आपने आध्यात्मिक रूप से कैसे जागृत हुए? आध्यात्मिक ब्लॉगर बनने से पहले आपका जीवन कैसा था?...


user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

3:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक डॉक्टर होने के कारण जब मेरा सामने ऐसी ऐसी बीमारियों से हुआ जिनसे मरीज को बचा पाना मुश्किल था और चमेली सामने ही मेरी मरीजों की मृत्यु हो गई जिसमें कुछ यंग मरीज भी थे तो मैं बहुत ज्यादा परेशान हो गया और उस परेशानी के लिए मैं अपने डॉ अपने सीनियर डॉक्टर साक्षात टीचर से ही मिला वह मेरी कोई सहायता नहीं कर पाए इस भारी दिल से मैंने अपनी मेडिकल की प्रैक्टिस शुरू करें और बहुत ईमानदारी से शुरू करें जिससे कि उस मेडिकल प्रैक्टिस के प्रैक्टिस के दौरान ही मेरे साथ कुछ ऐसी घटनाएं घट गई जिससे मुझे पर आर्थिक शक्तियों का एहसास हुआ क्योंकि बचपन में ही में युवक की शक्ति का अनुभव कर चुका था तो फिर मैं बिहार स्कूल ऑफ योगा मुंगेर गया और वहां की जीवन चर्या से इतना प्रभावित हो गया और मैं यह भी समझ गया कि योग एक चिकित्सा का बहुत अच्छा साधन है तो फिर 9595 में योग में शिफ्ट हो गया इस तरह से मैं साडे 4 साल तक लगातार योग सेंटर में रहा परंतु फिर भी मेरे मन को शांति नहीं मिली क्योंकि मुझे धर्म का वैज्ञानिक रूप समझ में नहीं आया लेकिन मैं अपने प्रयास में लगातार लगा रहा और पूरी इमानदारी से लगा रहा वह मैंने संकल्प ले लिया कि मैं इसको समझ कर ही दम लूंगा मैं बचपन से ही भगवान का बहुत बड़ा भक्त रहा हूं परंतु भगवान से लाखों बार मेहनत करने के बाद उसे प्रार्थना करने के बाद भी जब मुझे मृत्यु जान का कोई कारण समझ में नहीं आया तो फिर मैं खोज में लग गया और विभिन्न मैंने धार्मिक पुस्तकों पुस्तकों का अपने गुरुओं की सहायता से समझा और अध्ययन किया इसी दौरान मेरे सामने एक पुस्तक मेरे गुरु जयंत बढ़ने की कर्म सिद्धांत हाई और जैसे ही मैंने उस पुस्तक को पढ़ा और लगातार उस पुस्तक का में अध्ययन करता रहा और अचानक एक दिन उस पुस्तक का भाव मुझे समझ में आ गया यह बातें सन 2000 की और उस दिन से मेरी जीवनी सच्ची आध्यात्मिकता का जन्म हुआ मैं जीवन में अपने स्वयं का और भगवान के महत्व को समझ पाया यह पाया कि जो कुछ करना है हमें ही करना है भगवान हमें सिर्फ मार्गदर्शन करता है वह भी कोई भगवान आकर मार्गदर्शन नहीं करता है गीता रामायण और आगम के रूप में उसने मार्गदर्शन दिया हुआ है उसे हमें पढ़ना है समझना है और उसके अनुसार आगे बढ़ना है कोई भी भगवान मेरे अनुसार जो मेरा अनुभव है कोई भगवान आपको स्वयं आकर कोई मार्गदर्शन नहीं करता है आपको अपने मार्ग के लिए खुद ही बहुत प्रयास करने पड़ते हैं अच्छे-अच्छे गुरु संतों शिक्षकों से अच्छे अच्छे लोगों से मिलना होता है फिर हम हमें जीवन समझ में आता है वह मैं सौभाग्यशाली हूं कि मेरी जीवन में बहुत अच्छे अच्छे लोग आए इसे में अध्यापकों को समझ पाया और उसका अप पूरा लाभ मुझे मिल रहा है और मैं बहुत शांत और आनंदित हूं

ek doctor hone ke karan jab mera saamne aisi aisi bimariyon se hua jinse marij ko bacha paana mushkil tha aur chameli saamne hi meri marizon ki mrityu ho gayi jisme kuch young marij bhi the toh main bahut zyada pareshan ho gaya aur us pareshani ke liye main apne Dr. apne senior doctor sakshat teacher se hi mila vaah meri koi sahayta nahi kar paye is bhari dil se maine apni medical ki practice shuru kare aur bahut imaandaari se shuru kare jisse ki us medical practice ke practice ke dauran hi mere saath kuch aisi ghatnaye ghat gayi jisse mujhe par aarthik shaktiyon ka ehsaas hua kyonki bachpan mein hi mein yuvak ki shakti ka anubhav kar chuka tha toh phir main bihar school of yoga munger gaya aur wahan ki jeevan charya se itna prabhavit ho gaya aur main yah bhi samajh gaya ki yog ek chikitsa ka bahut accha sadhan hai toh phir 9595 mein yog mein shift ho gaya is tarah se main saade 4 saal tak lagatar yog center mein raha parantu phir bhi mere man ko shanti nahi mili kyonki mujhe dharm ka vaigyanik roop samajh mein nahi aaya lekin main apne prayas mein lagatar laga raha aur puri imaandari se laga raha vaah maine sankalp le liya ki main isko samajh kar hi dum lunga main bachpan se hi bhagwan ka bahut bada bhakt raha hoon parantu bhagwan se laakhon baar mehnat karne ke baad use prarthna karne ke baad bhi jab mujhe mrityu jaan ka koi karan samajh mein nahi aaya toh phir main khoj mein lag gaya aur vibhinn maine dharmik pustakon pustakon ka apne guruon ki sahayta se samjha aur adhyayan kiya isi dauran mere saamne ek pustak mere guru jayant badhne ki karm siddhant high aur jaise hi maine us pustak ko padha aur lagatar us pustak ka mein adhyayan karta raha aur achanak ek din us pustak ka bhav mujhe samajh mein aa gaya yah batein san 2000 ki aur us din se meri jeevni sachi aadhyatmikta ka janam hua main jeevan mein apne swayam ka aur bhagwan ke mahatva ko samajh paya yah paya ki jo kuch karna hai hamein hi karna hai bhagwan hamein sirf margdarshan karta hai vaah bhi koi bhagwan aakar margdarshan nahi karta hai geeta ramayana aur aagam ke roop mein usne margdarshan diya hua hai use hamein padhna hai samajhna hai aur uske anusaar aage badhana hai koi bhi bhagwan mere anusaar jo mera anubhav hai koi bhagwan aapko swayam aakar koi margdarshan nahi karta hai aapko apne marg ke liye khud hi bahut prayas karne padte hain acche acche guru santo shikshakon se acche acche logo se milna hota hai phir hum hamein jeevan samajh mein aata hai vaah main saubhagyashali hoon ki meri jeevan mein bahut acche acche log aaye ise mein adhyapakon ko samajh paya aur uska up pura labh mujhe mil raha hai aur main bahut shaant aur anandit hoon

एक डॉक्टर होने के कारण जब मेरा सामने ऐसी ऐसी बीमारियों से हुआ जिनसे मरीज को बचा पाना मुश्क

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1469
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!