क्या आज लोकतंत्र खतरे में है? हां तो क्यों, नहीं तो क्यों?...


user
3:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अबू जो कि लोकतंत्र खतरे में है तो क्यों है यह लोकतंत्र खतरे में है अभी आपने देखा होगा उन्होंने दिल्ली अभी दिल्ली में जो दंगे हुए उसको पल जस्टिस लोया ने कुछ सुनवाई किया फटकार लगाया उनका रात के 11:30 बजे ट्रांसफर कर दिया गया तो इलेक्शन कमिशन कुछ नहीं करते बीजेपी के कुछ नहीं कर रहा यह धीरे-धीरे जुडिशरी हमारी तबा होती जा रही है इलेक्शन कमिशन कुछ नहीं करता आरटीआई को बर्बाद कर दलाल की आईडी पर आरटीआई को नेता के हाथ में आ गया हूं चाहे जिसको मिठाई नहीं हो चाहे जिसको रखेंगे वह चाहे जितने संघटन देंगे दिखा देंगे पहले क्या था अपनी जान खतरे में है खतरे में दूध दूसरी बात यह है कि आपको पता नहीं चला कि सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट इलेक्शन कमीशन है और क्यों नहीं चलता है धीरे-धीरे चल कालके माता की गोद में बैठ गई हालांकि किलोमीटर कोई बात नहीं करता एंप्लॉयमेंट कोई बात नहीं करता भुखमरी में हमारे रेट कितना है कोई बात नहीं करता और फ्रिज की फाइट का इतनी सुसाइड हो रहे हैं 45 साल में सब चीज होनी चाहिए हो तो बात नहीं करते तो यह सारी पोजीशन की जो एक शाखा है चौथा स्तंभ कहते हैं मीडिया को कॉन्स्टिट्यूशन का प्रभु देखो हाथ में मोदी जी मोदी जी मोदी जी अपना काम नहीं करेगी गोदी मीडिया पत्रकार की कार्रवाई नहीं है गोलियां चल जाती है गोली से मारे तो कोई कार्रवाई नहीं होती है उसके कुलदीप सिंह को देश के सामने ऑफिस के सामने जब अपना आपको आग से खतरा वाली घंटी है हम सब कुछ जागना होगा छोड़ दी होगी या इंसान की भक्ति नहीं करते भगवान की करते हैं और अगर जो कोई किसी की आलोचना करता है तो वह इसका मतलब यह नहीं होता कि वह देशद्रोही जो आज के दिन पर लगाया जाता है

abu jo ki loktantra khatre mein hai toh kyon hai yah loktantra khatre mein hai abhi aapne dekha hoga unhone delhi abhi delhi mein jo dange hue usko pal justice loya ne kuch sunvai kiya fatkar lagaya unka raat ke 11 30 baje transfer kar diya gaya toh election commission kuch nahi karte bjp ke kuch nahi kar raha yah dhire dhire judiciary hamari taba hoti ja rahi hai election commission kuch nahi karta rti ko barbad kar dalaal ki id par rti ko neta ke hath mein aa gaya hoon chahen jisko mithai nahi ho chahen jisko rakhenge vaah chahen jitne sanghatan denge dikha denge pehle kya tha apni jaan khatre mein hai khatre mein doodh dusri baat yah hai ki aapko pata nahi chala ki supreme court highcourt ne delhi highcourt election commision hai aur kyon nahi chalta hai dhire dhire chal kalke mata ki god mein baith gayi halaki kilometre koi baat nahi karta employment koi baat nahi karta bhukhmari mein hamare rate kitna hai koi baat nahi karta aur fridge ki fight ka itni suicide ho rahe hain 45 saal mein sab cheez honi chahiye ho toh baat nahi karte toh yah saree position ki jo ek shakha hai chautha stambh kehte hain media ko Constitution ka prabhu dekho hath mein modi ji modi ji modi ji apna kaam nahi karegi godi media patrakar ki karyawahi nahi hai goliya chal jaati hai goli se maare toh koi karyawahi nahi hoti hai uske kuldeep Singh ko desh ke saamne office ke saamne jab apna aapko aag se khatra wali ghanti hai hum sab kuch jagana hoga chod di hogi ya insaan ki bhakti nahi karte bhagwan ki karte hain aur agar jo koi kisi ki aalochana karta hai toh vaah iska matlab yah nahi hota ki vaah deshdrohi jo aaj ke din par lagaya jata hai

