दिल्ली में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित, प्रदूषण ‘बेहद गंभीर’ श्रेणी में - आख़िर लोग कब सीखेंगे?...


user

Bhuvi Jain

Engineer, Educator, Writer

7:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली में पॉल्यूशन की वजह से एयर क्वालिटी लेबल्स जो है बेहद गंभीर मतलब एक्सट्रीम लेवल पर पहुंच गई है और ऑलमोस्ट ऐसा सिचुएशन आ गए कि पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित हो चुकी है आखिर लोग कब सीखेंगे लोग में से मैं यह कहूंगी कि पहले गवर्नमेंट को सीखना चाहिए यह है कि जो हेल्प वॉइस में आप सोचें कि एक 28 ईयर ओल्ड की लड़की जो है जो कि कभी जिसमें स्मोक नहीं किया ना कुछ किया उसको लंग कैंसर हो गया तेज पुर का और डॉक्टर जी कहते कि इसलिए हुआ है क्योंकि आपके दिल्ली में इतना पोल्यूशन है कि नॉनस्मोकर के भी लांच जो है रोज 13 सिगरेट के बराबर कि स्मोकिंग करते हैं तब कारण जो कहते हैं चूहे का बल बढ़ने नो फॉर फार्मर्स को कोई एजुकेशन नहीं है इसलिए काम चलाते रहते हैं हरियाणा और पंजाब के फॉर्म में चलाते हैं दिवाली के ताकि कंस्ट्रक्शन वही कल की पॉल्यूशन बहुत रीजंस है लेकिन साल दर साल सेम रिजल्ट की बात होती है और कोई भी ना सेंटर नाइट कमैंट्स जो है वह इस बात के लिए जागते नहीं है और कुछ भी नहीं करते ऑडी बंद कि मैं खा पाटली को शुरू हुआ है दिल्ली में इसमें यह प्रॉब्लम यह है कि जो टू व्हीलर से दे आर द मोस्ट पोल्यूटेड बाइक और इनको कभी भी बॉडी बल्कि में नहीं लाया जाता तो ऑडिबल स्कीम जो है इसके नोट 2019 सक्सेसफुल इंसान को जो प्रॉब्लम सो जा रही है बिकॉज आफ थिस सॉल्यूशन वह है कि क्रॉनिक कफ हैपनिंग आई सोर थ्रोट बदन में दर्द छोटे-छोटे बच्चे नॉनस्मोकर पीपल जो है इनको भी यह सब कुछ होता है आदमियों का चोरवा पेट्स को देखकर आप बैठ मेरे घर में जो डॉग है आजकल उसको बहुत वॉमिटिंग होती उसको बाहर घूमने का शौक है पर उसको फिर उल्टी हो जाती है बाहर घूमता खांसी होती है इनको डॉग उसको यह सब चीजें जरूरी है जब आप बाहर देखते तू अपनी दिखती है जिसका इस पूरे 2 साल दर साल यही चीज हो रही है तो बेसिक के लिए भी नहीं टू गो टू द रूट ऑफ द प्रॉब्लम की जड़ पर जाना है कि है क्या बात जिसकी वजह से यह चीज हो रही है यह सरकार की बेवकूफी जो है 2009 में शुरू हुई है 2009 में पंजाब और हरियाणा के सरकार ने यह डिसाइड किया ग्य छे अप्रैल और मई के महीने में आरा इसको बोया जाता था तो उन्होंने डिसाइड किया कि जो पैड़ी क्रॉप है जब उसको एक पल में में होते हैं तो ड्राई मन सोचे हैं तो फिर पानी बहुत चाहिए होता है इसको तोरा इसके लिए वह जमीन ग्राउंड वाटर का जो पानी जो है फार्मर बहुत इस्तेमाल करता था तो अभी जो ग्राउंड वॉटर है उसका लेवल डिप्लीट होता तू पंजाब और हरियाणा के सरकार ने ऐसा लोन निकाला कि अब अप्रैल और मई में नहीं बोया जाएगा इसका जो है रईस की खेती होएगी अब जुलाई के महीने में जबकि बारिश होने लगती है तो पानी ग्राउंड वाटर नहीं लेंगे तो ग्राउंड वाटर को हम कंफर्म कर सकते हैं अच्छा जब यह करना शुरू किया तो फिर नाचुली जवाब लेट दोगे तो फिर आप आपका वो बच्ची और भी लेट होएगा तो 6 हफ्ते की गीली हो जाती है आगरा इसको मैं चोर होने पर अब्राइज में चोर हो गया हमरा इसको काट दिया सब कुछ हो गया सारा ट्रैक्टर के प्राइस निकाल दिया अब क्या करना है अब अगला राउंड उनको बोला है क्योंकि सरकार इनको को पैसे दे रही है तो उनको बोलना है राइस एक्सपोर्ट हो रहा है हमारे देश में खूब सारा अब क्योंकि जल्दी उनको बोलना है तो अब खेत खाली कैसे करें तो इसलिए स्टेबल बढ़ने होती है इसलिए वे जो जो बच्चा कैसे बोलते हैं जो राजस्थान चावल का उसको चलाते हैं तो इस वजह से 2009 से यह प्रॉब्लम शुरू पर और अक्टूबर और नवंबर के महीने में यह जलाते हैं तब यह चलाने की जो समस्या है यह हवा बहुत कम होती है अक्टूबर-नवंबर में अगर वह यह चीज सीजन का जो चेंज हो गया इनके प्रॉब्लम की वजह से सरकार की गलत इंटरवेंशन गलत रूल की वजह से तो 2009 से यह पोलूशन बढ़ते बढ़ते अब यह सिचुएशन आ गया है कि दिल्ली को सांस में सरकारों के ऊपर यह जिम्मेदारी है कि उनको यह ध्यान करना पड़ेगा कि वापस या तो प्रॉपर साइकिल ठीक करें और थोड़े जो खेत चौकी राइस उगाते हैं उन खेतों में और चीजों को खाएं जो कि अक्टूबर और नवंबर के महीने में जिनके फसल नहीं करते और नाचुली गवर्नमेंट्स को मशीनें देनी पड़ेगी फार्मर्स को जिससे कि वह अपने जो जिस चीज को चलाते हैं उस चीज के छोटे-बड़े किस्स करके और उसका खास बनाएं उसके डिस्पोजेबल प्लेट्स वगैरह बताएं जो भी कहीं पर भी उसको यूज करें लेकिन मन नहीं करे चलाएं नहीं तो डबल बढ़ने का जो मेन रीजन है उसको टैकल करना है कमेंट स्कोर और यह सिर्फ एक दिल्ली गवर्नमेंट एक अकेली नहीं कर सकती है यह दिल्ली गवर्मेंट को पूरा कॉर्पोरेशन चाहिए होगा अपने अगल-बगल के जो स्टेट से पंजाब और हरियाणा के तो इसका यह मतलब है कि इस सेंटर के जो एनवायरमेंट मिनिस्ट्री है उसको इंटरव्यू करना पड़ेगा एग्रीकल्चर मिनिस्ट्री को इंटरव्यू करके बताना पड़ेगा कि भाई अब टाइम से अब आप अप्रैल और मई के महीने में ही बोलिए और फिर आप ट्राई करिए कि डिफरेंट क्रॉप्स प्रो करें जिसमें की जो भर्ती है उसका पानी जो है वह ठीक से सच लेट हो और फिर धरती का जोरी मैंने सोचा है जो व्हाट्सएप पर आए तो पैसे के लिए ही है कि ग्रोइंग प्लांट पेटर्न्स को ठीक करने पड़ेंगे और गवर्नमेंट का ही प्रॉब्लम है यह सारा कुछ तो है सेंट्रल गवर्नमेंट को ट्रैक करना पड़ेगा क्योंकि एक अकेला दिल्ली स्टेट इस पर बहुत ज्यादा नहीं कर सकता दिल्ली से छोटी सी जगह है हॉस्टल बोर्डिंग दिल्ली में नहीं होती हरियाणा और पंजाब में होती है यह दोनों स्टेट चूहे जून को जागना पड़ेगा तो आखिर लोग कब सीखेंगे यह मैं समझ नहीं पा रही 2009 से प्रॉब्लम है प्रॉब्लम का सलूशन भी बता दिया कि इसलिए यह प्रॉब्लम है फिर भी सरकार कुछ नहीं कर रही दूसरी बात है दिल्ली गवर्मेंट एक किस कर सकती है जोकि स्मॉग टावर से स्मार्ट टावर जो है वह बाहर का जो पोल्यूशन है उसको टाइप करते हैं उसके जो पोलूशन वाले आयन से उनको सेपरेट करते हैं और उनको नीचे दबा देते उनको फिर कंप्रेस करके एक सब चीज बन जाती है दुश्मन टॉवर्स आजकल चाइना ने काफी यूज़ किया है और चाइना को के हवा में सुधार हुआ है दिल्ली भी ट्राई कर सकती है एक 158 2 करोड रुपए का ही सिर्फ औरतें और हर्षवर्धन दिल्ली कान्हा 452 स्मोक टावर जिससे कि पूरे दिल्ली के पॉल्यूशन का प्रॉब्लम सॉल्व हो जाएगा

