WhatsApp जासूसी मामले में सरकार ने खुद के शामिल होने से किया इनकार:क्या यह सही है?...


user

Dr. Ashwani Kumar Singh

Chairman & Director at VEMS

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने कुछ के सामने सही बिल्कुल सही है और अगर आपके पास सरकार की शादी होने के सबूत शाम को बताना चाहिए कि सरकार व्हाट्सएप कंपनी है जिसका इस देश से बाहर में है और वह वह उसे थ्रू कुछ गड़बड़ी हो गई है यही राई के कुछ लोगों ने कुछ लोगों के बारे में कोई बात की है ऐसा ऐसा बोला जा रहा है तो जा ही रही है लेकिन अगर आपको कांग्रेश उनके पास था विचारधारा जब एक तथाकथित उनकी सारी पार्टी दो लोगों ने हैक करके रखी है गुजरात के शांतिदूत हैं कश्मीर इटालियन इटालियन इटालियन भी इनके इनके इनके बस का कुछ नहीं बोले तो कंट्रोल कोई ऑन करना

whatsapp jasoosi mamle mein sarkar ne kuch ke saamne sahi bilkul sahi hai aur agar aapke paas sarkar ki shadi hone ke sabut shaam ko bataana chahiye ki sarkar whatsapp company hai jiska is desh se bahar mein hai aur vaah vaah use through kuch gadbadi ho gayi hai yahi rai ke kuch logon ne kuch logon ke bare mein koi baat ki hai aisa aisa bola ja raha hai toh ja hi rahi hai lekin agar aapko congress unke paas tha vichardhara jab ek tathakathit unki saree party do logon ne hack karke rakhi hai gujarat ke shantidut hain kashmir italian italian italian bhi inke inke inke bus ka kuch nahi bole toh control koi on karna

व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने कुछ के सामने सही बिल्कुल सही है और अगर आपके पास सरकार

Romanized Version
Likes  188  Dislikes    views  2631
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

2:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

न्यूज़ है कि व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने खुद के शामिल होने से किया इंकार क्या यह सही है आप अगर देखोगे तो जो डॉनल्ड ट्रंप अमेरिका के प्रेसिडेंट बने तो उन्होंने भी इसी तरह के कुछ हिलेरी क्लिंटन पर इंसान राशि की कैप उन्होंने कुछ ईमेल भेजें और इसमें फेसबुक भी लपेट में आया के फेसबुक को फेसबुक में कहीं कई जगह पैसा लेकर डाटा कितना बचा है और बहुत से लोगों ने इस नतीजे में अपने अकाउंट से बनती है यह ज्यादातर यूरोप में हुआ तो व्हाट्सएप में के जरिए अगर सरकार जासूसी करती है तो इसमें कोई अच्छा अंबे की या हैरत की बात नहीं हो और इससे इंकार करती है तभी को हैरत की बात नहीं है क्योंकि कोई भी गारमेंट एजेंसी यह बात कभी भी नहीं मानेगी कि उन्होंने ऐसा किया लेकिन रियालिटी में ऐसा होता है हर लेवल में होता है हर जगह होता है आप अगर रीसेंट उदाहरण देखें तो कछु की मर्डर जो सऊदी अरब ने टर्की के एंबेसी में एक जनरल इसको मरवा दिया आप सोचो कि ऐसा क्या उनको धड़का था एक मामूली चैनल से चोरों ने उसे किसी और कंट्री की एंबेसी में मरवा दिया उसी तरह फेसबुक में जब अपना डाटा कमेंट किया बेचा तो उनको ऊपर से प्रसन्न होगा यूएसए और वह लाभ भले इसके बारे में ना कहें लेकिन पॉलिटिक्स और बड़े बड़े कॉर्पोरेट और इससे जुड़ी चीजें सब एकजुट मिलकर काम करते हैं और अगर हमारी गम में भी कहीं ना कहीं व्हाट्सएप को यूज़ किया है जासूसी के लिए तो मेरा तो मानना है कि ऐसा किया गया होगा और बहुत मुमकिन है कि इसे डिटेल्स दीदी गई होगी और जिस तरह डॉनल्ड ट्रंप ने भी ट्विटर के एनालिसिस पर अपने बयान बदले क्योंकि उन्हें ट्विटर के डाटा से पता चला कि वह कौन सी चीज कब क्या कहनी चाहिए तो यह सारा कुछ टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल बड़े-बड़े आईटी जॉइंट को मिला के रखना और इनसे अपने चीजों के लिए डाटा का इस्तेमाल करना कोई नई बात नहीं है मेरी राय में तो यह है कि पूरी तरह हुआ है और इससे इनकार सिर्फ स्टेशन का फॉर्मल रिप्लाई है क्योंकि यकीनन कोई इसको एक्सेप्ट नहीं करेगा

