PM मोदी ने 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' जाकर दी श्रद्धांजलि - क्या इस स्टैच्यू पर इतना पैसा ख़र्च करना चाहिए था?...


user
2:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बनाए इसका पैसा खर्च करना क्या ठीक था देखे प्रधानमंत्री ने तो इससे पहले वाली के प्रधानमंत्री ने तो जैसे हो जाओ सोना या हज पर सब्सिडी थी तो अगर इसका मिलाकर अगर अपन हिसाब किताब देखिए तो यह खरगों लाख के बराबर बैठती है जो इस मूर्ति का तो ओन्ली फॉर 1% भी नहीं है खर्चा किया जिसको इस्लाम में हर आम खा गया कि हज जब आदमी करता है तो उसके ऊपर कोई वह नहीं होना चाहिए और कर्जा नहीं होना चाहिए जिससे पैसा लिए होनी होनी चाहिए तो मैंने हंस कर दिया जबकि हज में उसका खुद का पैसा होना चाहिए था इसलिए कार्नेजी होता है पात्रोना मैसेज पर पैसा दिया और दूसरे को सैया बना दीजिए जो सफर इस्लाम के खिलाफ थे पर या के मौलवियों को आंखों पर पट्टी बंधी हुई थी चोरों ने यह कबूल की पैसे क्योंकि इस्लाम में युद्ध को हरा में किसी से पैसा लेकर हज करना तो आपने तो गरीब जनता का जो विचार किया से पहले पैसा देती है अपने देश की तरक्की के लिए उसका पैसा देखते हैं तो यह तो हराम था पैसा फिर भी फोकट में मिला जी पैसा देते हैं जाति के नेता मणि कनाडा की चौहान मध्य प्रदेश के लिए क्या सोचा स्टेचू ऑफ यूनिटी के बनाया है इस पर खर्चा हुआ उससे तो यह कमर्शियल विषय बनाया था बता तो मोदी जी ने 1 साल में निकाल दिया है एक पुलिस स्टेशन

aapka prashna statue of unity ke banaye iska paisa kharch karna kya theek tha dekhe pradhanmantri ne toh isse pehle wali ke pradhanmantri ne toh jaise ho jao sona ya haj par subsidy thi toh agar iska milakar agar apan hisab kitab dekhiye toh yah kharagon lakh ke barabar baithati hai jo is murti ka toh only for 1 bhi nahi hai kharcha kiya jisko islam me har aam kha gaya ki haj jab aadmi karta hai toh uske upar koi vaah nahi hona chahiye aur karja nahi hona chahiye jisse paisa liye honi honi chahiye toh maine hans kar diya jabki haj me uska khud ka paisa hona chahiye tha isliye karneji hota hai patrona massage par paisa diya aur dusre ko saiya bana dijiye jo safar islam ke khilaf the par ya ke maulviyon ko aakhon par patti bandhi hui thi choron ne yah kabool ki paise kyonki islam me yudh ko hara me kisi se paisa lekar haj karna toh aapne toh garib janta ka jo vichar kiya se pehle paisa deti hai apne desh ki tarakki ke liye uska paisa dekhte hain toh yah toh haraam tha paisa phir bhi fokat me mila ji paisa dete hain jati ke neta mani canada ki Chauhan madhya pradesh ke liye kya socha statue of unity ke banaya hai is par kharcha hua usse toh yah commercial vishay banaya tha bata toh modi ji ne 1 saal me nikaal diya hai ek police station

आपका प्रश्न स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बनाए इसका पैसा खर्च करना क्या ठीक था देखे प्रधानमंत्री न

Romanized Version
Likes  175  Dislikes    views  1336
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Jeet Dholakia