delhi mein pollution ki wajah se air quality labels jo hai behad gambhir matlab extreme level par pohch gayi hai aur alamost aisa situation aa gaye ki public health emergency ghoshit ho chuki hai aakhir log kab sikhenge log mein se main yah kahungi ki pehle government ko sikhna chahiye yah hai ki jo help voice mein aap sochen ki ek 28 year old ki ladki jo hai jo ki kabhi jisme smoke nahi kiya na kuch kiya usko lung cancer ho gaya tez pur ka aur doctor ji kehte ki isliye hua hai kyonki aapke delhi mein itna pollution hai ki nanasmokar ke bhi launch jo hai roj 13 cigarette ke barabar ki smoking karte hai tab karan jo kehte hai chuhe ka bal badhne no for farmers ko koi education nahi hai isliye kaam chalte rehte hai haryana aur punjab ke form mein chalte hai diwali ke taki construction wahi kal ki pollution bahut rijans hai lekin saal dar saal same result ki baat hoti hai aur koi bhi na center night comments jo hai vaah is baat ke liye jagte nahi hai aur kuch bhi nahi karte audi band ki main kha patli ko shuru hua hai delhi mein isme yah problem yah hai ki jo to wheeler se de R the most polyuted bike aur inko kabhi bhi body balki mein nahi laya jata toh audible scheme jo hai iske note 2019 successful insaan ko jo problem so ja rahi hai because of this solution vaah hai ki chronic cough happening I sour throat badan mein dard chote chhote bacche nanasmokar pipal jo hai inko bhi yah sab kuch hota hai adamiyo ka chorwa pets ko dekhkar aap baith mere ghar mein jo dog hai aajkal usko bahut vamiting hoti usko bahar ghoomne ka shauk hai par usko phir ulti ho jaati hai bahar ghoomta khansi hoti hai inko dog usko yah sab cheezen zaroori hai jab aap bahar dekhte tu apni dikhti hai jiska is poore 2 saal dar saal yahi cheez ho rahi hai toh basic ke liye bhi nahi to go to the root of the problem ki jad par jana hai ki hai kya baat jiski wajah se yah cheez ho rahi hai yah sarkar ki bewakoofi jo hai 2009 mein shuru hui hai 2009 mein punjab aur haryana ke sarkar ne yah decide kiya gya che april aur may ke mahine mein aara isko boya jata tha toh unhone decide kiya ki jo paidi crop hai jab usko ek pal mein mein hote hai toh dry man soche hai toh phir paani bahut chahiye hota hai isko tora iske liye vaah jameen ground water ka jo paani jo hai farmer bahut istemal karta tha toh abhi jo ground water hai uska level deplete hota tu punjab aur haryana ke sarkar ne aisa loan nikaala ki ab april aur may mein nahi boya jaega iska jo hai raees ki kheti hoegi ab july ke mahine mein jabki barish hone lagti hai toh paani ground water nahi lenge toh ground water ko hum confirm kar sakte hai accha jab yah karna shuru kiya toh phir nachuli jawab late doge toh phir aap aapka vo bachi aur bhi late hoega toh 6 hafte ki gili ho jaati hai agra isko main chor hone par abraij mein chor ho gaya hamara isko kaat diya sab kuch ho gaya saara tractor ke price nikaal diya ab kya karna hai ab agla round unko bola hai kyonki sarkar inko ko paise de rahi hai toh unko bolna hai rice export ho raha hai hamare desh mein khoob saara ab kyonki jaldi unko bolna hai toh ab khet khaali kaise kare toh isliye stable badhne hoti hai isliye ve jo jo baccha kaise bolte hai jo rajasthan chawal ka usko chalte hai toh is wajah se 2009 se yah problem shuru par aur october aur november ke mahine mein yah jalte hai tab yah chalane ki jo samasya hai yah hawa bahut kam hoti hai october november mein agar vaah yah cheez season ka jo change ho gaya inke problem ki wajah se sarkar ki galat intaravenshan galat rule ki wajah se toh 2009 se yah pollution badhte badhte ab yah situation aa gaya hai ki delhi ko saans mein sarkaro ke upar yah jimmedari hai ki unko yah dhyan karna padega ki wapas ya toh proper cycle theek kare aur thode jo khet chowki rice ugaate hai un kheton mein aur chijon ko khayen jo ki october aur november ke mahine mein jinke fasal nahi karte aur nachuli gavarnaments ko mashinen deni padegi farmers ko jisse ki vaah apne jo jis cheez ko chalte hai us cheez ke chote bade kiss karke aur uska khaas banaye uske disposable plates vagera bataye jo bhi kahin par bhi usko use kare lekin man nahi kare chalaye nahi toh double badhne ka jo main reason hai usko tackle karna hai comment score aur yah sirf ek delhi government ek akeli nahi kar sakti hai yah delhi government ko pura corporation chahiye hoga apne agal bagal ke jo state se punjab aur haryana ke toh iska yah matlab hai ki is center ke jo environment ministry hai usko interview karna padega agriculture ministry ko interview karke bataana padega ki bhai ab time se ab aap april aur may ke mahine mein hi bolie aur phir aap try kariye ki different crops pro kare jisme ki jo bharti hai uska paani jo hai vaah theek se sach late ho aur phir dharti ka jori maine socha hai jo whatsapp par aaye toh paise ke liye hi hai ki growing plant petarns ko theek karne padenge aur government ka hi problem hai yah saara kuch toh hai central government ko track karna padega kyonki ek akela delhi state is par bahut zyada nahi kar sakta delhi se choti si jagah hai hostel boarding delhi mein nahi hoti haryana aur punjab mein hoti hai yah dono state chuhe june ko jagana padega toh aakhir log kab sikhenge yah main samajh nahi paa rahi 2009 se problem hai problem ka salution bhi bata diya ki isliye yah problem hai phir bhi sarkar kuch nahi kar rahi dusri baat hai delhi government ek kis kar sakti hai joki smog tower se smart tower jo hai vaah bahar ka jo pollution hai usko type karte hai uske jo pollution waale ion se unko separate karte hai aur unko niche daba dete unko phir compress karke ek sab cheez ban jaati hai dushman towers aajkal china ne kaafi use kiya hai aur china ko ke hawa mein sudhaar hua hai delhi bhi try kar sakti hai ek 158 2 crore rupaye ka hi sirf auraten aur harshvardhan delhi kanha 452 smoke tower jisse ki poore delhi ke pollution ka problem solve ho jaega

