जब सब जानते है की सबको एक ना एक दिन मरना है, तो लोग मौत से इतना डरते क्यों हैं?...


user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी सही मायने में देखे तो लोग मौत से नहीं डरते डरते किस्से हैं वह डरते हैं उस बंधन से वह बंधन रिश्तो का बंधन हो सकता है वह मैटेरियलिस्टिक चीजों का बंधन हो सकते हैं जो उन्हें जकड़े रहती है और उन्हें लगता है कि उसके बाद क्या मेरे जाने के बाद क्या तो एक तो वह इंसान अपने बारे में सोचने की वजह हो यह देखते कि मैं इस से बिछड़ जाऊंगा इन से छूट जाऊंगा तो वह डर होता है वह मौका होता है कि चीज मैंने नहीं किया यह मेरा काम अधूरा रह गया यह होना था यह ऐसे होना था अभी मैं कुछ और कर सकता था यह मोह मोह है जिसे इंसान रहता है वह मौत से डर ना अलग बात है जब मुझे चोट लग गई है घायल हो गया हूं और मैं मरने वाला हूं तब मेरी स्थिति क्या होती है वह होती है उस समय की मानसिक स्थिति कि मैं कुछ और शेर कुछ और समय जीना चाहता हूं वह अलग कहानी है लेकिन जनरल क्या होता है उस मोह के कारण इंसान जीना चाहते हैं वह मैं खुद से लगाओ भी हो सकता है क्योंकि मैं अपने आप को बहुत प्यार करता हूं मैं चाहता हूं कि मैं और जी हूं मैं चाहता हूं कि मैं कुछ और करूं तो यह जो डर है यह डर मौत का नहीं है उस इवेंट का नहीं है जो कि क्षण भर में हो जाएगा यह डर उस मौका है जो हम त्यागने से डरते हैं कतराते हैं क्योंकि यह सारी चीजें हमें धरती पर आने के बाद इकट्ठा की हुई है बचपन से लेकर अभी तक चाहे वह शरीर हो चाहे वह पैसे रुपए में जो भी कुछ हो ओके दिमाग में जो भी इनफार्मेशन है वह सब कुछ दिमाग शरीर पैसा रूपया धन दौलत फिजिकल सब कुछ हमने इकट्ठा किया हुआ है यह जो वो है यह उससे छूटने का मुंह है कोई और मोनी

ji sahi maayne mein dekhe toh log maut se nahi darte darte kisse hai vaah darte hai us bandhan se vaah bandhan rishto ka bandhan ho sakta hai vaah maiteriyalistik chijon ka bandhan ho sakte hai jo unhe jakade rehti hai aur unhe lagta hai ki uske baad kya mere jaane ke baad kya toh ek toh vaah insaan apne bare mein sochne ki wajah ho yah dekhte ki main is se bichhad jaunga in se chhut jaunga toh vaah dar hota hai vaah mauka hota hai ki cheez maine nahi kiya yah mera kaam adhura reh gaya yah hona tha yah aise hona tha abhi main kuch aur kar sakta tha yah moh moh hai jise insaan rehta hai vaah maut se dar na alag baat hai jab mujhe chot lag gayi hai ghayal ho gaya hoon aur main marne vala hoon tab meri sthiti kya hoti hai vaah hoti hai us samay ki mansik sthiti ki main kuch aur sher kuch aur samay jeena chahta hoon vaah alag kahani hai lekin general kya hota hai us moh ke karan insaan jeena chahte hai vaah main khud se lagao bhi ho sakta hai kyonki main apne aap ko bahut pyar karta hoon main chahta hoon ki main aur ji hoon main chahta hoon ki main kuch aur karu toh yah jo dar hai yah dar maut ka nahi hai us event ka nahi hai jo ki kshan bhar mein ho jaega yah dar us mauka hai jo hum tyaagane se darte hai katrate hai kyonki yah saree cheezen hamein dharti par aane ke baad ikattha ki hui hai bachpan se lekar abhi tak chahen vaah sharir ho chahen vaah paise rupaye mein jo bhi kuch ho ok dimag mein jo bhi information hai vaah sab kuch dimag sharir paisa rupya dhan daulat physical sab kuch humne ikattha kiya hua hai yah jo vo hai yah usse chutney ka mooh hai koi aur moni

जी सही मायने में देखे तो लोग मौत से नहीं डरते डरते किस्से हैं वह डरते हैं उस बंधन से वह बं

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  402
WhatsApp_icon
22 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sanam Kumar

