हमारे देश का मुख्य खेल हॉकी है फिर हम क्रिकेट को इतना प्रमुख क्यों मानते हैं?...


user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

2:30
Play

Likes  159  Dislikes    views  3114
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pankaj Vasuja

Cinematographer

2:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश का मुख्य खेल मुख्य खेल राष्ट्रीय खेल होती है वैसे तो और क्रिकेट कॉम इतना क्यों मानते हैं कि आप सभी जानते हैं कि हिंदुस्तान बहुत समय तक अंग्रेजों का गुलाम रहा है और अंग्रेजो के द्वारा ही क्रिकेट पैदा हुआ था क्रिकेट का जन्मदाता है ब्रिटेन एक सच्चाई है कि हमारे खून में सूचित जीतने की भावना रहती है तो हर बच्चे बच्चे को खेल थोड़ा सा एंटरटेनिंग भी है और जीत की भावना लगान मूवी आपने देखी होगी क्रिकेट जितने भी देश खेलते हैं फिलहाल ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड पाकिस्तान श्रीलंका जितने भी देश खेलते हैं वह सभी ही अंग्रेजों के कभी ना कभी गुलाम रहे हैं अब देखेंगे चाइना बिल्कुल भी क्रिकेट नहीं खेलता बहुत ही ड्राइविंग कंट्री बना है चाइना कुर्सी दशक में कहीं ना कहीं हमारे ब्लड में जो किसी से बदला लेने की भावना आती है वह क्रिकेट खेलते ही हम अपने गुस्सा उतारते थे उन पर यह हमारे सदियों से हमारे ब्लड में ही चला रहा है इसीलिए हमारा राष्ट्रीय खेल हॉकी है हां हॉकी में भी हमने बहुत अच्छा परफॉर्म किया है लेकिन शुरू से ही ऐसा बना है जब से हम आजाद हुए हैं क्रिकेट जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता है उसको फाइनेंस लि और मोरेली बहुत सपोर्ट मिलता है सरकारों के द्वारा भी इसीलिए क्रिकेट को इतनी अहमियत मिलती है बच्चा पैदा होता है तो उन जैसे बड़ों को देखता है हमारे जितने भी अनाउंस नेवी टीवी चैनल न्यू वहां पर प्राथमिकता क्रिकेट कोई मिलती है हमारे बड़े भी उस खेल को शौक से देखते हैं इसीलिए हम क्रिकेट के प्रति इतना एंटरटेनिंग महसूस कर दे धन्यवाद

hamare desh ka mukhya khel mukhya khel rashtriya khel hoti hai waise toh aur cricket com itna kyon maante hain ki aap sabhi jante hain ki Hindustan bahut samay tak angrejo ka gulam raha hai aur angrejo ke dwara hi cricket paida hua tha cricket ka janmadata hai britain ek sacchai hai ki hamare khoon me suchit jitne ki bhavna rehti hai toh har bacche bacche ko khel thoda sa entertaining bhi hai aur jeet ki bhavna lagaan movie aapne dekhi hogi cricket jitne bhi desh khelte hain filhal austrailia new zealand pakistan sri lanka jitne bhi desh khelte hain vaah sabhi hi angrejo ke kabhi na kabhi gulam rahe hain ab dekhenge china bilkul bhi cricket nahi khelta bahut hi driving country bana hai china kursi dashak me kahin na kahin hamare blood me jo kisi se badla lene ki bhavna aati hai vaah cricket khelte hi hum apne gussa utarate the un par yah hamare sadiyon se hamare blood me hi chala raha hai isliye hamara rashtriya khel hockey hai haan hockey me bhi humne bahut accha perform kiya hai lekin shuru se hi aisa bana hai jab se hum azad hue hain cricket jo antararashtriya sthar par khela jata hai usko finance li aur moreli bahut support milta hai sarkaro ke dwara bhi isliye cricket ko itni ahamiyat milti hai baccha paida hota hai toh un jaise badon ko dekhta hai hamare jitne bhi anauns navy TV channel new wahan par prathamikta cricket koi milti hai hamare bade bhi us khel ko shauk se dekhte hain isliye hum cricket ke prati itna entertaining mehsus kar de dhanyavad

हमारे देश का मुख्य खेल मुख्य खेल राष्ट्रीय खेल होती है वैसे तो और क्रिकेट कॉम इतना क्यों म