Anchor and Media Professional

1:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत जो है वह अभी डेवलपिंग कंट्री है आप इतना अंबेता नहीं बोल सकते कि भारत एक विकसित देश विकासशील देश है उसमें धीरे-धीरे विकास हो रहा है पर दूसरे देशों में भारत बोल सकते कि भारत गरीब देश है क्योंकि आज भी भारत में कितने लोग ऐसे हैं कि जिनके बादशाहा जॉब नहीं है जिनके पास अच्छी सुविधाएं नहीं है जिनके पास अच्छा शिक्षण नहीं है तो मेरे ख्याल से भारत में अभी भी काफी विकास होना बाकी है और ऐसे टाइम में यह स्टैचू ऑफ यूनिटी जो बना है वह लाखों करोड़ों रुपए खर्च करके स्टैचू ऑफ यूनिटी बनाया है और यह विश्व की सबसे ऊंची आयकर स्टैचू है तो मेरे ख्याल से इतने लाखों करोड़ों रुपए खर्च करने करने के बाद आइए स्टेचू ऑफ यूनिटी जाकर बना है तो एक स्टैचू ऑफ यूनिटी जो है स्टेच्यू के पीछे इतने रुपए खर्च करना मुझे नहीं लगता कि यह अच्छी बात है क्योंकि सबको पता है सभी नेता लोग जानते हैं कि भारत में कितने सारे ऐसे लोगे कितने सी जगह है जहां पर असुविधा का भाव है लोगों के पास अच्छा शिक्षण नहीं है पीने के लिए पानी नहीं है लोगों के पास रहने के लिए घर नहीं है तो ऐसे में इतनी लाखों करोड़ों अरबों रुपए खर्च करके एक स्टैचू बनाना जिस जिसके कारण स्टेचू बनाने से मैं आपको एक सवाल पूछता हूं कि चलो मान लो कि स्टैचू ऑफ यूनिटी बनाया उससे किस को रोजगार मिला उस दिन में आ मेरे घर की आमदनी बढ़ी उससे आपके घर में कुछ आपके गांव जो जॉब कर रहे हैं वहां पर आपकी सैलरी में आपकी आमदनी बढ़ी आपका जवाब होगा ना मेरा भी जॉब यही है कि ना स्टैचू ऑफ यूनिटी का उद्देश्य क्या है बनाने का बस सब लोग देख

dekhiye bharat jo hai vaah abhi developing country hai aap itna ambeta nahi bol sakte ki bharat ek viksit desh vikasshil desh hai usme dhire dhire vikas ho raha hai par dusre deshon mein bharat bol sakte ki bharat garib desh hai kyonki aaj bhi bharat mein kitne log aise hain ki jinke badshaha job nahi hai jinke paas achi suvidhaen nahi hai jinke paas accha shikshan nahi hai toh mere khayal se bharat mein abhi bhi kaafi vikas hona baki hai aur aise time mein yah statue of unity jo bana hai vaah laakhon karodo rupaye kharch karke statue of unity banaya hai aur yah vishwa ki sabse uchi aaykar statue hai toh mere khayal se itne laakhon karodo rupaye kharch karne karne ke baad aaiye statue of unity jaakar bana hai toh ek statue of unity jo hai stechyu ke peeche itne rupaye kharch karna mujhe nahi lagta ki yah achi baat hai kyonki sabko pata hai sabhi neta log jante hain ki bharat mein kitne saare aise loge kitne si jagah hai jaha par asuvidha ka bhav hai logo ke paas accha shikshan nahi hai peene ke liye paani nahi hai logo ke paas rehne ke liye ghar nahi hai toh aise mein itni laakhon karodo araboon rupaye kharch karke ek statue banana jis jiske karan statue banane se main aapko ek sawaal poochta hoon ki chalo maan lo ki statue of unity banaya usse kis ko rojgar mila us din mein aa mere ghar ki aamdani badhi usse aapke ghar mein kuch aapke gaon jo job kar rahe hain wahan par aapki salary mein aapki aamdani badhi aapka jawab hoga na mera bhi job yahi hai ki na statue of unity ka uddeshya kya hai banane ka bus sab log dekh

देखिए भारत जो है वह अभी डेवलपिंग कंट्री है आप इतना अंबेता नहीं बोल सकते कि भारत एक विकसित

