यदि आप समय में 5 साल पीछे जाते हैं तो आप क्या बदलेंगे?...


user

Ekta

Researcher and Writer

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हर हर इंसान यही सोचता है कि अगर उसे एक बार पीछे अपने वापस जिंदगी में जाने का मौका मिला तो वह जरूर अपनी गलतियों को सही करना चाहेगा और ऐसे मोमेंट्स क्लियर करना चाहेगा जिस से आगे फ्यूचर में वह खुश रह सके तो अगर मुझसे यह पूछा जाए तो मैं वही करूंगी जो गलतियां मैंने की है जो चीजें मैं अब समझ पा रही हूं मैं पीछे 5 साल पीछे जाकर यही करना चाहूंगी कि मैं उन्हीं होने से रोक सकती हूं जिससे कि बाद में फ्यूचर में अखिलेश उस चीजों से मुझे ज्यादा परेशान ना होना पड़ेगा जबकि फ्यूचर एंड चाहते हैं आगे और भी परेशानी आ सकती है जिसका कोई भी अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है अब पर हम पीछे जाकर अपनी गलतियों को बदले की कोशिश करते हैं और ऐसी गलतियां जो हमें भी हमें मुश्किल है बहुत ज्यादा हर्ट करती है क्योंकि इमोशनल कंडीशन बहुत बड़ी कर देती है इंसान की फिजिकल और मेंटल कंडीशन को भी तो हम उससे निकलने की ज्यादा बार कोशिश करते हैं और हर इंसान के लिए जिंदगी में कुछ ऐसे जरूर पास होते हैं तो जरूर टाइम्स होती है जब वह ऐसा बदलना चाहता है तो मैं बिल्कुल ऐसा ही करना चाहूंगी जिससे कि मैं अपना फ्यूचर एक अच्छे तरीके से बना सकूं और उन परेशानियों से रिलीज बस सकूं शिवचरण

ji har har insaan yahi sochta hai ki agar use ek baar piche apne wapas zindagi mein jaane ka mauka mila to wah jarur apni galatiyon ko sahi karna chahega aur aise moments clear karna chahega jis se aage future mein wah khush rah sake to agar mujhse yeh poocha jaye to main wahi karungi jo galtiya maine ki hai jo cheezen main ab samajh pa rahi hoon main piche 5 saal piche jaakar yahi karna chahungi ki main unhi hone se rok sakti hoon jisse ki baad mein future mein akhilesh us chijon se mujhe jyada pareshan na hona padega jabki future end chahte hai aage aur bhi pareshani aa sakti hai jiska koi bhi andaja nahi lagaya ja sakta hai ab par hum piche jaakar apni galatiyon ko badle ki koshish karte hai aur aisi galtiya jo hume bhi hume mushkil hai bahut jyada heart karti hai kyonki emotional condition bahut baadi kar deti hai insaan ki physical aur mental condition ko bhi to hum usse nikalne ki jyada baar koshish karte hai aur har insaan ke liye zindagi mein kuch aise jarur paas hote hai to jarur times hoti hai jab wah aisa badalna chahta hai to main bilkul aisa hi karna chahungi jisse ki main apna future ek acche tarike se bana sakun chahiye aur un pareshaniyo se release bus sakun chahiye shivcharan

जी हर हर इंसान यही सोचता है कि अगर उसे एक बार पीछे अपने वापस जिंदगी में जाने का मौका मिला

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  14
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!