Romanized Version
Likes  306  Dislikes    views  1988
WhatsApp_icon
user

Rampal Meghwal

Indian Politician

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ये बात तो सही है और युवा पीढ़ी और नोबिता दोनों युवा पत्रकार क्रिकेट में भी अच्छी अच्छा स्थान हासिल कर रहे हैं और विष्णु के साथ चलने के लिए खेल भी करना चाहिए उनको भी मारना चाहिए उसमें भी अच्छी पार निकल आना चाहिए जो अपने राष्ट्र की पहचान बनाते हैं उसकी कबड्डी इन खेलों में प्राथमिकता के आधार पर अभी से तो दे रखी है

ye baat toh sahi hai aur yuva peedhi aur nobita dono yuva patrakar cricket mein bhi achi accha sthan hasil kar rahe hain aur vishnu ke saath chalne ke liye khel bhi karna chahiye unko bhi marna chahiye usme bhi achi par nikal aana chahiye jo apne rashtra ki pehchaan banate hain uski kabaddi in khelo mein prathamikta ke aadhaar par abhi se toh de rakhi hai

ये बात तो सही है और युवा पीढ़ी और नोबिता दोनों युवा पत्रकार क्रिकेट में भी अच्छी अच्छा स्थ

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  1146
WhatsApp_icon
play
user

Mainpal Kashyap

Journalist

0:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्रिकेट का खेल किया कर बात कर क्रिकेट खेलता हूं जो अपने आप सिर्फ आप अपने आप को और निर्भर करता हूं और दूसरा यह है कि कराटे कराटे में क्या है कराटे में आत्मनिर्भर ही आदमी अपनी खुद रक्षा कर सकता है और यह खेल जो है परंपरागत खेल है और लेकिन इसको सरकार हुई थी इसके ऊपर कोई भी ध्यान नहीं देती लेकिन मेरा मानना यह तो अपना घर आते हो गया और दूसरा हॉकी इन पर विशेष ध्यान देना चाहिए इतना मतलब हम उसको मैं छोरी देते नाइट नाम समझते कि ज्यादा जरूरी है

cricket ka khel kiya kar baat kar cricket khelta hoon jo apne aap sirf aap apne aap ko aur nirbhar karta hoon aur doosra yeh hai ki karate karate mein kya hai karate mein aatmanirbhar hi aadmi apni khud raksha kar sakta hai aur yeh khel jo hai paramparagat khel hai aur lekin isko sarkar hui thi iske upar koi bhi dhyan nahi deti lekin mera manana yeh toh apna ghar aate ho gaya aur doosra hockey in par vishesh dhyan dena chahiye itna matlab hum usko main chhori dete night naam samajhte ki zyada zaroori hai

क्रिकेट का खेल किया कर बात कर क्रिकेट खेलता हूं जो अपने आप सिर्फ आप अपने आप को और निर्भर क

Romanized Version
Likes  92  Dislikes    views  2166
WhatsApp_icon
user

Markandey Pandey

Senior Journalist

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्रिकेट को लेकर तो मैं मेरी सोच थोड़ी अलग है कि क्रिकेट चैनल में क्या था कि अगर हम देखे तो भारत में क्रिकेट ही नहीं कई ऐसी चीजें जो कॉलोनियल रूल उपनिवेशवाद होता जो भारत में विदेश गुलाम था और अंग्रेजों का शासन का है तो क्रिकेट ही नहीं कई ऐसी चीज है जिसको लेकर लोग काफी उसके पीछे पागल रहते हैं यह के अंग्रेजी भाषा अंग्रेजी को लेकर पूरे देश में एक वह है कि अगर अंग्रेजी जानते हैं तो बाकी नॉलेज कुछ भी ना हो अंग्रेजी अगर बंदा बोलता है तो लोग उसको और पालिका और अच्छा माल लेते ही क्रिकेट है ऐसे और भी चीजें हैं अंग्रेजी कल्चर है न्यू ईयर मनाना है वैलेंटाइन है तमाम चीजें हैं तो कल और इसे चाहे आप दूसरा सांस्कृतिक संक्रमण कर ले या सांस्कृतिक तालमेल भूत या और भी कोई हमसे इसको आप कर सकते हैं इसको छुपा सकते हैं सकते हैं इसका फेवर कर सकते हैं लेकिन एक पक्षी है और यह सारी सच्चाई है कि अंग्रेजी जो मानसिकता है उसके कारण से क्रिकेट और अपने नेशनल गेम को छोड़कर अपने नेशनल का जो प्राईड है जो राष्ट्रीय सम्मान है उसको छोड़ के लोग जो है क्रिकेट के पीछे भाग रहे हैं तो मेरा यह मानना है कि लोगों के अंदर अभी स्तर पर मिलना चाहिए भारत में नेशनल इजम नहीं है मैं यह नहीं कहता कि देश भक्ति नहीं है देश भक्ति है लेकिन नेशनलिज्म इन दोनों दो बातें

