#SardarPatelBirthday: अगर नेहरु की जगह सरदार पटेल भारत के पहले प्रधान मंत्री होते तो आज हमारा देश कैसा होता?...


user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमने बहुत कुछ पीछे भी छोड़ दिया है नेहरू जी ने जो गलतियां की उसका भुगतान हम अभी कर ही रहे हैं और पता नहीं कितने साल और करेंगे तो पटेल जी यदि होते तो उन्होंने देश की सीमाओं को इतना अच्छा मौका था इतने अच्छे तरीके से उन्होंने सब राज्यों का विभाजन किया था किसी भी देश के अंगों को उन्होंने अलग करके नहीं दिखाया था तो वह अगर तब प्रधानमंत्री बनते तो हम एकजुट होते और हम बहुत बढ़िया देश को चला सकते थे पर जो अब हो चुका है उसको पलटना बड़ा मुश्किल है और उसके बारे में विवेचना करना भी अब लाजमी नहीं है तो मेरे हिसाब से तो नेहरु जी से वह बैटर ही आपको प्रधानमंत्री लगते पर अगर हम यह कहें कि अरे मेरी चाची की अगर मूछें होती तो वह चाचा जैसी लगती तो ऐसा थोड़ी ना होता है कोई इमेज नहीं बातों को करने से कोई फायदा नहीं है

humne bahut kuch peeche bhi chhod diya hai nehru ji ne jo galtiya ki uska bhugtan hum abhi kar hi rahe hain aur pata nahi kitne saal aur karenge toh patel ji yadi hote toh unhone desh ki seemaon ko itna accha mauka tha itne acche tarike se unhone sab rajyo ka vibhajan kiya tha kisi bhi desh ke angon ko unhone alag karke nahi dikhaya tha toh vaah agar tab pradhanmantri bante toh hum ekjut hote aur hum bahut badhiya desh ko chala sakte the par jo ab ho chuka hai usko paltana bada mushkil hai aur uske bare me vivechna karna bhi ab lajmi nahi hai toh mere hisab se toh nehru ji se vaah better hi aapko pradhanmantri lagte par agar hum yah kahein ki are meri chachi ki agar muchen hoti toh vaah chacha jaisi lagti toh aisa thodi na hota hai koi image nahi baaton ko karne se koi fayda nahi hai

हमने बहुत कुछ पीछे भी छोड़ दिया है नेहरू जी ने जो गलतियां की उसका भुगतान हम अभी कर ही रहे

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  1322
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

2:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसे की चर्चा का विषय है अगर नेहरू की जगह सरदार पटेल भारत के पहले प्रधानमंत्री होते तो आज क्या हमारा देश में क्या चेंज होता तो यहां पर बताना चाहेंगे कि जो धारा 370 लाई गई जितने भी विशेष अधिकार दिए गए कश्मीर को यह और भी चीजें हुई वहां पर कुछ हद तक कुछ लोग कहते हैं कि यहां पर नेहरू जी जिम्मेदार है कोई करता के संविधान में ऐसा लिखा है वह सब है लेकिन यहां पर बताना चाहेंगे कि ना तो संविधान निर्माता बाबा साहब अंबेडकर साहब हैं उनके लिए और ना ही सरदार पटेल ये दोनों लोग ही नहीं चाहते थे कि इस तरह का कोई भी चीज कोई भी कंडीशन आए उनको अलग से स्टेटस दिया जाए ऐसा कुछ किया जाए लेकिन यह जो स्टेटस दिए गए यह सारी चीजें हुई यह सिर्फ नेहरु जी जो हमारे भारत के पहले प्रधानमंत्री थे उनके कारण हुई उन्होंने ही स्पेशल स्टेटस दिलवाया अपने उस से लेकर उनकी भी कोई ना कोई वहां पर कंडीशन रही हो नंगी कुछ ना कुछ मैंने सोचा होगा या जो भी उन्होंने सोचकर ऐसा किया अब जो पास में गलतियां हो गए हो गए अब उसको देखे और कम तो नहीं किया जाता बस यह है कि उसको रिफॉर्म्स किया सकता है कि वहां पर आप इसे सुधार के लिए कार्य कर सकते हैं तो जो अगर कोई गलती हो भी गई है पहले अब उसको आप क्या करेंगे उसको रेक्टिफाई करेंगे सुधरेंगे कि हम ठीक है अगर यह गलती हुई थी तो उसको कैसे सही किया जाए तो अब जो आज हुआ है जो वहां पर केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है हमारे जो एक राज्य कम हो गया है हाथ में से और 2 केंद्र शासित प्रदेश बढ़ गए हैं तो उसी का ही है कि इससे क्या होगा जब डेवलपमेंट की कोशिशें तेज हो जाएंगे वहां पर ज्यादा तेजी से विकास होगा आप कुछ लोग ही जानते होंगे बताना चाहेंगे कि सिर्फ अब तक उर्दू ही वहां का राजभाषा का दर्जा मिला वाला सरकारी काम का सहारा उर्दू में होता था जो कि आज स्टेटस हिंदी को मिला है आजादी के इतने साल बाद जाकर सोचिए कि अब हिंदी वहां की राजभाषा बनी है तो कितना वहां पर अपना अलग झंडा हुआ करता था जम्मू कश्मीर का अब वहां पर भारत का झंडा फहराया तो कितना बड़ा चेंज है तो चेंज आ रहा है धीरे बदलाव आ रहा है और आना भी चाहिए अब नई चीजें आई है नए जो स्कीम्स आफ गवर्नमेंट की वह भी वहां जाएंगे आधार कार्ड कंपलसरी हो जाएगा जो कि पूरे भारत में कंपलसरी है जो वहां के लिए नहीं है तो बहुत सारी चीजें हैं जहां पर चेंज अभी आ रहा है या आना है तो उसके बाद और भी चीजें विकसित होंगी और चीजें बढ़ेंगी और जहां तक सरदार पटेल और दूसरों की बात है बाबा साहब अंबेडकर की तो यह लोग कभी भी इसके लिए फेवर में नहीं थे कि कश्मीर को अलग से स्टेटस दिया जाए जबकि नेहरू जी के कारण ही यह सारी चीजें करी गई थी धन्यवाद

jaise ki charcha ka vishay hai agar nehru ki jagah sardar patel bharat ke pehle pradhanmantri hote toh aaj kya hamara desh mein kya change hota toh yahan par bataana chahenge ki jo dhara 370 lai gayi jitne bhi vishesh adhikaar diye gaye kashmir ko yah aur bhi cheezen hui wahan par kuch had tak kuch log kehte hain ki yahan par nehru ji zimmedar hai koi karta ke samvidhan mein aisa likha hai vaah sab hai lekin yahan par bataana chahenge ki na toh samvidhan nirmaata baba saheb ambedkar saheb hain unke liye aur na hi sardar patel ye dono log hi nahi chahte the ki is tarah ka koi bhi cheez koi bhi condition aaye unko alag se status diya jaaye aisa kuch kiya jaaye lekin yah jo status diye gaye yah saree cheezen hui yah sirf nehru ji jo hamare bharat ke pehle pradhanmantri the unke karan hui unhone hi special status dilvaya apne us se lekar unki bhi koi na koi wahan par condition rahi ho nangi kuch na kuch maine socha hoga ya jo bhi unhone sochkar aisa kiya ab jo paas mein galtiya ho gaye ho gaye ab usko dekhe aur kam toh nahi kiya jata bus yah hai ki usko reforms kiya sakta hai ki wahan par aap ise sudhaar ke liye karya kar sakte hain toh jo agar koi galti ho bhi gayi hai pehle ab usko aap kya karenge usko rektifai karenge sudhrenge ki hum theek hai agar yah galti hui thi toh usko kaise sahi kiya jaaye toh ab jo aaj hua hai jo wahan par kendra shasit pradesh ka darja diya gaya hai hamare jo ek rajya kam ho gaya hai hath mein se aur 2 kendra shasit pradesh badh gaye hain toh usi ka hi hai ki isse kya hoga jab development ki koshishein tez ho jaenge wahan par zyada teji se vikas hoga aap kuch log hi jante honge bataana chahenge ki sirf ab tak urdu hi wahan ka rajbhasha ka darja mila vala sarkari kaam ka sahara urdu mein hota tha jo ki aaj status hindi ko mila hai azadi ke itne saal baad jaakar sochiye ki ab hindi wahan ki rajbhasha bani hai toh kitna wahan par apna alag jhanda hua karta tha jammu kashmir ka ab wahan par bharat ka jhanda fahraya toh kitna bada change hai toh change aa raha hai dhire badlav aa raha hai aur aana bhi chahiye ab nayi cheezen I hai naye jo schemes of government ki vaah bhi wahan jaenge aadhaar card compulsory ho jaega jo ki poore bharat mein compulsory hai jo wahan ke liye nahi hai toh bahut saree cheezen hain jahan par change abhi aa raha hai ya aana hai toh uske baad aur bhi cheezen viksit hongi aur cheezen badhengi aur jahan tak sardar patel aur dusron ki baat hai baba saheb ambedkar ki toh yah log kabhi bhi iske liye favour mein nahi the ki kashmir ko alag se status diya jaaye jabki nehru ji ke karan hi yah saree cheezen kari gayi thi dhanyavad

