एक प्रकाशित लेखक के रूप में, आप प्रसिद्धि के साथ कैसे समायोजित हुए हैं?...


user

Dr. Mahesh Mohan Jha

Asst. Professor,Astrologer,Author

6:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है एक प्रकाशित लेखक के रूप में आप पर सिद्धि के साथ कैसे समायोजित हुए आपको बता दूं हमारा जो भी लेखन है या मैं जो भी पुस्तक लिखा हूं वह प्रसिद्धि के उद्देश्य नहीं लिखा मैं जब तंत्र मंत्र यंत्र ज्योतिष आदि पर बहुत सारी पुस्तक बाजार में देखा और बहुत सारे ऐसे ज्योतिष तंत्र मंत्र में रूचि रखने वाले व्यक्ति बाजार से उस पुस्तक को खरीदकर और साधना ही करने लगे कई साधक मेरे पास ऐसे भी आए जैसे वह पुस्तक बाजार से खरीदकर कुंडलिनी जागरण का प्रयोग किया कुछ ऐसे साधक थे जो योगिनी साधना किया कुछ ऐसे साधक तेजू यक्षिणी साधना किया कुछ ऐसे भी साधक थे जो मां बगलामुखी का साधना किया कुछ ऐसे भी साधक भूत प्रेत का साथ में किया किंतु जो भी बाजार में उपलब्ध किताबों को खरीदकर पुस्तकों को खरीदकर और साधना प्रारंभ किया उसमें से 99% ऐसे साधक थे 19th 7% ऐसे साधक मिले उनको सफलता के बदले और असफलता ही हाथ लगी और साथ ही कुछ साधक ऐसे भी उस में से थे जो विक्षिप्त अवस्था में पहुंच चुके थे एक ऐसे साधक थे जिसका उम्र मात्र 18 वर्ष था वह एक विद्यार्थी था इंटर का विद्यार्थी था और वह बाजार में उपलब्ध चमत्कारी पुस्तक खरीद कर साधना प्रारंभ किया और आज अपने पिता का एक पुत्र और वह भी मात्र 18 वर्ष स्थापित हो चुका अब समझ ही उस परिवार पर क्या गुजरता हूं आज जब मैं उसको देखता हूं तो मुझे बहुत तकलीफ होता है जो आखिर तंत्र मंत्र के लोग डरती क्यों है इसके पीछे कारण क्या है कुछ लोग तंत्र-मंत्र के नाम पर पैसा कमाते हैं किताब जो लिखते हैं उनका उद्देश्य यही होता है जो वह किताब से उस किताब से साधक को लाभ हो या नहीं लेकिन वह पुस्तक जितना बिकेगा उतना हमें तो लाभ होगा इसलिए बहुत सोचते सोचते मैं यह पुस्तक लिखा अंतर्मन धनपाल और खास करके मुझे यह सौभाग्य मेरे दादाजी भी तंत्र मंत्र के एक साधक के मेरे पिताजी भी तंत्र मंत्र की हार्दिक थे इस कारण से ग्रस्त परंपरागत 1 गुण मुझमें भी आया और हमको गुरुदेव के अलावा अपने परिवार में भी समय-समय पर सहयोग तंत्र-मंत्र के लिए मिलता रहा और उसी सबको संयोग का मैं तंत्र-मंत्र पर एक पुस्तक लिखा जिसका उद्देश्य मेरा सिर्फ यही था उस पुस्तक से साधक को किसी प्रकार की हानि नहीं हो वह निरंतर अपने साधना पथ पर आगे बढ़े मेरा उद्देश्य प्रसिद्धि नहीं था प्रसिद्धि तो इस स्थूल शरीर को चाहिए और यह थोड़ी सही है जो है तो नाच बान है जब आप आध्यात्मिक विकास करने लगेंगे आपको प्रसिद्धि नहीं चाहिए आपको मन नहीं चाहिए आपको सम्मान नहीं चाहिए आपको पद नहीं चाहिए आपको प्रतिष्ठा नहीं चाहिए आप जो भी यह गुप्त ज्ञान अपने पास संजो कर रखे हैं उसको सही समय पर सही आदमी के पास पहुंचा दें और मैं इसी उद्देश्य या कुछ तकलीफ साथ ही साथ में एक चेतावनी भी उस पुस्तक में दिया यह मात्र पुस्तक है इस पुस्तक को पढ़कर के कभी भी आप कोई प्रयोग मत करें हां अगर आप प्रयोग करना चाहते हैं तो आप किसी और के गुण क्या तांत्रिकों के निर्देशन में ही करें अगर संभव हो आप लेट से भी संपर्क करके आप यह साथ नहीं कर सकते हैं और मैं समय-समय पर बहुत ऐसे साधक हैं या बहुत ऐसे पाठक है जो हमसे संपर्क किया है और हम उनको सहायता किए हैं और समय-समय पर सहयोग कर रहे हैं और वह साधना पथ पर अग्रसर होती रहे आज मैं खुद इस बात से हूं जो विद्या अपने देश में लुप्त प्राय हो चुका था आज मैं कुछ व्यक्तियों के पास पहुंचा करके कुछ साधक इसका लाभ उठा रहे हैं यही मेरे लिए सबसे बड़ा फल है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai ek prakashit lekhak ke roop me aap par siddhi ke saath kaise samayojit hue aapko bata doon hamara jo bhi lekhan hai ya main jo bhi pustak likha hoon vaah