दिल्ली में पॉल्यूशन की वजह से एयर क्वालिटी लेबल्स जो है बेहद गंभीर मतलब एक्सट्रीम लेवल पर

Romanized Version
Likes  988  Dislikes    views  12175
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह भारत का दुर्भाग्य कि भारतीय संस्कृति में आज का भारत देशवासियों को लोग इतने लोभी लालची हैं उन्हें इस बात से कोई मतलब नहीं है कि प्रदूषण कर रहा है अभी ट्यूशन को बढ़ावा दे रहे हैं जबकि आज के समय की मांग है कि एजुकेटेड व्यक्ति को हर भारतीय को पटाना चाहिए प्रदूषण को मिटाने के लिए सरकारी प्रयास प्रयास जनसाधारण कब है पूर्ण मत होना चाहिए पूर्ण विश्वास होना चाहिए कि हमें प्रदूषण हटाना है सभी मानव जीवन भर सकता है लेकिन भाग कुछ लोग इतने स्वार्थी हो गए हैं इतनी घटिया किस्म के हैं कि पर्यावरण प्रदूषण फैला सकते हैं किंतु पहचान नहीं रहे हैं जबकि उन्हें पेड़ नहीं काटना चाहिए अधिकांश अधिक पेड़ लगाने चाहिए और सच्ची प्राप्त उल्टा-सीधा नहीं गंदगी न फैलाएं चाहे जहां आग लगाकर कि कार्बन डाइऑक्साइड नहीं करें लेकिन लोग नहीं सीख रहे हैं हमारे कालू जी ध्यान तो बट रहा है लेकिन जो ज्ञान की शिक्षा की गुणवत्ता है वह नहीं बढ़ पा रही है जबकि सिमट जाती दुश्मनी है क्या पर्यावरण प्रदूषण को पटाया जाता पर्यावरण प्रदूषण को मिटाया जाता विदेशों में देखो आप लोग पर्यावरण प्रदूषण को मिटाने के लिए भरसक प्रयास कर रहे हैं जबकि हम भारतीय लोग स्वार्थ में अंधे हैं स्वार्थ में दीवाने हो रहे हैं अनादन पेड़ों की कटाई कर रहे हैं कि प्रधानमंत्री जी हमारे इस बात को बार-बार कह रहे हैं कि हमें प्रदूषण मिटाना है हमें भारत को प्रदूषण मुक्त करना है पर अकेला प्रधानमं जबकि भारतीय लोगों पर ध्यान देना चाहिए इस बात को हमें बार-बार कहती है कि हमें दूसरे मानव को जीने के रास्ते बनाने चाहिए इस प्रयोग पर्यावरण प्रदूषण को मिटाना है इसके लिए भरसक प्रयास करना है हमारे प्रयासों के द्वारा पर्यावरण प्रदूषण बढ़ाने में सहायक नहीं बने हमें पर्यावरण प्रदूषण को हालात में मिटाना है भारत को प्रदूषण मुक्त कराना है यह हमसफर प्रयास होना चाहिए