जैसे की चर्चा का विषय है अगर नेहरू की जगह सरदार पटेल भारत के पहले प्रधानमंत्री होते तो आज

Romanized Version
Likes  439  Dislikes    views  5385
WhatsApp_icon
user

Dr. Ashwani Kumar Singh

Chairman & Director at VEMS

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार पटेल नेहरू की जगह भारत के प्रधानमंत्री होते तो देश में यह कैंसर जैसी बहुत सारी बीमारियां नहीं होती वह बहुत बीमार थे नहीं तो उसमें भी हो जाएगा और 9 से अधिक रेट भी व्यक्त किया और देश को बहुत सारी बीमारियां तो फ्री में नेहरू ने दे दे इसमें कोई शक नहीं बचा वह भी अपनी व्यक्तिगत कारणों से जो मेला लगेगा नहीं कर सकते शुक्रिया सुख

sardar patel nehru ki jagah bharat ke pradhanmantri hote toh desh mein yah cancer jaisi bahut saree bimariyan nahi hoti vaah bahut bimar the nahi toh usmein bhi ho jaega aur 9 se adhik rate bhi vyakt kiya aur desh ko bahut saree bimariyan toh free mein nehru ne de de isme koi shak nahi bacha vaah bhi apni vyaktigat karanon se jo mela lagega nahi kar sakte shukriya sukh

सरदार पटेल नेहरू की जगह भारत के प्रधानमंत्री होते तो देश में यह कैंसर जैसी बहुत सारी बीमार

Romanized Version
Likes  223  Dislikes    views  2789
WhatsApp_icon
play
user

Dr Chandra Shekhar Jain

MBBS, Yoga Therapist Yoga Psychotherapist

3:18

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्रों बेवजह की कल्पना का कोई फायदा नहीं है ख्याली पुलाव खाने का कोई फायदा नहीं है जो हुआ है उसको सोचे और समझे नेहरू ने इस देश की जो बैंड बजाई है उसको बहुत अच्छी तरह से समझें और नेहरू के बाद अन्य नेता चाहे वह कांग्रेसी हूं और चाहे अन्य पार्टी के हूं जिन्होंने नेहरू के नक्शे कदम पर चलते हुए इस देश को बर्बाद किया है उनको पहचाने और ऐसे नेताओं को जड़ से उखाड़ने का प्रयास करें और ऐसे नेता कैसे बन जाते हैं इसको समझे आपको यह जानकर आश्चर्य नहीं होता कि पहले भी और वर्तमान में भी सरकारें बल्लभ भाई पटेल की खूब गुड़गांव महिमामंडन करती थी पर वह यह नहीं समझ पा रहे हैं कि सरदार बल्लभ भाई पटेल यदि देश प्रेमी व्यक्ति थे तो उसका कारण था उनको मिली हुई शिक्षा 88 शिक्षा ही मनुष्य को महान और शैतान बनाती है इसलिए अगर आज भी हम समाज सरकार या कोई भी अपने देश को बहुत आगे ले जाना चाहता है तो उसे शिक्षा के बारे में गंभीरता से सोचना होगा आज हमें जो शिक्षा मिल रही है वह हमें एक सिविलाइज्ड एनिमल 881 समझदार मनुष्य बनाती है समझदार पशु बनाती है जो कि कमरे में बैठकर टेबल पर खाता है अच्छे विचारों पर नींद लेता है अपनी मनचाही लड़की के साथ या फिर किसी अन्य स्त्री या पुरुष के साथ शारीरिक संपर्क बनाता है और जीवन के भय से बचने के लिए उसने बिगड़े इंतजाम किए हुए हैं इसके अतिरिक्त आज की शिक्षा हमें और कुछ नहीं दे रही है जब तक 1 शिक्षा में आमूल परिवर्तन नहीं किया जाएगा तब तक हम नेहरू और बल्लभ भाई पटेल में ही अटके रहेंगे जबकि इन चीजों का वर्तमान में कोई महत्व नहीं रह गया है इसलिए जीवन में परेशानियों के मुख्य कारण अशिक्षा स्तरीय शिक्षा के प्रभाव को समझें और अपने जीवन में और दूसरे के जीवन में इसको दूर करने का तन मन धन से प्रयास करें तो हम हमारा समाज और राष्ट्र उन्हें महान बन सकेंगे

