डॉ अवधेश सिंह एक 21 साल के व्यक्ति को क्या सलाह देंगे जो अपने जीवन की प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा में असफल रहा है?...


user

Vinod Kumar Pandey

Life Coach | Career Counsellor ::Relationship Counsellor :: Parenting Counsellor

3:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने प्रश्न किया कि कोई व्यक्ति अपनी प्रतियोगी परीक्षा में असफल रहा है तो उसको क्या करना चाहिए किसी प्रतियोगी परीक्षा में असफल होने का मतलब यह नहीं होता है कि वह व्यक्ति अपनी जिंदगी में असफल हो गया है ध्यान रखें अगर किसी एग्जाम में या किसी कंपटीशन एग्जाम में का कोई व्यक्ति सफल हुआ है तो यह जानने की कोशिश करें कि क्या हमने जो प्रयास किया था वह सफिशिएंट था या पूरी तरह से अपने प्रयास किया अगर कहीं पर उसे लगता है कि प्रयास में कमी रही तो उसको फिर से आप प्रयास कर सकता है उन कमियों को दूर करके और उस परीक्षा को दे सकता है और सफलता हासिल कर सकता है लेकिन अगर उसे ऐसा लगता है कि उसने पूरी मेहनत की कोई इमानदारी से जितना कर सकता है उतना किया है तो कोई जरूरी नहीं आप दूसरे परीक्षा में दीजिए दूसरी एग्जाम में बैठी है और उसको सफलतापूर्वक करिए देखिए एक चीज जो महत्वपूर्ण है वह यह है कि तमाम असफलताओं के बावजूद कभी भी अपने आत्मविश्वास को कम नहीं होने देना चाहिए अपने बारे में नकारात्मक धारणा नहीं आने देने चाहिए क्योंकि आप जिंदगी में कितना भी असफल हो जाइए लेकिन वह कभी भी वह सफलता आपके जीवन की दिशा को नहीं तय करता जीवन की जो दिशा को तय करता है वह होता है कि आपका दृष्टिकोण क्या है अपने जीवन के प्रति आप तमाम असफलताओं के बाद अगर आपका जीवन के प्रति जो दृष्टिकोण है वह सकारात्मक है पॉजिटिव है तो आप यह पाएंगे कि आप एक जगह पर असफल है तो कहीं ना कहीं दूसरी जगह पर आप सफलता जरूर हासिल करेंगे लेकिन अपने आत्मविश्वास को बनाए रखना होगा अपने सोच को सकारात्मक बनाए रखना होगा अपने दृष्टिकोण को सकारात्मक बनाए रखना होगा और जीवन के प्रत्येक आशा की किरण जरूर जगह रखना कि जो भी होगा बहुत अच्छा होगा क्योंकि अगर इन चीजों के साथ आप जीवन को जिएंगे तो यह पाएंगे कि आप अगर आज स्पल हैं तो क्या हुआ लेकिन आप बाद में सफलता हासिल कर ले रहे हैं ध्यान रखेगा जिंदगी कभी ऐसा नहीं रहते कभी जिंदगी रुकती नहीं है और असफलता का यह मतलब नहीं होता है कि आप फिर सफल नहीं हो सकते हैं आप बिल्कुल अपनी ऊर्जा को फिर से समिति है अपनी जो आपके अंदर जितनी क्षमता है उसको एक बार फिर से लगाने की कोशिश करिए आप पाएंगे कि आपको सफलता जरूर मिल रही है कभी भी सफलता से हताश मत हुई है सफलता में जो आपकी कमियां हैं उनको दूर करने का प्रयास करिए और हमेशा अपने दृष्टिकोण को सकारात्मक रखिए जितना ज्यादा वह सकारात्मक रहेगा जितना पॉजिटिविटी आप में रहेगी चीजों को ले करके आप जीवन में उतना ही कामयाब होंगे और एक एग्जाम की असफलता यह जिंदगी की दिशा और दशा को नहीं तय करता इतना भी विश्वास आप रखें बहुत-बहुत धन्यवाद

apne prashna kiya ki koi vyakti apni pratiyogi pariksha mein asafal raha hai toh usko kya karna chahiye kisi pratiyogi pariksha mein asafal hone ka matlab yah nahi hota hai ki vaah vyakti apni zindagi mein asafal ho gaya hai dhyan rakhen agar kisi exam mein ya kisi competition exam mein ka koi vyakti safal hua hai toh yah jaanne ki koshish kare ki kya humne jo prayas kiya tha vaah sufficient tha ya puri tarah se apne prayas kiya agar kahin par use lagta hai ki prayas mein kami rahi toh usko phir se aap prayas kar sakta hai un kamiyon ko dur karke aur us pariksha ko de sakta hai aur safalta hasil kar sakta hai lekin agar use aisa lagta hai ki usne puri mehnat ki koi imaandari se jitna kar sakta hai utana kiya hai toh koi zaroori nahi aap dusre pariksha mein dijiye dusri exam mein baithi hai aur usko safaltaapurvak kariye dekhiye ek cheez jo mahatvapurna hai vaah yah hai ki tamaam asafaltaon ke bawajud kabhi bhi apne aatmvishvaas ko kam nahi hone dena chahiye apne bare mein nakaratmak dharana nahi aane dene chahiye kyonki aap zindagi mein kitna bhi asafal ho jaiye lekin vaah kabhi bhi vaah safalta aapke jeevan ki disha ko nahi tay karta jeevan ki jo disha ko tay karta hai vaah hota hai ki aapka drishtikon kya hai apne jeevan ke prati aap tamaam asafaltaon ke baad agar aapka jeevan ke prati jo drishtikon hai vaah sakaratmak hai positive hai toh aap yah payenge ki aap ek jagah par asafal hai toh kahin na kahin dusri jagah par aap safalta zaroor hasil karenge lekin apne aatmvishvaas ko banaye rakhna hoga apne soch ko sakaratmak banaye rakhna hoga apne drishtikon ko sakaratmak banaye rakhna hoga aur jeevan ke pratyek asha ki kiran zaroor jagah rakhna ki jo bhi hoga bahut accha hoga kyonki agar in chijon ke saath aap jeevan ko jeeenge toh yah payenge ki aap agar aaj spall hain toh kya hua lekin aap baad mein safalta hasil kar le rahe hain dhyan rakhega zindagi kabhi aisa nahi rehte kabhi zindagi rukti nahi hai aur asafaltaa ka yah matlab nahi hota hai ki aap phir safal nahi ho sakte hain aap bilkul apni urja ko phir se samiti hai apni jo aapke andar jitni kshamta hai usko ek baar phir se lagane ki koshish kariye aap payenge ki aapko safalta zaroor mil rahi hai kabhi bhi safalta se hathaash mat hui hai safalta mein jo aapki kamiyan hain unko dur karne ka prayas kariye aur hamesha apne drishtikon ko sakaratmak rakhiye jitna zyada vaah sakaratmak rahega jitna positivity aap mein rahegi chijon ko le karke aap jeevan mein utana hi kamyab honge aur ek exam ki asafaltaa yah zindagi ki disha aur dasha ko nahi tay karta itna bhi vishwas aap rakhen bahut bahut dhanyavad

अपने प्रश्न किया कि कोई व्यक्ति अपनी प्रतियोगी परीक्षा में असफल रहा है तो उसको क्या करना च

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  465
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!