yah bharat ka durbhagya ki bharatiya sanskriti mein aaj ka bharat deshvasiyon ko log itne lobhi lalchi hai unhe is baat se koi matlab nahi hai ki pradushan kar raha hai abhi tuition ko badhawa de rahe hai jabki aaj ke samay ki maang hai ki educated vyakti ko har bharatiya ko patana chahiye pradushan ko mitne ke liye sarkari prayas prayas janasadharan kab hai purn mat hona chahiye purn vishwas hona chahiye ki hamein pradushan hatana hai sabhi manav jeevan bhar sakta hai lekin bhag kuch log itne swaarthi ho gaye hai itni ghatiya kism ke hai ki paryavaran pradushan faila sakte hai kintu pehchaan nahi rahe hai jabki unhe ped nahi kaatna chahiye adhikaansh adhik ped lagane chahiye aur sachi prapt ulta seedha nahi gandagi na failaen chahen jaha aag lagakar ki carbon dioxide nahi kare lekin log nahi seekh rahe hai hamare kalu ji dhyan toh but raha hai lekin jo gyaan ki shiksha ki gunavatta hai vaah nahi badh paa rahi hai jabki simat jaati dushmani hai kya paryavaran pradushan ko pataya jata paryavaran pradushan ko mitaya jata videshon mein dekho aap log paryavaran pradushan ko mitne ke liye bharasak prayas kar rahe hai jabki hum bharatiya log swarth mein andhe hai swarth mein deewane ho rahe hai anadana pedon ki katai kar rahe hai ki pradhanmantri ji hamare is baat ko baar baar keh rahe hai ki hamein pradushan mitana hai hamein bharat ko pradushan mukt karna hai par akela pradhanaman jabki bharatiya logo par dhyan dena chahiye is baat ko hamein baar baar kehti hai ki hamein dusre manav ko jeene ke raste banane chahiye is prayog paryavaran pradushan ko mitana hai iske liye bharasak prayas karna hai hamare prayaso ke dwara paryavaran pradushan badhane mein sahayak nahi bane hamein paryavaran pradushan ko haalaat mein mitana hai bharat ko pradushan mukt krana hai yah humsafar prayas hona chahiye

यह भारत का दुर्भाग्य कि भारतीय संस्कृति में आज का भारत देशवासियों को लोग इतने लोभी लालची ह