mitron bewajah ki kalpana ka koi fayda nahi hai khyali pulav khane ka koi fayda nahi hai jo hua hai usko soche aur samjhe nehru ne is desh ki jo band bajai hai usko bahut achi tarah se samajhe aur nehru ke baad anya neta chahen vaah congressi hoon aur chahen anya party ke hoon jinhone nehru ke nakshe kadam par chalte hue is desh ko barbad kiya hai unko pehchane aur aise netaon ko jad se ukhadane ka prayas karen aur aise neta kaise ban jaate hain isko samjhe aapko yah jaankar aashcharya nahi hota ki pehle bhi aur vartmaan mein bhi sarkaren ballabh bhai patel ki khoob gurgaon mahimamandan karti thi par vaah yah nahi samajh paa rahe hain ki sardar ballabh bhai patel yadi desh premi vyakti the toh uska karan tha unko mili hui shiksha 88 shiksha hi manushya ko mahaan aur shaitaan banati hai isliye agar aaj bhi hum samaaj sarkar ya koi bhi apne desh ko bahut aage le jana chahta hai toh use shiksha ke bare mein gambhirta se sochna hoga aaj hamein jo shiksha mil rahi hai vaah hamein ek civilized animal 881 samajhdar manushya banati hai samajhdar pashu banati hai jo ki kamre mein baithkar table par khaata hai acche vicharon par neend leta hai apni manchahi ladki ke saath ya phir kisi anya stree ya purush ke saath sharirik sampark banata hai aur jeevan ke bhay se bachne ke liye usne bigade intajam kiye hue hain iske atirikt aaj ki shiksha hamein aur kuch nahi de rahi hai jab tak 1 shiksha mein aamul parivartan nahi kiya jaega tab tak hum nehru aur ballabh bhai patel mein hi atake rahenge jabki in chijon ka vartmaan mein koi mahatva nahi reh gaya hai isliye jeevan mein pareshaaniyon ke mukhya karan asiksha stariy shiksha ke prabhav ko samajhe aur apne jeevan mein aur dusre ke jeevan mein isko dur karne ka tan man dhan se prayas karen toh hum hamara samaaj aur rashtra unhe mahaan ban sakenge

मित्रों बेवजह की कल्पना का कोई फायदा नहीं है ख्याली पुलाव खाने का कोई फायदा नहीं है जो हुआ

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  1247
WhatsApp_icon
user
0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर नेहरू जी सरदार वल्लभभाई पटेल हमारे देश के प्राइम फर्स्ट प्राइम मिनिस्टर होते तो हमारा जो इंडिया में इंडिया में जो जम्मू कश्मीर है उसको लेकर चलते रहते हैं जो आए दिन हमारे सेना के जवान शहीद होते रहते हैं और जो 1999 में कारगिल युद्ध हुआ पुलवामा हमला हुआ तुझे अगर सरदार पटेल मारे प्राइम मिनिस्टर

agar nehru ji sardar vallabhbhai patel hamare desh ke prime first prime minister hote toh hamara jo india mein india mein jo jammu kashmir hai usko lekar chalte rehte hain jo aaye din hamare sena ke jawaan shaheed hote rehte hain aur jo 1999 mein kargil yudh hua pulwama hamla hua tujhe agar sardar patel maare prime minister

