लाइब्रेरी का उद्देश्य एवं उसके कार्य बताएँ?...


user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लाइब्रेरी का उद्देश्य और उससे होने वाले लाभ बहुत ही विस्तृत हैं बहुत अच्छे हैं लाइब्रेरी एक ऐसी जगह है जिसमें की सभी तरीके की किताबें जितनी उसकी कैपेसिटी है उसके रिकॉर्डिंग सेल्स में रखी रहती हैं और उनका रिकॉर्ड रहता है कि बुक नंबर वन यह है बुक नंबर दो यह है तीन विषय में है तो आप हर विषय की किताबों को लाइब्रेरी में पा सकते हैं अगर आप के आस पास लाइब्रेरी अच्छी है लाइब्रेरी का मतलब है किताबों का ऐसा भंडार या बुक बैंक से बैंक में पैसे जमा करते हैं ऐसे ही लाइब्रेरी में किताबें जमा रहती हैं किताब घर भी कहते थे इसे पहले किताब घर का मतलब है लाइब्रेरी और वहां ज्ञान का भंडार होता जाइए किसी भी विषय के सेल्स के सामने खड़े हो जाइए अपनी मनपसंद किताब निकालिए और थोड़ी देर के लिए टेबल पर बैठ कर पढ़िए या आप किताबें यीशु भी करा सकते हैं लाइब्रेरी से किताबें इशू करा कर घर ले जाइए एक हफ्ते को हो जाएंगे उसके पीछे कार्ड लगा रहता है किताब के पीछे उस कार्ड में आपका नाम आपका आईडी नंबर यह सब लिखा रहेगा डेट ऑफ इशू लिखी रहेगी डेट आफ रिटर्निंग में लिखी रहेगी कि आपको किस दिन रिटर्न करनी है और लाइब्रेरी का जो बच्चे यूज़ करते हैं या जो लोग यूज़ करते हैं वह सच में ज्ञानी होते हैं हम लोग सभी स्कूल कॉलेज में पढ़ते थे तो देखा करते थे कि ज्यादातर लड़के लड़कियां मैदान में खेलना पसंद करते थे या म्यूजिक रूम में जाना पसंद करते थे या डांस ड्रामा करना पसंद करते थे लेकिन जो पढ़ने वाले बच्चे थे सही मायने में वह लाइब्रेरी जाना पसंद करते थे क्योंकि लाइब्रेरी में सब तरीके के तब न्यूज़पेपर भी आया करते थे तो न्यूज़पेपर उसको पढ़ना भी एक बहुत अच्छी है बेटा और किताबों को पढ़ना जनरल्स को पढ़ना लीफलेट्स को पढ़ना यह सब लाइब्रेरी में आपको मिलेगा

library ka uddeshya aur usse hone waale labh bahut hi vistrit hain bahut acche hain library ek aisi jagah hai jisme ki sabhi tarike ki kitaben jitni uski capacity hai uske recording sales me rakhi rehti hain aur unka record rehta hai ki book number van yah hai book number do yah hai teen vishay me hai toh aap har vishay ki kitabon ko library me paa sakte hain agar aap ke aas paas library achi hai library ka matlab hai kitabon ka aisa bhandar ya book bank se bank me paise jama karte hain aise hi library me kitaben jama rehti hain kitab ghar bhi kehte the ise pehle kitab ghar ka matlab hai library aur wahan gyaan ka bhandar hota jaiye kisi bhi vishay ke sales ke saamne khade ho jaiye apni manpasand kitab nikaliye aur thodi der ke liye table par baith kar padhiye ya aap kitaben yeshu bhi kara sakte hain library se kitaben issue kara kar ghar le jaiye ek hafte ko ho jaenge uske peeche card laga rehta hai kitab ke peeche us card me aapka naam aapka id number yah sab likha rahega date of issue likhi rahegi date of returning me likhi rahegi ki aapko kis din return karni hai aur library ka jo bacche use karte hain ya jo log use karte hain vaah sach me gyani hote hain hum log sabhi school college me padhte the toh dekha karte the ki jyadatar ladke ladkiya maidan me khelna pasand karte the ya music room me jana pasand karte the ya dance drama karna pasand karte the lekin jo padhne waale bacche the sahi maayne me vaah library jana pasand karte the kyonki library me sab tarike ke tab Newspaper bhi aaya karte the toh Newspaper usko padhna bhi ek bahut achi hai beta aur kitabon ko padhna generals ko padhna liflets ko padhna yah sab library me aapko milega

