क्या भारत में आरक्षण कभी खत्म हो पाएगा?...


play
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में आरक्षण खत्म होने के आसार तो काफी कम है क्योंकि और कोई भी गवर्नमेंट नहीं चाहती है कि वह आरक्षण खत्म करके उन लोगों के लिए या लोगों के जो पेशंस होते हैं उनके विरोध का कारण बने क्योंकि आरक्षण से बहुत लोग फायदा उठा रहे हैं और बहुत लोगों को अब वह अच्छा हिट भी दे रहा है और उनको लाभ भी मिल रहे हैं तो अगर आरक्षण को कोई भी कॉमेंट खत्म करती है या उसके खिलाफ कुछ भी कहती है या करती है और तो लोग गोविंद के खिलाफ हो जाएंगे और कहीं ना कहीं और नेक्स्ट टाइम है तो वह सभी गवर्नमेंट बनेगी तो वह उसका सहयोग नहीं करेंगे और उसका साथ नहीं देंगे और वह गवर्नमेंट जरूरत डूब जाएगी इसीलिए कोई भी पॉलिटिकल पार्टी नहीं चाहती है कि वह आरक्षण के खिलाफ कोई भी मुद्दा उठाएं और उसको बंद करने के लिए उसको खत्म करने के बारे में सोचें क्योंकि आरक्षण से उनका कहना कि वोट बैंक भी बढ़ता है आरक्षण से जो जातियों के हिसाब से विभाजन होता है और लोगों का उस हिसाब से वह लोग वोट बैंक भी अपना बना लेते हैं तो आरक्षण खत्म होने का भी आसान नहीं है लेकिन अगर आपको आरक्षण खत्म करना है तो एक ऐसी गवर्नमेंट चाहिए होगी कैसी पार्टी चाहिए होगी जो कि रिस्क ले सके उसको खत्म करने का और लोगों को समझा चल सके कि आरक्षण क्यों खत्म होना चाहिए और इसके क्या-क्या फायदे हैं खत्म होने और लोग उसको बात को समझ नहीं पाए दूसरा अगर आरक्षण खत्म करना है तो हम आज हम लोग हम लोगों को भी एक सोच बनानी होगी कि आरक्षण किस तरह से गलत काम कर रहा है क्या-क्या गलतियां हैं आरक्षण किया क्या उससे लोगों को नुकसान हो रहे हैं तभी जाकर आरक्षण खत्म कर पाएंगे और आरक्षण के लिए लोगों को जैसे राज्यों सामान्य वर्ग के लोग हैं उसमें जो काबिलियत होती है वह नहीं आ गया पाते हैं बल्कि आरक्षण की वजह से जो लोगों में काबिलियत कम होती है वह लोग आगे चले जाते हैं जो कि सामान्य वर्ग के लोगों के साथ एक तरह से डिस्क्रिमिनेशन होता है तो इसलिए आरक्षण जल्दी खत्म भी होना चाहिए मेरे हिसाब से तो देखते हैं आगे कौन सी गवर्नमेंट प्रेस को लेना पसंद करेगी

bharat mein aarakshan khatam hone ke aasaar toh kaafi kam hai kyonki aur koi bhi government nahi chahti hai ki vaah aarakshan khatam karke un logo ke liye ya logo ke jo Patience hote hain unke virodh ka karan bane kyonki aarakshan se bahut log fayda utha rahe hain aur bahut logo ko ab vaah accha hit bhi de raha hai aur unko labh bhi mil rahe hain toh agar aarakshan ko koi bhi comment khatam karti hai ya uske khilaf kuch bhi kehti hai ya karti hai aur toh log govind ke khilaf ho jaenge aur kahin na kahin aur next time hai toh vaah sabhi government banegi toh vaah uska sahyog nahi karenge aur uska saath nahi denge aur vaah government zarurat doob jayegi isliye koi bhi political party nahi chahti hai ki vaah aarakshan ke khilaf koi bhi mudda uthaye aur usko band karne ke liye usko khatam karne ke bare mein sochen kyonki aarakshan se unka kehna ki vote bank bhi badhta hai aarakshan se jo jaatiyo ke hisab se vibhajan hota hai aur logo ka us hisab se vaah log vote bank bhi apna bana lete hain toh aarakshan khatam hone ka bhi aasaan nahi hai lekin agar aapko aarakshan khatam karna hai toh ek aisi government chahiye hogi kaisi party chahiye hogi jo ki risk le sake usko khatam karne ka aur logo ko samjha chal sake ki aarakshan kyon khatam hona chahiye aur iske kya kya fayde khatam hone aur log usko baat ko samajh nahi paye doosra agar aarakshan khatam karna hai toh hum aaj hum log hum logo ko bhi ek soch banani hogi ki aarakshan kis tarah se galat kaam kar raha hai kya kya galtiya hain aarakshan kiya kya usse logo ko nuksan ho rahe hain tabhi jaakar aarakshan khatam kar payenge aur aarakshan ke liye logo ko jaise rajyo samanya varg ke log hain usme jo kabiliyat hoti hai vaah nahi aa gaya paate hain balki aarakshan ki wajah se jo logo mein kabiliyat kam hoti hai vaah log aage chale jaate hain jo ki samanya varg ke logo ke saath ek tarah se discrimination hota hai toh isliye aarakshan jaldi khatam bhi hona chahiye mere hisab se toh dekhte hain aage kaun si government press ko lena pasand karegi

भारत में आरक्षण खत्म होने के आसार तो काफी कम है क्योंकि और कोई भी गवर्नमेंट नहीं चाहती है

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  173
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!