अगर नेहरू जी सरदार वल्लभभाई पटेल हमारे देश के प्राइम फर्स्ट प्राइम मिनिस्टर होते तो हमारा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

3:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर नेहरू की जगह सरदार पटेल भारत के पहले प्रधानमंत्री होते तो क्या हमारा देश कैसा होता एक बात जब सबसे अहम है और हम सब को मार करनी चाहिए मुझे कि 1947 15 अगस्त को जब हमारा देश आजाद हुआ जो भी प्रधानमंत्री बने वह फॉर्मल सिस्टम से बने लेकिन कोई इलेक्शन कैंपेन से नहीं कोई पार्टी किसी पार्टी के खिलाफ नहीं लड़ी कोई कैंपेनिंग नहीं हुई कोई इलेक्शन नहीं हुए कोई इलेक्शन नचिन साइन नहीं थी के लोग जाकर कांग्रेस को वोट दिया बीजेपी को या किसी और पार्टी को ऐसा कुछ था ही नहीं तो पहले हम सब को यह नहीं भूलना चाहिए कि पंडित नेहरू प्राइम मिनिस्टर बने कैसे वारदात हिंदुस्तान देश के पहले प्रधानमंत्री थे मतलब यह है कि सपने आजादी की लड़ाई लड़ी यहां से ब्रिटिश राज गया और आपसी सहमति से जब आप के हवाले आपका देश हुआ तो बड़े बड़े लीडर जिन्होंने अपना योगदान दिया आजादी में सब बैठे उन्होंने डिसाइड जा चुके फॉर्मल सिस्टम आपको चाहिए आपका देश चलाने के लिए तो सरदार वल्लभभाई पटेल खुद कांग्रेस की पार्टी के बहुत अहम मेंबर थे वही थॉट प्रोसेस रखते थे वही विजन उनका था वहीं उनकी सोच उनकी सोच कुछ हटके अलग नहीं तो जब बात आई होगी कि हम किस तरह का सिस्टम फॉलो करेंगे तो हमने बहुत सी चीजें ब्रिटिश पार्लियामेंट सेलिंग लोकसभा राज्यसभा जसराज हाउस ऑफ कॉमंस हाउस ऑफ लॉर्ड्स एक्स और वाई पाटिल सिस्टर मल्टीपल पार्टी सिस्टम है कॉन्स्टिट्यूशन के लिए बी आर अंबेडकर को दिया गया उन्होंने लिखा और कैसे किस तरह आगे वोट और सीट के बिना पर प्राइम मिनिस्टर बनेंगे तो अगर यह सब सिस्टम बना तो यह बनाया ही इन सब ने मिल बे करेक्ट तो यह सवाल ही करना बहुत ही वे मायने और एलिमेंट है कि सरदार पटेल बनते या नेहरू हां यह दोनों एक ओपन एंड पार्टी होते 12 अलग पार्टी को बिलॉन्ग करते दोनों अपनी-अपनी कैंपेनिंग करते कभी वह प्राइम मिनिस्टर होते कभी नेहरू तब हम कह सकते थे कि किसके राज्य में देश ज्यादा तरक्की करता या नहीं करता लेकिन ऐसा तो कभी कुछ हुआ नहीं तो मुझे नहीं लगता कि हमें बेकार की ऐसी बातों को पर ध्यान देना चाहिए जो कभी हुई नहीं सब एक ही पार्टी के थे और आजाद देश के एक सिस्टम का हिस्सा थे तो यह मेरे राय में यह सवाल इरेलीवेंट है और बेकार की बहस अननेसेसरी एक इंसान को नीचा करके दूसरे को सराहना और यह मन में किसी के विचार डालना कि अगर यह होते तो शायद देखिए होता और क्योंकि पंडित नेहरू थे इसलिए आदेश है शायद यह दोनों ही सोच और राय और अप्रोच मैं यह मेरी राय