लाइब्रेरी का उद्देश्य और उससे होने वाले लाभ बहुत ही विस्तृत हैं बहुत अच्छे हैं लाइब्रेरी ए

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  328
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

MRI

Retired Executive (PSU), Electrical Engineer, AUTHOR, हिंदी भषा में चार पुस्तकें प्रकाशित. जल्द ही तीन और प्रकाशित होने वाली हैं ।

2:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लगभग जनता को उसकी भी होती हैं जो सबका शिकायत कितने का खेत के नहीं पढ़ सकता उनके लिए यह लगाई होती है इतना अखबार भी आते हैं रोज आकर लोग पढ़ते भी हैं और एक मिलने का स्थान हो जाते हैं एक दूसरे पर संबंध पड़ता है वहां आते हैं आतंकी मैगजीन नहीं आती आपको 50 महीना आपसे ले लिया था जमाने में किस किताब में कैसे ज्यादा मिलेंगे तो 1 दिन का अखबार 5 दिन का झोपड़ा बढ़ाएंगे को जगह मिल चुका गीत

lagbhag janta ko uski bhi hoti hain jo sabka shikayat kitne ka khet ke nahi padh sakta unke liye yah lagayi hoti hai itna akhbaar bhi aate hain roj aakar log padhte bhi hain aur ek milne ka sthan ho jaate hain ek dusre par sambandh padta hai wahan aate hain aatanki magazine nahi aati aapko 50 mahina aapse le liya tha jamane me kis kitab me kaise zyada milenge toh 1 din ka akhbaar 5 din ka jhopada badhaenge ko jagah mil chuka geet

लगभग जनता को उसकी भी होती हैं जो सबका शिकायत कितने का खेत के नहीं पढ़ सकता उनके लिए यह लगा

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  412
WhatsApp_icon
user
1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है रायबरेली का उद्देश्य एवं उसके कार्य बताएं लाइब्रेरी का मुख्य उद्देश्य है लोगों को एक जगह सभी प्रकार के शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराने तथा शिक्षण जीवन पर्यंत चलने वाली प्रक्रिया और इस प्रक्रिया को बढ़ावा देने के लिए तथा समय का सही सदुपयोग करने के लिए तथा नवीन जानकारियां प्राप्त करने के लिए इसके अलावा एक ही स्थान पर सभी तरीके की जानकारियां उपलब्ध कराना इसके साथ-साथ हर तरीके की जानकारी के लिए हर तरीके की पुस्तकों पर खर्चे को कम करना इसी तरीके के बहुत सारे उद्देश्य हैं धन्यवाद

aapka sawaal hai raebareli ka uddeshya evam uske karya bataye library ka mukhya uddeshya hai logo ko ek jagah sabhi prakar ke shikshan samagri uplabdh karane tatha shikshan jeevan paryant chalne wali prakriya aur is prakriya ko badhawa dene ke liye tatha samay ka sahi sadupyog karne ke liye tatha naveen jankariyan prapt karne ke liye iske alava ek hi sthan par sabhi tarike ki jankariyan uplabdh krana iske saath saath har tarike ki jaankari ke liye har tarike ki pustakon par kharche ko kam karna isi tarike ke bahut saare uddeshya hain dhanyavad

आपका सवाल है रायबरेली का उद्देश्य एवं उसके कार्य बताएं लाइब्रेरी का मुख्य उद्देश्य है लोगो

