मैं एक सोलह वर्ष का लड़का हूँ। एक लड़की से बात करने का सही और इज़्ज़तदार तरीक़ा क्या होता है?...


play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

1:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब आप 16 साल के हैं तो मतलब पिछले 15 सोलह साल में आपने काफी अगर बहुत ज्यादा नहीं तो काफी है तय कर कुछ तजुर्बा किया होगा आपके घर के अंदर और मन कैसे होंगे जिस स्कूल में आप पढ़ रहे होंगे तो आपके एक अपने ही गुण होंगे अपने संस्कार होंगे अपने विचारों के अपना तरीका होगा अपना ले जाऊंगा सब कुछ आपका अपना होगा आपको कुछ सीख के अलग से कुछ पेश आने की जरूरत नहीं है बेकार सा मुझे लगता है कि 15 16 साल तक एक इंसान इस कदर का बिल जरूर हो जाता है कि उसे सही और गलत की थोड़ी समझ आ जाए उसे यह पता होता है सही क्या है गलत क्या है कब क्या करना चाहिए काफी हद तक यहां पर डिसिशन मेकिंग की बात नहीं कर रहा कि बर्डलाइफ के बड़े-बड़े फैसले कर पाए या बहुत बढ़िया राय दे पाए किसी को लेकिन जब बात आती है कि किसी दूसरे से बात करने की तो उसमें कुछ नया सीखने की जरूरत नहीं है चाहे वह लड़का हो चाहे वह लड़की हो आप जैसे बात करते हैं वैसे ही बात कर सकते हैं हां थोड़ा सा सोच समझ और समझदारी फिर भी आप ला सकते हैं कि क्या सही समय है क्या यह मुनासिब है क्या इस बात का यहां पर होना जरूरी है वह जो सवाल पूछे उसका जवाब कैसे देना है इसके लिए कोई पीएचडी ए साइंस पढ़ने की जरूरत नहीं है यह 18 है बड़ा सिंपल से सिंपल है आप जैसे हैं आपको जो सही लगता है आप व्यक्त कीजिए इसके लिए कोई स्पेशलाइजेशन की जरूरत नहीं है या कोई इज्जत का तरीका वगैरह कुछ नहीं होता आपको बस यह देखना है कि आप कैसे बात करें और क्या बात करें अगर आपको यह पता है कि किस बारे में किस से कब क्या बात कर रहे हैं तो फिर इसके अलावा आपको कुछ और जाने की जरूरत नहीं है आपकी समझ बूझ इस समय तक इतनी पक्की हो जाती हैं जो यह डिसाइड कर पाता है कि सही क्या है गलत क्या है इनसे बात करने में तो आप बेधड़क जाइए बात कीजिए एंड फील कंफरटेबल

jab aap 16 saal ke hai toh matlab pichle 15 solah saal mein aapne kaafi agar bahut zyada nahi toh kaafi hai tay kar kuch tajurba kiya hoga aapke ghar ke andar aur man kaise honge jis school mein aap padh rahe honge toh aapke ek apne hi gun honge apne sanskar honge apne vicharon ke apna tarika hoga apna le jaunga sab kuch aapka apna hoga aapko kuch seekh ke alag se kuch pesh aane ki zarurat nahi hai bekar sa mujhe lagta hai ki 15 16 saal tak ek insaan is kadar ka bill zaroor ho jata hai ki use sahi aur galat ki thodi samajh aa jaaye use yah pata hota hai sahi kya hai galat kya hai kab kya karna chahiye kaafi had tak yahan par decision making ki baat nahi kar raha ki bardalaif ke bade bade faisle kar paye ya bahut badhiya rai de paye kisi ko lekin jab baat aati hai ki kisi dusre se baat karne ki toh usme kuch naya sikhne ki zarurat nahi hai chahen vaah ladka ho chahen vaah ladki ho aap jaise baat karte hai waise hi baat kar sakte hai haan thoda sa soch samajh aur samajhdari phir bhi aap la sakte hai ki kya sahi samay hai kya yah munasib hai kya is baat ka yahan par hona zaroori hai vaah jo sawaal pooche uska jawab kaise dena hai iske liye koi phd a science padhne ki zarurat nahi hai yah 18 hai bada simple se simple hai aap jaise hai aapko jo sahi lagta hai aap vyakt kijiye iske liye koi specialisation ki zarurat nahi hai ya koi izzat ka tarika vagera kuch nahi hota aapko bus yah dekhna hai ki aap kaise baat kare aur kya baat kare agar aapko yah pata hai ki kis bare mein kis se kab kya baat kar rahe hai toh phir iske alava aapko kuch aur jaane ki zarurat nahi hai aapki samajh boojh is samay tak itni pakki ho jaati hai jo yah decide kar pata hai ki sahi kya hai galat kya hai inse baat karne mein toh aap bedhadak jaiye baat kijiye and feel kamfaratebal