agar nehru ki jagah sardar patel bharat ke pehle pradhanmantri hote toh kya hamara desh kaisa hota ek baat jab sabse aham hai aur hum sab ko maar karni chahiye mujhe ki 1947 15 august ko jab hamara desh azad hua jo bhi pradhanmantri bane vaah formal system se bane lekin koi election campaign se nahi koi party kisi party ke khilaf nahi ladi koi campaigning nahi hui koi election nahi hue koi election nachin sign nahi thi ke log jaakar congress ko vote diya bjp ko ya kisi aur party ko aisa kuch tha hi nahi toh pehle hum sab ko yah nahi bhoolna chahiye ki pandit nehru prime minister bane kaise vaardaat Hindustan desh ke pehle pradhanmantri the matlab yah hai ki sapne azadi ki ladai ladi yahan se british raj gaya aur aapasi sahmati se jab aap ke hawale aapka desh hua toh bade bade leader jinhone apna yogdan diya azadi mein sab baithe unhone decide ja chuke formal system aapko chahiye aapka desh chalane ke liye toh sardar vallabhbhai patel khud congress ki party ke bahut aham member the wahi thought process rakhte the wahi vision unka tha wahin unki soch unki soch kuch hatake alag nahi toh jab baat I hogi ki hum kis tarah ka system follow karenge toh humne bahut si cheezen british parliament selling lok sabha rajya sabha jasaraj house of kamans house of lords x aur why patil sister multiple party system hai Constitution ke liye be rss ambedkar ko diya gaya unhone likha aur kaise kis tarah aage vote aur seat ke bina par prime minister banenge toh agar yah sab system bana toh yah banaya hi in sab ne mil be correct toh yah sawaal hi karna bahut hi ve maayne aur element hai ki sardar patel bante ya nehru haan yah dono ek open and party hote 12 alag party ko Belong karte dono apni apni campaigning karte kabhi vaah prime minister hote kabhi nehru tab hum keh sakte the ki kiske rajya mein desh zyada tarakki karta ya nahi karta lekin aisa toh kabhi kuch hua nahi toh mujhe nahi lagta ki hamein bekar ki aisi baaton ko par dhyan dena chahiye jo kabhi hui nahi sab ek hi party ke the aur azad desh ke ek system ka hissa the toh yah mere rai mein yah sawaal irelivent hai aur bekar ki bahas unnecessary ek insaan ko nicha karke dusre ko sarahana aur yah man mein kisi ke vichar daalna ki agar yah hote toh shayad dekhiye hota aur kyonki pandit nehru the isliye aadesh hai shayad yah dono hi soch aur rai aur approach main yah meri rai

अगर नेहरू की जगह सरदार पटेल भारत के पहले प्रधानमंत्री होते तो क्या हमारा देश कैसा होता एक

