क्या आत्मा जैसी कोई चीज़ होती है?...


user

Pinkesh Negi

Yoga Ayurveda

2:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आत्मा का आत्मा जैसी कोई चीज होती है आप लोगों को पहले ही बता दिया है कि आत्मा जो है हमारे अंदर जन्म से पहले ही हमको यह मिल जाती है जब हम गर्भ में 4 या 10 से 6 महीने की अवधि के बीच रहते इस अवधि में ही हमारे शरीर में आत्मा प्रवेश कर जाती है उसका अर्थ धड़कने की दो बिहार का अपने देश के हृदय को चेतना प्रदान करता है वही चेतना जो प्रदान करने वाली है वही जीवात्मा है वही आत्मा है इसे गर्भावस्था में मां को क्या कहा जाता है उस अवस्था में गंदगी मतलब दोहाट इनके अंदर आ चुके हैं तो आत्मा हमारे शरीर में होती है और यह हमारे दिल को हमारे मन को हमारा जो मन है उसको चेतना प्रदान करती है आत्मा जो है यह अपने आप कोई कार्य नहीं करती यह निष्क्रिय है यह क्लियर नहीं है यह सिर्फ चेतना प्रदान करती आपके हृदय को आपके दिल को आपके मन को आपका मन उसके बाद ही कार्य करता है आपका मन सकारात्मक दृष्टि की तरफ जाएगा या नकारात्मक दृष्टि की तरफ जाएगा वह भी डिपेंड करता है आपकी इंद्रियों पर कि आप की इंद्रियां किस प्रकार का विषय ग्रहण करती है फिर वह विषय ग्रहण करेगी शुरू मन में जाएगा फिर मंत्र जो उसका वितरण होगा बुद्धि और मन का विचार आना होगा उसके बाद जो भी निष्कर्ष निकलेगा उसी प्रकार की चेतना आपके मन को मिलेगी आपकी आत्मा के द्वारा और आप उसके अनुसार उसके अनुरूप ही कार्य करने लगेंगे तो हमारे शरीर में आत्मा नाम की चीज होती है हमारे शरीर में क्या जिसमें भी इमोशन इतने ज्यादा होते हैं जिस चीज के अंदर डिमोशन उन सब के अंदर आत्मा का वास है यह बात आप समझ लीजिए

aatma ka aatma jaisi koi cheez hoti hai aap logo ko pehle hi bata diya hai ki aatma jo hai hamare andar janam se pehle hi hamko yah mil jaati hai jab hum garbh me 4 ya 10 se 6 mahine ki awadhi ke beech rehte is awadhi me hi hamare sharir me aatma pravesh kar jaati hai uska arth dhadkane ki do bihar ka apne desh ke hriday ko chetna pradan karta hai wahi chetna jo pradan karne wali hai wahi jivaatma hai wahi aatma hai ise garbhavastha me maa ko kya kaha jata hai us avastha me gandagi matlab dohat inke andar aa chuke hain toh aatma hamare sharir me hoti hai aur yah hamare dil ko hamare man ko hamara jo man hai usko chetna pradan karti hai aatma jo hai yah apne aap koi karya nahi karti yah nishkriya hai yah clear nahi hai yah sirf chetna pradan karti aapke hriday ko aapke dil ko aapke man ko aapka man uske baad hi karya karta hai aapka man sakaratmak drishti ki taraf jaega ya nakaratmak drishti ki taraf jaega vaah bhi depend karta hai aapki indriyon par ki aap ki indriya kis prakar ka vishay grahan karti hai phir vaah vishay grahan karegi shuru man me jaega phir mantra jo uska vitaran hoga buddhi aur man ka vichar aana hoga uske baad jo bhi nishkarsh niklega usi prakar ki chetna aapke man ko milegi aapki aatma ke dwara aur aap uske anusaar uske anurup hi karya karne lagenge toh hamare sharir me aatma naam ki cheez hoti hai hamare sharir me kya jisme bhi emotion itne zyada hote hain jis cheez ke andar demotion un sab ke andar aatma ka was hai yah baat aap samajh lijiye

आत्मा का आत्मा जैसी कोई चीज होती है आप लोगों को पहले ही बता दिया है कि आत्मा जो है हमारे

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  658
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!