जब आप 16 साल के हैं तो मतलब पिछले 15 सोलह साल में आपने काफी अगर बहुत ज्यादा नहीं तो काफी ह

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  350
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Shyamal Khobragade--Kamble

Medical General Consellor

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

16 पियर्साइड चिंता मत करो और फिर बाद में अपने करियर और उसके लिए कुछ सेंड दे दो बाद में सोचेंगे

16 piyarsaid chinta mat karo aur phir baad me apne career aur uske liye kuch send de do baad me sochenge

16 पियर्साइड चिंता मत करो और फिर बाद में अपने करियर और उसके लिए कुछ सेंड दे दो बाद में सोच

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधिक मैं कोई बड़ा स्पेशलिस्ट तो हूं नहीं कि किसी लड़की का जिंदगी के साथ बात करने का तरीका बता सकते हो हां लेकिन मैं देख सकता हूं थोड़ा लाइट लिया पर हम पहले शुरू करें कि हां भाई आप क्या काम करते हैं आपका नाम क्या है आपके फादर क्या करते हैं आप ही कोई शिवलिंग है कि नहीं तो ऐसे-ऐसे इंट्रोडक्शन दीजिए कि आपने यह काम क्यों नहीं किया तो आप धीरे-धीरे से कीजिए फिर अगर आप चाहे तो उसको कॉफी के लिए भी पूछ सकते हैं या किसी लंच पर पूछे सकते हैं तो जो है उसके सर्कल में जाने का कोशिश करें ऐसी बातों के जरिए एक का मैं कहूंगा कि लड़कियों से बात करना भी एक कला है और वह कला भगवान सब को नहीं देते गिने चुने लोगों को ही भगवान है यह कला देते हैं और यह कलम मेरे पास भी नहीं है भगवान भगवान मेरे को भी अकेला नहीं दिया मैं इसलिए आपको बता पा रहा हूं क्योंकि मैं अपने दोस्तों को देखा हूं मेरे सारे दोस्त कैसे हैं मैं आपको यह चीज बता रहा हूं

adhik main koi bada specialist toh hoon nahi ki kisi ladki ka zindagi ke saath baat karne ka tarika bata sakte ho haan lekin main dekh sakta hoon thoda light liya par hum pehle shuru kare ki haan bhai aap kya kaam karte hain aapka naam kya hai aapke father kya karte hain aap hi koi shivling hai ki nahi toh aise aise introduction dijiye ki aapne yah kaam kyon nahi kiya toh aap dhire dhire se kijiye phir agar aap chahen toh usko coffee ke liye bhi puch sakte hain ya kisi lunch par pooche sakte hain toh jo hai uske circle mein jaane ka koshish kare aisi baaton ke jariye ek ka main kahunga ki ladkiyon se baat karna bhi ek kala hai aur vaah kala bhagwan sab ko nahi dete gine chune logo ko hi bhagwan hai yah kala dete hain aur yah kalam mere paas bhi nahi hai bhagwan bhagwan mere ko bhi akela nahi diya main isliye aapko bata paa raha hoon kyonki main apne doston ko dekha hoon mere saare dost kaise hain main aapko yah cheez bata raha hoon

अधिक मैं कोई बड़ा स्पेशलिस्ट तो हूं नहीं कि किसी लड़की का जिंदगी के साथ बात करने का तरीका

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kya baat karni hai ; kya baat hai girl ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!