Life Coach

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जनमोर्चा निडरता इंसान अपने साथ जो परिवार जुड़ा होता है अपनी मौत के बाद उनसे उनको देखने से डरता है तो मौत तो आनी है तो कोई दो फैक्टर नहीं है लेकिन हर इंसान के दिमाग में ही होता है कि मेरी जीवन की कुछ जिम्मेदारी है जिनको मैं घूमता उठा हूं अब मेरे बच्चे हैं तुमको पढ़ा लिखा हूं अपनी वाइफ के साथ समय व्यतीत करो और जब उस उस उस की शॉर्टेज होती है तो इंसान को इंसान मरने से डरता है इस तरह से समझी ना कि आपने 3 घंटे की पिक्चर की टिकट ले रखी है और आपको 3 घंटा पूरा पिक्चर देखना चाहते हैं पिक्चर तो खत्म होनी है यह तो आपको पता है अगर आप एक घंटा आधा घंटा डेढ़ घंटे के बाद बीच में उठकर जाएंगे तो आपको कैसा लगेगा की पिक्चर बीच में छूट गई ना ऐसा लगेगा इसमें जब आदमी 50 साल 570 साल का आज के जमाने में हो जाता तो मेंटली रेडी हो जाता है कि मैंने अपनी लाइफ की जर्नी जिले के पर पिछले जमाने में तेजी से कहते थे कि वानप्रस्थ आश्रम में चले जाते थे ग्रस्त आश्रम से निकल कि भैया बम उस बेचारी अपना वैराग्य में जा रहे हैं तो लोग मरने से नहीं डरते कि दुनिया छोड़ दी है लोग मरने से डरते हैं कि जो जिम्मेदारियां छोड़ देंगे उनका क्या होगा बैठक भाग दूसरा सत्र में हमेशा ही बात ऑलवेज बोलता हूं कि इंसान को जीना है तो चाहिए जैसे कि जिसने उसको एक पीला एक दिन मरेगा और मरना ऐसे चाहिए कि वह जिया प्रभुता के इंसान जीता है ऐसे जैसे कभी मरेगा नहीं बुरा झूठ फरेब बेईमानी लोगों का दिल दुखाना पैसे के लिए कुछ भी करना और जिस दिन मरता है तो ऐसे मरता जैसे जी आई नहीं तो यू हैव टू की पर बैलेंस अब देखिए जो चीज जिंदगी में आप आए हैं तो आपको जाना है मौत के अलावा और कोई भी निश्चित नहीं है अब किसके बीच का समय आप कैसे निकालेंगे यह आपके ऊपर डिपेंड है आप दुनिया को रुला कर जाओगे यह दुनिया को हंसा कर जाओगे यह आपके ऊपर

janmorcha nidarata insaan apne saath jo parivar jinko hota hai apni maut ke baad unse unko dekhne se darta hai toh maut toh aani hai toh koi do factor nahi hai lekin har insaan ke dimag mein hi hota hai ki meri jeevan ki kuch jimmedari hai jinako main ghoomta utha hoon ab mere bacche hain tumko padha likha hoon apni wife ke saath samay vyatit karo aur jab us us us ki shortage hoti hai toh insaan ko insaan marne se darta hai is tarah se samjhi na ki aapne 3 ghante ki picture ki ticket le rakhi hai aur aapko 3 ghanta pura picture dekhna chahte hain picture toh khatam honi hai yah toh aapko pata hai agar aap ek ghanta aadha ghanta dedh ghante ke baad beech mein uthakar jaenge toh aapko kaisa lagega ki picture beech mein chhut gayi na aisa lagega isme jab aadmi 50 saal 570 saal ka aaj ke jamane mein ho jata toh mentally ready ho jata hai ki maine apni life ki journey jile ke par pichle jamane mein teji se kehte the ki vanaprasth ashram mein chale jaate the grast ashram se nikal ki bhaiya bomb us bechari apna varagya mein ja rahe hain toh log marne se nahi darte ki duniya chod di hai log marne se darte hain ki jo zimmedariyan chod denge unka kya hoga baithak bhag doosra satra mein hamesha hi baat always bolta hoon ki insaan ko jeena hai toh chahiye jaise ki jisne usko ek peela ek din marega aur marna aise chahiye ki vaah jiya prabhuta ke insaan jita hai aise jaise kabhi marega nahi bura jhuth fareb baimani logo ka dil dukhana paise ke liye kuch bhi karna aur jis din marta hai toh aise marta jaise ji I nahi toh you have to ki par balance ab dekhiye jo cheez zindagi mein aap aaye hain toh aapko jana hai maut ke alava aur koi bhi nishchit nahi hai ab kiske beech ka samay aap kaise nikalenge yah aapke upar depend hai aap duniya ko rula kar jaoge yah duniya ko hansa kar jaoge yah aapke upar

जनमोर्चा निडरता इंसान अपने साथ जो परिवार जुड़ा होता है अपनी मौत के बाद उनसे उनको देखने से

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  833
WhatsApp_icon
user

Es Sanjay Agarwal

Motivational Speaker

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब सब जानते हैं कि सबको एक ना एक दिन मरना है तो लोग क्यों डरते हैं मैं आपको बताना चाहूंगा जो है वह मरने के लिए डरता नहीं मरने के लिए डरता नहीं है वह डरते हैं इसलिए क्योंकि जो उनके डिपेंडेबल है जो भी उनके फैमिली में फ्रेंड्स में या तो जो भी उनका वेलस्टैंड होते हैं तो उनका क्या होगा उनका बेटे या तो बेटा जो भी होंगे वाइफ होगा या तो पापा मम्मी होंगे कोई भी होगा उनका क्या होगा नेक्स्ट डरते हैं अगर ऐसा होता तो क्या तो सिगरेट या तो जो भी मतलब अल्कोहल लेते हैं वह नहीं सोचते तो आप बताना मरने से नहीं डरते हैं वह जो डिपेंडेबल है दो डिपेंडिंग सेक्टर से उसके लिए वह डरते हैं तो आई होप यू अंडरस्टूड द प्वाइंट टो थैंक यू

jab sab jante hain ki sabko ek na ek din marna hai toh log kyon darte hain main aapko batana chahunga jo hai vaah marne ke liye darta nahi marne ke liye darta nahi hai vaah darte hain isliye kyonki jo unke dependable hai jo bhi unke family mein friends mein ya toh jo bhi unka velastaind hote hain toh unka kya hoga unka bete ya toh beta jo bhi honge wife hoga ya toh papa mummy honge koi bhi hoga unka kya hoga next darte hain agar aisa hota toh kya toh cigarette ya toh jo bhi matlab alcohol lete hain vaah nahi sochte toh aap batana marne se nahi darte hain vaah jo dependable hai do depending sector se uske liye vaah darte hain toh I hope you understood the point toe thank you

जब सब जानते हैं कि सबको एक ना एक दिन मरना है तो लोग क्यों डरते हैं मैं आपको बताना चाहूंगा