prasiddhi ke uddeshya nahi likha main jab tantra mantra yantra jyotish aadi par bahut saari pustak bazaar me dekha aur bahut saare aise jyotish tantra mantra me ruchi rakhne waale vyakti bazaar se us pustak ko kharidkar aur sadhna hi karne lage kai sadhak mere paas aise bhi aaye jaise vaah pustak bazaar se kharidkar kundalini jagran ka prayog kiya kuch aise sadhak the jo yogini sadhna kiya kuch aise sadhak teju yakshini sadhna kiya kuch aise bhi sadhak the jo maa bagalamukhi ka sadhna kiya kuch aise bhi sadhak bhoot pret ka saath me kiya kintu jo bhi bazaar me uplabdh kitabon ko kharidkar pustakon ko kharidkar aur sadhna prarambh kiya usme se 99 aise sadhak the 19th 7 aise sadhak mile unko safalta ke badle aur asafaltaa hi hath lagi aur saath hi kuch sadhak aise bhi us me se the jo vikshipt avastha me pohch chuke the ek aise sadhak the jiska umar matra 18 varsh tha vaah ek vidyarthi tha inter ka vidyarthi tha aur vaah bazaar me uplabdh chamatkari pustak kharid kar sadhna prarambh kiya aur aaj apne pita ka ek putra aur vaah bhi matra 18 varsh sthapit ho chuka ab samajh hi us parivar par kya guzarta hoon aaj jab main usko dekhta hoon toh mujhe bahut takleef hota hai jo aakhir tantra mantra ke log darti kyon hai iske peeche karan kya hai kuch log tantra mantra ke naam par paisa kamate hain kitab jo likhte hain unka uddeshya yahi hota hai jo vaah kitab se us kitab se sadhak ko labh ho ya nahi lekin vaah pustak jitna bikega utana hamein toh labh hoga isliye bahut sochte sochte main yah pustak likha antarman dhanapal aur khas karke mujhe yah saubhagya mere dadaji bhi tantra mantra ke ek sadhak ke mere pitaji bhi tantra mantra ki hardik the is karan se grast paramparagat 1 gun mujhme bhi aaya aur hamko gurudev ke alava apne parivar me bhi samay samay par sahyog tantra mantra ke liye milta raha aur usi sabko sanyog ka main tantra mantra par ek pustak likha jiska uddeshya mera sirf yahi tha us pustak se sadhak ko kisi prakar ki hani nahi ho vaah nirantar apne sadhna path par aage badhe mera uddeshya prasiddhi nahi tha prasiddhi toh is sthool sharir ko chahiye aur yah thodi sahi hai jo hai toh nach Baan hai jab aap aadhyatmik vikas karne lagenge aapko prasiddhi nahi chahiye aapko man nahi chahiye aapko sammaan nahi chahiye aapko pad nahi chahiye aapko prathishtha nahi chahiye aap jo bhi yah gupt gyaan apne paas sanjo kar rakhe hain usko sahi samay par sahi aadmi ke paas pohcha de aur main isi uddeshya ya kuch takleef saath hi saath me ek chetavani bhi us pustak me diya yah matra pustak hai is pustak ko padhakar ke kabhi bhi aap koi prayog mat kare haan agar aap prayog karna chahte hain toh aap kisi aur ke gun kya tantrikon ke nirdeshan me hi kare agar sambhav ho aap late se bhi sampark karke aap yah saath nahi kar sakte hain aur main samay samay par bahut aise sadhak hain ya bahut aise pathak hai jo humse sampark kiya hai aur hum unko sahayta kiye hain aur samay samay par sahyog kar rahe hain aur vaah sadhna path par agrasar hoti rahe aaj main khud is baat se hoon jo vidya apne desh me lupt paraya ho chuka tha aaj main kuch vyaktiyon ke paas pohcha karke kuch sadhak iska labh utha rahe hain yahi mere liye sabse bada fal hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है एक प्रकाशित लेखक के रूप में आप पर सिद्धि के साथ कैसे समायोजित हुए आ

