यूपी: दलित महिलाओं को मंदिर में घुसने से रोकने का VIDEO हुआ वायरल - हमारे देश में जाति को लेकर ऐसा भेदभाव कब ख़त्म होगा?...


user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

4:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हो सकता है मेरी उत्तर से अधिकतर लोग सहमत ना हो बल्कि कुछ लोग नाखुश और नाराज हो सकते हैं पर जीवन पर किए गए अपने अनुसंधान और प्राचीन भारतीय जीवन में जो आनंद और सुख का स्तर था उसका क्या कारण था और आज तनाव का स्तर क्यों बढ़ गया है इस का तुलनात्मक अध्ययन करने पर मैंने पाया कि जीवन में ऊंच-नीच का भाव भगवान से आता है भगवान और भक्त भगवान ऊंचा है और भक्त नीचा है इसको अधिकांश भक्त पसंद नहीं करेंगे क्योंकि उनको भगवान को ऊंचा देखने में ही आनंद आता है वो आनंद लेते हैं भगवान ऊंचा है इसमें कोई शक ही नहीं है और भगवान हमेशा ही ऊंचा रहेंगे इसमें भी कोई शक नहीं है लेकिन भगवान और भक्त में इस हिसाब से कोई फर्क नहीं है कि भगवान तो अपनी भक्ति से भगवान बन गए हैं आप भक्तों को भक्ति करके भगवान बनना है यह कहना कि एक व्यक्ति कभी भगवान नहीं बन सकता या हम से भगवान के अंश हैं हम पूर्ण भगवान कभी नहीं बन सकते यह मिले इससे हंड्रेड परसेंट सहमत नहीं हूं ऊंच-नीच का भाव इस संसार में भगवान और भक्त के भाव से ही पैदा हुआ है और इसीलिए पुराने समय में राक्षस भी पाए जाते थे जो भगवान को भगवान नहीं मानते थे और उनकी प्रवृत्तियां गलत होती थी तो भगवान और राक्षस में युद्ध होता था नो डाउट भगवान राक्षसों की प्रवृत्ति अच्छी नहीं होती थी तो अंत में भगवान की ही जीत होती थी परंतु क्योंकि उनमें गलत भाव आ जाने से भगवान का सामना करते थे आज की तारीख में तो लोग बिल्कुल आलसी हो चुके हैं भगवान बनने की तो बात दूर आदमी एक इंसान भी नहीं है और इस स्थिति में वह भगवान के सेंडर करने में ही उसको पूरी तरह से मतलब जो कुछ भी गलत गलत बात आ जाए उसमें ही सरेंडर करने में उसको मजा आता है तो ऊंच-नीच का भाव भगवान से आया हुआ है जब तक हम अपने समाज को यह नहीं बताएंगे कि भगवान और इंसान में एक ही फर्क है कि भगवान जब जब जब जब इंसान सारे नियम धर्मों का कड़ाई से पालन करता है और ऐसा पालनपुर जन्म जन्मांतर तक करता रहता है तो एक एक समय ऐसा आता है जब कि वह पूर्ण सिद्धि को प्राप्त होता हो जाता है और वह स्वयं भगवान बन जाता है अर्थात मोक्ष का मुख्य मार्ग मुक्त को प्राप्त हो जाता है अर्थात जितना भगवान को आनंद मिलता है उतना ही उस व्यक्ति को आनंद मिलता है जो कि मोक्ष को प्राप्त हो चुका है जहां तक सवाल है कि ब्रह्मा विष्णु महेश कोई स्पेसिफिक भगवान है ऐसा नहीं है ब्रह्मा विष्णु महेश एक व्यक्ति में बैठी हुई तीन शक्तियां हैं जो व्यक्ति भगवान बन जाता है तो उनकी शक्तियों का अनुभव करता है तो वह अपने आप को ब्रह्मा विष्णु महेश से अलग ही नहीं मानता है तो हमें अपने समाज को शिक्षा देने हैं कि भगवान और भक्त ने सिर्फ कर्म का फल है कर्म फल का अंतर है अगर व्यक्ति बहुत शुभ कर्म करता जाए और शुभ कर्म कई जन्मो तक करता जाए तो वह भगवता को प्राप्त हो सकता है जब तक हम इस विसंगति को दूर नहीं करेंगे ऊंच-नीच का भाव बना रहेगा अब आज की ऊंची का भाव देखा जाए तो यह पूछने का भाव व्यक्ति दूसरे को नीचा दिखा कर अपने आप को ऊंचा सिद्ध करना चाहता है इसका मुख्य कारण अशिक्षा है जिसको जिसे जीवन मिल गया वह वैसा ही बन गया एक निजी जाति में पैदा हुए बच्चे को यदि एक बड़ी जाति में बचपन नहीं पहुंचा दिया जाए एक बड़ी ऊंची जाति में पैदा हुए बच्चों को दिल नीची जाति में पहुंचा दिया जाए तो वह वैसा ही बन जाएगा इसमें जन का कोई संबंध नहीं है इसका संबंध जीवन चर्या से है यह हमें समझना होगा वह जितने भी समझ लेंगे तो उसका भाव निकल जाएगा