Romanized Version
Likes  136  Dislikes    views  2181
WhatsApp_icon
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

3:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रधानमंत्री ने स्टैचू ऑफ यूनिटी जा कर दी श्रद्धांजलि क्या इस स्टैचू पर इतना पैसा खर्च करना चाहिए था एक है नरेंद्र मोदी जी की जो राजनीति है इस तरीके से हो पॉलिटिक्स करते हैं मुझे जितना समझ आया है मुझे लगता है कि वह एक वही करते हैं जो उनका मन कहता है अर्जुन को सही लगता है यह उनकी हार आदत है तो हालांकि कोई डेमोक्रेटिक कंट्री के प्रधानमंत्री हैं लेकिन उनके मन में उनका जो गोल है उनका जो विजन है वह उस पर इस तरह चल रहे हैं आज इसमें वह साइड में किसी की सुनते नहीं है किसी के बारे में किसी कितना उस पर ध्यान नहीं देते स्टैचू ऑफ यूनिटी पर इतना पैसा खर्च करना चाहिए था या नहीं सवाल तब उठता है जब वह खुद प्रधानमंत्रियों कार्य सोचे कि एक्सटच और हम उसके ऊपर करोड़ों का पैसा खर्च कर रहे हैं लेकिन उनके उनके गोल में स्टैचू ऑफ यूनिटी सिर्फ एक्स्ट्रा नहीं है यह अपने पीछे यह मार्ग छोड़कर जाना चाहते हैं इतिहास जब भी लिखा जाएगा के इनके राज्य में क्या किया इंडिया ने देखा डी मोनेटाइजेशन देखा लिंचिंग देखिए इनका स्टैचू देखा वह ब्लैक मनी वापस ला रहे थे लेकिन उन्हीं के राज्य में नीरव मोदी मेहुल चौकसी ललित मोदी विजय माल्या जैसे बड़े-बड़े दिक्कत लोगों ने करोड़ो हजारों लाखों के घपले किए हैं साले डील देखी नोटबंदी के बावजूद जो अमीर थे बनी रहेगी जो गरीब थे वह और ज्यादा परेशानी में सारा कुछ देखा तो स्टैचू ऑफ यूनिटी भी उन्हीं का वह अपने पीछे इसको एक इतिहास का एक वह बनाना चाहते हैं मुझे यह लगता है मेरी राय में के वह जो भी करते हैं वह अपने फोकस होकर करते हैं जो उन्हें सही लगता है वह करते हैं अगर वह सारे जनता जनार्दन के बारे में सोचकर करते तब शायद उनके फोकस और गोल कुछ और होता उनके फोकस में उनको जो सही लगता है या जिन से भी वह राय मशवरा लेते उन्हें जो सही लगता है इस हिसाब से ही चलते हैं तो इतना पैसा आप एक चीज पर खर्च कर रहे हो लेकिन आप यह नहीं देख रहे कि दूध इंडिया में सबसे ज्यादा अनइंप्लॉयमेंट अब हम लोग नौकरी को तरस रहे हैं हर साल लाखों करोड़ों बच्चे ग्रेजुएटी के निकलते हैं लेकिन ना इंफ्रास्ट्रक्चर में इतना पैसा डाला गया है के लोगों के लिए जॉब सेट किया जाए हां लेकिन इन सब चीजों के लिए अगेन यह चीजें उनके साथ बिजनौर गोलमैन नहीं है तो जो उनका विजन है जैसा वह चाहते हैं वह करते हैं तो इसमें थोड़ा ज्ञान मुश्किल है कितना पैसा देना चाहिए था या नहीं थोड़ी सी प्रतीत मिस प्लेस्ट है लेकिन हमारे एक अकेले के कहने से सोचने से कुछ होगा नहीं क्योंकि मेजॉरिटी ने उन्हें चुना है तो और उन्हें उस कुर्सी पर बिठाया है जिसमें बेहद पावर है और पैसा भी तो वह इसका जिस तरह इस्तेमाल करें हम उस पर सिर्फ कमेंट कर सकते हैं और कुछ नहीं