अबू जो कि लोकतंत्र खतरे में है तो क्यों है यह लोकतंत्र खतरे में है अभी आपने देखा होगा उन्ह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए लोकतंत्र की कुछ कड़ियां होती हैं कुछ उसके हिस्से है जो उसके काफी इंपॉर्टेंट पाउडर उन सब से मिलकर ही लोकतंत्र या डेमोक्रेसी किसी कंट्री में स्टाइलिश की जाती है उसमें से एक बहुत इंपॉर्टेंट चीज है जो देश की न्यायपालिका यह कानून प्रणाली और इसीलिए हमने देखा जो चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा और 4:00 बजे के बीच में जो ड्रेस डाउनलोड डिस्प्यूट्स हुए थे तो उनके बीच में प्रॉब्लम थी वह सबके सामने खुलकर आए और इससे यह प्रूफ हुआ कि अर्जित जो सुप्रीम कोर्ट है जो सबसे बड़ी कोर्ट है देश की वहां पर भी चीटिंग और यह ब्राइटनेस होती है तो उसका मतलब जो और छोटे को मतलब जरजीस बंगला छोटी कुछ होंगे वहां तो फिर कुछ ज्यादा ही करप्शन हो गया कुछ ज्यादा ही ब्राइटनेस होगी कि जिसको मिलना चाहिए न्याय उन्हें नहीं मिल पा रहा होगा आप देखिए जो यह अभी पद्मावती को लेकर जितना बड़ा एक हाइप क्रिएट किया गया 1% मूवी को लेकर इतना ज्यादा एक और अटैक किया गया की धमकी दी गई कि वह संजय लीला भंसाली और दीपिका पादुकोण का सिर काटकर लाने के लिए करोड़ों रुपए का इनाम रखा गया और कई लोगों की जानें भी गई इसमें जो हुआ अभी तिरंगा मैच के दौरान एक लड़की की एक लड़की की मौत हो गई उसे मार दिया गया आप सलीम वह यात्रा आसानी से निकल सकती थी ट्रिपल तलाक मुद्दे को लेकर देखिए कि कैसे एक गवर्नमेंट विपक्ष ने वह बिल को पास होने दिया सिर्फ अपने पोलिटिकल एजेंट की वजह से यह सब दिखाता है कि हमारे देश को जो लोकतंत्र है वह खतरे में है सिर्फ पॉवर के पीछे लोग भाग रहे हैं और सिर्फ अपने फायदे के लिए देश के बारे में बहुत कम होता जा रहा है

dekhiye loktantra ki kuch kadiyan hoti hai kuch uske hisse hai jo uske kaafi important powder un sab se milkar hi loktantra ya democracy kisi country mein stylish ki jaati hai usme se ek bahut important cheez hai jo desh ki nyaypalika yah kanoon pranali aur isliye humne dekha jo chief justice of india deepak mishra aur 4 00 baje ke beech mein jo dress download disputes hue the toh unke beech mein problem thi vaah sabke saamne khulkar aaye aur isse yah proof hua ki arjit jo supreme court hai jo sabse baadi court hai desh ki wahan par bhi cheating aur yah brightness hoti hai toh uska matlab jo aur chote ko matlab jarjis bangla choti kuch honge wahan toh phir kuch zyada hi corruption ho gaya kuch zyada hi brightness hogi ki jisko milna chahiye nyay unhe nahi mil paa raha hoga aap dekhiye jo yah abhi padmavati ko lekar jitna bada ek hype create kiya gaya 1 movie ko lekar itna zyada ek aur attack kiya gaya ki dhamki di gayi ki vaah sanjay leela bhansali aur deepika padukone ka sir katkar lane ke liye karodo rupaye ka inam rakha gaya aur kai logo ki jaane bhi gayi isme jo hua abhi tiranga match ke dauran ek ladki ki ek ladki ki maut ho gayi use maar diya gaya aap salim vaah yatra aasani se nikal sakti thi triple talak mudde ko lekar dekhiye ki kaise ek government vipaksh ne vaah bill ko paas hone diya sirf apne political agent ki wajah se yah sab dikhaata hai ki hamare desh ko jo loktantra hai vaah khatre mein hai sirf power ke peeche log bhag rahe hai aur sirf apne fayde ke liye desh ke bare mein bahut kam hota ja raha hai