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  1505
WhatsApp_icon
user

PRAMOD KUMAR

Retired IFS Officer | Advisor to TRIFED

8:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली में पब्लिक हेल्थ एमरजैंसी कोशिश बहुत ही गंभीर पिछले कुछ दिनों में पूरे भारतवर्ष में चर्चा का विषय है कैप्टन अमरिंदर सिंह साहब ने मुझे चिट्ठी लिखा है प्रधानमंत्री महोदय को स्थिति रियली बहुत गंभीर है अभी शुक्रवार सुबह तक नेशनल कैपिटल दिल्ली में आपको एयर क्वालिटी इंडेक्स 484 में बहुत ही सपनों के घर है इसीलिए आपके दिल्ली एनसीआर पब्लिक हेल्थ से मिलने की कोशिश किया गया है जो आपके ईपीसीएल मांगमेंट पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल अथॉरिटी ने एक चिट्ठी लिखा है सरकार को उसके लिए तो ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान है जीआरपी बोला जाता है तो उसकी तरफ दिल्ली का आसपास का कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी चल रहा है कि फरीदाबाद गुरुग्राम है गोवा एडजर्निंग एरिया है उसमें जो हॉट मिक्स प्लांट को बंद कर दिया जाए और कॉल इंडस्ट्रीज का उपयोग को वर्कर जाए और जितने इंडस्ट्रीज इन पीएनजी को छोड़कर उसको बहन के आ जाए और ए कंपलीट बैंजो है बस्ती को दिखा कर कर उसको भी आपको अनाउंस क्या-क्या है उनका संपर्क का चेयरमैन लाल जी आपके जो हुआ था उसके बाद होने के बावजूद भी उसके जो चला उसमें एयर पोलूशन और ज्यादा बढ़ गया उसमें जो होगा जो कंडीशन और जो साइक्लोनिक विंड्स अरेबियन सी ओल्ड लॉगइन स्वीट्स यह सब मिलकर बिलियन सरकार को बहुत ही खराब कर दिया तो इसमें बहुत सारे फसल के खराब है फिट आता है बच्चों के ऊपर तो उसके गंभीर प्रभाव सबसे पहले रहता है बैंक आईटी शो लास्ट में उसका इम्मीडिएटली होती है तो इस चीज को देखकर भी स्कूल में तो छुट्टी घोषित कर दिया गया है पटेल सवाल है कि हमारी कैपिटल में जो भी स्थिति होती है तो हम उसको कैसे टैकल कर पाएंगे आपके हमको पता है कि जब मैं जब सैलेंसर पॉपुलेशन होती है इंडिया में वह होती अंबा सुनाओ सिरवेल और आपके जो मॉर्निंग होती है खुश अल्कोहल का हाई लेवल ऑफ पर्टिकुलर पकड़कर जाते हैं यार समय और उसमें इसका इफेक्ट पड़ता है और उसमें रेस्पिरेट्री डिजीज बगैरा क्योंकि अब बच्चों को स्पेशल से ज्यादा होती है और इसमें होती है आपके स्कूल स्टूडेंट को पैदा हो रहा इरिटेशन होती रहती है और मेरा हाथ में जला दूं यह सब चीज में स्कूल फ्रेंड के ऊपर कंप्लेंट दिल्ली में लिखा गया है शुक्रवार शाम तक जो आपके मैंने बताया था कि आज क्वालिटी आपके 480 मदरिया जो कि बहुत ही सुंदर है धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है कि एक थोड़ा सा क्या लॉक है कि आपके जैसे नवंबर के लास्ट तक 8 किलोमीटर से लेकर 20 किलोमीटर तक मैं अपडेट कर चुका है कोटा में कोई चांस है कि जो वेस्टर्न डिस्टरबेंस होगा उसमें आपके नंबर में 24 फीट पड़ेगा 8 किलोमीटर से 20 किलोमीटर यह पोस्ट बलिया का इंप्रूव कर सकता है एयर कंडीशन को बताइए कि सब चीज को देखते हुए अभी वेडिंग गर्ल चल रहा है फुल टीशर्ट के बीच में नेता के बीच में इलेक्शन की संभाल में एक बड़ा शर्म की बात है कि हमारे कैपिटल में स्थिति है और उसको क्या सलूशन किया जाए और चिट्ठी लिखने से या उसको एक दूसरे को पर दुष्कर्म करने से उसके नहीं हो पाता है और जो जो स्थिति है उसमें चल रहा है उसके बारे में मैं यहां जिगर करना नहीं चाहता हूं आप सभी को पता है तो मेरी चीज है कि दिल्ली का जो हमारी जान से नहीं होती है सभी का पूरे भारत का जनता यहां आते दिल्लीवासी रहते हैं यहां जब हमने पोलूशन को कंट्रोल नहीं कर पाते और यह स्थिति केवल इमरजेंसी घोषित करना पड़ता है तो फिर आप क्या कर पाएंगे और किस चीज में हम गुजर रहे आप अनुमान लगाया जा सकता है अभी ऐसा स्थिति आ गया कि आपके एक आपके अब देखेंगे शाम को एक पूरा ग्रेस मौका दिल्ली को कवर कर लेता है और उसमें चुरा बड़े सारे प्रॉब्लम चारों तरफ उसका प्रॉब्लम कुछ नहीं आ जाता है अभी स्कूल वगैरह तो बंद कर दिया क्या नंबर पास तक वोट आगे उसमें क्या होगा और क्या यह पूरे कंस्ट्रक्शन एक्टिविटीज आपके जितना आसपास हो चुका है उसमें क्लियर पुलिस में सबसे ज्यादा होती है अभी और चलने का है नंबर 4 सेविंग स्कीम का इतना कोई ज्यादा इंपैक्ट मेडिकल में उसे ऊपर पड़ेगा नहीं क्योंकि यह तो ठीक है आपके और थोड़ी हेल्प कर सकता क्योंकि हेल्थ एंबुलेंस में क्या-क्या स्टेप लेनी चाहिए यह आपके सभी कष्टों से ना किसी को तुरंत बंद कर दिया जाए जितने कॉल इंडस्ट्रीज है आपका और पेंट को छोड़कर उसको पर भी बैन लगाया जाए फरीदाबाद गुड़गांव और हरिजन गाजियाबाद नोएडा सब चीजों में बहादुरगढ़ में स्पेशली इतने आपके नाम पीएनजी 10tj उसके ऊपर भी अंकुश लगाया जाए आपको पता होगा जो एक ही वाइंडेक्स होता है उसमें 0.5 इज कंसीडर्ड गोद 420 डिसेटिस्फेक्ट्री अंडर 12000 तक 201 300 पूर्ण होती है 300 से 400 भरपूर होती है और 401 से 500 सीटें होती है और आपके 500 के ऊपर कुछ भी 484 अली का कोई ठोस कदम अभी तक उठाया नहीं जा रहा है जब तक ठोस कदम नहीं उठाएगा और हमारी कैपिटल स्टॉक और सुरक्षित हो जाएगा तो चली पुलिस अनुष्का बारे में और हीरो हेल्थ का सुन हो गया कोई एक बड़ा शर्म का वादे हम सभी के लिए तो पूरी सरकार को रहे हो भारत सरकार और राज्य सरकार हो इस गंभीर स्थिति को और स्पेशली जनता दिल्ली की जनता का और उसके जो प्रॉब्लम हो रही है अभी यह सभी को पता है डेली अखबार बाहर है हम सब उसके कारण को जानते हैं तो उसको एक पॉलिटिकल स्कूल नहीं करके केजरीवाल हेल्थ सीमेंट शीट रूप में टेप लेकर उसको इमेजेस कदम उठाने चाहिए नहीं तो यह हाल बहुत ही गंभीर होने वाला है इसलिए वेरी सीरियस सिंह क्विकली सभी को फिट करने वाला है और सबसे बाद है कि हमारी कैपिटल उसको परम प्राइड करते हैं यहां ऐसी चीज और हो गोपी राशि के बारे में क्या कह सकते हैं धन्यवाद