news hai ki whatsapp jasoosi mamle mein sarkar ne khud ke shaamil hone se kiya inkar kya yah sahi hai aap agar dekhoge toh jo danald trump america ke president bane toh unhone bhi isi tarah ke kuch hillary clinton par insaan rashi ki cap unhone kuch email bheje aur isme facebook bhi lapet mein aaya ke facebook ko facebook mein kahin kai jagah paisa lekar data kitna bacha hai aur bahut se logon ne is nateeje mein apne account se banti hai yah jyadatar europe mein hua toh whatsapp mein ke jariye agar sarkar jasoosi karti hai toh isme koi accha ambe ki ya hairat ki baat nahi ho aur isse inkar karti hai tabhi ko hairat ki baat nahi hai kyonki koi bhi garment agency yah baat kabhi bhi nahi manegi ki unhone aisa kiya lekin reality mein aisa hota hai har level mein hota hai har jagah hota hai aap agar recent udaharan dekhen toh kachu ki murder jo saudi arab ne turkey ke embassy mein ek general isko marava diya aap socho ki aisa kya unko dhadaka tha ek mamuli channel se choron ne use kisi aur country ki embassy mein marava diya usi tarah facebook mein jab apna data comment kiya becha toh unko upar se prasann hoga usa aur vaah labh bhale iske bare mein na kahein lekin politics aur bade bade corporate aur isse judi cheezen sab ekjut milkar kaam karte hain aur agar hamari gum mein bhi kahin na kahin whatsapp ko use kiya hai jasoosi ke liye toh mera toh manana hai ki aisa kiya gaya hoga aur bahut mumkin hai ki ise details didi gayi hogi aur jis tarah danald trump ne bhi twitter ke analysis par apne bayan badle kyonki unhe twitter ke data se pata chala ki vaah kaun si cheez kab kya kahani chahiye toh yah saara kuch technology ka istemal bade bade it joint ko mila ke rakhna aur inse apne chijon ke liye data ka istemal karna koi nayi baat nahi hai meri rai mein toh yah hai ki puri tarah hua hai aur isse inkar sirf station ka formal reply hai kyonki yakinan koi isko except nahi karega

न्यूज़ है कि व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने खुद के शामिल होने से किया इंकार क्या यह स

Romanized Version
Likes  269  Dislikes    views  3654
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेके जैसे की चर्चा का विषय है व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने खुद को शामिल होने से किया इंकार क्या यह सही है तो आपको बताना चाहेंगे कि गवर्नमेंट का इंवॉल्वमेंट होना होल गवर्नमेंट एजेंसीज का इंवॉल्वमेंट कहीं ना कहीं रहता है सारी चीजें कहीं ना कहीं नॉलेज में होती हैं ऐसा नहीं है कि गवर्नमेंट ऑफिशल से गवर्नमेंट को यह चीज पता ना हो डायरेक्टली अगर बताना हो तो इंडस्ट्री पता होती हैं सारी चीजें होती रही है पहले भी होती रही है आगे भी होती रहेंगी ऐसा नहीं है और कुछ मामलों में आंतरिक सुरक्षा की दृष्टि से देखा जाए तो कुछ हद तक चीजें करीबी जाती हैं टेस्टी भी करी जाती हैं तो उसमें अगर देश की सुरक्षा से जुड़ी बातें हैं तो उसमें इस तरह की चीजें घर हो रही है जासूसी हो रही है कुछ भी हो रहा है तो उसमें कोई बहुत ज्यादा बुरा मानने की बात भी नहीं है क्योंकि देश आपका हमारा हम सबका है धन्यवाद