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  443
WhatsApp_icon
play
user

Norang sharma

Social Worker

2:48

Likes  68  Dislikes    views  1108
WhatsApp_icon
user

Debabrata Maity

Business Owner | Motivational Speaker

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय फ्रेंड मरने से सब कुछ तो नहीं डरता हकीकत बात तो यही है अगर मरने से हर एक आदमी डरता तो इतने सारे सुसाइड अटेम्प्ट क्यों होते हैं मेरा सवाल आपके पास इतने सारे लिस्ट क्यों बनते अगर मरने से कभी डरता हो तो आदमी हां कुछ-कुछ आदमी डरता जरूर है लेकिन जब हमारा मन में पैदा होता है पैदा किया जाता है आरजू ट्रेरिस्ट बनता है ना उसका मन से डर को हटाया जाता है माइंड वाश किया जाता है और जो साधु संत लोग है वह भी एक डिफरेंट पार्ट है वह लोग भी डरते नहीं है मरने से ठीक है वह लोग जानते हैं नेक्स्ट क्या होना है अब देखेंगे नहीं चर का नियम है प्रकृति का नियम ऐसा है वह होता है क्या चेंज बिश्नोई जहां होगा वहां क्रिएशन होगी एक नियम में तो हमारा मत हमारा अंत नहीं है वह हमारा शुरुआत के जस्ट आगे वाला पाठ होता है यह साधु संत लोग जानते हैं इसीलिए उन्होंने डरते नहीं देखिए जहां पर जहां भी डिस्टिक हुआ है वहां पर ही क्रिएशन संभव हुआ है बस एबिलिटी बनता है इसीलिए मरने से कभी डरना नहीं चाहिए क्योंकि शुरुआत हुई से होता है

hi friend marne se sab kuch toh nahi darta haqiqat baat toh yahi hai agar marne se har ek aadmi darta toh itne saare suicide attempt kyon hote hain mera sawaal aapke paas itne saare list kyon bante agar marne se kabhi darta ho toh aadmi haan kuch kuch aadmi darta zaroor hai lekin jab hamara man mein paida hota hai paida kiya jata hai aaraju trerist banta hai na uska man se dar ko hataya jata hai mind wash kiya jata hai aur jo sadhu sant log hai vaah bhi ek different part hai vaah log bhi darte nahi hai marne se theek hai vaah log jante hain next kya hona hai ab dekhenge nahi char ka niyam hai prakriti ka niyam aisa hai vaah hota hai kya change bishnoi jaha hoga wahan creation hogi ek niyam mein toh hamara mat hamara ant nahi hai vaah hamara shuruat ke just aage vala path hota hai yah sadhu sant log jante hain isliye unhone darte nahi dekhiye jaha par jaha bhi district hua hai wahan par hi creation sambhav hua hai bus ability banta hai isliye marne se kabhi darna nahi chahiye kyonki shuruat hui se hota hai

हाय फ्रेंड मरने से सब कुछ तो नहीं डरता हकीकत बात तो यही है अगर मरने से हर एक आदमी डरता तो

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  679
WhatsApp_icon
user

Sonika Mishra

Research & Poetry

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग इतना डरते क्यों हैं कि कहीं ना कहीं जिस चीज से बहुत ज्यादा अटैचमेंट हो जाती है उससे दूर जाने से डरते हैं वह लोग मौत से नहीं डरते हैं जैसे कि मैं आपको बताऊं कि किसी से आपको बहुत ज्यादा प्रेम है तो आप उससे बोला जाए आप दूर चले जाए तो आपको डर लगेगा इसी तरह जिंदगी है जिंदगी को हम अच्छा मानते हैं उसको जीने लगते हैं उसे प्यार करने लगते हैं तो उससे दूर जाने में हमें डर लगता है

jab sab jante hain ki sab ko ek na ek din marna hai toh log itna darte kyon hain ki kahin na kahin jis cheez se bahut zyada attachment ho jaati hai usse dur jaane se darte hain vaah log maut se nahi darte hain jaise ki main aapko bataun ki kisi se aapko bahut zyada prem hai toh aap usse bola jaaye aap dur chale jaaye toh aapko dar lagega isi tarah zindagi hai zindagi ko hum accha maante hain usko jeene lagte hain use pyar karne lagte hain toh usse dur jaane mein hamein dar lagta hai

जब सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग इतना डरते क्यों हैं कि कहीं ना कहीं ज

Romanized Version
Likes  77  Dislikes    views  2366
WhatsApp_icon
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आपका क्वेश्चन है जब सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग मुझसे इतना डरती क्यों हो तो उसको जरूर करेंगे क्योंकि भगवान इंसान का शरीर दिया है कुछ करने के लाइफ में और एक टाइम है उसकी पहले कोई मरता है तो मर जाता है क्योंकि एक ही चीज है जो इंसान डरता है ना किसी से ना डरता नहीं तो सबको इस पृथ्वी के मोह माया कमली से प्यार है इसलिए वह डरता है मरने से थैंक यू

namaskar doston aapka question hai jab sab jante hain ki sab ko ek na ek din marna hai toh log mujhse itna darti kyon ho toh usko zaroor karenge kyonki bhagwan insaan ka sharir diya hai kuch karne ke life mein aur ek time hai uski pehle koi marta hai toh mar jata hai kyonki ek hi cheez hai jo insaan darta hai na kisi se na darta nahi toh sabko is prithvi ke moh maya kamli se pyar hai isliye vaah darta hai marne se thank you

नमस्कार दोस्तों आपका क्वेश्चन है जब सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग मुझस