देखिए लोकतंत्र की कुछ कड़ियां होती हैं कुछ उसके हिस्से है जो उसके काफी इंपॉर्टेंट पाउडर उन

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां जी हां देखे मैं समझता हूं कि लोकतंत्र खतरे में है क्योंकि आज कल जितने भी पॉलिटिकल लीडर आ रहे हैं वह लोगों की सेवा देश की सेवा करने के लिए नहीं आ रहे हैं और अपना काम पूरा करने के लिए अपनी जेब भरने के लिए और वह अपनी जमीन पर ही आपने लोगों को लूटने के चक्कर में रहते हैं मैं अटेंड करेगी सारे पॉलिटिशन जो है वैसे ही रहते हैं उन्हें दिखाइए जो है वह उसी पर पत्ते आते हैं उनका मैसेज वैसे ही रहता है और मैं समझता हूं कि अगर मोदी जी जैसे लीडर जगह हो जाए हमारे देश में तो भारत की उन्नति की तिथि है वह बहुत बढ़ जाएगी और लोकतंत्र पर जो है लोगों का विश्वास बना रहेगा

haan ji haan dekhe main samajhata hoon ki loktantra khatre mein hai kyonki aaj kal jitne bhi political leader aa rahe hain vaah logo ki seva desh ki seva karne ke liye nahi aa rahe hain aur apna kaam pura karne ke liye apni jeb bharne ke liye aur vaah apni jameen par hi aapne logo ko lutane ke chakkar mein rehte hain main attend karegi saare politician jo hai waise hi rehte hain unhe dikhaaiye jo hai vaah usi par patte aate hain unka massage waise hi rehta hai aur main samajhata hoon ki agar modi ji jaise leader jagah ho jaaye hamare desh mein toh bharat ki unnati ki tithi hai vaah bahut badh jayegi aur loktantra par jo hai logo ka vishwas bana rahega

हां जी हां देखे मैं समझता हूं कि लोकतंत्र खतरे में है क्योंकि आज कल जितने भी पॉलिटिकल लीडर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  190
WhatsApp_icon
user

Ekta

Researcher and Writer

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां जिस हिसाब से देश की स्थिति चल रही है उस हिसाब से लोकतंत्र खत्म खतरे में ही है यह न्यूज़ कुछ दिन पहले आई थी ऐसा हमारे सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है जबकि एक के सीनियर सुप्रीम कोर्ट के जज चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा इन इन चीजों को इग्नोर करते हुए अपने हिसाब से उनके स्वरूप किए हैं जस्टिस मिश्रा का यह जो लिखा था वह बिल्कुल गलत था हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जिस बगिया मिनिस्टर से बात की है इस पर सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट अपने ही खुद उन सवालों से उलझ रही है जो कि हम भारतीय इतिहास में साथ बहुत बुरे दिन देखने को मिले हैं सुप्रीम कोर्ट को कोर्ट का यह भी कहना है कि कुछ ऐसे ऑडियो से हैं जो कोर्ट के द्वारा पास किए गए हैं लेकिन वह बहुत बुरा प्रभाव डालना है तो पूरे प्रश्न 17 साथी साथ हमारे कोर्ट पर इस पर कार्यवाही की जा रही है और यही से ही शुरू हो रहा है कि आओ हमारे देश का लोकतंत्र खतरे में है

ji haan jis hisab se desh ki sthiti chal rahi hai us hisab se loktantra khatam khatre mein hi hai yah news kuch din pehle I thi aisa hamare supreme court ka kehna hai ki loktantra khatre mein hai jabki ek ke senior supreme court ke judge chief justice deepak mishra in in chijon ko ignore karte hue apne hisab se unke swaroop kiye hain justice mishra ka yah jo likha tha vaah bilkul galat tha hamare desh ke pradhanmantri narendra modi ji ne jis BAGIYA minister se baat ki hai is par supreme court ka kehna hai ki supreme court apne hi khud un sawalon se ulajh rahi hai jo ki hum bharatiya itihas mein saath bahut bure din dekhne ko mile hain supreme court ko court ka yah bhi kehna hai ki kuch aise audio se hain jo court ke dwara paas kiye gaye hain lekin vaah bahut bura prabhav dalna hai toh poore prashna 17 sathi saath hamare court par is par karyavahi ki ja rahi hai aur yahi se hi shuru ho raha hai ki aao hamare desh ka loktantra khatre mein hai