cricket ko lekar toh main meri soch thodi alag hai ki cricket channel mein kya tha ki agar hum dekhe toh bharat mein cricket hi nahi kai aisi cheezen jo kaloniyal rule upaniveshavaad hota jo bharat mein videsh gulam tha aur angrejo ka shasan ka hai toh cricket hi nahi kai aisi cheez hai jisko lekar log kaafi uske peeche Pagal rehte hain yah ke angrezi bhasha angrezi ko lekar poore desh mein ek vaah hai ki agar angrezi jante hain toh baki knowledge kuch bhi na ho angrezi agar banda bolta hai toh log usko aur palika aur accha maal lete hi cricket hai aise aur bhi cheezen hain angrezi culture hai new year manana hai valentine hai tamaam cheezen hain toh kal aur ise chahen aap doosra sanskritik sankraman kar le ya sanskritik talmel bhoot ya aur bhi koi humse isko aap kar sakte hain isko chupa sakte hain sakte hain iska favour kar sakte hain lekin ek pakshi hai aur yah saree sacchai hai ki angrezi jo mansikta hai uske karan se cricket aur apne national game ko chhodkar apne national ka jo praid hai jo rashtriya sammaan hai usko chod ke log jo hai cricket ke peeche bhag rahe hain toh mera yah manana hai ki logo ke andar abhi sthar par milna chahiye bharat mein national ijam nahi hai yah nahi kahata ki desh bhakti nahi hai desh bhakti hai lekin neshanalijm in dono do batein

क्रिकेट को लेकर तो मैं मेरी सोच थोड़ी अलग है कि क्रिकेट चैनल में क्या था कि अगर हम देखे तो

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  1012
WhatsApp_icon
user
0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत का मुख्य अकेला की है लेकिन धीरे-धीरे अब उसकी लगे क्रिकेट ने ले ली है क्योंकि हाथी को हमारे देश में मुख्य लोनी के बाद भी बढ़ावा नहीं दिया गया और उस पर ध्यान भी नहीं दिया गया जबकि आखिरी में भारत में गोल्ड मेडल विश्व स्तर पर जीता क्रिकेट जाएगी व्यवसाय व्यवसाय खेल रहा है क्रिकेट में पैसा पहुंच इस वजह से क्रिकेट की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है और बढ़ गई है तो आगे की जगह क्रिकेट

bharat ka mukhya akela ki hai lekin dhire dhire ab uski lage cricket ne le li hai kyonki haathi ko hamare desh mein mukhya loni ke baad bhi badhawa nahi diya gaya aur us par dhyan bhi nahi diya gaya jabki aakhiri mein bharat mein gold medal vishwa sthar par jita cricket jayegi vyavasaya vyavasaya khel raha hai cricket mein paisa pohch is wajah se cricket ki lokpriyata badhti ja rahi hai aur badh gayi hai toh aage ki jagah cricket

भारत का मुख्य अकेला की है लेकिन धीरे-धीरे अब उसकी लगे क्रिकेट ने ले ली है क्योंकि हाथी को

Romanized Version
Likes  320  Dislikes    views  5056
WhatsApp_icon
user

Mehmood Alum

Law Student

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो हाथी है वह हमारे देश का राष्ट्रीय खेल है और यह ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत ने हाकी में ओलंपिक खेलों में 8 बार गोल्ड मेडल जीते हैं जो कि एक कीर्तिमान है और कोई भी देश इसे अब तक तोड़ नहीं पाया है लेकिन समय के साथ-साथ हमारे देश में क्रिकेट की लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है तो इसलिए आज क्रिकेट ज्यादा खेला जा रहा है लेकिन अगर पिछले 87 सालों के इतिहास को देखें तो हमारे देश में हाथी का स्वर्णिम इतिहास रहा है

dekhie jo haathi hai wah hamare desh ka rashtriya khel hai aur yeh aisa isliye hai kyonki bharat ne hockey mein olympic khelo mein 8 baar gold medal jeete hain jo ki ek kirtiman hai aur koi bhi desh ise ab tak tod nahi paya hai lekin samay ke saath saath hamare desh mein cricket ki lokpriyata badhti hi ja rahi hai toh isliye aaj cricket zyada khela ja raha hai lekin agar pichle 87 salon ke itihas ko dekhen toh hamare desh mein haathi ka swarnim itihas raha hai