delhi mein public health emergency koshish bahut hi gambhir pichle kuch dino mein poore bharatvarsh mein charcha ka vishay hai captain amarindar Singh saheb ne mujhe chitthi likha hai pradhanmantri mahoday ko sthiti really bahut gambhir hai abhi sukravaar subah tak national capital delhi mein aapko air quality index 484 mein bahut hi sapno ke ghar hai isliye aapke delhi NCR public health se milne ki koshish kiya gaya hai jo aapke EPCL mangament pollution under control authority ne ek chitthi likha hai sarkar ko uske liye toh graded response action plan hai GRP bola jata hai toh uski taraf delhi ka aaspass ka construction activity chal raha hai ki faridabad gurugram hai goa edajarning area hai usme jo hot mix plant ko band kar diya jaaye aur call industries ka upyog ko worker jaaye aur jitne industries in png ko chhodkar usko behen ke aa jaaye aur a complete banjo hai basti ko dikha kar kar usko bhi aapko anauns kya kya hai unka sampark ka chairman laal ji aapke jo hua tha uske baad hone ke bawajud bhi uske jo chala usme air pollution aur zyada badh gaya usme jo hoga jo condition aur jo saiklonik winds arabian si old login sweets yah sab milkar billion sarkar ko bahut hi kharab kar diya toh isme bahut saare fasal ke kharab hai fit aata hai baccho ke upar toh uske gambhir prabhav sabse pehle rehta hai bank it show last mein uska immidietali hoti hai toh is cheez ko dekhkar bhi school mein toh chhutti ghoshit kar diya gaya hai patel sawaal hai ki hamari capital mein jo bhi sthiti hoti hai toh hum usko kaise tackle kar payenge aapke hamko pata hai ki jab main jab sailensar population hoti hai india mein vaah hoti amba sunao sirvel aur aapke jo morning hoti hai khush alcohol ka high level of particular pakadakar jaate hai yaar samay aur usme iska effect padta hai aur usme respiratory disease bagaira kyonki ab baccho ko special se zyada hoti hai aur isme hoti hai aapke school student ko paida ho raha irritation hoti rehti hai aur mera hath mein jala doon yah sab cheez mein school friend ke upar complaint delhi mein likha gaya hai sukravaar shaam tak jo aapke maine bataya tha ki aaj quality aapke 480 madriya jo ki bahut hi sundar hai dhire dhire badhta ja raha hai ki ek thoda sa kya lock hai ki aapke jaise november ke last tak 8 kilometre se lekar 20 kilometre tak main update kar chuka hai quota mein koi chance hai ki jo western distarabens hoga usme aapke number mein 24 feet padega 8 kilometre se 20 kilometre yah post baliya ka improve kar sakta hai air condition ko bataye ki sab cheez ko dekhte hue abhi wedding girl chal raha hai full Tshirt ke beech mein neta ke beech mein election ki sambhaal mein ek bada sharm ki baat hai ki hamare capital mein sthiti hai aur usko kya salution kiya jaaye aur chitthi likhne se ya usko ek dusre ko par dushkarm karne se uske nahi ho pata hai aur jo jo sthiti hai usme chal raha hai uske bare mein main yahan jigar karna nahi chahta hoon aap sabhi ko pata hai toh meri cheez hai ki delhi ka jo hamari jaan se nahi hoti hai sabhi ka poore bharat ka janta yahan aate dillivasi rehte hai yahan jab humne pollution ko control nahi kar paate aur yah sthiti keval emergency ghoshit karna padta hai toh phir aap kya kar payenge aur kis cheez mein hum gujar rahe aap anumaan lagaya ja sakta hai abhi aisa sthiti aa gaya ki aapke ek aapke ab dekhenge shaam ko ek pura graze mauka delhi ko cover kar leta hai aur usme chura bade saare problem charo taraf uska problem kuch nahi aa jata hai abhi school vagera toh band kar diya kya number paas tak vote aage usme kya hoga aur kya yah poore construction activities aapke jitna aaspass ho chuka hai usme clear police mein sabse zyada hoti hai abhi aur chalne ka hai number 4 saving scheme ka itna koi zyada impact medical mein use upar padega nahi kyonki yah toh theek hai aapke aur thodi help kar sakta kyonki health ambulance mein kya kya step leni chahiye yah aapke sabhi kaston se na kisi ko turant band kar diya jaaye jitne call industries hai aapka aur paint ko chhodkar usko par bhi ban lagaya jaaye faridabad gurgaon aur harijan ghaziabad noida sab chijon mein bahadurgadh mein speshli itne aapke naam png 10tj uske upar bhi ankush lagaya jaaye aapko pata hoga jo ek hi vaindeks hota hai usme 0 5 is kansidard god 420 disetisfektri under 12000 tak 201 300 purn hoti hai 300 se 400 bharpur hoti hai aur 401 se 500 seaten hoti hai aur aapke 500 ke upar kuch bhi 484 ali ka koi thos kadam abhi tak uthaya nahi ja raha hai jab tak thos kadam nahi uthayega aur hamari capital stock aur surakshit ho jaega toh chali police anushka bare mein aur hero health ka sun ho gaya koi ek bada sharm ka waade hum sabhi ke liye toh puri sarkar ko rahe ho bharat sarkar aur rajya sarkar ho is gambhir sthiti ko aur speshli janta delhi ki janta ka aur uske jo problem ho rahi hai abhi yah sabhi ko pata hai daily akhbaar bahar hai hum sab uske karan ko jante hai toh usko ek political school nahi karke kejriwal health cement sheet roop mein tape lekar usko images kadam uthane chahiye nahi toh yah haal bahut hi gambhir hone vala hai isliye very serious Singh quickly sabhi ko fit karne vala hai aur sabse baad hai ki hamari capital usko param pride karte hai yahan aisi cheez aur ho gopi rashi ke bare mein kya keh sakte hai dhanyavad

दिल्ली में पब्लिक हेल्थ एमरजैंसी कोशिश बहुत ही गंभीर पिछले कुछ दिनों में पूरे भारतवर्ष में

Romanized Version
Likes  455  Dislikes    views  6798
WhatsApp_icon
user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

2:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं दिल्ली में रहा हूं लगभग 10 साल और मैंने वहां की जिद जीवन चर्या देखिए हर आदमी self-centered है फैमिली का ख्याल से असली आ रहा है क्योंकि जल का ख्याल है अथवा इस लोगों को किसी की कोई चिंता नहीं है सब अपनी मस्ती में मस्त हैं और अगर मैंने अपनी केयर कर ली तो फिर मुझे दूसरे से क्या मतलब यह भावना भावना दिल्ली में कूट-कूट कर भरी है और फिर यह राजनीति का सबसे बड़ा स्थल है क्योंकि देश की राजधानी है और हमारे राजनीतिज्ञों का क्या हाल-चाल है यह आपको मालूम नहीं है अभी कुछ थोड़ा बहुत चोद रहा है हेलो का स्तर अदर वाइज गुंडे मवाली और मूर्ख हमारे राजनेता बना करते थे उसने यदि एक 5% लोग अच्छे भी होते थे तो इन गुंडों के सामने उनकी कोई चलती नहीं थी और यह गुंडागर्दी छद्म रूप में आजादी से चली है जबकि नेहरू और गांधी ने अपनी गुंडागर्दी से इस देश की राजनीति की को भ्रष्ट किया और बाद में लोग बिल्कुल सारे नियम कानून छोड़कर शुद्ध गुंडागर्दी पर उतर आए उसमें कांग्रेसका बड़ा रोल रहा है कुल मिलाकर मैं कहना चाहता हूं कि दिल्ली में लोग दूसरे की परवाह हंड्रेड परसेंट नहीं करते मैं सुरक्षित दूसरे लोग जाए भाड़ में इस प्रकृति के कारण इस प्रवृत्ति के कारण मां पर यह हालत बनी है वहां पर एक्सीडेंट हो जाते हैं बड़े-बड़े एक्सीडेंट हो जाते हैं सड़कों पर और एक्सीडेंट करने वाले ज्यादातर लोग ऐसी वाले होते हैं जो अपने घर आए मराठी में चलते हैं कि पैसा है तो सब कुछ कर लेंगे और ऐसा होता भी है कि वह पैसे से सभी को खरीद लेते हैं इस स्थिति में जो हाल दिल्ली के बने हैं वह बनना ही चाहिए क्योंकि मूर्ख जो होते हैं वह कुत्ते की मौत मांगते हैं