जी हां जिस हिसाब से देश की स्थिति चल रही है उस हिसाब से लोकतंत्र खत्म खतरे में ही है यह न्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  192
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सर आपने सही बोला कि आज हमारे देश का लोकतंत्र काफी ज्यादा खतरे में है आए दिन दंगे बढ़ रहे हैं कोई लोकतंत्र की बात नहीं मानता और कोई हमारे कॉन्स्टिट्यूशन को नहीं मान रहा है हमारे जो सुप्रीम कोर्ट भारत के जो बड़े-बड़े कोर्ट से उनकी जो जगह उनकी जो डिसीजन आते हैं उनको कोई नहीं मानता उसका विरोध करते हैं फिर धरना प्रदर्शन करते हैं और फिर दंगे करते हैं फिर तोड़फोड़ करते हैं और गवर्नमेंट प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाते हैं और साथ ही साथ भारत भारत के जो अन्य नागरिक हैं उनको भी चोट पहुंचाते हैं वह सारे एग्जांपल बीते कुछ सालों में आपको देखने में मिल जाएंगे जैसे अभी 26 जनवरी को कहां से में दंगा हुआ हिंदू और मुस्लिम के नाम पर वहां पर कितनी पब्लिक प्रॉपर्टी को डिस्ट्रॉय किया गया साथ में 2 लोग मारे गए काफी दंगे हुए पद्मावती मूवी का रिलीज होना सुप्रीम कोर्ट ने मूवी को रिलीज किया और जो सारे सीन से जो कि गलत है उसको हटाने के बाद फिर भी करनी सेना ने काफी दंगे किए स्कूल की बसों पर हमला किया और कई सारे बच्चे इसमें हमला किया तोड़फोड़ की तो यह लोग कॉन्स्टिट्यूशन को मानते ही नहीं है ना ही भारत के लोकतंत्र को मानते हैं अपने आप को सबसे ज्यादा मानते हैं तो यह क्यों करता है कि आज हमारे भारत का जो लोकतंत्र है वह खतरे में जाट आंदोलन राम रहीम के केस पर हरियाणा में दंगे काफी बसे जलाना कोई पुलिस को नहीं मानता कोई जिसको नहीं मानता है तू ही तू चीज है यह जो वारदातें हो रही है वह काफी सोचने लायक है और चिंतित हैं तो हमें इस पर ध्यान देना चाहिए हमारी गवर्नमेंट को क्योंकि आज हमारी जो गवर्नमेंट है और जो पॉलिटिकल लीडर्स है वह सिर्फ पैसे खा खाकर अपनी वोट बैंक बढ़ रहे हैं और सिर्फ जाट जनजाति के नाम पर और का सृजन के नाम पर भेदभाव कर रहे हैं और अपने वोटबैंक भरने के लिए कुछ भी कर रहे हैं और हमारे देश में सुधार लाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं बस अपने नेता बनने की होड़ में लगे हुए

bilkul sir aapne sahi bola ki aaj hamare desh ka loktantra kaafi zyada khatre mein hai aaye din dange badh rahe hain koi loktantra ki baat nahi manata aur koi hamare Constitution ko nahi maan raha hai hamare jo supreme court bharat ke jo bade bade court se unki jo jagah unki jo decision aate hain unko koi nahi manata uska virodh karte hain phir dharna pradarshan karte hain aur phir dange karte hain phir thorphor karte hain aur government property ko nuksan pahunchate hain aur saath hi saath bharat bharat ke jo anya nagarik hain unko bhi chot pahunchate hain vaah saare example bite kuch salon mein aapko dekhne mein mil jaenge jaise abhi 26 january ko kahaan se mein danga hua hindu aur muslim ke naam par wahan par kitni public property ko destroy kiya gaya saath mein 2 log maare gaye kaafi dange hue padmavati movie ka release hona supreme court ne movie ko release kiya aur jo saare seen se jo ki galat hai usko hatane ke baad phir bhi karni sena ne kaafi dange kiye school ki bason par hamla kiya aur kai saare bacche isme hamla kiya thorphor ki toh yah log Constitution ko maante hi nahi hai na hi bharat ke loktantra ko maante hain apne aap ko sabse zyada maante hain toh yah kyon karta hai ki aaj hamare bharat ka jo loktantra hai vaah khatre mein jaat andolan ram rahim ke case par haryana mein dange kaafi base jalaana koi police ko nahi manata koi jisko nahi manata hai tu hi tu cheez hai yah jo vardatein ho rahi hai vaah kaafi sochne layak hai aur chintit hain toh hamein is par dhyan dena chahiye hamari government ko kyonki aaj hamari jo government hai aur jo political leaders hai vaah sirf paise kha khakar apni vote bank badh rahe hain aur sirf jaat janjaati ke naam par aur ka srijan ke naam par bhedbhav kar rahe hain aur apne votbaink bharne ke liye kuch bhi kar rahe hain aur hamare desh mein sudhaar lane ki koshish nahi kar rahe hain bus apne neta banne ki hod mein lage hue