Romanized Version
Likes  119  Dislikes    views  1232
WhatsApp_icon
user

Suresh Jeswani

Life Coach

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बस बाकी सब जानते हैं कि नितिन वरना फिर भी मत ने समुद्र से क्यों हम लोग डरते हैं जिस चीज के बारे में नॉलेज नहीं है परंतु कभी नॉलेज दिया भी नहीं जाता है कि मौत जो है वह मिल सकते हैं जिंदगी जी रहे हैं सभी बड़े हुए हैं वह डर को खत्म करना है कि हम लोगों के साथ में जिस किसी भी चीज पर प्रकाश पड़ता है

bus baki sab jante hai ki nitin varna phir bhi mat ne samudra se kyon hum log darte hai jis cheez ke bare mein knowledge nahi hai parantu kabhi knowledge diya bhi nahi jata hai ki maut jo hai vaah mil sakte hai zindagi ji rahe hai sabhi bade hue hai vaah dar ko khatam karna hai ki hum logo ke saath mein jis kisi bhi cheez par prakash padta hai

बस बाकी सब जानते हैं कि नितिन वरना फिर भी मत ने समुद्र से क्यों हम लोग डरते हैं जिस चीज के

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  1517
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यह सब के घर व्यक्ति को इतने दिन मरना है व्यक्ति को दिन में स्वीकृत करना चाहिए जिसे मैट्रिक इंटर मैट्रिक इंटर लड़की सेंटर खत्म कर सकते हैं कि मौत से डरने की जरूरत नहीं है आप भी मत रखे हो जाएगा कि आगे बढ़ते हुए कुछ

haan yah sab ke ghar vyakti ko itne din marna hai vyakti ko din mein sawikrit karna chahiye jise metric inter metric inter ladki center khatam kar sakte hain ki maut se darane ki zarurat nahi hai aap bhi mat rakhe ho jaega ki aage badhte hue kuch

हां यह सब के घर व्यक्ति को इतने दिन मरना है व्यक्ति को दिन में स्वीकृत करना चाहिए जिसे मैट

Romanized Version
Likes  57  Dislikes    views  664
WhatsApp_icon
user

Dr Anil Shalwa

Life Coach, Past Life Regression Therapist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने लिखा है जब हम सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग मौत से इतना डरते क्यों हैं नहीं मौत से लोग इसलिए डरते हैं इतना कि भले ही लोग कितना भी बोले कि जीवन बहुत बेकार है लेकिन तब भी वह जीना चाहते हैं आपने कई लोग ऐसे देखे होंगे जिनके हाथ पैर नहीं है पूरी तरीके से आप आ ही जाए या बहुत गरीब है या जीवन में बहुत तकलीफ है तब भी यह नहीं होता कि वह जीवन को छोड़ इसका मतलब हम जीवन से प्यार करते हैं और जीवन को जीना चाहते हैं तो यह बहुत बड़ा सत्य है कि हर एक को एक दिन मरना है लेकिन इंसान इस सच को स्वीकार नहीं करता तो हम सब जानते हैं कि हम को एक न एक दिन मरना कभी मरने से डरते रहते हैं क्योंकि एक आशा जिंदा रहती है कि कल कुछ अच्छा होगा कल कुछ अच्छा होगा और इसी आशा से जीवन चलता रहता है कि 1 दिन कुछ अच्छा होगा और जीवन बदल जाएगा यही सोचकर लोग मुझसे डरते रहते हैं कि अभी भी जीवन में कुछ अच्छा होना बाकी है तो इस चीज को बहुत अध्यात्मिक भाषा में हम बोले तो इसी का नाम आया है माया में फंसा होता है उस सत्य को नहीं जानता था तो मुंह देख सकते हर किसी की हो ना इसको आज तक कोई टाल नहीं पाया लेकिन माया इतना उलझा कर रखती है तो जोड़ो माया में फंसे हैं वह ज्यादा मौत से डरते हैं जिन लोग जो लोग भी सत्य के करीब है उनको सत्य का आभास होना शुरू हो जाता है वह मौत से डरते नहीं है वह मौत का इंतजार करते हैं और मरते वक्त भी हो बड़े खुशी-खुशी मौत को गले लगाते हैं तो यह चीज दिन कुछ लोगों के जीवन में होती है जो सत्य के करीब पहुंच जाते हैं तो इसी का नाम आया है कि कितनी भी जिंदगी में तकलीफ हो तब भी लोग मौत से डरे और जीवन को प्यार करें इसी का नाम आया है तो अंत में उनको बहुत तकलीफ होती है जब प्राण निकलते होते हैं क्योंकि उनको सत्य का ज्ञान तब भी नहीं होता है और तब भी उनको मौत बहुत भयानक लगती होती है तो सत्य की तरफ जो बढ़ते हैं उनको मौत से डर नहीं लगता वह मौत से नहीं डरते तो मैं प्रार्थना करता हूं कि आपको भी सत्य का ज्ञान हो जीवन में और आप अपने जब भी जीवन में कभी आपके मौत आया बहुत खुशी खुशी सो गले लगा सके और आपकी आत्मा की उन्नति हो थैंक यू वेरी मच