देखिए जो हाथी है वह हमारे देश का राष्ट्रीय खेल है और यह ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत ने हाकी

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  438
WhatsApp_icon
user
0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश में मुक्का जो खेल है वह होगी है और उसमें ज्यादा फोकस नहीं देता कि कि वह हो कि जो होता है वह थोड़ा डेंजर होता है कोई खेल नहीं बताया और विभिन्न जो क्रिकेट है बहुत पॉपुलर है हर कोई कर सकता है तो इसके लिए ज्यादा मतलब क्रेजी होता है क्रिकेट के लिए और आप देखिए कहीं पर भी मैच हो रहा है तो यूज़ यूज़ अमाउंट ऑफ गॉड होता है क्यों होता है क्योंकि क्रिकेट बहुत तेजी है इंडिया में और दुनिया में नंबर वन ड्रिंकिंग है तो इसलिए देखना चाहता है थैंक यू

desh mein mukka jo khel hai vaah hogi hai aur usme zyada focus nahi deta ki ki vaah ho ki jo hota hai vaah thoda danger hota hai koi khel nahi bataya aur vibhinn jo cricket hai bahut popular hai har koi kar sakta hai toh iske liye zyada matlab crazzy hota hai cricket ke liye aur aap dekhiye kahin par bhi match ho raha hai toh use use amount of god hota hai kyon hota hai kyonki cricket bahut teji hai india mein aur duniya mein number van drinking hai toh isliye dekhna chahta hai thank you

देश में मुक्का जो खेल है वह होगी है और उसमें ज्यादा फोकस नहीं देता कि कि वह हो कि जो होता

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Rajsi

Sports Commentator & Reporter

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं ऐसा नहीं है हमारे देश में हो कि कोई ना कोई गेम नहीं है अब आप इस बात को सर्च भी कर सकते हैं आप चली इंडिया के पास कोई भी नौकरी गेम नहीं है हॉकी एशिया की सबसे ज्यादा बिजली फॉलो किया जा रहा तुझको लोग मानने लगे कि हमारे देश का खेल बंद होना चाहिए होगी बताओ कि हमारे दम नाशिक गेम नहीं है इन इंडिया के पास कोई भी नहीं है रही बात मुख्यता फॉलो करने की तो क्रिकेट को इतना ज्यादा लोग फॉलो करते हैं क्योंकि उनकी फेडरेशन अपना काम किया है और लोगों तक उसको पहुंचाया है क्रिकेट उस जमाने से फेमस है जब से वर्ल्ड कप में टीम हमारी जीत गए थे वह बातें नागिन MP3 की और उस टाइम से फेडरेशन है यह क्रिकेट कुत्ता फॉलो करना ना सिखा दिया वरना लोग क्रिकेट नहीं फॉलो करते हो कि पर्यटक होते क्योंकि ऑफिस टाइम पर फेमस था और हम लोग सुनते रहो की कॉमेंट्री गुस्साए लोग सुना करते थे तो होगी होता बर्थडे फेडरेशन का काम होता है तख्तापलट हो जाता है और वही कुछ हुआ है बाकी अरे बन्ना सॉन्ग MP3 ना ढूंढा बनाएंगे और - 100 गेम

nahi aisa nahi hai hamare desh mein ho ki koi na koi game nahi hai ab aap is baat ko search bhi kar sakte hai aap chali india ke paas koi bhi naukri game nahi hai hockey asia ki sabse zyada bijli follow kiya ja raha tujhko log manne lage ki hamare desh ka khel band hona chahiye hogi batao ki hamare dum nashik game nahi hai in india ke paas koi bhi nahi hai rahi baat mukhyata follow karne ki toh cricket ko itna zyada log follow karte hai kyonki unki federation apna kaam kiya hai aur logo tak usko pahunchaya hai cricket us jamane se famous hai jab se world cup mein team hamari jeet gaye the vaah batein nagin MP3 ki aur us time se federation hai yah cricket kutta follow karna na sikha diya varna log cricket nahi follow karte ho ki paryatak hote kyonki office time par famous tha aur hum log sunte raho ki commentary gussaye log suna karte the toh hogi hota birthday federation ka kaam hota hai takhtapalat ho jata hai aur wahi kuch hua hai baki are banna song MP3 na dhundha banayenge aur 100 game