pradhanmantri ne statue of unity ja kar di shraddhaanjali kya is statue par itna paisa kharch karna chahiye tha ek hai narendra modi ji ki jo raajneeti hai is tarike se ho politics karte hain mujhe jitna samajh aaya hai mujhe lagta hai ki vaah ek wahi karte hain jo unka man kahata hai arjun ko sahi lagta hai yah unki haar aadat hai toh halaki koi democratic country ke pradhanmantri hain lekin unke man mein unka jo gol hai unka jo vision hai vaah us par is tarah chal rahe hain aaj isme vaah side mein kisi ki sunte nahi hai kisi ke bare mein kisi kitna us par dhyan nahi dete statue of unity par itna paisa kharch karna chahiye tha ya nahi sawaal tab uthata hai jab vaah khud pradhanmantriyon karya soche ki eksatach aur hum uske upar karodo ka paisa kharch kar rahe hain lekin unke unke gol mein statue of unity sirf extra nahi hai yah apne peeche yah marg chhodkar jana chahte hain itihas jab bhi likha jaega ke inke rajya mein kya kiya india ne dekha d monetaijeshan dekha lynching dekhiye inka statue dekha vaah black money wapas la rahe the lekin unhi ke rajya mein neerav modi mehul chauksi lalit modi vijay malya jaise bade bade dikkat logo ne croredo hazaro laakhon ke ghapale kiye hain saale deal dekhi notebandi ke bawajud jo amir the bani rahegi jo garib the vaah aur zyada pareshani mein saara kuch dekha toh statue of unity bhi unhi ka vaah apne peeche isko ek itihas ka ek vaah banana chahte hain mujhe yah lagta hai meri rai mein ke vaah jo bhi karte hain vaah apne focus hokar karte hain jo unhe sahi lagta hai vaah karte hain agar vaah saare janta Janardan ke bare mein sochkar karte tab shayad unke focus aur gol kuch aur hota unke focus mein unko jo sahi lagta hai ya jin se bhi vaah rai mashwara lete unhe jo sahi lagta hai is hisab se hi chalte hain toh itna paisa aap ek cheez par kharch kar rahe ho lekin aap yah nahi dekh rahe ki doodh india mein sabse zyada anaimplayament ab hum log naukri ko taras rahe hain har saal laakhon karodo bacche graduate ke nikalte hain lekin na infrastructure mein itna paisa dala gaya hai ke logo ke liye job set kiya jaaye haan lekin in sab chijon ke liye again yah cheezen unke saath bijnor golmain nahi hai toh jo unka vision hai jaisa vaah chahte hain vaah karte hain toh isme thoda gyaan mushkil hai kitna paisa dena chahiye tha ya nahi thodi si pratit miss plest hai lekin hamare ek akele ke kehne se sochne se kuch hoga nahi kyonki mejariti ne unhe chuna hai toh aur unhe us kursi par bithaya hai jisme behad power hai aur paisa bhi toh vaah iska jis tarah istemal kare hum us par sirf comment kar sakte hain aur kuch nahi

प्रधानमंत्री ने स्टैचू ऑफ यूनिटी जा कर दी श्रद्धांजलि क्या इस स्टैचू पर इतना पैसा खर्च कर