aapne likha hai jab hum sab jante hain ki sab ko ek na ek din marna hai toh log maut se itna darte kyon hain nahi maut se log isliye darte hain itna ki bhale hi log kitna bhi bole ki jeevan bahut bekar hai lekin tab bhi vaah jeena chahte hain aapne kai log aise dekhe honge jinke hath pair nahi hai puri tarike se aap aa hi jaaye ya bahut garib hai ya jeevan mein bahut takleef hai tab bhi yah nahi hota ki vaah jeevan ko chod iska matlab hum jeevan se pyar karte hain aur jeevan ko jeena chahte hain toh yah bahut bada satya hai ki har ek ko ek din marna hai lekin insaan is sach ko sweekar nahi karta toh hum sab jante hain ki hum ko ek na ek din marna kabhi marne se darte rehte hain kyonki ek asha zinda rehti hai ki kal kuch accha hoga kal kuch accha hoga aur isi asha se jeevan chalta rehta hai ki 1 din kuch accha hoga aur jeevan badal jaega yahi sochkar log mujhse darte rehte hain ki abhi bhi jeevan mein kuch accha hona baki hai toh is cheez ko bahut adhyatmik bhasha mein hum bole toh isi ka naam aaya hai maya mein fansa hota hai us satya ko nahi jaanta tha toh mooh dekh sakte har kisi ki ho na isko aaj tak koi tal nahi paya lekin maya itna uljha kar rakhti hai toh jodon maya mein fanse hain vaah zyada maut se darte hain jin log jo log bhi satya ke kareeb hai unko satya ka aabhas hona shuru ho jata hai vaah maut se darte nahi hai vaah maut ka intejar karte hain aur marte waqt bhi ho bade khushi khushi maut ko gale lagate hain toh yah cheez din kuch logo ke jeevan mein hoti hai jo satya ke kareeb pohch jaate hain toh isi ka naam aaya hai ki kitni bhi zindagi mein takleef ho tab bhi log maut se dare aur jeevan ko pyar kare isi ka naam aaya hai toh ant mein unko bahut takleef hoti hai jab praan nikalte hote hain kyonki unko satya ka gyaan tab bhi nahi hota hai aur tab bhi unko maut bahut bhayanak lagti hoti hai toh satya ki taraf jo badhte hain unko maut se dar nahi lagta vaah maut se nahi darte toh main prarthna karta hoon ki aapko bhi satya ka gyaan ho jeevan mein aur aap apne jab bhi jeevan mein kabhi aapke maut aaya bahut khushi khushi so gale laga sake aur aapki aatma ki unnati ho thank you very match

आपने लिखा है जब हम सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग मौत से इतना डरते क्यो

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  403
WhatsApp_icon
user
1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब सब सब जानते हैं सबको एक न एक दिन मरना है तो लोग मुझसे इतना डरती क्यों है तुम मुझसे डरती क्यों है अब मौत से मरना कौन चाहता है कोई नहीं चाहता सभी जिंदगी जीना चाहते हैं हर कोई डरता भी नहीं हर कोई मौत से घबराता भी नहीं है यह अपनी-अपनी सोच ऊपर होती है सबको पता है मौत एक ऐसा सच्चाई है जो एक न एक दिन आना ही आना है सभी की जिंदगी में जो इस दुनिया में आए हैं सबको जाना है हम हो चाहे कोई हो रहे मौत से डरने चाहिए हम मौत से जुड़ते हैं जो अगर मृत्यु होते पब्लीसीटीवी चढ़ा हम पर कृपा कर उसमें तो डर लगेगा लगेगा ना हम जान मुझको मरना चाहे ऐसे मौत आती तो उसके लिए जनाब हम जाएंगे नहीं बनाने तो मरना तो सभी को हाल में कल क्या हम डरे या ना डालें तो आना ही है एक न एक दिन सभी के साथ ऐसा इस दुनिया में आया है वह सभी जाएंगे एक दिन

jab sab sab jante hain sabko ek na ek din marna hai toh log mujhse itna darti kyon hai tum mujhse darti kyon hai ab maut se marna kaun chahta hai koi nahi chahta sabhi zindagi jeena chahte hain har koi darta bhi nahi har koi maut se ghabrata bhi nahi hai yah apni apni soch upar hoti hai sabko pata hai maut ek aisa sacchai hai jo ek na ek din aana hi aana hai sabhi ki zindagi mein jo is duniya mein aaye hain sabko jana hai hum ho chahen koi ho rahe maut se darane chahiye hum maut se judte hain jo agar mrityu hote pablisitivi chadha hum par kripa kar usme toh dar lagega lagega na hum jaan mujhko marna chahen aise maut aati toh uske liye janab hum jaenge nahi banane toh marna toh sabhi ko haal mein kal kya hum dare ya na Daalein toh aana hi hai ek na ek din sabhi ke saath aisa is duniya mein aaya hai vaah sabhi jaenge ek din

जब सब सब जानते हैं सबको एक न एक दिन मरना है तो लोग मुझसे इतना डरती क्यों है तुम मुझसे डरती

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  776
WhatsApp_icon
user

Chaitny Kalki

Social Worker

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि जब सब जानते हैं कि सबको एक ना एक दिन मरना है तो लोग मौत से इतना क्यों डरते हैं आपका प्रश्न बहुत अच्छा है इसका ही उत्तर है कि वह सिर्फ मानते हैं स्वीकार नहीं करते हैं जिस दिन मन्शमन की गहराई से स्वीकार कर लिया उस दिन मृत्यु का भय नहीं रहेगा और यह जो महानुभाव जिसने जो मर्जी से नहीं डरता कोई सही मायने में जीवन का आनंद उठा पाता है सबको मरना है एक न एक दिन यह बात सुनी सुनाई या कहीं सुनाइए दूसरों को देखकर कैसे हैं अपनी मन की गहरा में यह बात अभी तक बैठे नहीं है जिस दिन बैठ जाएगी उस दिन ठीक है नहीं रहे जय श्री राम

aapka prashna hai ki jab sab jante hain ki sabko ek na ek din marna hai toh log maut se itna kyon darte hain aapka prashna bahut accha hai iska hi uttar hai ki vaah sirf maante hain sweekar nahi karte hain jis din manshaman ki gehrai se sweekar kar liya us din mrityu ka bhay nahi rahega aur yah jo mahanubhav jisne jo marji se nahi darta koi sahi maayne me jeevan ka anand utha pata hai sabko marna hai ek na ek din yah baat suni sunayi ya kahin sunaiye dusro ko dekhkar kaise hain apni man ki gehra me yah baat abhi tak baithe nahi hai jis din baith jayegi us din theek hai nahi rahe jai shri ram