बिल्कुल सर आपने सही बोला कि आज हमारे देश का लोकतंत्र काफी ज्यादा खतरे में है आए दिन दंगे ब

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  222
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

Zee असली लोकतंत्र खतरे में नहीं है ऐसा मुझे लगता है आने की सबसे भारत एक लोकतंत्र देश हुआ है तू तब से अभी तक का चीज दिखे तुम बहुत मतलब अच्छे वाले चेंज हुए हैं हर एक जन अपना मतलब हर एक व्यक्ति स्वातंत्र्य कार्य स्वयं कर लगता है हालांकि यह बात जरूर है कि कुछ रीजन सामूहिक तौर पर लेने पड़ता है और सब कुछ बात पर सब कुछ बिजनेस को आगे बढ़ता है फिर भी यह बात से यह तो नहीं कह सकते कि लोकतंत्र खतरे में है लोकतंत्र कैसा है अच्छा है वह खतरे में नहीं है लोग अपने आप को मैं और वो चल रही है डॉक्टर से आंखें बढ़िया है हालांकि यह जरूर है कि कुछ चेंज है उसमें होने से कुछ होना जरूरी है लोकतंत्र के बारे में करें वह खतरे में नहीं है हालांकि यह क्वेश्चन पूछा है क्योंकि 24 तारीख से जो बात है वह भी है कि मतलब लोगों को क्यों नहीं लगता कि वह सामने लाए तो लोकतंत्र का एक उदाहरण हमें बता सकते के लोगों की व्यक्ति स्वतंत्र को बोल रहे हैं

Zee asli loktantra khatre mein nahi hai aisa mujhe lagta hai aane ki sabse bharat ek loktantra desh hua hai tu tab se abhi tak ka cheez dikhe tum bahut matlab acche waale change hue hain har ek jan apna matlab har ek vyakti swatantrya karya swayam kar lagta hai halaki yah baat zaroor hai ki kuch reason samuhik taur par lene padta hai aur sab kuch baat par sab kuch business ko aage badhta hai phir bhi yah baat se yah toh nahi keh sakte ki loktantra khatre mein hai loktantra kaisa hai accha hai vaah khatre mein nahi hai log apne aap ko main aur vo chal rahi hai doctor se aankhen badhiya hai halaki yah zaroor hai ki kuch change hai usme hone se kuch hona zaroori hai loktantra ke bare mein kare vaah khatre mein nahi hai halaki yah question poocha hai kyonki 24 tarikh se jo baat hai vaah bhi hai ki matlab logo ko kyon nahi lagta ki vaah saamne laye toh loktantra ka ek udaharan hamein bata sakte ke logo ki vyakti swatantra ko bol rahe hain

