महाराष्ट्र की सियासत में आया ट्विस्ट, उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की फोन पर बात! क्या होगा आगे?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाराष्ट्र की सियासत में आया टेस्ट उद्धव ठाकरे ने सातवार्षिकी फोन पर बात क्या होगा महाराष्ट्र की जो सियासत इस समय घर में आई हुई है चुनाव के बाद जो सीटों पर जोर चलता है पब्लिक में जो आम जनता ने महाराष्ट्र की जो रिजल्ट दिया बीजेपी और शिवसेना के पक्ष में शिवसेना के हठ आगरा के कारण वह 5050 का फार्मूला नेकर और जिद पर आई है और एनसीपी के नेता शरद पवार से बच कर रही है कि सरकार बनाई जा सके लेकिन कांग्रेस के सरकार के बिना सरकार बनाना संभव नहीं हम दोनों की और कांग्रेस में अपना पक्ष साफ कर दिया है कि वह विपक्ष में बैठेगी शरद पवार एनसीपी की पार्टी उन्होंने अपने पत्ते अभी खोले नहीं है इसलिए जो शिवसेना इतना जो भड़काऊ बयान बाजी कर रही है उससे फिर बाद में यह मैसेज चाहता है कि अगर राष्ट्रपति जी को लगेगा कि वहां पर कोई भी सरकार का गठन नहीं हो पा रहा है और वहां पर एकमत नहीं हो रही है तो राष्ट्रपति शासन को ऑर्डर कर सकते हैं और जो विधानसभा महाराष्ट्र की है जो रिजल्ट आया है उसको सुसुप्त अवस्था में भी रख सकते हैं और जब कम से कम वह 6 महीने के लिए ऐसा राष्ट्रपति कर सकते हैं उसके बाद भी वह उसको आगे 6 मिनट नहीं पढ़ा सकते इसलिए शिवसेना को जरूर सोचने की जरूरत है और वह नहीं सोचेगी तो बीजेपी के पास कोई चारा नहीं रहेगा चला कि पंडित जी ने 5 नवंबर और 6 नवंबर के लिए बीआरसीसी का घोड़ा और जो ग्राउंड है उसको बुक कराने की बात सूत्रों के हवाले से आ रही है और बीजेपी की गवर्नमेंट संकेत दिया लेकिन अगर यह नहीं होता है और फिर से ना आपने जिद पर कायम रहती है तो राष्ट्रपति शासन की तैयारी महाराष्ट्र में हमको रखनी चाहिए ऐसा हमको लग रहा है लेकिन यह पॉलिटिक्स है इसमें सब कुछ कभी भी समय-समय पर बदलाव आते रहते हैं प्रवाही प्रस्तुति है इसको हम स्वीकार करना पड़ेगा और खासकर शिवसेना अपने ही हाथों से अपनी छवि खराब कर रही है आम जनता के बीच में इस बात को सब लोग कर रहे हैं आशा करते हैं कि 5 या 6 नवंबर को बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन सरकार बन जाए और महाराष्ट्र में आगे सरकार अच्छी तरीके से चले और महाराष्ट्र शासन प्रणाली सुदृढ़ हो और इतनी समस्याएं महाराष्ट्र वह यह दोनों मिलकर सॉल्यूशन निकालने और सरकार अच्छे से चलाएं धन्यवाद विश यू ऑल द बेस्ट फॉर बीजेपी एंड फेमा

maharashtra ki siyasat mein aaya test uddhav thakare ne satvarshiki phone par BA at kya hoga maharashtra ki jo siyasat is samay ghar mein I hui hai chunav ke BA ad jo seaton par jor chalta hai public mein jo aam janta ne maharashtra ki jo result diya bjp aur shivsena ke paksh mein shivsena ke hath agra ke karan vaah 5050 ka formula nekar aur jid par I hai aur ncp ke neta sharad power se BA ch kar rahi hai ki sarkar BA nai ja sake lekin congress ke sarkar ke bina sarkar BA nana sambhav nahi hum dono ki aur congress mein apna paksh saaf kar diya hai ki vaah vipaksh mein BA ithegi sharad power ncp ki party unhone apne patte abhi khole nahi hai isliye jo shivsena itna jo bhadkau BA yan BA azi kar rahi hai usse phir BA ad mein yah massage chahta hai ki agar rashtrapati ji ko lagega ki wahan par koi bhi sarkar ka gathan nahi ho paa raha hai aur wahan par ekamat nahi ho rahi hai toh rashtrapati shasan ko order kar sakte hai aur jo vidhan sabha maharashtra ki hai jo result aaya hai usko susupt avastha mein bhi rakh sakte hai aur jab kam se kam vaah 6 mahine ke liye aisa rashtrapati kar sakte hai uske BA ad bhi vaah usko aage 6 minute nahi padha sakte isliye shivsena ko zaroor sochne ki zarurat hai aur vaah nahi sochegi toh bjp ke paas koi chara nahi rahega chala ki pandit ji ne 5 november aur 6 november ke liye BRCC ka ghoda aur jo ground hai usko book karane ki BA at sootron ke hawale se aa rahi hai aur bjp ki government sanket diya lekin agar yah nahi hota hai aur phir se na aapne jid par kayam rehti hai toh rashtrapati shasan ki taiyari maharashtra mein hamko rakhni chahiye aisa hamko lag raha hai lekin yah politics hai isme sab kuch kabhi bhi samay samay par BA dlav aate rehte hai parwahi prastuti hai isko hum sweekar karna padega aur khaskar shivsena apne hi hathon se apni chhavi kharab kar rahi hai aam janta ke beech mein is BA at ko sab log kar rahe hai asha karte hai ki 5 ya 6 november ko bjp aur shivsena ka gathbandhan sarkar BA n jaaye aur maharashtra mein aage sarkar achi tarike se chale aur maharashtra shasan pranali sudridh ho aur itni samasyaen maharashtra vaah yah dono milkar solution nikalne aur sarkar acche se chalaye dhanyavad wish you all the best for bjp and fema