main delhi mein raha hoon lagbhag 10 saal aur maine wahan ki jid jeevan charya dekhiye har aadmi self centered hai family ka khayal se asli aa raha hai kyonki jal ka khayal hai athva is logo ko kisi ki koi chinta nahi hai sab apni masti mein mast hain aur agar maine apni care kar li toh phir mujhe dusre se kya matlab yah bhavna bhavna delhi mein kut kut kar bhari hai aur phir yah raajneeti ka sabse bada sthal hai kyonki desh ki rajdhani hai aur hamare rajaneetigyon ka kya haal chaal hai yah aapko maloom nahi hai abhi kuch thoda bahut chod raha hai hello ka sthar other wise gunde mavali aur murkh hamare raajneta bana karte the usne yadi ek 5 log acche bhi hote the toh in gundo ke saamne unki koi chalti nahi thi aur yah gundagardi chadm roop mein azadi se chali hai jabki nehru aur gandhi ne apni gundagardi se is desh ki raajneeti ki ko bhrasht kiya aur baad mein log bilkul saare niyam kanoon chhodkar shudh gundagardi par utar aaye usme kangresaka bada roll raha hai kul milakar main kehna chahta hoon ki delhi mein log dusre ki parvaah hundred percent nahi karte main surakshit dusre log jaaye bhad mein is prakriti ke karan is pravritti ke karan maa par yah halat bani hai wahan par accident ho jaate hain bade bade accident ho jaate hain sadkon par aur accident karne waale jyadatar log aisi waale hote hain jo apne ghar aaye marathi mein chalte hain ki paisa hai toh sab kuch kar lenge aur aisa hota bhi hai ki vaah paise se sabhi ko kharid lete hain is sthiti mein jo haal delhi ke bane hain vaah banna hi chahiye kyonki murkh jo hote hain vaah kutte ki maut mangate hain

मैं दिल्ली में रहा हूं लगभग 10 साल और मैंने वहां की जिद जीवन चर्या देखिए हर आदमी self-cent

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  1227
WhatsApp_icon
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

6:03

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल्ली में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित प्रदूषण एक गंभीर श्रेणी में आखिर लोग कब तक सीखेंगे देखिए बहुत ही गंभीर समस्या है और दिल्ली के चीफ ट्विस्टर ने 5 तारीख तक स्कूल को बंद करने के आदेश किया है क्योंकि प्रदूषण का जो इतना गंभीर हो गया है कि ऑडिबल लगाने के बाद भी और लोगों को पटाखे न जलाने के बाद भी अभी प्रदूषण का स्तर दिल्ली का सही दोनों नहीं हो पाया है और इसके लिए कहा जाता है कि पंजाब और हरियाणा में जो प्रांजल चलाई जाती है उसकी वजह से दिल्ली एक के चेंबर चित्र बन जाए बड़ों को और वृद्धों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है अगर वैद्य और बालक जो दिल्ली के हैं स्टूडेंट्स है जो छोटी उम्र के बच्चे उनको सांस लेने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है और पब्लिक हेल्प इमरजेंसी में एक तरह से जिसको कहे कि इमरजेंसी लगाई है और वह सही मायने में साबित होगी क्योंकि बच्चों को तो को इससे बड़ी बीमारी का भी सामना करना पड़ सकता है वह बीमार पड़ सकते हैं स्कूल में जाकर जो वह मास्क बांटे गए वह एक अच्छा कदम था लेकिन वह पर्याप्त नहीं था क्योंकि दिल्ली की आबादी इतनी ज्यादा है कि सिर्फ भास्कर में से कुछ नहीं होता है विजिबिलिटी जो है ट्रेनिंग में बहुत ही कम हो गई है और कुछ इलाकों में व्यक्ति बहुत ही ज्यादा प्रदूषण का स्तर जो है 508 पार्टिकल्स में होना चाहिए उसकी जगह 500 से ऊपर हो गया है 400 और 900 के बीच में पार्टिकल्स का पर हो गया है आनंद विहार के भेज दिया है उसमें तो 600 और 900 के बीच में प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है इसलिए जी बिल्टी कम हो गई धुंध जैसी दिखती है और सांस लेने में दिक्कत होती है इसके लिए जब तक वहां की जनता और हरियाणा और पंजाब की जनता नहीं समझेगी स्कीम और टेस्को तब तक ऐसे ही प्रदूषण का जो खामियाजा है दिल्ली की जनता बुक 3 केजरीवाल सरकार ने हरियाणा और पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार से अनुरोध किया है कि वह पराली जलाने वाले किसानों के ऊपर आने को अर्जेंट रिप्लाई करें ताकि वहां से उत्तर पश्चिमी जैगुआर हवाएं चलती है दिल्ली के ऊपर से पास होकर जाती है उसकी वजह से दिल्ली में इतना प्रदूषण का स्तर बढ़ा हुआ है अब जब तक जनता जागृत नहीं होगी जब जनता एक दूसरे के हित का विचार नहीं करेगी तब तक बहुत ही कठिन लगता है बहुत ही सोचने स्थिति में दिल्ली की जनता है और वहां से पलायन भी नहीं कर सकती है क्योंकि इतनी बड़ी गलियां दिल्ली में कितने लोग रहते हैं कि यह भी संभव नहीं है सब लोग दिल्ली छोड़कर और किसी दूसरे एरिया में इसलिए प्रदूषण का स्तर आपसी वैमनस्य कोई भी पार्टी की सकता है लेकिन प्रदूषण का स्तर घटाने के लिए हर एक सरकारों को एक दूसरे का साथ देना ही पड़ेगा क्योंकि यह इंसानों के जी में और कठिनाइयों का सामना करने का सवाल हर एक इंसान का जन्मसिद्ध अधिकार है कि उसे प्रदूषण के स्तर से नीचे समान लेने का अधिकार तो उसे कोई रोक नहीं सकता और राजनेता जो भी रखते हैं जो भी प्रदेश के हूं उनको इसमें जरूर सहयोग करना चाहिए वरना जब जनता का प्रकोप मिलेगा तो उसके परिणाम बुरे हो लेकिन अभी भी समय है और राजनेताओं को एक कॉमन प्रोग्राम लिख करना चाहिए ताकि आम जनता की परेशानी में कमी और सब लोग अच्छे हैं वहां में अच्छे वातावरण में सांस ले सके धन्यवाद