Zee असली लोकतंत्र खतरे में नहीं है ऐसा मुझे लगता है आने की सबसे भारत एक लोकतंत्र देश हुआ ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा मानना है कि जिस तरह से आज जो आजकल हर राज्य में बीजेपी की सरकार बनती जा रही है और आगे चलकर वह सकता है कि कहीं ना कहीं हर राज्य में ही हमको बीजेपी की सरकार देखने को मिले और सेंटर पर सेंट्रल गवर्नमेंट में भी उनका ही दबदबा रहे तो एक तरह से यह लोकतंत्र जो हमारे देश में है वह खत्म हो जाएगा क्योंकि लोकतंत्र में अपोजीशन कभी होना उतना ही महत्व रखता है जितना केक का पार्टी का होना दूसरी पार्टी का हुनर रखता है क्योंकि अगर अपोजीशन पार्टी नहीं होगी तो कौन जाकर BJP के लोगों को यह बात से समझा पाएगा कि जो वह कर रहे हैं उसके क्या-क्या ड्रॉपबॉक्स हो सकते हैं क्यों क्या पोजीशन का काम ही यही होता है कि किसी भी योजना का या किसी भी चीज जो भी है जिसका उद्घाटन किया गया है उसका जो UP अपोजिट X होते हैं वह सब सामने लेकर आए तभी जाकर ही पता चल पाएगा की योजना जो बनाई गई है वह सही है लोगों के लिए गलत है या फिर अगर कहीं जाकर बीजेपी में सेंट्रल गवर्नमेंट में अतुल का बहुमत रहा और इतना बहू मथुरा के मां पोजीशन के लिए ज्यादा नहीं होंगे तो हम लोग कहीं ना कहीं लोकतंत्र को खतरे में लेकर आएगा और जो लोकतंत्र का आधार है जिसमें दो पार्टी ज्यादा से ज्यादा पार्टी का होना जरूरी है ताकि वह लोग विचार विमर्श करके एक सही फैसले पर पहुंच पाएंगे एक दूसरे के ड्रॉपबॉक्स और अच्छाइयां दोनों चीजें देख पाए योजनाओं की तो तभी जाकर यह लोकतंत्र राज्य कहा जाता है वरना तो आगे पीछे भी पूरे देश में आ जाएगी तो कहीं ना कहीं वह लोकतंत्र नहीं बल्कि राजतंत्र हो जाएगा क्योंकि बीजेपी पार्टी जो चाहिए वह देश में करवा पाई आसानी से और उसको रोकने वाला कोई नहीं होगा

mera manana hai ki jis tarah se aaj jo aajkal har rajya mein bjp ki sarkar banti ja rahi hai aur aage chalkar vaah sakta hai ki kahin na kahin har rajya mein hi hamko bjp ki sarkar dekhne ko mile aur center par central government mein bhi unka hi dabdaba rahe toh ek tarah se yah loktantra jo hamare desh mein hai vaah khatam ho jaega kyonki loktantra mein apojishan kabhi hona utana hi mahatva rakhta hai jitna cake ka party ka hona dusri party ka hunar rakhta hai kyonki agar apojishan party nahi hogi toh kaun jaakar BJP ke logo ko yah baat se samjha payega ki jo vaah kar rahe hai uske kya kya drapabaks ho sakte hai kyon kya position ka kaam hi yahi hota hai ki kisi bhi yojana ka ya kisi bhi cheez jo bhi hai jiska udghatan kiya gaya hai uska jo UP opposite X hote hai vaah sab saamne lekar aaye tabhi jaakar hi pata chal payega ki yojana jo banai gayi hai vaah sahi hai logo ke liye galat hai ya phir agar kahin jaakar bjp mein central government mein atul ka bahumat raha aur itna bahu mathura ke maa position ke liye zyada nahi honge toh hum log kahin na kahin loktantra ko khatre mein lekar aayega aur jo loktantra ka aadhaar hai jisme do party zyada se zyada party ka hona zaroori hai taki vaah log vichar vimarsh karke ek sahi faisle par pohch payenge ek dusre ke drapabaks aur achaiya dono cheezen dekh paye yojnao ki toh tabhi jaakar yah loktantra rajya kaha jata hai varna toh aage peeche bhi poore desh mein aa jayegi toh kahin na kahin vaah loktantra nahi balki rajtantra ho jaega kyonki bjp party jo chahiye vaah desh mein karva payi aasani se aur usko rokne vala koi nahi hoga

मेरा मानना है कि जिस तरह से आज जो आजकल हर राज्य में बीजेपी की सरकार बनती जा रही है और आगे