महाराष्ट्र की सियासत में आया टेस्ट उद्धव ठाकरे ने सातवार्षिकी फोन पर बात क्या होगा महाराष्

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1163
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
2:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है कि महाराष्ट्र की राजनीति में आया कृष्ण उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से फोन पर की बात क्या होगा आगे देखिए हम जानते हैं कि महाराष्ट्र में जो चुनाव के नतीजे हैं वह 24 तारीख को आ चुके हैं लेकिन आप बीजेपी शिवसेना के गठबंधन को पूर्ण तौर पर बहुमत मिलने के बावजूद भी वह सरकार नहीं बना रहे हैं क्योंकि शिवसेना यह चाहती है कि 5050 फार्मूले के अनुसार आदित्य ठाकरे को ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री बनाया जाए और देवेंद्र फडणवीस को ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री बनाया जाए जो 5 साल की सरकार इन दोनों की चलेगी उसमें ढाई ढाई साल के मुख्यमंत्री दोनों ही पार्टी की तरफ से होंगे लेकिन देवेंद्र फडणवीस जो मुख्यमंत्री है उन्होंने इस फार्मूले को ठुकरा दिया है उनका कहना है कि मुख्यमंत्री पद के लिए इस प्रकार के किसी भी फार्मूले की बात नहीं हुई थी इसका मतलब उनका चेहरा साफ था कि अब जो मुख्यमंत्री हैं वह वही बनेंगे और आदित्य ठाकरे को जो है उपमुख्यमंत्री पद से अगर चाहे तो वह संतुष्ट कर सकते हैं जिस पर शिवसेना एक प्रकार से संतुष्ट नहीं कर रही है बल्कि वह अपनी जिद पर अड़ी हुई है उनका कहना है कि 3 साल की लाली रे ठाकरे को मुख्यमंत्री एक प्रकार से बनना चाहिए लेकिन इसी बीच में हम देख ले कि शिवसेना जो है सरकार नहीं बना रही है और वह संकेत भी दे रही है कि वह दूसरी पॉलीटिकल पार्टी जो कि एनसीपी कांग्रेस है उनका समर्थन लेकर सरकार बना सकती है तो मैं लूंगा कि यह प्रकार से दबाव की राजनीति है क्योंकि दोनों ही पॉलीटिकल पार्टीज एक ही विचारधारा की एक ही सोच की है और अब उसे नहीं चाहती कि दबाव कि अगर यह राजनीति चली बीजेपी के ऊपर काम की तो फिर उनकी हक में कुछ बड़ी पक्की है वह आ सकते हैं कुछ बड़े मंत्रालय उनके हाथ में आ सकते हैं मैं आपको यह बता दूं कि सरकार तो दोनों की बनी है साथ में बनी शरद पवार से बात की ठाकरे ने लेकिन अब आपको पता होना चाहिए कि श्री पवार यह बात बहुत पहले कह चुके हैं कि वह विपक्ष में बैठना चाहिए वह भी सरकार का हिस्सा नहीं बनना चाहेंगे तो इसका मतलब शिवसेना को यहां पर कोई लाभ नहीं मिलने वाला इस पूरी फोन पर जो बातचीत हुई थी इससे कोई फायदा होने वाला वह बस बीजेपी के ऊपर दबाव बनाना चाहती है ताकि सरकार अगर बनी भी तो देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बने लेकिन कुछ पढ़े जो चित्र है कुछ बड़े जुपक है वह खाता के पास है और इसी चीज को प्रूव करने के लिए भी चीज को दिखाने के लिए आता कि बीजेपी झुके शिवसेना इस प्रकार का काम कर रही है इतना आक्रमक रुख अपनाए हुए हैं यहां तक कि जो बीजेपी की जितनी भी पॉलिसी से उसके ऊपर भी छुट्टी नहीं होती ऐसी पॉलीटिकल पार्टी जो बहुत आक्रामक आक्रामक तेवर आक्रामक रखती है लेकिन अगर सरकार नहीं बनती तब भी यहां पर जो है राष्ट्रपति शासन लगता है और वापस यह आवाज इलेक्शन थे बहुत है लेकिन उसके लिए हमें 6 महीने के अंदर करना पड़ेगा पर मोटे मोटे तौर पर अगर मैं कहूं तो यह ट्रैफिक दबाव की राजनीति है और अंत में सरकार बीजेपी शिवसेना की बनी है धन्यवाद

