hai vaah aadmi kheti kar pata hai apna parivar chalata hai toh main sarkar ko jo hai vaah kisan ko support karna chahiye

जी हां बिल्कुल मैं अन्ना हजारे की जो बात है उस से सहमत हूं कि सरकार जब बजट लाती है तो ऐसे

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!