Romanized Version
Likes  296  Dislikes    views  4313
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पीएम मोदी ने स्टेचू ऑफ यूनिटी जाकर की श्रद्धांजलि स्टेचू पर इतना पैसा खर्च करना चाहिए था स्टेचू ऑफ यूनिटी पीएम मोदी का एक सपना था जैसे अमेरिका में जो स्टेचू है स्वतंत्रता की देवी का उसे उस से भी ऊंचा स्टैचू उन्होंने बनाकर दिखाया है 30 हजार करोड़ प्यारा लगा है और यह पैसा उन्होंने आम जनता से लोहे के स्वरूप में भी लिया है और खर्च भी किया है वहां के एरिया को डेवलप किया है और वहां पर जो पहाड़ पर जो उद्यान बनाए गए हैं और वहां तो जो पशु पक्षियों को ले आया गया है वह एक तरफ से बहुत ही अच्छा वहां पर घूमने लायक स्थल होने से जो विजिटर्स आ रहे हैं उसके आसपास के एरिया का भी विकास हुआ है और एक भारत के लिए बहुत गौरव की बात है कि वहां पर इतने सारे जेसीबी आकर विजिट कर रहे हैं और भारत का नाम विदेशों में बहुत ही आगे बढ़ा है यह भारत के लिए गौरव की बात है और इतना पैसा खर्च किया है तो उसकी रिकवरी भी हो रही है यह मुझे कल सन और मोदी जी कभी छोटा सोचते भी उनका मिशन हमेशा बड़ा होता है और जो भी होते हैं उसमें कुछ ना कुछ देश का फायदा होता ही है

pm modi ne statue of unity jaakar ki shraddhaanjali statue par itna paisa kharch karna chahiye tha statue of unity pm modi ka ek sapna tha jaise america mein jo statue hai swatantrata ki devi ka use us se bhi uncha statue unhone banakar dikhaya hai 30 hazaar crore pyara laga hai aur yah paisa unhone aam janta se lohe ke swaroop mein bhi liya hai aur kharch bhi kiya hai wahan ke area ko develop kiya hai aur wahan par jo pahad par jo udyan banaye gaye hain aur wahan toh jo pashu pakshiyo ko le aaya gaya hai vaah ek taraf se bahut hi accha wahan par ghoomne layak sthal hone se jo visitors aa rahe hain uske aaspass ke area ka bhi vikas hua hai aur ek bharat ke liye bahut gaurav ki baat hai ki wahan par itne saare JCB aakar visit kar rahe hain aur bharat ka naam videshon mein bahut hi aage badha hai yah bharat ke liye gaurav ki baat hai aur itna paisa kharch kiya hai toh uski recovery bhi ho rahi hai yah mujhe kal san aur modi ji kabhi chota sochte bhi unka mission hamesha bada hota hai aur jo bhi hote hain usme kuch na kuch desh ka fayda hota hi hai

पीएम मोदी ने स्टेचू ऑफ यूनिटी जाकर की श्रद्धांजलि स्टेचू पर इतना पैसा खर्च करना चाहिए था

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1215
WhatsApp_icon
user

Ajay Pratap Singh

Agriculturist

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कितना पैसा खर्च करना चाहिए वह व्यक्ति कौन व्यक्ति था के बारे में आपको पता होना कि कश्मीर का मामला जवाहरलाल नेहरु को दिया गया था साल करने के लिए लाठी 562 दिल्ली आए थे तो मिलाना था बहुत तत्परता के साथ सेना की सहायता से हटा कर दिखाया कश्मीर में भी डेढ़ साल तक युद्ध चलता रहा पाकिस्तानी कभी दीदी और आर्मी के लोग चले आए तू जाके समझौता किए उनकी स्थिति बनी हुई है लगता ही नहीं स्टेचू तो बहुत दिनों की बनी है जो तिरंगा डायलॉग है उनको देखकर हम प्रणाम इतना खर्चा कर कोई बात नहीं

kitna paisa kharch karna chahiye vaah vyakti kaun vyakti tha ke bare mein aapko pata hona ki kashmir ka maamla jawaharlal nehru ko diya gaya tha saal karne ke liye lathi 562 delhi aaye the toh milana tha bahut tatparata ke saath sena ki sahayta se hata kar dikhaya kashmir mein bhi dedh saal tak yudh chalta raha pakistani kabhi didi aur army ke log chale aaye tu jake samjhauta kiye unki sthiti bani hui hai lagta hi nahi statue toh bahut dino ki bani hai jo tiranga dialogue hai unko dekhkar hum pranam itna kharcha kar koi baat nahi

कितना पैसा खर्च करना चाहिए वह व्यक्ति कौन व्यक्ति था के बारे में आपको पता होना कि कश्मीर क

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!