sawaal hai ki maharashtra ki raajneeti mein aaya krishna uddhav thakare ne sharad power se phone par ki BA at kya hoga aage dekhiye hum jante hai ki maharashtra mein jo chunav ke natije hai vaah 24 tarikh ko aa chuke hai lekin aap bjp shivsena ke gathbandhan ko purn taur par BA humat milne ke BA wajud bhi vaah sarkar nahi BA na rahe hai kyonki shivsena yah chahti hai ki 5050 formulae ke anusaar aditya thakare ko dhai saal ke liye mukhyamantri BA naya jaaye aur devendra fadnavis ko dhai saal ke liye mukhyamantri BA naya jaaye jo 5 saal ki sarkar in dono ki chalegi usme dhai dhai saal ke mukhyamantri dono hi party ki taraf se honge lekin devendra fadnavis jo mukhyamantri hai unhone is formulae ko thukara diya hai unka kehna hai ki mukhyamantri pad ke liye is prakar ke kisi bhi formulae ki BA at nahi hui thi iska matlab unka chehra saaf tha ki ab jo mukhyamantri hai vaah wahi BA nenge aur aditya thakare ko jo hai upamukhyamantri pad se agar chahen toh vaah santusht kar sakte hai jis par shivsena ek prakar se santusht nahi kar rahi hai BA lki vaah apni jid par adi hui hai unka kehna hai ki 3 saal ki laali ray thakare ko mukhyamantri ek prakar se BA nna chahiye lekin isi beech mein hum dekh le ki shivsena jo hai sarkar nahi BA na rahi hai aur vaah sanket bhi de rahi hai ki vaah dusri political party jo ki ncp congress hai unka samarthan lekar sarkar BA na sakti hai toh main lunga ki yah prakar se dabaav ki raajneeti hai kyonki dono hi political parties ek hi vichardhara ki ek hi soch ki hai aur ab use nahi chahti ki dabaav ki agar yah raajneeti chali bjp ke upar kaam ki toh phir unki haq mein kuch BA di pakki hai vaah aa sakte hai kuch BA de mantralay unke hath mein aa sakte hai aapko yah BA ta doon ki sarkar toh dono ki BA ni hai saath mein BA ni sharad power se BA at ki thakare ne lekin ab aapko pata hona chahiye ki shri power yah BA at BA hut pehle keh chuke hai ki vaah vipaksh mein BA ithana chahiye vaah bhi sarkar ka hissa nahi BA nna chahenge toh iska matlab shivsena ko yahan par koi labh nahi milne vala is puri phone par jo BA tchit hui thi isse koi fayda hone vala vaah bus bjp ke upar dabaav BA nana chahti hai taki sarkar agar BA ni bhi toh devendra fadnavis mukhyamantri BA ne lekin kuch padhe jo chitra hai kuch BA de jupak hai vaah khaata ke paas hai aur isi cheez ko prove karne ke liye bhi cheez ko dikhane ke liye aata ki bjp jhuke shivsena is prakar ka kaam kar rahi hai itna aakraman rukh apnaye hue hai yahan tak ki jo bjp ki jitni bhi policy se uske upar bhi chhutti nahi hoti aisi political party jo BA hut aakraman aakraman tewar aakraman rakhti hai lekin agar sarkar nahi BA nti tab bhi yahan par jo hai rashtrapati shasan lagta hai aur wapas yah awaaz election the BA hut hai lekin uske liye hamein 6 mahine ke andar karna padega par mote mote taur par agar main kahun toh yah traffic dabaav ki raajneeti hai aur ant mein sarkar bjp shivsena ki BA ni hai dhanyavad

सवाल है कि महाराष्ट्र की राजनीति में आया कृष्ण उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से फोन पर की बात क्

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  786
WhatsApp_icon
user

Ashok Tripathi

Intelligence Officer

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हार्डकोर हिंदू जैसी पार्टी शिवसेना को एनसीपी या कांग्रेश द्वारा परोक्ष या अपरोक्ष रूप से समर्थन देना आत्मघाती कदम होगा

hardakor hindu jaisi party shivsena ko ncp ya congress dwara paroksh ya aparoksh roop se samarthan dena aatmghaati kadam hoga

हार्डकोर हिंदू जैसी पार्टी शिवसेना को एनसीपी या कांग्रेश द्वारा परोक्ष या अपरोक्ष रूप से स

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!