Romanized Version
Likes  259  Dislikes    views  4189
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार पटेल बर्थडे गर्ल भारत के पहले प्रधानमंत्री होते तो आज हमारा देश कैसा होता विकी सही है कि अगर मैं जवाहरलाल नेहरू की जगह अगर सरदार पटेल प्रधानमंत्री होते तो हमारा देश पहले से बेहतर होता जो है उसकी जगह कुछ और होता क्योंकि इतिहास के पन्नों पर अगर हम नजर डालें तो सरदार पटेल को बहुमत से प्रधानमंत्री बनाने के लिए जो नेता लोग थे वह तैयार थे उन्होंने सरदार पटेल को भी अपना नेता माना था लेकिन महात्मा गांधी जी की इच्छा थी कि जवाहरलाल नेहरू प्रधानमंत्री बने वही मम्मट के कारण महात्मा गांधी की ममता के कारण विशेष लगाओ जब अंदर निरूप के साथ होने के कारण सरदार पटेल को ऐसा बात बोली कि सरदार पटेल ने अपना जोगेश्वरी पत्र वापस ले लिए जाने की अपनी उम्मीदवारी वापस ले ली नेहरू जी के कारण और भारत के जो दो टुकड़े किए हैं वह भी महात्मा गांधी जी ने उसको भी मन कब मन से स्वीकार किया क्योंकि मोहम्मद अली जिन्ना और जवाहरलाल नेहरू दो उम्मीदवार थे प्रधानमंत्री बनने के लिए इसीलिए भारत और पाकिस्तान का बंटवारा अब सवाल यह है कि सरदार पटेल नगर भारत के प्रधानमंत्री होते तो कश्मीर की समस्या नहीं होती सरदार पटेल होते पहले प्रधानमंत्री तो आज जो भारत है उससे ज्यादा बेहतर और ज्यादा शक्तिशाली होता जो कि सरदार पटेल नहीं 600 रजवाड़ों को भारत में विलीन किया था और एक राष्ट्र बनाया था ऐसे लोग पुरुष को हम कैसे भूल सकते हैं और उनकी विचक्षण बुद्धि और कुशाग्र एक्टिवेट के कारण ही यह संभव हो पाया था सिर्फ उसके लिए उनकी जो सफलता का कारण था कि वह साम-दाम-दंड-भेद किसी भी तरह भारत को एक अच्छा राष्ट्र बनाना चाहते थे और ताकतवर बनाना चाहते थे अगर उनकी सोच के अनुसार वह होता और वह पहले प्रधानमंत्री होते तो हमारी सोच के अनुसार भारत बहुत आगे हो लेकिन जो इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया उसे जितना या नहीं जा सकता और जवाहरलाल नेहरू प्रधानमंत्री बने बने यूपी कारण लेकिन आज उनके जन्मदिवस के अवसर पर फिर से एक बार सरदार पटेल को हम याद करके उन्हें वंदन करते हैं और उन्हें हम भूल नहीं सकते लोग पूछते हो धन्यवाद

sardar patel birthday girl bharat ke pehle pradhanmantri hote toh aaj hamara desh kaisa hota vicky sahi hai ki agar main jawaharlal nehru ki jagah agar sardar patel pradhanmantri hote toh hamara desh pehle se behtar hota jo hai uski jagah kuch aur hota kyonki itihas ke pannon par agar hum nazar Daalein toh sardar patel ko bahumat se pradhanmantri banaane ke liye jo neta log the vaah taiyar the unhone sardar patel ko bhi apna neta mana tha lekin mahatma gandhi ji ki iccha thi ki jawaharlal nehru pradhanmantri bane wahi mammat ke karan mahatma gandhi ki mamata ke karan vishesh lagao jab andar nirup ke saath hone ke karan sardar patel ko aisa baat boli ki sardar patel ne apna jogeshwari patra wapas le liye jaane ki apni ummidvari wapas le li nehru ji ke karan aur bharat ke jo do tukde kiye hain vaah bhi mahatma gandhi ji ne usko bhi man kab man se sweekar kiya kyonki muhammad ali jinnah aur jawaharlal nehru do ummidvar the pradhanmantri banne ke liye isliye bharat aur pakistan ka batwara ab sawaal yah hai ki sardar patel nagar bharat ke pradhanmantri hote toh kashmir ki samasya nahi hoti sardar patel hote pehle pradhanmantri toh aaj jo bharat hai usse zyada behtar aur zyada shaktishali hota jo ki sardar patel nahi 600 rajvadon ko bharat mein vileen kiya tha aur ek rashtra banaya tha aise log purush ko hum kaise bhool sakte hain aur unki vichakshan buddhi aur kushagra activate ke karan hi yah sambhav ho paya tha sirf uske liye unki jo safalta ka karan tha ki vaah saam daam dand bhed kisi bhi tarah bharat ko ek accha rashtra banana chahte the aur takatwar banana chahte the agar unki soch ke anusaar vaah hota aur vaah pehle pradhanmantri hote toh hamari soch ke anusaar bharat bahut aage ho lekin jo itihas ke pannon mein darj ho gaya use jitna ya nahi ja sakta aur jawaharlal nehru pradhanmantri bane bane up karan lekin aaj unke janmadivas ke avsar par phir se ek baar sardar patel ko hum yaad karke unhe vandan karte hain aur unhe hum bhool nahi sakte log poochhte ho dhanyavad

सरदार पटेल बर्थडे गर्ल भारत के पहले प्रधानमंत्री होते तो आज हमारा देश कैसा होता विकी सही

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1096
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!