नहीं ऐसा नहीं है हमारे देश में हो कि कोई ना कोई गेम नहीं है अब आप इस बात को सर्च भी कर सकत

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  202
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या बता रहे हैं कि हमारे जो मुख्य खेल है हॉकी है फिर भी लोग क्रिकेट को इतना प्रमुखता क्यों देते हैं अखिलेश के पीछे रीजन बहुत सारे हादसे की पहली चीज तो और जो पॉलिटिक्स क्योंकि जो मीडिया कवरेज है हर कुछ तो है क्रिकेट के साथ है क्रिकेट को और लोग ज्यादा बढ़ावा देते कि लड़की लोग को लोग ज्यादा पसंद करते हैं तो उसे कहां जो है क्रिकेट हमारा ज्यादा लोकप्रिय है हॉकी खेला नहीं जाता मतलब बहुत ऊंचे लेवल पर और वहां की जो प्लेयर्स है उसमें पॉपुलैरिटी नहीं है इंडिया के लोगों में इतनी ऐसे काम जो है ग्रीस कम होता है जो सबसे मेन चीज होता है प्रमुखता के देने के बाद तो पॉपुलैरिटी से रहती है कि जो हॉकी प्लेयर से उतना पॉपुलैरिटी नहीं हम इंडिया के लोगों में ज्यादा पाए से कम यह भी एक रीजन हो सकता है और जो इन जो हमारे लीडर्स है बिल्कुल ऐसा चाह रहे हैं कि जो और भी खेल से उसको प्रमुख तहसील कबड्डी को अभी इंटरनेशनल लेवल पर लिया गया हॉकी को भी है जो है 3:00 या फिर जो मीडिया है कवरेज दे रही है तो हो सकता है भविष्य में उसे भी अधिकतर प्रमुखता दिया जाए और वह भी पॉपुलर हो क्रिकेट

kya bata rahe hain ki hamare jo mukhya khel hai hockey hai phir bhi log cricket ko itna pramukhta kyon dete hain akhilesh ke peeche reason bahut saare haadse ki pehli cheez toh aur jo politics kyonki jo media coverage hai har kuch toh hai cricket ke saath hai cricket ko aur log zyada badhawa dete ki ladki log ko log zyada pasand karte hain toh use kahaan jo hai cricket hamara zyada lokpriya hai hockey khela nahi jata matlab bahut unche level par aur wahan ki jo players hai usme popularity nahi hai india ke logo mein itni aise kaam jo hai grease kam hota hai jo sabse main cheez hota hai pramukhta ke dene ke baad toh popularity se rehti hai ki jo hockey player se utana popularity nahi hum india ke logo mein zyada paye se kam yah bhi ek reason ho sakta hai aur jo in jo hamare leaders hai bilkul aisa chah rahe hain ki jo aur bhi khel se usko pramukh tehsil kabaddi ko abhi international level par liya gaya hockey ko bhi hai jo hai 3 00 ya phir jo media hai coverage de rahi hai toh ho sakta hai bhavishya mein use bhi adhiktar pramukhta diya jaaye aur vaah bhi popular ho cricket

क्या बता रहे हैं कि हमारे जो मुख्य खेल है हॉकी है फिर भी लोग क्रिकेट को इतना प्रमुखता क्यो