leke jaise ki charcha ka vishay hai whatsapp jasoosi mamle mein sarkar ne khud ko shaamil hone se kiya inkar kya yah sahi hai toh aapko bataana chahenge ki government ka invalwament hona hole government agencies ka invalwament kahin na kahin rehta hai saree cheezen kahin na kahin knowledge mein hoti hain aisa nahi hai ki government official se government ko yah cheez pata na ho directly agar bataana ho toh industry pata hoti hain saree cheezen hoti rahi hai pehle bhi hoti rahi hai aage bhi hoti rahengi aisa nahi hai aur kuch mamlon mein aantarik suraksha ki drishti se dekha jaaye toh kuch had tak cheezen karibi jaati hain tasty bhi kari jaati hain toh usmein agar desh ki suraksha se judi batein hain toh usmein is tarah ki cheezen ghar ho rahi hai jasoosi ho rahi hai kuch bhi ho raha hai toh usmein koi bahut zyada bura manane ki baat bhi nahi hai kyonki desh aapka hamara hum sabka hai dhanyavad

लेके जैसे की चर्चा का विषय है व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने खुद को शामिल होने से किय

Romanized Version
Likes  428  Dislikes    views  5138
WhatsApp_icon
user

Dr Monalisa Ghosh

Psychologist, Counselling, Psychologist, Healer

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज हमारी सबसे बड़ी समस्या यहीं हो गई है किसी भी ख़बर के आते ही मुद्रण जजमेंटल हो जाते हैं तुरंत से अपने विचार व्यक्त कर देते हैं बिना यह जाने कि सच्चाई क्या है अच्छा अगर सरकार ने कुछ जासूसी करवाई थी है तो हो सकता है सरकार के पास इस तरह के कुछ नियम हो कुछ उनके पास ऐसे पॉलिसीज हो जिसका इस्तेमाल हो किसी खास काम के लिए कर सकते हैं अगर वह सरकार को ऐसे क्या पड़ी है कि वह आम लोगों की जिंदगी में झांकने जाएगी क्या आपको लगता है कि सरकार के पास इतना समय है इतने सारे काम के बीच में लोग जासूसी करवाएंगे किसी की जासूसी करवाने के पीछे खास मकसद होता है कुछ खास वजह होती है जिसकी वजह से कराई जाती है तो अभी तो यह मामला सामने आया ही है तो क्यों नहीं हम थोड़ा सोच विचार करें कि आखिर मसला क्या है किसी के कह देने से कि कवि ने आपके कान को ले लिया और उड़ गया है हम बजाते हुए के पीछे भागने की कोई यह तो देखने कि हमारा काम हमारे सिर में जुड़ा हुआ है या नहीं है सरकार खुद इस मामले में बहुत गंभीर है उन्होंने अपना स्टेटमेंट दिया है और इस पर जो भी सच्चाई होगी वह सामने आ जाएगी पर एक दो-तीन दिन का समय लग सकता है लेकिन किसी भी ख़बर के आते ही आजकल हम लोग इतने ज्यादा उतावले हो जाते हैं अंडरशर्ट कुछ भी बोल देते हैं कि बिना किसी मतलब के जिसका बाद में परिणाम कुछ और ही निकलता है इसे थोड़ा गंभीरता से किसी बातों को सोच है उसके पीछे के कारणों पर चाय और एक-दो दिन का इंतजार करने सरकार जरूर कुछ ना कुछ इसमें कारवाई तो कर ही नहीं है और इस पर कुछ न कुछ नतीजा सामने आएगा