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लाइब्रेरी का उद्देश्य मुख्य कार्य बताएं यह है कि हरेक क्षेत्र की एक विषय की किताबों का एक ही जगह रखना और उसे जरूरत पड़ने पर जो वह मांगने आए तो उसको किताब शुरू करना और फिर बाद में उसे किताब वापिस लेकर उसकी जगह पर वापिस रखना और फिर बाद में जब दूसरे कोई विद्यार्थी या जरूरतमंद को अगर वह किताब की जरूरत पूरी तरह से जिस तरह से एक ही किताब का उपयोग समय-समय पर अलग-अलग विद्यार्थी उसका लाभ ले सकते हैं एक किताब अगर हम परचेस करते हैं और वह हम पढ़ते हैं तो हम एक ही रीडर हुए यानी कि एक ही पाठकों अगर वह लाइब्रेरी में वही एक किताब वह कितने पाठकों के पास जाएगी उसकी सीमा नहीं होती इससे लाइब्रेरी का उद्देश्य यह है कि किताबों की संख्या और किताबों के लेटेस्ट और किताबों के पाठक उसका गुणाकार होता रहता है यही मेनू जैसे किसी भी लाइब्रेरी का होता है और यही उसके कार्य होते हैं ताकि यह की किताब से हजारों लोग लाभान्वित हो यह उसके कार्य होते और किताबों की मेंटेनेंस को और अधिवक्ता को हम लाइब्रेरियन करते हैं और लैट्रिन कुछ होता है वह लाइब्रेरियन की पोस्ट होती है और एक स्कूल में और कॉलेज में धन्यवाद

library ka uddeshya mukhya karya bataye yah hai ki harek kshetra ki ek vishay ki kitabon ka ek hi jagah rakhna aur use zarurat padane par jo vaah mangne aaye toh usko kitab shuru karna aur phir baad mein use kitab vaapas lekar uski jagah par vaapas rakhna aur phir baad mein jab dusre koi vidyarthi ya jaruratmand ko agar vaah kitab ki zarurat puri tarah se jis tarah se ek hi kitab ka upyog samay samay par alag alag vidyarthi uska labh le sakte hain ek kitab agar hum purchase karte hain aur vaah hum padhte hain toh hum ek hi reader hue yani ki ek hi pathakon agar vaah library mein wahi ek kitab vaah kitne pathakon ke paas jayegi uski seema nahi hoti isse library ka uddeshya yah hai ki kitabon ki sankhya aur kitabon ke latest aur kitabon ke pathak uska gunakar hota rehta hai yahi menu jaise kisi bhi library ka hota hai aur yahi uske karya hote hain taki yah ki kitab se hazaro log labhanvit ho yah uske karya hote aur kitabon ki Maintenance ko aur adhivakta ko hum Librarian karte hain aur latrine kuch hota hai vaah Librarian ki post hoti hai aur ek school mein aur college mein dhanyavad

लाइब्रेरी का उद्देश्य मुख्य कार्य बताएं यह है कि हरेक क्षेत्र की एक विषय की किताबों का एक

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1155
WhatsApp_icon
user
1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लाइब्रेरी का उद्देश्य होता है कि आपको एक ऐसी जगह प्रोवाइड की जाए जहां आप शांति से पढ़ सकें पर ऐसा नहीं है कि सिर्फ लाइब्रेरी में आप को शांति मिलती है लाइब्रेरी में शांति के साथ-साथ आपको किताबें मिलती हैं जिन्हें आप पढ़ सकते हैं क्योंकि बहुत सारी किताबें खरीदना हमारे लिए पॉसिबल नहीं है और कौन सी किताब अच्छी है कौन सी नहीं है यह जानना भी इतना आसान नहीं है लाइब्रेरी के अंदर हम बहुत सारी किताबों में से वह कहता को चुन सकते हैं जो हमें पसंद है लाइब्रेरी का तीसरा उद्देश्य यह होता है या एक कहूं कि फायदा होता है वह यह है कि जब हम इतने सारे लोगों को अपने आसपास पढ़ते हुए देखते हैं किसी चीज का अध्ययन करते हुए देखते हैं तुम्हारे अंदर से हमें खुद भी पढ़ने का मन करता है अगर आप अकेले कमरे में पड़े अपने घर पर तो शायद अटक जाए फोन उठा ले किसी से बात नहीं लग जाए सो जाएं पर लाइब्रेरी में माहौल कुछ ऐसा होता है कि वहां आपका मन जो है पढ़ने में ऑटोमेटेकली लगता है इसीलिए कई लोग घर में अलग कमरा होने के बावजूद लाइब्रेरी ज्वाइन करते हैं