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिहाद के आज के डेट में नहीं पिछले 25 सालों से 80 सालों से जो लोग हैं वह क्रिकेट के क्रिकेट आज के डेट में जो है वह नंबर वन रोड जो है क्रिकेट के पावर है और अगर कोई क्रिकेट इंडिया टीम में आ जाता है तो उसकी पॉपुलैरिटी बस आसमान छूने लगती है और क्रिकेट में पैसा भी बहुत ज्यादा है और कि मैं समझा कि लोग आजकल हॉकी में होता इंटरेस्टिंग देते हैं हालांकि पहले जो है हमारे आंखों की कोई जो है वह हमारा राष्ट्रीय खेल जो है उसे आना उसका गया था लेकिन लोगों का झुकाव जो है वह क्रिकेट के ऊपर थोड़ा ज्यादा

jihad ke aaj ke date mein nahi pichle 25 salon se 80 salon se jo log hain vaah cricket ke cricket aaj ke date mein jo hai vaah number van road jo hai cricket ke power hai aur agar koi cricket india team mein aa jata hai toh uski popularity bus aasman chune lagti hai aur cricket mein paisa bhi bahut zyada hai aur ki main samjha ki log aajkal hockey mein hota interesting dete hain halaki pehle jo hai hamare aankho ki koi jo hai vaah hamara rashtriya khel jo hai use aana uska gaya tha lekin logo ka jhukaav jo hai vaah cricket ke upar thoda zyada

जिहाद के आज के डेट में नहीं पिछले 25 सालों से 80 सालों से जो लोग हैं वह क्रिकेट के क्रिकेट

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  253
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल आपका बहुत अच्छा है कि हमारा देश का राष्ट्रीय खेल हॉकी बना हुआ है लेकिन हम क्रिकेट को प्रमुख तौर पर आप देखे हैं 3 साल का बच्चा भी प्लास्टिक का बैग हाथ में लिए घूमता है वह बचपन से वो धीरे धीरे प्लास्टिक का बदला लकड़ी का बदला बन जाता है और वहां पर उसे खेलना अपने दोस्तों के साथ शुरू कर देता है और जो चीज खेलता है वह TV में देखना पसंद करते हैं और एक बीवी हो तो ऐसी फिल्म जाने की सोच तो और ज्यादा रहता है अरे ग्राउंड में बच्चों को खेलना जानता ही नहीं इसके बारे में इतना बढ़ावा नहीं है क्यों आज तक मुख्य कारण है पैसा भी एक मुख्य कारण है क्योंकि बड़े हो जाते हैं समझ आ जाती है देखते हैं पैसा कि मैं नहीं है क्रिकेट में ज्यादा लाइट लाइट ज्यादा है फिल्म ज्यादा क्रिकेट में धोनी और कोहली का नाम दा धाबा जाएगी ध्यानचंद और किसी सरदार का सरदार सिंह का नाम तो जिनका नाम ज्यादा है उसी फिल्में जिनका नाम स्वागत सुनते हैं अखबार TV सब जगह उन्हीं के नाम के बारे में चर्चा वोट से जुड़ना चाहते जहां बच्चों को बचाने की बात और कोई इंटरेस्ट नहीं है बहुत अच्छा बहुत अच्छा है और दूसरी चीज को बढ़ावा देना चाहिए इसके मैसेज ज्यादा मिलना चाहिए थोड़ा कम

sawaal aapka bahut accha hai ki hamara desh ka rashtriya khel hockey bana hua hai lekin hum cricket ko pramukh taur par aap dekhe hain 3 saal ka baccha bhi plastic ka bag hath mein liye ghoomta hai vaah bachpan se vo dhire dhire plastic ka badla lakdi ka badla ban jata hai aur wahan par use khelna apne doston ke saath shuru kar deta hai aur jo cheez khelta hai vaah TV mein dekhna pasand karte hain aur ek biwi ho toh aisi film jaane ki soch toh aur zyada rehta hai are ground mein baccho ko khelna jaanta hi nahi iske bare mein itna badhawa nahi hai kyon aaj tak mukhya karan hai paisa bhi ek mukhya karan hai kyonki bade ho jaate hain samajh aa jaati hai dekhte hain paisa ki main nahi hai cricket mein zyada light light zyada hai film zyada cricket mein dhoni aur kohli ka naam the dhaba jayegi dhyanchand aur kisi sardar ka sardar Singh ka naam toh jinka naam zyada hai usi filme jinka naam swaagat sunte hain akhbaar TV sab jagah unhi ke naam ke bare mein charcha vote se judna chahte jaha baccho ko bachane ki baat aur koi interest nahi hai bahut accha bahut accha hai aur dusri cheez ko badhawa dena chahiye iske massage zyada milna chahiye thoda kam

सवाल आपका बहुत अच्छा है कि हमारा देश का राष्ट्रीय खेल हॉकी बना हुआ है लेकिन हम क्रिकेट को