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vinita Rastogi

Career Counsellor / Life Coach

0:57
Play

Likes  6  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user

Shashi

Author, Spiritual Blogger

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रसिद्धि प्रसिद्धि प्रसिद्धि कोई भी बहुत ऊपर यह कि कुछ लोगों ने किताब पढ़ी उसमें क्या दिक्कत बच्चों ने किताब पढ़ी और उसको उसको एंजॉय किया और उसको लेकर चाय तो मुझे बहुत खुशी होती है और प्रसिद्धि की जहां तक बात है मेरे अंदर की गलती नहीं है लोग समझते हैं लोग अच्छा उनको लगता है और वह मेरे को शायद दूसरे लड़के देखते हैं तो उतना ही काफी है आजकल के समय में प्रसिद्ध ज्योतिषी लोग होते हैं जिनके पास कुछ पीने को नहीं होता सिवाय ऊपरी आवरण है कि शायद मैं कुछ भी पाया कुछ लोगों की दूरी गुजरात वक्त बदलता है वहीं उससे बहुत खूब बहुत दूर की बात है

prasiddhi prasiddhi prasiddhi koi bhi bahut upar yah ki kuch logo ne kitab padhi usme kya dikkat baccho ne kitab padhi aur usko usko enjoy kiya aur usko lekar chai toh mujhe bahut khushi hoti hai aur prasiddhi ki jaha tak baat hai mere andar ki galti nahi hai log samajhte hai log accha unko lagta hai aur vaah mere ko shayad dusre ladke dekhte hai toh utana hi kaafi hai aajkal ke samay mein prasiddh jyotishi log hote hai jinke paas kuch peene ko nahi hota shivaay upari aavaran hai ki shayad main kuch bhi paya kuch logo ki doori gujarat waqt badalta hai wahi usse bahut khoob bahut dur ki baat hai

प्रसिद्धि प्रसिद्धि प्रसिद्धि कोई भी बहुत ऊपर यह कि कुछ लोगों ने किताब पढ़ी उसमें क्या दिक

Romanized Version
Likes  103  Dislikes    views  1597
WhatsApp_icon
play
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:60

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

9 में मेरी एक पहली पुस्तक महेश दुबे का पुलिंदा प्रकाशित हुई थी जिसमें हास्य व्यंग की रचनाएं थी उसके बाद 2005 में हिंदी सामना अखबार में मुझे एक कॉलम रख लिखने के लिए अनुबंधित किया जिसमें लोगों के सवालों के जवाब में छंद के रूप में देता था और मैंने 14 साल तक लगातार लोगों के सवालों का छंदों में जवाब दिया कविता के रूप में जवाब दिया जिसे बहुत प्रसिद्धि की मिली फिर मेरा एक कहानी संग्रह क्योंकि दिल है हिंदुस्तानी और एक व्यंग लेख संग्रह निंदा रस प्रकाशित हुआ जिसमें से निंदा रस को महाराष्ट्र हिंदी साहित्य अकादमी पुरस्कार भी मिला एक बाइक के चलती रहती है आदमी काम करता रहता है उसके जीवन में बहुत सारी घटनाएं होती रहती हैं बहुत की उपलब्धियां भी मिलती रहती हैं प्लस और माइनस तो जीवन का अंग है

9 mein meri ek pehli pustak mahesh dubey ka pulinda prakashit hui thi jisme hasya vyang ki rachnaye thi uske baad 2005 mein hindi samana akhbaar mein mujhe ek column rakh likhne ke liye anubandhit kiya jisme logo ke sawalon ke jawab mein chhand ke roop mein deta tha aur maine 14 saal tak lagatar logo ke sawalon ka chandon mein jawab diya kavita ke roop mein jawab diya jise bahut prasiddhi ki mili phir mera ek kahani sangrah kyonki dil hai hindustani aur ek vyang lekh sangrah ninda ras prakashit hua jisme se ninda ras ko maharashtra hindi sahitya academy puraskar bhi mila ek bike ke chalti rehti hai aadmi kaam karta rehta hai uske jeevan mein bahut saree ghatnaye hoti rehti hain bahut ki upalabdhiyaan bhi milti rehti hain plus aur minus toh jeevan ka ang hai

9 में मेरी एक पहली पुस्तक महेश दुबे का पुलिंदा प्रकाशित हुई थी जिसमें हास्य व्यंग की रचनाए

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  1218
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्यार प्यार एक ऐसी चीज होती है जो हर एक इंसान को कहीं न कहीं होते रहते हैं ऐसे मां बाप बहन भाई घर में अन्य बुजुर्ग लोग यहां पड़ोसी मुल्क जवाब में तो हर चीज से प्यार होता रहेगा प्यार सच्चाई यह है कि प्यार जो है वह पता ही नहीं चलता इंसान को कब हो जाता है और विशेष तरीके से प्यार अपने दिल से हृदय मान सम्मान से करना होता है

pyar pyar ek aisi cheez hoti hai jo har ek insaan ko kahin na kahin hote rehte hain aise maa baap behen bhai ghar mein anya bujurg log yahan padosi mulk jawab mein toh har cheez se pyar hota rahega pyar sacchai yah hai ki pyar jo hai vaah pata hi nahi chalta insaan ko kab ho jata hai aur vishesh tarike se pyar apne dil se hriday maan sammaan se karna hota hai

प्यार प्यार एक ऐसी चीज होती है जो हर एक इंसान को कहीं न कहीं होते रहते हैं ऐसे मां बाप बहन

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!