पहले छत्रिए और ब्राह्मणों के अलावा दूसरे सम्प्रदाय क्या थे?...


play
user

Sanju junier

EDUCATER

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आप लोग क्वेश्चन पूछा है छतरी और ब्राह्मणों के अलावा दूसरे संप्रदाय गया था अगर हम पहले की बात करें तो पहले तो संप्रदाय नहीं थे सब आ रहे थे और सब श्रेष्ठ से धीरे-धीरे लोगों ने अपने फायदे के लिए लोगों को डिवाइड करना स्टार्ट कर दिया और उन्होंने इन लोगों को संप्रदाय में बांट दिया तो मैं उंगली उन्होंने क्षत्रिय ब्राह्मण वैश्य और शूद्र ऑन 4 पार्ट में डिवाइड कर दिया लोगों को तो जो रैली था जो स्टार्टिंग बताओ तो स्टार्टिंग में सब आ रही है थे ना कोई ब्राह्मण थाना वैश्य थाना सदर थाना क्षेत्र था धीरे-धीरे लोगों ने अपने मतलब के लिए इन लोगों को बड़ा और यह वर्ण व्यवस्था स्टार्ट होती गई तो मैं यह कह सकता हूं कि यह जो वर्ण व्यवस्था है इसके बारे में डिस्कस ना किया जाए तो ही अच्छा है बिकॉज़ कीजिए तोड़ने का काम कर दे कभी जोड़ने का काम नहीं करती

jaisa ki aap log question poocha hai chatri aur brahmanon ke alava dusre sampraday gaya tha agar hum pehle ki baat kare toh pehle toh sampraday nahi the sab aa rahe the aur sab shreshtha se dhire dhire logo ne apne fayde ke liye logo ko divide karna start kar diya aur unhone in logo ko sampraday mein baant diya toh main ungli unhone kshatriya brahman vaiishay aur shudra on 4 part mein divide kar diya logo ko toh jo rally tha jo starting batao toh starting mein sab aa rahi hai the na koi brahman thana vaiishay thana sadar thana kshetra tha dhire dhire logo ne apne matlab ke liye in logo ko bada aur yah varn vyavastha start hoti gayi toh main yah keh sakta hoon ki yah jo varn vyavastha hai iske bare mein discs na kiya jaaye toh hi accha hai because kijiye todne ka kaam kar de kabhi jodne ka kaam nahi karti

जैसा कि आप लोग क्वेश्चन पूछा है छतरी और ब्राह्मणों के अलावा दूसरे संप्रदाय गया था अगर हम प

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ambuj Singh

Media Professional

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले के जमाने में जो ब्राह्मण और क्षत्रिय के अलावा दो और कौन थे जिन्हें की विशाल उसके बाद सुधरा चलाते रहते हैं वह लोग होते थे जो व्यापार किया करते थे ट्रेडिंग जिनका मैना को पेशन व्यापार हुआ करता था वह लोग व्यापारी हुआ करते थे और शूद्र उद्योग कहलाते थे वह सबसे नीचे तबके के उन्हें दलित भी उन्हें हरिजन भी कहा जाता था जो गांधी जी के समय में हुआ हरिश्चंद्र नाम पर कौन है जो शूद्र थे वह काफी नीचे तबके के थे और वह उन्हें काफी दबाया गया था सोसाइटी में उन्हें ईमेल मंदिर जाने की अनुमति नहीं थी और वह बड़े कास्ट के दोनों कॉल पर एक आस कहलाते थे उनके साथ था वह किसी फंक्शन में नहीं जा सकते उनके साथ बैठकर खाना-पीना नहीं खा सकते थे एक तरफ से

pehle ke jamane mein jo brahman aur kshatriya ke alava do aur kaun the jinhen ki vishal uske baad sudhra chalte rehte hain vaah log hote the jo vyapar kiya karte the trading jinka maina ko peshan vyapar hua karta tha vaah log vyapaari hua karte the aur shudra udyog kehlate the vaah sabse niche tabke ke unhe dalit bhi unhe harijan bhi kaha jata tha jo gandhi ji ke samay mein hua harishchandra naam par kaun hai jo shudra the vaah kaafi niche tabke ke the aur vaah unhe kaafi dabaya gaya tha society mein unhe email mandir jaane ki anumati nahi thi aur vaah bade caste ke dono call par ek aas kehlate the unke saath tha vaah kisi function mein nahi ja sakte unke saath baithkar khana peena nahi kha sakte the ek taraf se

पहले के जमाने में जो ब्राह्मण और क्षत्रिय के अलावा दो और कौन थे जिन्हें की विशाल उसके बाद

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विरासत के अनुसार अगला वेशिया व्यापारी वर्ग होता है यह वैश्यों का कर्तव्य होता है कि वह समुदाय की समृद्धि को कृषि पशुपालन व्यापार और उद्योगों के माध्यम से सुनिश्चित करें पैसों को तुलनात्मक रुप से कमजोर माना जाता था और उन्हें शासकों के द्वारा सूचित किया जाता था और इसके बावजूद रहते थे चारों वर्णों में सबसे नीचे का स्तर वह मजदूर गरीब और गरीब किसान और नौकरी होते थे नौकर होते थे शूद्रों माना जाता था कि उनके पास कोई विशेष योग्यता नहीं है और केवल ऊपरी तीनों वर्गों की एक दांत के रूप में सेवा करने के योग्य थे शूद्रों को कोई भी अधिकार और विशेष अधिकार प्राप्त नहीं थे और किसी भी तरह की धार्मिक क्रियाकलापों या हवन करने वेदों को पढ़ने या याद करने के लिए मंत्र का उच्चारण करने की अनुमति नहीं थी यहां तक कि उन्हें मंदिर में प्रवेश करने और धार्मिक परंपराओं को निभाने की भी आजादी नहीं थी

virasat ke anusaar agla veshiya vyapaari varg hota hai yah vaishyon ka kartavya hota hai ki vaah samuday ki samridhi ko krishi pashupalan vyapar aur udhyogo ke madhyam se sunishchit kare paison ko tulnaatmak roop se kamjor mana jata tha aur unhe shaasakon ke dwara suchit kiya jata tha aur iske bawajud rehte the charo varnon mein sabse niche ka sthar vaah majdur garib aur garib kisan aur naukri hote the naukar hote the shudron mana jata tha ki unke paas koi vishesh yogyata nahi hai aur keval upari tatvo vargon ki ek dant ke roop mein seva karne ke yogya the shudron ko koi bhi adhikaar aur vishesh adhikaar prapt nahi the aur kisi bhi tarah ki dharmik kriyaklapon ya hawan karne vedo ko padhne ya yaad karne ke liye mantra ka ucharan karne ki anumati nahi thi yahan tak ki unhe mandir mein pravesh karne aur dharmik paramparaon ko nibhane ki bhi azadi nahi thi

विरासत के अनुसार अगला वेशिया व्यापारी वर्ग होता है यह वैश्यों का कर्तव्य होता है कि वह समु

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!