आपका प्रश्न है कि जब सब जानते हैं कि सबको एक ना एक दिन मरना है तो लोग मौत से इतना क्यों डर

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  242
WhatsApp_icon
user

Sandeep Yadav

Aspiring Journalism

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए रचना की मौत से क्यों डर लगता जब शरीर जानते कि ना एक दिन सबको मरना है मुझे जहां तक लगता है मोह माया एक ऐसी चीज है जो संसार से किसी को जाने नहीं देना चाहती चाहे वो व्यक्ति कितना ही कष्ट में क्यों ना रहे वाली वह अंदर से या कहें कि भगवान उसे मार ले या वह मर जाए लेकिन जब मरने की बारी आती है तो कोई नहीं चाहता कि वह मरे क्योंकि वह संसार की भोग विलासिता में इतना लिप्त हो जाता है कि उसे लगता है कि ऊपर जाकर वह सुख नहीं पाएगा वह अपनी इसी जन्म को कल्पना करते रह जाता है वह सोचता है कि ऊपर जाकर वहां कुछ और बन जाएगा उसे लगता है कि अगर शरीर से प्राण निकल गया तो उसका क्या होगा उसको खुद नहीं पता होगा आगे समय में इसीलिए सब को मौत से डर लगता है दूसरी चीज हमें जो हमारे आसपास लोग रहते हैं उनसे एक अटैचमेंट हो जाता है और हमें अलग नहीं लगता है कि ऊपर जाएंगे तो हमारा कोई नहीं होगा हम किस हालत में हो गई है हमें पता नहीं रहेगा इसीलिए मौत से डर लगता है सबको ऐसा नहीं है कि सिर्फ और सिर्फ मनुष्य ही मौत से डरते हैं पशु पक्षी भी मौत से उतना ही डरते हैं जितना कि मनुष्य भले ही वह मनुष्य से कम समझदार हूं लेकिन वह भी मौत से डरते हैं तो उनका कारण भी यही होता है मोह माया की कोई भी अपनो को नहीं छोड़ना चाहता चाहे वह मनुष्य हो चाहे वह फिर पशु पक्षी नमस्कार

dekhiye rachna ki maut se kyon dar lagta jab sharir jante ki na ek din sabko marna hai mujhe jaha tak lagta hai moh maya ek aisi cheez hai jo sansar se kisi ko jaane nahi dena chahti chahen vo vyakti kitna hi kasht mein kyon na rahe wali vaah andar se ya kahein ki bhagwan use maar le ya vaah mar jaaye lekin jab marne ki baari aati hai toh koi nahi chahta ki vaah mare kyonki vaah sansar ki bhog vilasita mein itna lipt ho jata hai ki use lagta hai ki upar jaakar vaah sukh nahi payega vaah apni isi janam ko kalpana karte reh jata hai vaah sochta hai ki upar jaakar wahan kuch aur ban jaega use lagta hai ki agar sharir se praan nikal gaya toh uska kya hoga usko khud nahi pata hoga aage samay mein isliye sab ko maut se dar lagta hai dusri cheez hamein jo hamare aaspass log rehte hain unse ek attachment ho jata hai aur hamein alag nahi lagta hai ki upar jaenge toh hamara koi nahi hoga hum kis halat mein ho gayi hai hamein pata nahi rahega isliye maut se dar lagta hai sabko aisa nahi hai ki sirf aur sirf manushya hi maut se darte hain pashu pakshi bhi maut se utana hi darte hain jitna ki manushya bhale hi vaah manushya se kam samajhdar hoon lekin vaah bhi maut se darte hain toh unka karan bhi yahi hota hai moh maya ki koi bhi apno ko nahi chhodna chahta chahen vaah manushya ho chahen vaah phir pashu pakshi namaskar

देखिए रचना की मौत से क्यों डर लगता जब शरीर जानते कि ना एक दिन सबको मरना है मुझे जहां तक लग

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  389
WhatsApp_icon
user

Amit Kumar

Motivational Spiker,youtube Kriyeter,professional Advisers (For Carrier Network Marketing , Fitness, Health) And Blogger

2:08
Play

Likes  15  Dislikes    views  412
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  36  Dislikes    views  719
WhatsApp_icon
user

Chaina Karmakar

Spiritual Healer & Life Coach

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर व्यक्ति को मौत मौत से डर लगता है मौत से डरने का दो ही कारण हो सकता है नंबर वन एक तो इंसान खुलकर जीता नहीं है बहुत सारी रिग्रेट बहुत सारी डिजायर एक्सपेक्टेशन अंदर ही अंदर भर के अंत तक खींच कर लाता है तो मौत से तभी इंसान को डर लगता है कि अरे मैंने तो जिया नहीं लाइफ को और जीना है ताकि मैं सारी इच्छाओं को पूरा कर सकूं के कारण होता है नंबर दो अटैचमेंट या लगाओ कहते हैं अनावश्यक होता है जो कि हम अपने रिश्तेदार हम अपने घर अपना पिनान सिया मैटेरियल पोजीशन के लिए मां-बाप या फिर बच्चे बीवी आपत्ति सभी से बहुत ज्यादा अपने दोस्तों से बहुत ज्यादा लगाव रखते हैं यह अनावश्यक अटैचमेंट है जो कि हमें ना तो जीने देता है और ना ही हमें सुकून के साथ मरने देता है हम फंस जाते हैं इस अनावश्यक अटैचमेंट या लगाओ के बीच में अगर हम इन सारी चीजों से निजात पा सकते हैं और अपना डर मौत के प्रति हटा सकते हैं अगर हम दिल्ली अपनी दिनचर्या में मेडिटेशन या फिर मेडिटेशन जो कि गाइडेड हो या फिर अपने कॉन्शियस ब्रीडिंग करें और हर एक चीजों का अपने वॉइस मेल आया और एक्सेप्टेंस मेल आए तो हम जरूर मौत का डर भी पीछे छोड़ सकते हैं