ho sakta hai meri uttar se adhiktar log sahmat na ho balki kuch log nakhush aur naaraj ho sakte hain par jeevan par kiye gaye apne anusandhan aur prachin bharatiya jeevan mein jo anand aur sukh ka sthar tha uska kya karan tha aur aaj tanaav ka sthar kyon badh gaya hai is ka tulnaatmak adhyayan karne par maine paya ki jeevan mein unch neech ka bhav bhagwan se aata hai bhagwan aur bhakt bhagwan uncha hai aur bhakt nicha hai isko adhikaansh bhakt pasand nahi karenge kyonki unko bhagwan ko uncha dekhne mein hi anand aata hai vo anand lete hain bhagwan uncha hai isme koi shak hi nahi hai aur bhagwan hamesha hi uncha rahenge isme bhi koi shak nahi hai lekin bhagwan aur bhakt mein is hisab se koi fark nahi hai ki bhagwan toh apni bhakti se bhagwan ban gaye hain aap bhakton ko bhakti karke bhagwan bana hai yah kehna ki ek vyakti kabhi bhagwan nahi ban sakta ya hum se bhagwan ke ansh hain hum purn bhagwan kabhi nahi ban sakte yah mile isse hundred percent sahmat nahi hoon unch neech ka bhav is sansar mein bhagwan aur bhakt ke bhav se hi paida hua hai aur isliye purane samay mein rakshas bhi paye jaate the jo bhagwan ko bhagwan nahi maante the aur unki pravrittiyan galat hoti thi toh bhagwan aur rakshas mein yudh hota tha no doubt bhagwan rakshason ki pravritti achi nahi hoti thi toh ant mein bhagwan ki hi jeet hoti thi parantu kyonki unmen galat bhav aa jaane se bhagwan ka samana karte the aaj ki tarikh mein toh log bilkul aalsi ho chuke hain bhagwan banne ki toh baat dur aadmi ek insaan bhi nahi hai aur is sthiti mein vaah bhagwan ke sender karne mein hi usko puri tarah se matlab jo kuch bhi galat galat baat aa jaaye usme hi surrender karne mein usko maza aata hai toh unch neech ka bhav bhagwan se aaya hua hai jab tak hum apne samaj ko yah nahi batayenge ki bhagwan aur insaan mein ek hi fark hai ki bhagwan jab jab jab jab insaan saare niyam dharmon ka kadai se palan karta hai aur aisa palanpur janam janmantar tak karta rehta hai toh ek ek samay aisa aata hai jab ki vaah purn siddhi ko prapt hota ho jata hai aur vaah swayam bhagwan ban jata hai arthat moksha ka mukhya marg mukt ko prapt ho jata hai arthat jitna bhagwan ko anand milta hai utana hi us vyakti ko anand milta hai jo ki moksha ko prapt ho chuka hai jaha tak sawaal hai ki brahma vishnu mahesh koi specific bhagwan hai aisa nahi hai brahma vishnu mahesh ek vyakti mein baithi hui teen shaktiyan hain jo vyakti bhagwan ban jata hai toh unki shaktiyon ka anubhav karta hai toh vaah apne aap ko brahma vishnu mahesh se alag hi nahi manata hai toh hamein apne samaj ko shiksha dene hain ki bhagwan aur bhakt ne sirf karm ka fal hai karm fal ka antar hai agar vyakti bahut shubha karm karta jaaye aur shubha karm kai janmo tak karta jaaye toh vaah bhagvata ko prapt ho sakta hai jab tak hum is visangati ko dur nahi karenge unch neech ka bhav bana rahega ab aaj ki uchi ka bhav dekha jaaye toh yah poochne ka bhav vyakti dusre ko nicha dikha kar apne aap ko uncha siddh karna chahta hai iska mukhya karan asiksha hai jisko jise jeevan mil gaya vaah waisa hi ban gaya ek niji jati mein paida hue bacche ko yadi ek badi jati mein bachpan nahi pohcha diya jaaye ek badi uchi jati mein paida hue baccho ko dil nichi jati mein pohcha diya jaaye toh vaah waisa hi ban jaega isme jan ka koi sambandh nahi hai iska sambandh jeevan charya se hai yah hamein samajhna hoga vaah jitne bhi samajh lenge toh uska bhav nikal jaega

हो सकता है मेरी उत्तर से अधिकतर लोग सहमत ना हो बल्कि कुछ लोग नाखुश और नाराज हो सकते हैं पर

Romanized Version
Likes  111  Dislikes    views  1382
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!