delhi mein public health emergency ghoshit pradushan ek gambhir shreni mein aakhir log kab tak sikhenge dekhiye bahut hi gambhir samasya hai aur delhi ke chief twister ne 5 tarikh tak school ko band karne ke aadesh kiya hai kyonki pradushan ka jo itna gambhir ho gaya hai ki audible lagane ke baad bhi aur logo ko patakhe na jalane ke baad bhi abhi pradushan ka sthar delhi ka sahi dono nahi ho paya hai aur iske liye kaha jata hai ki punjab aur haryana mein jo pranjal chalai jaati hai uski wajah se delhi ek ke chamber chitra ban jaaye badon ko aur vriddhon ko saans lene mein dikkat ho rahi hai agar vaidhy aur balak jo delhi ke hai students hai jo choti umr ke bacche unko saans lene mein kaafi dikkat ka samana karna pad sakta hai aur public help emergency mein ek tarah se jisko kahe ki emergency lagayi hai aur vaah sahi maayne mein saabit hogi kyonki baccho ko toh ko isse baadi bimari ka bhi samana karna pad sakta hai vaah bimar pad sakte hai school mein jaakar jo vaah mask bante gaye vaah ek accha kadam tha lekin vaah paryapt nahi tha kyonki delhi ki aabadi itni zyada hai ki sirf bhaskar mein se kuch nahi hota hai visibility jo hai training mein bahut hi kam ho gayi hai aur kuch ilako mein vyakti bahut hi zyada pradushan ka sthar jo hai 508 particles mein hona chahiye uski jagah 500 se upar ho gaya hai 400 aur 900 ke beech mein particles ka par ho gaya hai anand vihar ke bhej diya hai usme toh 600 aur 900 ke beech mein pradushan ka sthar badh gaya hai isliye ji bilti kam ho gayi dhundh jaisi dikhti hai aur saans lene mein dikkat hoti hai iske liye jab tak wahan ki janta aur haryana aur punjab ki janta nahi samajhegee scheme aur tesko tab tak aise hi pradushan ka jo khamiyaja hai delhi ki janta book 3 kejriwal sarkar ne haryana aur punjab ki captain amarindar Singh ki sarkar se anurodh kiya hai ki vaah parali jalane waale kisano ke upar aane ko urgent reply kare taki wahan se uttar pashchimi jaiguaar hawaye chalti hai delhi ke upar se paas hokar jaati hai uski wajah se delhi mein itna pradushan ka sthar badha hua hai ab jab tak janta jagrit nahi hogi jab janta ek dusre ke hit ka vichar nahi karegi tab tak bahut hi kathin lagta hai bahut hi sochne sthiti mein delhi ki janta hai aur wahan se palayan bhi nahi kar sakti hai kyonki itni baadi galiya delhi mein kitne log rehte hai ki yah bhi sambhav nahi hai sab log delhi chhodkar aur kisi dusre area mein isliye pradushan ka sthar aapasi vaimanasya koi bhi party ki sakta hai lekin pradushan ka sthar ghatane ke liye har ek sarkaro ko ek dusre ka saath dena hi padega kyonki yah insano ke ji mein aur kathinaiyon ka samana karne ka sawaal har ek insaan ka janmsiddh adhikaar hai ki use pradushan ke sthar se niche saman lene ka adhikaar toh use koi rok nahi sakta aur raajneta jo bhi rakhte hai jo bhi pradesh ke hoon unko isme zaroor sahyog karna chahiye varna jab janta ka prakop milega toh uske parinam bure ho lekin abhi bhi samay hai aur rajnetao ko ek common program likh karna chahiye taki aam janta ki pareshani mein kami aur sab log acche hai wahan mein acche vatavaran mein saans le sake dhanyavad

दिल्ली में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित प्रदूषण एक गंभीर श्रेणी में आखिर लोग कब तक सीखेंगे

Romanized Version
Likes  68  Dislikes    views  1385
WhatsApp_icon
user

Avneesh Bhaiya

Social Worker

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है मैं रीवा मध्य प्रदेश से अवनीश हूं मुझे लगता है कि जितना प्रदूषण दिल्ली में नहीं है दिल्ली की जगह हूं मैं नहीं है उस पर्यावरण में नहीं है उससे ज्यादा दफ्तर में उच्च अधिकारियों और नेताओं के दिमाग में बैठा हुआ है जो सब कुछ जानते हुए भी स्थितियां वहां पर निर्मित है और कोई भी बड़े कदम नहीं उठा यार हम के द्वारा

mujhe lagta hai main reeva madhya pradesh se avnish hoon mujhe lagta hai ki jitna pradushan delhi me nahi hai delhi ki jagah hoon main nahi hai us paryavaran me nahi hai usse zyada daftaar me ucch adhikaariyo aur netaon ke dimag me baitha hua hai jo sab kuch jante hue bhi sthitiyan wahan par nirmit hai aur koi bhi bade kadam nahi utha yaar hum ke dwara

मुझे लगता है मैं रीवा मध्य प्रदेश से अवनीश हूं मुझे लगता है कि जितना प्रदूषण दिल्ली में नह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
user

Ajay Pratap Singh

Agriculturist

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें दिल्ली का लोटस शहर फैले से यही दिवाली के कानून कुछ पाटिल और यूज किए हैं बारिश होते ही सब सही हो जाएगा और पौधों को लगाना चाहिए

dekhen delhi ka lotus shehar failen se yahi diwali ke kanoon kuch patil aur use kiye hain barish hote hi sab sahi ho jaega aur paudho ko lagana chahiye

देखें दिल्ली का लोटस शहर फैले से यही दिवाली के कानून कुछ पाटिल और यूज किए हैं बारिश होते ह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  2  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!