library ka uddeshya hota hai ki aapko ek aisi jagah provide ki jaaye jaha aap shanti se padh sake par aisa nahi hai ki sirf library mein aap ko shanti milti hai library mein shanti ke saath saath aapko kitaben milti hain jinhen aap padh sakte hain kyonki bahut saari kitaben kharidna hamare liye possible nahi hai aur kaun si kitab achi hai kaun si nahi hai yah janana bhi itna aasaan nahi hai library ke andar hum bahut saari kitabon mein se vaah kahata ko chun sakte hain jo hamein pasand hai library ka teesra uddeshya yah hota hai ya ek kahun ki fayda hota hai vaah yah hai ki jab hum itne saare logo ko apne aaspass padhte hue dekhte hain kisi cheez ka adhyayan karte hue dekhte hain tumhare andar se hamein khud bhi padhne ka man karta hai agar aap akele kamre mein pade apne ghar par toh shayad atak jaaye phone utha le kisi se baat nahi lag jaaye so jayen par library mein maahaul kuch aisa hota hai ki wahan aapka man jo hai padhne mein atometekli lagta hai isliye kai log ghar mein alag kamra hone ke bawajud library join karte hain

लाइब्रेरी का उद्देश्य होता है कि आपको एक ऐसी जगह प्रोवाइड की जाए जहां आप शांति से पढ़ सकें

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user
0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लाइब्रेरी का उस देश का नाम आता है पढ़ने पढ़ने के लिए थोड़ा कमजोर चलाता ही समझते हैं

library ka us desh ka naam aata hai padhne padhne ke liye thoda kamjor chalata hi samajhte hain

लाइब्रेरी का उस देश का नाम आता है पढ़ने पढ़ने के लिए थोड़ा कमजोर चलाता ही समझते हैं

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  402
WhatsApp_icon
user

sandeep meena

Life Coach

0:46
Play

Likes  12  Dislikes    views  254
WhatsApp_icon
user
1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें लाइब्रेरी का उद्देश्य से पहले तो हम यह देखेंगे कि लाइब्रेरी लाइब्रेरी मिंस क्या होता है पुस्तकालय में पुस्तकों को रखने का स्थान होता है जहां पर अनेक प्रकार की किताबें मैगजीन सो गया था जहां मिलते हैं वह लाइन में रहते हैं इसके उद्देश्य होता है कि अपने का कोई भी कंपनी का अगर आप आए तो अलग अलग अलग राज में तो पैसे खरीद नहीं सकता भी नहीं सकता तो बोला कि उनको पढ़कर और उनको वापस दे सकते हैं उस लाइव में विभिन्न प्रकार की किताबे देते उनको एक शो टाइम होता है 10 या 15 दिन का महीने का उसमें दोबारा से सुबह खबर ऐसे करके वह अपने जो तैयार हैं वह पूरा कर सकता है और तुम पसंद के टेस्ट फाइट कर सकता है इस के मेन उद्देश्य और कह रही है

dekhen library ka uddeshya se pehle toh hum yah dekhenge ki library library mins kya hota hai pustakalaya mein pustakon ko rakhne ka sthan hota hai jaha par anek prakar ki kitaben magazine so gaya tha jaha milte hain vaah line mein rehte hain iske uddeshya hota hai ki apne ka koi bhi company ka agar aap aaye toh alag alag alag raj mein toh paise kharid nahi sakta bhi nahi sakta toh bola ki unko padhakar aur unko wapas de sakte hain us live mein vibhinn prakar ki kitabe dete unko ek show time hota hai 10 ya 15 din ka mahine ka usme dobara se subah khabar aise karke vaah apne jo taiyar hain vaah pura kar sakta hai aur tum pasand ke test fight kar sakta hai is ke main uddeshya aur keh rahi hai

देखें लाइब्रेरी का उद्देश्य से पहले तो हम यह देखेंगे कि लाइब्रेरी लाइब्रेरी मिंस क्या होता

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!