har vyakti ko maut maut se dar lagta hai maut se darane ka do hi karan ho sakta hai number van ek toh insaan khulkar jita nahi hai bahut saree rigret bahut saree desire expectation andar hi andar bhar ke ant tak khinch kar lata hai toh maut se tabhi insaan ko dar lagta hai ki are maine toh jiya nahi life ko aur jeena hai taki main saree ikchao ko pura kar sakun ke karan hota hai number do attachment ya lagao kehte hain anavashyak hota hai jo ki hum apne rishtedar hum apne ghar apna pinan sia material position ke liye maa baap ya phir bacche biwi apatti sabhi se bahut zyada apne doston se bahut zyada lagav rakhte hain yah anavashyak attachment hai jo ki hamein na toh jeene deta hai aur na hi hamein sukoon ke saath marne deta hai hum fans jaate hain is anavashyak attachment ya lagao ke beech mein agar hum in saree chijon se nijat paa sakte hain aur apna dar maut ke prati hata sakte hain agar hum delhi apni dincharya mein meditation ya phir meditation jo ki guided ho ya phir apne kanshiyas Breeding kare aur har ek chijon ka apne voice male aaya aur acceptance male aaye toh hum zaroor maut ka dar bhi peeche chod sakte hain

हर व्यक्ति को मौत मौत से डर लगता है मौत से डरने का दो ही कारण हो सकता है नंबर वन एक तो इंस

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  357
WhatsApp_icon
user

Tilak Singh

Sch.Topper,Parnassian & Author

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यह सही है कि हर व्यक्ति जानता है कि उसे एक न एक दिन मरना है लेकिन पर मरने से स्टार्ट होता है क्योंकि वह चाहता है कुछ करना वह कुछ बनना चाहता है उसके बहुत सारे अरमान मोती कुछ देने के लिए कुछ करने के लिए किसी को खाने के लिए कुछ किसी व्यक्ति कुछ कर दिखाने के लिए किसी को कुछ बनने के लिए तू इस पर का आदमी के अपने अपने सपने होते हैं क्यों नहीं क्या कहना है यदि किसी व्यक्ति अथवा उससे छीन ली जाए तो जाए ऐसी बातों से दुख होगा यदि वह अपना सपना पूरा नहीं कर पाता है और इसके पहले उसकी मृत्यु हो जाती तू बहुत सोचते हैं कि ऐसा गलत हुआ गलत वहीं से डर नहीं लगता है कि काश मेरे सपना पूरा हो जाए उससे पहले मैं ना मानूं तो इंसान सिर्फ अपने सपनों के लिए ही जीता है

haan yah sahi hai ki har vyakti jaanta hai ki use ek na ek din marna hai lekin par marne se start hota hai kyonki vaah chahta hai kuch karna vaah kuch bana chahta hai uske bahut saare armaan moti kuch dene ke liye kuch karne ke liye kisi ko khane ke liye kuch kisi vyakti kuch kar dikhane ke liye kisi ko kuch banne ke liye tu is par ka aadmi ke apne apne sapne hote hai kyon nahi kya kehna hai yadi kisi vyakti athva usse cheen li jaaye toh jaaye aisi baaton se dukh hoga yadi vaah apna sapna pura nahi kar pata hai aur iske pehle uski mrityu ho jaati tu bahut sochte hai ki aisa galat hua galat wahi se dar nahi lagta hai ki kash mere sapna pura ho jaaye usse pehle main na manun toh insaan sirf apne sapno ke liye hi jita hai

हां यह सही है कि हर व्यक्ति जानता है कि उसे एक न एक दिन मरना है लेकिन पर मरने से स्टार्ट ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
play
user

Naren khatri

Student And Social Worker

0:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि जब सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग मौत से इतना डरते क्यों लव मौत से इतना डरते हैं कि जो जो इस धरती पर जिनके साथ उनका रिश्ता जुड़ा है उनको खोने का डर है कि वह हमेशा के लिए खो जाएंगे इसीलिए उनको मौत से डर लगता है धन्यवाद

aapka sawaal hai ki jab sab jante hain ki sab ko ek na ek din marna hai toh log maut se itna darte kyon love maut se itna darte hain ki jo jo is dharti par jinke saath unka rishta juda hai unko khone ka dar hai ki vaah hamesha ke liye kho jaenge isliye unko maut se dar lagta hai dhanyavad

आपका सवाल है कि जब सब जानते हैं कि सब को एक ना एक दिन मरना है तो लोग मौत से इतना डरते क्यो