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत एक विशाल जनसंख्या वाला राज्य है भारत में लोकतंत्र खतरे में हो ही नहीं सकता है क्योंकि भारत की लोकतांत्रिक शक्ति अपरिमित है असीमित है क्योंकि यहां की जनसंख्या बहुत ज्यादा है तो उनका जो महत्व है उनका जो प्रभुत्व है उनकी जो शक्ति है वह बहुत अधिक है उसके लोकतंत्र को खतरे में नहीं हो सकता है लेकिन हां अभी पिछले दिनों में जो जज ने बयान दिया उसकी वजह से जनता में यह सवाल जरूर उठ रहा है तो उसका मैं आपको यही बता सकती हूं कि हमें अपने झगड़ों को जैसे हम परिवार में भी हमारी कोई बात होती है तो हम उसको अपने घर में ही समझाने की कोशिश करते हैं जब वह बिल्कुल ही बाहर हो जाती है सभी चीजों से तब हम उसको समाज के यहां न्यायालय के सामने लाते हैं वरना हम छोटे मोटे झगड़ों को घर में ही खुल जाते हैं ताकि लोगों को यह सब पता नहीं चले और हमारे आंतरिक द्वेष हमारी आंतरिक भावना नाजुक होती है वह लोगों के सामने नहीं आए लेकिन उसने ऐसा नहीं किया और जगजीत को एक अच्छे पद पर कुर्सी पर से एक ऐसी स्थान पर थे जो समाज के लिए एक उदाहरण बनते हैं तो उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था अपने आंतरिक मतभेदों को अंदर ही समझाना चाहिए था और इस तरह से सड़क पर आकर भारत के लोकतंत्र के बारे में इतना सब कुछ नहीं कहना चाहिए था उससे जनता के मन में गलत संदेश गया है जनता की भावनाओं को ठेस पहुंची है इसलिए उनकी इस बात को आप नजरअंदाज कीजिए जैसे आप एक परिवार में रहते हैं और उसके सारे क्रियाकलाप होते हैं उन समस्याओं को जैसे सुलझाते हैं वैसे ही हमारा देश भी एक बड़ा परिवार है उसकी समस्याएं हमारी अपनी है उनको समझाना हम अपने आप से चाहेंगे किसी और की सहायता नहीं लेंगे तो लोकतंत्र को खतरे में हो ही नहीं सकता यह गलत धारणा है गलत विचार है

bharat ek vishal jansankhya vala rajya hai bharat mein loktantra khatre mein ho hi nahi sakta hai kyonki bharat ki loktantrik shakti aparimit hai asimeet hai kyonki yahan ki jansankhya bahut zyada hai toh unka jo mahatva hai unka jo parbhutwa hai unki jo shakti hai vaah bahut adhik hai uske loktantra ko khatre mein nahi ho sakta hai lekin haan abhi pichle dino mein jo judge ne bayan diya uski wajah se janta mein yah sawaal zaroor uth raha hai toh uska main aapko yahi bata sakti hoon ki hamein apne jhagadon ko jaise hum parivar mein bhi hamari koi baat hoti hai toh hum usko apne ghar mein hi samjhane ki koshish karte hai jab vaah bilkul hi bahar ho jaati hai sabhi chijon se tab hum usko samaj ke yahan nyayalaya ke saamne laate hai varna hum chote mote jhagadon ko ghar mein hi khul jaate hai taki logo ko yah sab pata nahi chale aur hamare aantarik dvesh hamari aantarik bhavna naajuk hoti hai vaah logo ke saamne nahi aaye lekin usne aisa nahi kiya aur jagjeet ko ek acche pad par kursi par se ek aisi sthan par the jo samaj ke liye ek udaharan bante hai toh unhe aisa nahi karna chahiye tha apne aantarik matbhedon ko andar hi samajhana chahiye tha aur is tarah se sadak par aakar bharat ke loktantra ke bare mein itna sab kuch nahi kehna chahiye tha usse janta ke man mein galat sandesh gaya hai janta ki bhavnao ko thes pahuchi hai isliye unki is baat ko aap najarandaj kijiye jaise aap ek parivar mein rehte hai aur uske saare kriyakalap hote hai un samasyaon ko jaise suljhate hai waise hi hamara desh bhi ek bada parivar hai uski samasyaen hamari apni hai unko samajhana hum apne aap se chahenge kisi aur ki sahayta nahi lenge toh loktantra ko khatre mein ho hi nahi sakta yah galat dharana hai galat vichar hai

भारत एक विशाल जनसंख्या वाला राज्य है भारत में लोकतंत्र खतरे में हो ही नहीं सकता है क्योंकि

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
लोकतंत्र क्या और क्यों ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!