aaj hamari sabse badi samasya yahin ho gayi hai kisi bhi khabar ke aate hi mudran judgmental ho jaate hain turant se apne vichar vyakt kar dete hain bina yah jaane ki sacchai kya hai accha agar sarkar ne kuch jasoosi karwai thi hai toh ho sakta hai sarkar ke paas is tarah ke kuch niyam ho kuch unke paas aise policies ho jiska istemal ho kisi khas kaam ke liye kar sakte hain agar vaah sarkar ko aise kya padi hai ki vaah aam logon ki zindagi mein jhankane jayegi kya aapko lagta hai ki sarkar ke paas itna samay hai itne saare kaam ke beech mein log jasoosi karavaenge kisi ki jasoosi karwane ke peeche khas maksad hota hai kuch khas wajah hoti hai jiski wajah se karai jaati hai toh abhi toh yah maamla saamne aaya hi hai toh kyon nahi hum thoda soch vichar karen ki aakhir masala kya hai kisi ke keh dene se ki kavi ne aapke kaan ko le liya aur ud gaya hai hum bajaate hue ke peeche bhagne ki koi yah toh dekhne ki hamara kaam hamare sir mein juda hua hai ya nahi hai sarkar khud is mamle mein bahut gambhir hai unhone apna statement diya hai aur is par jo bhi sacchai hogi vaah saamne aa jayegi par ek do teen din ka samay lag sakta hai lekin kisi bhi khabar ke aate hi aajkal hum log itne zyada utavale ho jaate hain andarashart kuch bhi bol dete hain ki bina kisi matlab ke jiska baad mein parinam kuch aur hi nikalta hai ise thoda gambhirta se kisi baaton ko soch hai uske peeche ke karanon par chai aur ek do din ka intejar karne sarkar zaroor kuch na kuch isme karwai toh kar hi nahi hai aur is par kuch na kuch natija saamne aayega

आज हमारी सबसे बड़ी समस्या यहीं हो गई है किसी भी ख़बर के आते ही मुद्रण जजमेंटल हो जाते हैं

Romanized Version
Likes  106  Dislikes    views  1339
WhatsApp_icon
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:10

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने खुद के शामिल होने से किया इनकार क्या यह सही लिखिए जासूसी मामले में सरकार में खुद को शामिल होने से तो इनकार किया है क्योंकि वह शामिल नहीं हो सकती है क्योंकि यह जो सरकार है व्हाट्सएप के जरिए अपना प्रचार जरूर कर सकती है लेकिन वह जासूसी करवाने में उसको काफी कठिन लगता है इस बात से हम बिल्कुल सहमत नहीं होते हैं कि व्हाट्सएप के जरिए किसी की जासूसी कराई जा सकती हां उनको जो पब्लिक डोमेन में जो चीजें हैं उसको पब्लिक तक पहुंचा सकती है पब्लिक की जो स्टेटस है उसके बारे में उसको इंफॉर्मेशन जरूर मिल सकती है लेकिन उसको जासूसी का रूप नहीं करेंगे हम उस चीज को नहीं मान सकते कि व्हाट्सएप के जरिए किसी की जासूसी करवाई जा सकती धन्यवाद

whatsapp jasoosi mamle mein sarkar ne khud ke shaamil hone se kiya inkar kya yah sahi likhiye jasoosi mamle mein sarkar mein khud ko shaamil hone se toh inkar kiya hai kyonki vaah shaamil nahi ho sakti hai kyonki yah jo sarkar hai whatsapp ke jariye apna prachar zaroor kar sakti hai lekin vaah jasoosi karwane mein usko kafi kathin lagta hai is baat se hum bilkul sahmat nahi hote hain ki whatsapp ke jariye kisi ki jasoosi karai ja sakti haan unko jo public domain mein jo cheezen hain usko public tak pahuncha sakti hai public ki jo status hai uske bare mein usko information zaroor mil sakti hai lekin usko jasoosi ka roop nahi karenge hum us cheez ko nahi maan sakte ki whatsapp ke jariye kisi ki jasoosi karwai ja sakti dhanyavad

व्हाट्सएप जासूसी मामले में सरकार ने खुद के शामिल होने से किया इनकार क्या यह सही लिखिए जासू

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1163
WhatsApp_icon
user

Ajay Pratap Singh

Agriculturist

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नया-नया प्रोपेगंडा उठाने का तो काम है यही फोटो शुक्र है कि ईवीएम इंटरनेट से नहीं बुलाया नहीं तो कर देते ही दिन तक गड़बड़ा सप्ताह तक फोन टाइप हो रहा है चर्चा में रहने के लिए तो कोई अलग लगेगा ही

naya naya propaganda uthane ka toh kaam hai yahi photo shukra hai ki evm internet se nahi bulaya nahi toh kar dete hi din tak gadbada saptah tak phone type ho raha hai charcha mein rehne ke liye toh koi alag lagega hi

नया-नया प्रोपेगंडा उठाने का तो काम है यही फोटो शुक्र है कि ईवीएम इंटरनेट से नहीं बुलाया नह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!