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
user

Ramesh Prajapati

||....Be....Legendary......||

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे वह इसलिए होता है क्योंकि हर किसी को अपनी जान प्यारी होती है और कोई नहीं चाहता कि मैं यह ऐसा हो जाऊं मैं वैसा हो जाऊं तो देखिए टाइम टाइम की बात है कि एक न एक दिन सब के साथ यह तो होना ही है उस बात को बुलाकर एक अच्छी जिंदगी हम जी तो सकते हैं ना पर उस बात को सोचो ही मत जो मैं हट करें जो चीज होनी है वह तो होकर ही रहेगी पर डरते थे कि हर किसी को लगता है चाहे वह कोई भी हो और इस बात को लेकर एडवांस में करना अच्छी बात नहीं है मैं तो यह चाहता हूं कि इस बात का ख्याल ना रखें आपका साथ एक सकारात्मक सोच इंसान को बनाती है तो मेरी आपसे गुजारिश है कि ऐसा बिल्कुल ना सोचे खिलाफ जिए अच्छी सोच रखें जो चीज होगी वह तो होने दीजिए ना वह तो 1 दिन एक न एक दिन तो नहीं है पर जिंदगी बहुत अच्छी है तो क्या तो कुछ जिंदगी को खुलकर जिए बाकी समय पर छोड़ दीजिए जो चीज होगी होगी तो बस यही दुआ करता हूं सब अच्छे से रहो खुश रहो सब अच्छी बात है और बाकी सब ठीक है आप ठीक है मैं ठीक हो सब ठीक है थैंक यू

dekhe vaah isliye hota hai kyonki har kisi ko apni jaan pyaari hoti hai aur koi nahi chahta ki main yah aisa ho jaaun main waisa ho jaaun toh dekhiye time time ki baat hai ki ek na ek din sab ke saath yah toh hona hi hai us baat ko bulakar ek achi zindagi hum ji toh sakte hain na par us baat ko socho hi mat jo main hut kare jo cheez honi hai vaah toh hokar hi rahegi par darte the ki har kisi ko lagta hai chahen vaah koi bhi ho aur is baat ko lekar advance mein karna achi baat nahi hai toh yah chahta hoon ki is baat ka khayal na rakhen aapka saath ek sakaratmak soch insaan ko banati hai toh meri aapse gujarish hai ki aisa bilkul na soche khilaf jiye achi soch rakhen jo cheez hogi vaah toh hone dijiye na vaah toh 1 din ek na ek din toh nahi hai par zindagi bahut achi hai toh kya toh kuch zindagi ko khulkar jiye baki samay par chod dijiye jo cheez hogi hogi toh bus yahi dua karta hoon sab acche se raho khush raho sab achi baat hai aur baki sab theek hai aap theek hai theek ho sab theek hai thank you

देखे वह इसलिए होता है क्योंकि हर किसी को अपनी जान प्यारी होती है और कोई नहीं चाहता कि मैं

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  324
WhatsApp_icon
user

Snehasish Gupta

Journalist / Traveller

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब हम जानते हैं कि हम लोगों को सब कोई भी मारना है तो हम जो हैं बहुत लोगों को मौत से सिर रहे थे क्योंकि उन्हें अपने फैमिली का चिंता है उन्हें और भी बहुत कुछ काम करा जाता है जो मौत से डरते अब लिए कुछ नहीं है वह तो सही

jab hum jante hain ki hum logo ko sab koi bhi marna hai toh hum jo hain bahut logo ko maut se sir rahe the kyonki unhe apne family ka chinta hai unhe aur bhi bahut kuch kaam kara jata hai jo maut se darte ab liye kuch nahi hai vaah toh sahi

जब हम जानते हैं कि हम लोगों को सब कोई भी मारना है तो हम जो हैं बहुत लोगों को मौत से सिर रह

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  393
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन और मृत्यु आए जिंदगी के दो पहलू होते हैं जिंदगी जिंदा रहने के बाद हमें अपनी फैमिली हमें अपने परिवार के साथ बहुत सारे फ्रेंड्स होते हैं उनके साथ हम जीना चाहते हैं मरने की बात आती है तो सब कोई डर लगता है बिना मतलब में तो ऐसा कुछ नहीं बताया जा सकता कि आप मरना तो सबको एक दिन है इसलिए जब तक जिंदगी है तब तक आप चलिए को अच्छे से जिए खुशी से जिए खुद भी खुश रहे दूसरे को भी खुशी दे और सबको खुशियां बांटे

jeevan aur mrityu aaye zindagi ke do pahaloo hote hain zindagi zinda rehne ke baad hamein apni family hamein apne parivar ke saath bahut saare friends hote hain unke saath hum jeena chahte hain marne ki baat aati hai toh sab koi dar lagta hai bina matlab mein toh aisa kuch nahi bataya ja sakta ki aap marna toh sabko ek din hai isliye jab tak zindagi hai tab tak aap chaliye ko acche se jiye khushi se jiye khud bhi khush rahe dusre ko bhi khushi de aur sabko khushiya bante

जीवन और मृत्यु आए जिंदगी के दो पहलू होते हैं जिंदगी जिंदा रहने के बाद हमें अपनी फैमिली हमे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
user

gurpreet singh

Computer graduate

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर एक इंसान का क्या होता है मतलब जीना मरना जो है वह उन्हें होते ही होता है जो मर्जी हो जाए तो बात चली ना समझाना चाहते हैं और मरना कोई नहीं चाहता इसलिए लोग मरने से डरते हैं मौत के नाम से जो है वह डरते हैं क्योंकि मरना कोई नहीं चाहता सब जीना चाहते हैं और महोत्सव की तरह होती है एक न एक दिन सपने मन नहीं होता है

har ek insaan ka kya hota hai matlab jeena marna jo hai vaah unhe hote hi hota hai jo marji ho jaaye toh baat chali na samajhana chahte hain aur marna koi nahi chahta isliye log marne se darte hain maut ke naam se jo hai vaah darte hain kyonki marna koi nahi chahta sab jeena chahte hain aur mahotsav ki tarah hoti hai ek na ek din sapne man nahi hota hai

हर एक इंसान का क्या होता है मतलब जीना मरना जो है वह उन्हें होते ही होता है जो मर्जी हो जाए

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
ek din sabko marna hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!