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

और देखिए भारत का जो है हम कह सकते मुख्य खेल हॉकी है लेकिन फिर भी क्रिकेट जो इतना प्रमुख शिष्य माना जाता है क्योंकि जिस प्रकार से बड़े-बड़े पैसों जो है वह क्रिकेट में इन्वेस्ट किए जाते अगर हम देखें जिस प्रकार से भारत में जो है वर्ष में कम से कम 40 से 50 ODI रखे जाते हैं और शिव यही नियम यह भी देख सकते कि आज इस प्रकार से आई पिया फेवरेट रोहित ने इस डोमेस्टिक लीग में इतने से पैसे खर्च किए जाए तो हर एक का सपना होता है कि वह एक क्रिकेट खिलाड़ी बने और यही कारण बताइए क्रिकेट लाइव ज्यादा देखते हो जिस प्रकार से एडवर्टाइजमेंट पवन सिंह के पैसे मिलते हैं क्रिकेट स्कोर लाइव क्रिकेट स्कोर तो उसे देखकर ऐसा ही लगता है कि कि कि ज्यादा प्रमुख है आप किससे यही नहीं क्रिकेट में जो हम कह सकते क्रिकेट भारत में प्रमुख फसलें इतना है क्योंकि यहां पर हो कैसे यह एकमात्र ऐसा खेल है जहां पर भारत जो एकदम कंसिस्टेंसी से एकदम अच्छे तरीके से से परफॉर्म कर सकता है और से भी नहीं जिस प्रकार से कपिल देव 1993 का क्रिकेट वर्ल्ड कप जीता था तो खाना कहां पर है यही कारण था यही मुख्य कारण था कि क्रिकेट जो प्रमुख होने लगा भारत में और सीबीआई ने क्रिकेट और यादव फीमेल से प्ले हॉकी से क्योंकि होगी को इतना टेंशन नहीं मिल पाए मीडिया के थ्रू जितना क्रिकेट को मिल पा रहा था और सीबीआई ने हॉकी के मैसेज भेजो इतने भी कुछ भी नहीं खेले जाते हैं राष्ट्रीय स्तर पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्तर पर अपन कैसे थे जिस प्रकार से क्रिकेट के मैच खेले जाते हैं तो खाना कहां पर यही कारण है कि क्रिकेट जो है वह ज्यादा फेमस है ज्यादा प्रमुख का है ओके की तुलना में

aur dekhiye bharat ka jo hai hum keh sakte mukhya khel hockey hai lekin phir bhi cricket jo itna pramukh shishya mana jata hai kyonki jis prakar se bade bade paison jo hai vaah cricket mein invest kiye jaate agar hum dekhen jis prakar se bharat mein jo hai varsh mein kam se kam 40 se 50 ODI rakhe jaate hain aur shiv yahi niyam yah bhi dekh sakte ki aaj is prakar se I piya favourite rohit ne is domestic league mein itne se paise kharch kiye jaaye toh har ek ka sapna hota hai ki vaah ek cricket khiladi bane aur yahi karan bataye cricket live zyada dekhte ho jis prakar se advertisement pawan Singh ke paise milte hain cricket score live cricket score toh use dekhkar aisa hi lagta hai ki ki ki zyada pramukh hai aap kisse yahi nahi cricket mein jo hum keh sakte cricket bharat mein pramukh faslen itna hai kyonki yahan par ho kaise yah ekmatra aisa khel hai jaha par bharat jo ekdam kansistensi se ekdam acche tarike se se perform kar sakta hai aur se bhi nahi jis prakar se kapil dev 1993 ka cricket world cup jita tha toh khana kahaan par hai yahi karan tha yahi mukhya karan tha ki cricket jo pramukh hone laga bharat mein aur cbi ne cricket aur yadav female se play hockey se kyonki hogi ko itna tension nahi mil paye media ke through jitna cricket ko mil paa raha tha aur cbi ne hockey ke massage bhejo itne bhi kuch bhi nahi khele jaate hain rashtriya sthar par antararashtriya sthar par sthar par apan kaise the jis prakar se cricket ke match khele jaate hain toh khana kahaan par yahi karan hai ki cricket jo hai vaah zyada famous hai zyada pramukh ka hai ok ki tulna mein

और देखिए भारत का जो है हम कह सकते मुख्य खेल हॉकी है लेकिन फिर भी क्रिकेट जो इतना प्रमुख शि

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
क्रिकेट खेल ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!