दिल्ली: तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प, फायरिंग के साथ तोड़फोड़ और आगजनी भी हुई - आपकी राय?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली तीस हजारी कोर्ट में वकील और पुलिस के बीच फायरिंग तथा तोड़फोड़ और आगजनी की न्याय प्रक्रिया के सारे कुत्ते ने वकील और अन्याय की रक्षा करने वाले रक्षक पुलिस वही आमने सामने आ जाए बहुत ही दुखद हुआ है और एक साधारण सी बात से कि वीडियो के द्वारा कोई वकील जो है उनका नाम कुछ और मा बताएं वीडियोग्राफी कर रहे थे या फोटो ले रहे हैं और उसको पुलिस ने उनको रोका और कहा सुनी हुई और पुलिस गोली चला दी और गंभीर बना हुआ है मामला और पुलिस की जो जीत है उसको भी जला चुकी जलाकर खाक कर दी है और जो बंदूक से गोली चलाने वाले पुलिसकर्मी से वह लॉकअप में खुद को उन्होंने बंद कर लिया ताकि हिंसक भीड़ वकीलों की उनकी हत्या न करें यह बहुत ही दुखद और अकल्पनीय है कि वकील और पुलिस यह आमने सामने जब आते हैं तब बहुत ही दुखद होता है और ऐसा भविष्य में ना हो कभी कोर्ट के वकील और पुलिस के प्रशासनिक अधिकारी बड़े आला अधिकारी मिलकर और कोई समाधान की फॉर्मूला खोजें और पुलिस प्रशासन के अधिकारी और वकीलों का स्वस्थ करें इस तरह से भविष्य में पुलिस ऐसा काम नहीं करेगा करेगा जा सकता कि आज दिल्ली की कोर्ट बंद हो और वकीलों ने हड़ताल के आगे से ऐसा ना हो हम यही कामना कर सकती हैं धन्यवाद

delhi tees hazari court mein vakil aur police ke beech firing tatha thorphor aur agajani ki nyay prakriya ke saare kutte ne vakil aur anyay ki raksha karne waale rakshak police wahi aamane saamne aa jaaye bahut hi dukhad hua hai aur ek sadhaaran si baat se ki video ke dwara koi vakil jo hai unka naam kuch aur ma bataye videography kar rahe the ya photo le rahe hain aur usko police ne unko roka aur kaha suni hui aur police goli chala di aur gambhir bana hua hai maamla aur police ki jo jeet hai usko bhi jala chuki jalakar khak kar di hai aur jo bandook se goli chalane waale policekarmi se vaah lockup mein khud ko unhone band kar liya taki hinsak bheed vakilon ki unki hatya na kare yah bahut hi dukhad aur akalpaniya hai ki vakil aur police yah aamane saamne jab aate hain tab bahut hi dukhad hota hai aur aisa bhavishya mein na ho kabhi court ke vakil aur police ke prashaasnik adhikari bade aala adhikari milkar aur koi samadhan ki formula khojen aur police prashasan ke adhikari aur vakilon ka swasthya kare is tarah se bhavishya mein police aisa kaam nahi karega karega ja sakta ki aaj delhi ki court band ho aur vakilon ne hartal ke aage se aisa na ho hum yahi kamna kar sakti hain dhanyavad

दिल्ली तीस हजारी कोर्ट में वकील और पुलिस के बीच फायरिंग तथा तोड़फोड़ और आगजनी की न्याय प्र

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  1372
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

डॉ सतीश सारस्वत

इलेक्ट्रो होम्योपैथ चिकित्सक एवं सामाजिक कार्यकर्ता

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए कल जो तीस हजारी कोर्ट हुआ वह वाकई में बहुत ही शर्मनाक है भारतीय इतिहास में काले पन्नों में दर्ज हैं दर्ज हो चुका है क्योंकि पुलिस कानून की रक्षक होती है और वकील जो है कानून को बनाते हैं और रक्षक ही भक्षक बन जाए तो यह मेरे हिसाब से कहना चाहिए बहुत गलत है तो आपस में सौहार्द की भावना है दोनों में होनी चाहिए और इसमें जो भी कोई भी के स्वभाव जो भी कोई परेशानी रही हो उसको बैठ कर समझाएं और एक ऐसा सौ सौ बार पूर्ण माहौल बनाएं के पुलिस और एडवोकेट एक दूसरे के सारथी बने यह मेरी भावना है शुभकामनाएं

dekhiye kal jo tees hazari court hua vaah vaakai mein bahut hi sharmnaak hai bharatiya itihas mein kaale pannon mein darj hain darj ho chuka hai kyonki police kanoon ki rakshak hoti hai aur vakil jo hai kanoon ko banate hain aur rakshak hi bakshak ban jaaye toh yah mere hisab se kehna chahiye bahut galat hai toh aapas mein sauhaard ki bhavna hai dono mein honi chahiye aur isme jo bhi koi bhi ke swabhav jo bhi koi pareshani rahi ho usko baith kar samjhayen aur ek aisa sau sau baar purn maahaul banaye ke police aur advocate ek dusre ke saarthi bane yah meri bhavna hai subhkamnaayain

देखिए कल जो तीस हजारी कोर्ट हुआ वह वाकई में बहुत ही शर्मनाक है भारतीय इतिहास में काले पन्न

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1149
WhatsApp_icon
user

Ajay Pratap Singh

Agriculturist

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधिवक्ता महोदय जो अपनी कार लगा दिए थे जो वाहन आता है अधिक लेकर उसके पास अब बोलिए आप आ जाना होगा तब तक खड़ा रहना पड़ेगा जिस प्रकार नाडिया इसके बाद पुलिस वालों ने भी गलत काम किया उनको हाथ में पकड़ के अधिवक्ताओं ने दिया अधिवक्ता विद्वान होते हैं इनको समझ से काम लेना चाहिए और दोनों लोग ही एक ही सिक्के के दोनों पहलू हैं

adhivakta mahoday jo apni car laga diye the jo vaahan aata hai adhik lekar uske paas ab bolie aap aa jana hoga tab tak khada rehna padega jis prakar nadia iske baad police walon ne bhi galat kaam kiya unko hath mein pakad ke adhivaktaon ne diya adhivakta vidhwaan hote hain inko samajh se kaam lena chahiye aur dono log hi ek hi sikke ke dono pahaloo hain

अधिवक्ता महोदय जो अपनी कार लगा दिए थे जो वाहन आता है अधिक लेकर उसके पास अब बोलिए आप आ जाना

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!